myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

एक्सरसाइज करते वक्त आपके दिमाग में ढेरों भ्रम रहते हैं, जिनकी वजह से आपको मनमुताबिक नतीजे नहीं मिलते हैं। कई मामलों में तो आप मोटापा कम करने के लिए एक्सरसाइज करते हैं लेकिन नतीजा उसका उल्टा ही निकलता है। अक्सर पुरुष इन्हीं भ्रम में फंसे रहते हैं कि एक्सरसाइज से पहले दूध पीने से मोटापा या वजन कम होता है या फिर जिम में खाली पेट एक्सरसाइज करने से जल्दी मसल्स बनती हैं। आज हम आपको कुछ ऐसी ही भ्रांतियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके बारे में आपके लिए जानना बेहद जरूरी है।

ज्यादा पसीना आना मतलब चर्बी कम होना?
यह जरूरी नहीं है कि एक्सरसाइज करते वक्त अगर आपको ज्यादा पसीना आ रहा है तो आपका शरीर ज्यादा चर्बी या फैट कम कर रहा है। आपकी एक्सरसाइज आपके फिटनेस लेवल से जुड़ी होती है, जो कि आपकी शारीरिक गतिविधियों का एकअहम हिस्सा होती है। जब आप एक्सरसाइज करते हैं तो आपके दिल की धड़कने तेज हो जाती हैं और शरीर का तापमान बढ़ने लगता है।

शरीर के तापमान को संतुलित करने के लिए आपके शरीर में  पसीना आता है, जिससे तापमान कम होता है और ठंडक महसूस होती है। ज्यादा पसीना आने का मतलब यह नहीं की आप ज्यादा चर्बी कम कर रहे हैं। ज्यादातर पुरुषों को यह वहम होता है कि यदि वह जिम में ज्यादा पसीना बहाएंगे तो उनकी चर्बी ज्यादा कम होगी, जो कि पूर्णतः गलत है।

(और पढ़ें - पेट की चर्बी कम करने के योगासन)

एक्सरसाइज चर्बी को मसल्स में बदली है?
एक्सरसाइज कभी भी चर्बी या फैट को मसल्स में नहीं बदलती। क्योंकि एक प्रकार की कोशिकाओं में दूसरी कोशिकाओं में नहीं बदला जा सकता। लेकिन विशेषकर स्ट्रेंथ ट्रेनिंग मसल्स बनाने में मदद करती है, जिससे मसल्स बनाने और ज्यादा कैलोरी खर्च करने और मोटापा कम करने में मदद मिलती है।

ज्यादा क्रंचेज करने से पेट की चर्बी घटती है?
एक्सरसाइज करते वक्त आप इस पर नियंत्रण नहीं रख सकते की आपका शरीर कौन से हिस्से से मोटापा कम करेगा और किससे नहीं। शरीर की बनावट में जीन्स का एक बड़ा योगदान होता है। कई मामलों में इन्हीं के आधार पर शरीर की बनावट तय होती है।

जिम में रोजाना ज्यादा क्रंचेज करने से आपके पेट की चर्बी कम नहीं होती है। यह एक्सरसाइज सिर्फ आपके पेट की मसल्स को मजबूत करती है, जोकि आपके पेट के ऊपर चर्बी की परत के नीचे होती हैं। हालांकि, यदि आप एक्सरसाइज करने के साथ-साथ संतुलित मात्रा में कैलोरीज लेते हैं तो आपको मनमुताबिक नतीजे मिलते हैं। इससे आपके शरीर के अलग-अलग हिस्सों से मोटापा कम होगा, जिसमें आपका पेट भी शामिल है।

(और पढ़ें - 4 ऐसे आहार जो पेट की चर्बी कम करते हैं)

नो पेन, नो गेन कितना सच और कितना झूठ?
फिटनेस एक्सपर्ट्स की मानें तो एक्सरसाइज करते वक्त दर्द का होना अच्छा होता है, यह एक वहम है। असल में ऐसा नहीं होता। यदि एक्सरसाइज करते वक्त आपको दर्द का अहसास होता है, तो आपको इस पर एक बार गौर करने की जरूरत है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि हालांकि इसमें अच्छे दर्द का भी संकेत हो सकता है। उदाहरण के लिए यदि आप लोअर बॉडी की ताकत और एंड्योरेंस बढ़ाने के लिए स्कॉट्स एक्सरसाइज कर रहे हैं तो मसल्स के भीतर जलन का अहसास हो सकता है।

यह जलन मसल्स के भीतर से लैक्टिक एसिड बाहर आने से महसूस होती है, जोकि एक्सरसाइज रोकने के 30 सेकेंड से लेकर 1 मिनट बाद खत्म हो जाती है। फिटनेस एक्सपर्ट्स का मानना है कि यह दर्द नुकसानदायक नहीं है, जिसे स्वीकारा जा सकता है। एक्सरसाइज के बाद लंबे समय तक मसल्स में दर्द या अकड़न रहना असमान्य हो सकता है। इससे आपको चोट भी आ सकती है। इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप उस मसल को पर्याप्त आराम दें और उसके बाद ही दोबारा उस मसल्स की एक्सरसाइज करें।

(और पढ़ें - पेट कम करने के तरीके)

लंगोट या टाइट अंडरवियर फायदेमंद या नुकसानदायक?
जिम जाने से पहले ज्यादातर पुरुष इस बात को लेकर वहम में रहते हैं कि उन्हें लंगोट या टाइट अंडरवियर  में से क्या पहनना चाहिए। इसका जवाब व्यक्तिगत रूप से अलग-अलग हो सकता है। कई पुरुषों को टाइट अंडरवियर या लंगोट पसंद आती है, जिससे एक्सरसाइज के दौरान उनके गुप्तांगों को अतिरिक्त सपोर्ट मिलता है। जबकि कुछ लोग ढीले अंडरवियर पहनना पसंद करते हैं, जिससे उन्हें मूवमेंट करने में आसानी होती है।

कई लोगों में ऐसा वहम होता है कि टाइट लंगोट या टाइट अंडरवियर पहनने से शुक्राणुओं की संख्या घट जाती है और वह बच्चा पैदा नहीं कर पाते हैं। इसके पीछे यह तथ्य है कि टाइट अंडरवियर पहनने से वृषण (टेस्टीज) शरीर के पास चले जाते हैं, जो तापमान में कम होता है। लेकिन कई वैज्ञानिक शोधों में इस बात का पता चला है कि टाइट अंडरवियर पहनने इसके तापमान में कोई बदलाव नहीं होता है।

इसलिए अंडरवियर ढीली हो या टाइट इसका पुरुषों में बच्चा पैदा करने की ताकत से कोई लेना देना नहीं होता। इससे अपनी पसंद और सहुलियत के हिसाब से पहना जा सकता है। आप किस तरह की एक्सरसाइज करते हैं और आपका खानपान शुक्राणुओं की गणना को प्रभावित कर सकता है।

एक्सरसाइज से पहले क्या खाएं?
जिम में एक्सरसाइज शुरू करने से पहले डाइट को लेकर आपके दिमाग में कई वहम होते हैं, जिसमें अक्सर आपको लगता है कि एक्सरसाइज से पहले दूध पीने या फिर अंडे खाने से आपको ज्यादा ताकत मिलेगी और आप कठिन वर्कआउट कर पाएंगे। जोकि हकीकत में किसी भी आधार पर सही नहीं है। एक्सरसाइज से पहले आपको ऐसे फल या जूस पीना चाहिए, जो आपके शरीर में जाकर तुरंत ही डाइजेस्ट होकर एक्सरसाइज के लिए आपको ताकत देना शुरू कर दें।

इस सूची में संतरा, केला और सेब सबसे अच्छे विकल्प हैं। संतरा या संतरे का जूस आपके शरीर में जाकर तत्काल ही आपको ऊर्जा देना शुरू कर देता है। इसलिए आपने अक्सर सुना होगा कि बॉडीबिल्डर्स एक्सरसाइज से पहले संतरा खाते या इसका जूस पीते हैं। इसमें साधारण कार्बोहाइड्रेट के साथ विटामिन सी और इलेक्ट्रोलाइट होते हैं। एक्सरसाइज से 15-20 मिनट पहले आप इन्हें खा सकते हैं।

एक्सरसाइज से पहले सप्लीमेंट्स पीना सही है?
यदि आप डाइट्री सप्लीमेंट्स में पैसा खर्च कर सकते हैं तो आपको किसी अच्छे सप्लीमेंट स्टोर में जाकर तेजी से काम कर सके ऐसे बढ़िया गुणवत्ता वाले सप्लीमेंट्स का चयन करना चाहिए, जो आपके खून (ब्लडस्ट्रीम) में जाते ही जाकर घुल जाए। इससे आपको शरीर में तुरंत ऊर्जा का अहसास होगा।

कैफीन और एल आर्जिनाइन कॉम्बिनेशन वाले प्रॉडक्ट्स सबसे ज्यादा लोकप्रिय और कारगर भी हैं। कैफीन जिम में आपकी ध्यान केंद्रित करने की क्षमता, तीव्रता और ताकत को बढ़ाता है। आर्जिनाइन से बने हुए सप्लीमेंट्स एक अन्य प्रचलित विकल्प है क्योंकि यह शिराओं में खून का प्रवाह बढ़ा देता है, जिससे आपकी मसल्स पंप (फूल) हो जाती हैं। मसल्स में अच्छी पंपिंग आने से नई मसल्स बनती हैं क्योंकि यह सक्रिय मसल्स में पोषक तत्व, ऑक्सीजन और एमिनो एसिड पहुंचाता है।

(और पढ़ें - जानिए बॉडी बनाने वाले सप्लीमेंट कैसे बन जाते हैं किडनी के लिए जहर)

और पढ़ें ...

References

  1. Small K. et al A Systematic Review into the Efficacy of Static Stretching as Part of a Warm-Up for the Prevention of Exercise-Related Injury. Research in Sports Medicine. 2008 Sep; 16(3):213-231.
  2. Malhotra A. et al. It is time to bust the myth of physical inactivity and obesity: you cannot outrun a bad diet. British Journal of Sports Medicine. 2015 Jul; 49:967-968.
  3. Youngstedt, SD. et al. Human circadian phase–response curves for exercise. The Journal of Physiology. 2019 Feb; 597(8):2253-2268.
  4. Aragon, AA and Schoenfeld BJ. Nutrient timing revisited: is there a post-exercise anabolic window? Journal of the International Society of Sports Nutrition. 2013 Jan; 10(5). ISSN: 1550-2783
  5. Park HK et al. The effect of warm-ups with stretching on the isokinetic moments of collegiate men. Journal of Exercise Rehabilitation. 2018 Feb; 14(1): 78–82. PMID: 29511656.
ऐप पर पढ़ें