कोई भी आयोजन हो, मीठे के बिना हमारी कोई पार्टी पूरी नहीं होती। चाय से लेकर केक और मिठाई से लेकर मजेदार हलवे तक, बिना चीनी के अच्छे स्वाद की कल्पना करना बेईमानी होगी। इसके साथ ही आपको ये भी पता ही होगा कि ज्यादा चीनी सेहत के लिए खतरनाक हो सकती है। क्योंकि, चीनी के ज्यादा सेवन से डायबिटीज हो सकती है। इतना ही नहीं ज्यादा चीनी आपको कई गंभीर बीमारियां भी दे सकती है।

(और पढ़ें- चीनी के फायदे और नुकसान)

चीनी कितनी खरतनाक?
डाक्टरों की मानें तो, पूरे दिन में हमें 38 ग्राम (करीब 7 चम्मच) से ज्यादा चीनी नहीं खानी चाहिए, लेकिन आप जानकर हैरान होंगे कि हर व्यक्ति प्रतिदिन औसतन 94 ग्राम चीनी का सेवन कर रहा है। हालांकि, डेली रुटीन (रोजमर्रा) के खानपान की चीजों में से चीनी को पूरी तरह से हटाया नहीं जा सकता। फिर भी चीनी के अलावा अन्य कई विकल्प हैं, चीनी के बिना भी जीवन में मिठास घोल सकते हैं। तो चलिए आज हम आपको 5 ऐसी नेचुरल (प्राकृतिक) चीजों के बारे में बताते हैं, जो मीठी भी हैं और हेल्दी भी।

कोकोनट शुगर
ज्यादातर लोग कोकोनट (नारियल) तेल, नारियल पानी और कोकोनट मिल्क (दूध) के बारे में जानते हैं। कोकोनट शुगर के बारे में जानते हैं आप? हालांकि, हेल्थ को लेकर सजग रहने वाले लोगों को कोकोनट शुगर के बारे में पता भी है और वो भी इसके गुणों के साथ।

नारियल शुगर में कई गुणकारी मिनरल्स (पोषक तत्व) पाए जाते हैं और इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स बहुत (किसी विशेष खाद्य पदार्थ को खाने के बाद ब्लड शुगर लेवल में होने वाली बढ़ोतरी) कम है। नारियल शुगर में मौजूद फाइबर, इंसुलिन, ब्लड शुगर संतुलित करने में मदद करता है। हालांकि, ज्यादातर चीजों के साथ, विशेषज्ञ यहां शरीर में एक बेलेंस बनाने की सलाह देते हैं। नारियल शुगर में 70 से 80 प्रतिशत सुक्रोज है।

डेट (खजूर) शुगर
वैसे, खजूर खाना सेहत के लिए अच्छा होता है और इससे हमें कई गुणकारी चीजें मिलती है। जैसे

इसके साथ डेट शुगर (खजूर) शरीर की पाचन व्यवस्था को दुरुस्त करता और प्रोटीन, वसा और कार्बोहाइड्रेट को चयापचयन (मेटाबोलाइज्ड) में भी मदद करता है। एक रिसर्च में अध्ययनकर्ताओं को पता चला है कि डेट शुगर खून में एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सहायक है और स्ट्रोक के जोखिम को भी कम करता है। बस एक कमी यह है कि डेट शुगर ठीक से पिघलता या घुलता नहीं है। साथ ही इसका इस्तेमाल हर चीज में नहीं किया जा सकता।

शहद
शहद (हनी) एक सुपरफूड़ है, जिसमें हेल्दी और ब्यूटी (सौंदर्य) संबंधी कई गुणकारी पदार्थ होते हैं। यह एक प्राकृतिक स्वीटनर (मीठा पदार्थ) है जो फास्फोरस, कैल्शियम, एंजाइम, जस्ता (जिंक), आयरन, एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन B2 (राइबोफ्लेविन), विटामिन बी3 (नियासिन) और विटामिन बी6 जैसे खनिजों और पोषक तत्वों से भरा होता है।

शहद में मिलने वाले एंटीऑक्सीडेंट और महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की वजह से, शहद फ्री रेडिकल सेल से लड़ने में मदद करता है और पेट में हेल्दी बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देकर पाचन क्रिया में सुधार करता है। हालांकि, शहद में पाए जाने वाले पोषक तत्व इस चीज पर निर्भर करते हैं कि मधुमक्खी ने किस फूल से कितना अच्छा शहद इक्ट्ठा किया है। ध्यान रखें कि एक साल से कम उम्र के बच्चों को शहद नहीं खिलाना चाहिए, क्योंकि यह बोटुलिज़्म (जहर का छोटा कण) पैदा कर सकता है।

मेपल सिरप
मेपल सिरप एक पैनकेक टॉपर के रूप में भी जाना जाता है, इसमें 20 से ज्यादा पोषक तत्व होते हैं। जैसे

  • जस्ता (जिंक)
  • कैल्शियम
  • पोटेशियम
  • मैंगनीज

अध्ययनकर्ताओं की कई रिसर्च से पता चला है कि मेपल सिरप आपको स्तन कैंसर और आंत के कैंसर से बचाने में मदद करता है। साथ ही इसका जीआई (ग्लाइसेमिक इंडेक्स) बहुत कम होता है। हालांकि, मेपल सिरप में लगभग 66 प्रतिशत सुक्रोज (ये चीनी से 300 गुना अधिक मीठा) शामिल होता है और इससे शरीर में एक संतुलन बनाने में भी मदद मिलती है।

मोंक फ्रूट
मोंक फ्रूट (एक प्राकृतिक स्वीटनर) के अंदर सफेद चीनी की तुलना में लगभग 200 गुना मिठास होती है। ये तीन तरह से मिलता है, तरल (लिक्विड), पाउडर और दानेदार (ग्रैन्यूलर) रूप में उपलब्ध है। इसमें एंटी इंफेंट्री (रक्षक गुण) के अलावा अच्छे एंटीऑक्सीडेंट हैं, जो सभी के लिए बेहतर माना जाता है। हालांकि, मोंक फ्रूट हर जगह नहीं उगाया जाता है। इसलिए ये चीनी की तुलना में थोड़ा महंगा विकल्प हो सकता है।

ये सभी चीनी के बेहतर विकल्प (ऑपशन) में से एक हैं। इनके सेवन से हम शुगर और अन्य कई बीमारियों के घेरे में आने से बच सकते हैं। इनमें से कुछ महंगे जरूर हैं, लेकिन बाकी विकल्प को भी आप अपनी रोजमर्रा का हिस्सा बनाकर बीमारियों से दूर रह सकते हैं।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ