रसम एक ऐसी डिश है जो दक्षिण भारत में बनाई जाती है। ये डिश सांबर की तरह ही होती है और इसमें बहुत सारे टमाटर व काली मिर्च का इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि, ये सांबर की तरह गाढ़ी नहीं, पतली होती है। रसम को सूप की तरह भी पिया जा सकता है या इसे चावल के साथ भी खा सकते हैं।

                   संक्षेप में                                         
तैयारी करने का समय 10 मिनट
पकने का समय 30 मिनट
बनने का कुल समय 40 मिनट
यह रेसिपी कितने लोगों के लिए है 3 से 4 लोग
टाइप/प्रकार वेज (शाकाहारी)
किस जगह की है यह डिश दक्षिण भारत
कब खाएं रसम को अधिकतर सांभर चावल खाने के बाद और दही चावल से पहले लिया जाता है।
कैलोरीज 256Kcal


इस लेख में हमने आपको बिना अरहर की दाल का प्रयोग किए रसम बनाने की विधि बताई है। आप चाहें तो इसमें अरहर की दाल का उपयोग भी कर सकते हैं।

  1. रसम बनाने की सामग्री - Rasam ingredients in hindi
  2. रसम बनाने का तरीका - How to make rasam in hindi
  3. रसम को कैसे परोसें - How to serve rasam in hindi
  4. रसम में मौजूद पोषक तत्व - Nutritional information of rasam in hindi
  5. रसम बनाने के लिए कुछ टिप्स - Tips for making rasam in hindi
  6. रसम को हेल्दी कैसे बनाएं? - Rasam ko healthy banane ka tarika
  7. रसम बनाने का वीडियो - Rasam banane ka video hindi me

नीचे दी गई सामग्री 3 से 4 लोगों के लिए रसम बनाने के लिए पर्याप्त है, आप चाहें तो लोगों के अनुसार इसे कम या ज्यादा कर सकते हैं -

(और पढ़ें - पूरन पोली रेसिपी)

नीचे रसम बनाने की रेसिपी दी गई है। आप इसमें अपने स्वादानुसार बदलाव भी कर सकते हैं।
 

मसाले तैयार करने के लिए

  1. सबसे पहले इमली को आधे कप पानी में करीब आधे घंटे के लिए डालकर छोड़ दें।
  2. अब इमली को निकालकर निचोड़ें और उसे छान लें।
  3. इसके बाद एक मिक्सी में जीरा, काली मिर्च और लहसुन डालकर अच्छे से पीस लें।
    (और पढ़ें - जीरा पानी के फायदे)

रसम बनाने के लिए

  1. एक कड़ाही लें और उसमें थोड़ा तेल गर्म कर लें। (और पढ़ें - घी या मक्खन?: क्या है सेहत लिए फायदेमंद)
  2. तेल गर्म होने के बाद उसमें सरसों के बीज डालें।
  3. इसके बाद कड़ाही में करी पत्ते, लाल मिर्च और हींग डालकर तब तक फ्राई करें जब तक लाल मिर्च का रंग गहरा न हो जाए। याद रहे कि कड़ाही को हल्की आंच पर रखें ताकि मसाले जले नहीं।
  4. मिर्च का रंग गहरा होने के बाद कड़ाही में टमाटर डालें और टमाटर मुलायम हो जाने तक इसे चलाते रहें।
  5. इसके बाद जीरा, काली मिर्च और लहसुन के मिश्रण को कड़ाही में हल्दी के साथ डाल दें।
  6. इसे हिलाएं और इमली का गूदा व पानी मिला दें।
  7. इसके बाद रसम को उबलने के लिए छोड़ दें और इसमें नमक डालना न भूलें।
  8. उबलने के बाद गैस बंद कर दें और इसके ऊपर कटे हुए धनिये के पत्ते डालें।
  9. अब आपका रसम बिलकुल तैयार है, इसे गरम-गरम ही परोसें।

 (और पढ़ें - नमक की कमी के लक्षण)

रसम के ऊपर धनिये के पत्ते डालकर इसे सादे सफेद चावल के साथ परोसा जाता है। इसे सूप की तरह भी पिया जा सकता है या खाना खाने के बाद भी इसे चावल के साथ लेते हैं। रसम को गरम-गरम ही परोसें।

(और पढ़ें - ब्राउन राइस या वाइट राइस: क्या है ज्यादा फायदेमंद)

प्रति 1 किलोग्राम रसम में मौजूद पोषक तत्वों की मात्रा के बारे में नीचे बताया गया है -

पोषक तत्व मात्रा
कैलोरी 256Kcal
फैट 12.4 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल 22 मिलीग्राम
सोडियम 48 मिलीग्राम
पोटैशियम 1924 मिलीग्राम
कार्बोहायड्रेट 34.8 ग्राम
प्रोटीन 8.8 ग्राम
नेचुरल शुगर 20 ग्राम

रसम बनाने के लिए नीचे कुछ टिप्स दी गई हैं जिनका उपयोग अपनी पसंद के अनुसार किया जा सकता है -

  • अगर आप अरहर की दाल का उपयोग करके रसम बनाना चाहते हैं, तो पानी की जगह अरहर की दाल उबाल कर भी रसम में डाल सकते हैं।
  • रसम खाने के लिए सबसे अच्छा मौसम सर्दियों का होता है और इसे तब लेना भी अच्छा है जब आपको सर्दी-जुकाम हो। इसमें उपयोग किए जाने वाले मसाले जुकाम में आराम देते हैं। (और पढ़ें - सर्दी जुकाम के घरेलू उपाय)
  • आप चाहें तो रसम को और मसालेदार बनाने के लिए अंत में इसे उबालते समय बाजार में मिलने वाला रसम पाउडर भी डाल सकते हैं।
  • कई लोग स्वाद बदलने के लिए रसम में नींबू का उपयोग भी करते हैं।

(और पढ़ें - नींबू के रस के फायदे)

रसम, विभिन्न मसालों से बना दक्षिण भारत का परंपरागत सूप है। उनका मानना हैं कि इसमें मौजूद हर पदार्थ स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है और इससे पाचन शक्ति भी अच्छी होती है। रसम में फैट, कोलेस्टॉल और नेचुरल शुगर की मात्रा भी बहुत कम होती है इसीलिए ये डायबिटीज, हार्ट, कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए भी अच्छा होता है।

(और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)

रसम और इसकी सामग्रियो के प्रभाव पर हुए शोध अध्ययन इस परंपरागत मान्यता की पुष्टि करते हैं कि रसम से विभिन्न स्वास्थ्य लाभ होते हैं। हालांकि, मसालों और अन्य पदार्थों की मात्रा आप अपने अनुसार कम-ज्यादा कर सकते हैं। जैसे, अगर आपको सर्दी-जुकाम है, तो काली मिर्च का प्रयोग ज्यादा करें और हाई ब्लड प्रेशर में नमक का उपयोग कम करें।

(और पढ़ें - केसरिया ठंडाई रेसिपी)

इस वीडियो में रसम बनाने का आसान सा तरीका बताया गया है -

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ