लिवर शरीर के महत्वपूर्ण अंगों में से एक है. खून की सफाई और भोजन को पचाने में लिवर का अहम योगदान होता है. ऐसे में अगर आपका लिवर खराब हो जाए, तो आपको कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. इसलिए, लिवर को सुरक्षित रखना जरूरी होता है.

लिवर को यकृत, जिगर और कलेजा नाम से भी जाना जाता है. इसका प्रमुख काम खाने और पीने की चीजों को ऊर्जा और न्यूट्रिएंट्स में बदलना है. गलत खानपान और लाइफस्टाइल की वजह से लिवर में गर्मी की समस्या हो सकती है.

लिवर में गर्मी होने पर छाती में दर्द, चक्कर आना या हैमोप्टिसिस जैसे लक्षण दिख सकते हैं. हैमोप्टिसिस होने पर खांसने पर थूक में खून की मात्रा नजर आती है. इसलिए, अगर आप लिवर को स्वस्थ रखना चाहते हैं, तो अपने खानपान पर जरूर ध्यान रखें.

(और पढ़ें - लिवर को मजबूत करने के लिए डाइट)

आज हम इस लेख में लिवर की गर्मी के लक्षण, कारण और इलाज के बारे में जानेंगे -

  1. लिवर में गर्मी के लक्षण
  2. लिवर की गर्मी के कारण
  3. लिवर की गर्मी का इलाज
  4. लिवर की गर्मी के लिए दवा
  5. लिवर की गर्मी से बचने के उपाय
  6. सारांश
लिवर की गर्मी के लक्षण, कारण, इलाज, दवा व बचाव के डॉक्टर

रिसर्च के मुताबिक, लिवर में गर्मी आमतौर पर छाती में दर्द के रूप में उभरती है. इसके अलावा, लिवर में गर्मी होने पर आपको कुछ अन्य लक्षण दिख सकते हैं, जिनके बारे में नीचे बताया गया है-

इस तरह के लक्षण लिवर में काफी ज्यादा गर्मी की वजह से दिख सकते हैं. इसलिए, अगर आपके शरीर में इस तरह के लक्षण दिखे, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें, ताकि किसी भी तरह की गंभीर स्थिति से बचा जा सके.

(और पढ़ें - लिवर इन्फेक्शन)

मानसिक और शारीरिक समस्याओं की वजह से लिवर की गर्मी हो सकती है. खासतौर पर गलत खानपान, खराब लाइफस्टाइल और अधिक स्ट्रेस लेने वालों को लिवर की गर्मी हो सकती है. आइए, विस्तार से जानते हैं लिवर की गर्मी के कारणों के बारे में-

गलत लाइफस्टाइल और खानपान

आयुर्वेद के मुताबिक, लिवर की गर्मी गलत खानपान और लाइफस्टाइल की वजह से हो सकती है. खासतौर पर अगर आप ज्यादा मसालेदार खाना खाते हैं, तो आपको लिवर की गर्मी हो सकती हैं. एक्सरसाइज न करना, नींद की कमी, कम पानी पीना, खाना समय से नहीं खाना, जैसे खराब लाइफस्टाइल की वजह से आपको लिवर की गर्मी हो सकती है.

(और पढ़ें - लिवर कैंसर)

मानसिक समस्याएं

खराब लाइफस्टाइल और गलत खानपान के अलावा मानसिक समस्याओं से ग्रसित व्यक्ति को भी लिवर की गर्मी हो सकती है. खासतौर पर अगर आप स्ट्रेस भरे माहौल में हैं, तो आपको लिवर की गर्मी हो सकती है. इसलिए, अगर आपको लिवर की गर्मी के लक्षण महसूस हो रहे हैं, तो स्ट्रेस से दूर रहने की कोशिश करें, ताकि गंभीर परिस्थिति से बच सकें. वहीं, अपने आसपास से स्ट्रेस को दूर रखें. इसके अलावा, नकारात्मक विचार और भावुकता की वजह से भी आपको लिवर की गर्मी हो सकती है.

गर्म चीजों का सेवन

गर्म चीजों का सेवन करने वालों को भी लिवर की गर्मी हो सकती है. इसके मलतब यह है कि अगर आप गर्म तासीर वाली चीजें, जैसे- मिर्च मसाला, चाय-कॉफी, तंबाकू, शराब का सेवन करते हैं, तो यह पित्त दोष को बढ़ा सकती है. इसकी वजह से आपको लिवर की गर्मी हो सकती है. दरअसल, इस तरह की चीजों के सेवन से शरीर का पित्त बढ़ता है, जिस कारण लिवर में गर्मी बढ़ सकती है.

(और पढ़ें - लिवर सिरोसिस के घरेलू उपाय)

गलत ढंग से पके भोजन का सेवन

एक्सपर्ट के मुताबिक, गलत ढंग से पके हुए भोजन का सेवन करने से भी लिवर की गर्मी बढ़ सकती है. दरअसल, हम में से कई लोग खाना पकाते समय खाने की तासीर का ध्यान नहीं रखते हैं. ऐसे में कई ठंडी तासीर वाली चीजों को पकाते समय गर्म तासीर में बदल देते हैं. इस तरह के भोजन से आपके लिवर की गर्मी बढ़ सकती है.

दवाइयों का सेवन

इन दिनों हममें से कई लोग कई तरह की बीमारियों, जैसे- थायराइड, साइनसडायबिटीज से ग्रसित होते हैं. इन बीमारियों में होने वाली समस्याओं से बचने के लिए कई तरह की एंटीबायोटिक दवाइयों का सेवन करते हैं. तरह-तरह की दवाइयों के सेवन से लिवर की गर्मी बढ़ जाती है.

इन कारणों के अलावा अधिक गुस्सा करना, एक्सरसाइज न करना, कम मात्रा में पानी पीने की वजह से भी लिवर की गर्मी बढ़ सकती है.

(और पढ़ें - लिवर खराब होने के घरेलू उपाय)

लिवर में गर्मी होने पर डॉक्टर निम्न प्रकार के उपचार कर सकते हैं-

खानपान पर ध्यान

लिवर की गर्मी का इलाज उसके कारणों और लक्षणों के आधार पर किया जा सकता है. खानपान और गलत लाइफस्टाइल की वजह से अगर आपके लिवर में गर्मी हो रही है, तो डॉक्टर आपको खानपान सही करने की सलाह दे सकते हैं.

(और पढ़ें - लिवर रोग का आयुर्वेदिक इलाज)

रक्त को ठंडा करना

लिवर में गर्मी बढ़ने पर कुछ मामलों में मरीज को हैमोप्टिसिस की समस्या हो सकती है. इस स्थिति में रक्तस्राव को रोकने के लिए रक्त को ठंडा करने की कोशिश की जाती है. इस दौरान डॉक्टर दवाओं और खानपान के जरिए ब्लड को ठंडा करने का प्रयास कर सकते हैं. इसके अलावा, लिवर की गर्मी को रोकने के लिए रोगी को नकारात्मक भावनाओं से बचने की सलाह दी जाती है.

मरीज की अवस्था के अनुसार डॉक्टर कुछ दवाइयां दे सकते हैं. इन दवाइयों में डॉक्टर आपको निम्न दवाएं लेने की सलाह दे सकते हैं -

  • व्हाइट-ड्रेनिंग पाउडर
  • लिवर हीट-डिसोल्विंग डेकोक्शन
  • इंडिगो
  • क्लैम शैल पाउडर
  • हैमोप्टाइसिस-रिलीविंग फॉर्मूला

इसके इस्तेमाल से काफी हद तक लिवर की गर्मी को दूर करने की कोशिश की जा सकती है.

(और पढ़ें - फैटी लिवर की होम्योपैथिक दवा)

लिवर की गर्मी से बचने के लिए अपने खानपान पर ध्यान दें. साथ ही नियमित रूप से एक्सरसाइज करें. इसके अलावा, कुछ आसान टिप्स को फॉलो करके आप लिवर की गर्मी से बच सकते हैं. जैसे-

  • खाने में मसालेदार चीजों को शामिल न करें.
  • नियमित रूप से एक्सरसाइज करें.
  • स्ट्रेस से दूर रहें.
  • नकारात्मक विचारों को मन में न आने दें.
  • पेय पदार्थों का सेवन करें.
  • अधिक मात्रा में पानी पिएं.
  • गर्म तासीर वाली चीजों का सेवन कम करें.
  • शराब और धूम्रपान से दूर रहें.
  • शरीर में लिवर की गर्मी के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें, ताकि गंभीर परिस्थिति से बचा जा सके.

गलत खानपान और लाइफस्टाइल की वजह से लिवर में गर्मी की समस्या हो सकती है. लिवर की गर्मी बढ़ने से आपको कई तरह की परेशानी हो सकती है. ऐसे में इस परिस्थिति से बचने के लिए अपनी लाइफस्टाइल पर ध्यान दें. अधिक मसालेदार चीजों का सेवन न करें. मानसिक समस्याओं जैसे- स्ट्रेस, नकारात्मक विचार से खुद को दूर रखें. अगर फिर भी लिवर की गर्मी के लक्षण दिख रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.

(और पढ़ें - फैटी लिवर का आयुर्वेदिक इलाज)

Dr. Sugam sahu

Dr. Sugam sahu

आयुर्वेद
4 वर्षों का अनुभव

Dr Harshit Raghuwanshi

Dr Harshit Raghuwanshi

आयुर्वेद
10 वर्षों का अनुभव

Dr Vivek Dalal

Dr Vivek Dalal

आयुर्वेद
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Manjiri Bagde

Dr. Manjiri Bagde

आयुर्वेद
4 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ