एक्ने वुलगरिस - Acne vulgaris in Hindi

Dr. Apratim GoelMBBS,MD,DNB

December 25, 2023

December 25, 2023

एक्ने वुलगरिस
एक्ने वुलगरिस

मुँहासे, त्वचा की समस्याओं में सबसे आम हैं जो किशोरावस्था और प्रारंभिक वयस्कता में सबसे ज्यादा होते हैं। 12 से 24 वर्ष की उम्र के बीच लगभग 85% लोग इससे प्रभावित होते हैं। 40 वर्ष से अधिक उम्र की 25% से अधिक महिलाएं और 12% पुरुष मुँहासे होने की शिकायत करते हैं।

मुँहासे त्वचा की स्थिति है जो तब होती है जब आपके बालों के रोम तेल और मृत त्वचा कोशिकाओं से भर जाते हैं और व्हाइटहेड्स, ब्लैकहेड्स या पिंपल्स का कारण बनते हैं। आप जितनी जल्दी इलाज शुरू करेंगे, समस्याओं के गंभीर होने का जोखिम उतना ही कम होगा। 

(और पढ़ें : मुंहासे (पिम्पल्स) हटाने के घरेलू उपाय )

 

एक्ने वुलगरिस क्या है:What is Acne vulgaris in Hindi

एक्ने वुल्गारिस का मतलब पिंपल्स, ब्लैकहेड्स या सिर्फ "मुँहासे" से है जो आपकी त्वचा पर निकल सकते हैं। पिंपल्स और ब्लैकहेड्स में सूजन होने पर चिकित्सीय रू से इस "एक्ने वुल्गारिस" कहते हैं।आम भाषा में इसे मुँहासे के रूप में जाना जाता है। एक्ने वुल्गारिस, पाइलोसेबेसियस से संबंधित एक विकार है। । यह स्थिति आमतौर पर मुख्य रूप से चेहरे पर पपल्स, पुस्ट्यूल या नोड्यूल के रूप मे प्रकट होती है। कई बार यह ऊपरी बांहों, शरीर और पीठ को भी प्रभावित कर सकती है। एक्ने वुल्गारिस आमतौर से किशोरों में देखा जाता है,लेकिन सभी उम्र के व्यक्तियों को प्रभावित कर सकता है। इस स्थिति की गंभीरता अलग-अलग हो सकती है, हो सकता है कभी केवल कुछ दानों के रूप में नजर आए और कभी अधिक गंभीर रूपों में जिसमें काफी दर्द के साथ जलन भी महसूस हो सकती है। डेड स्किन सेल्स को हटाने और एक्ने को कम करने के लिए मई उपचार का फेस सीरम उपयोग कर सकते हैं। 

(और पढ़ें : मुंहासे के निशान, दाग हटाने और मिटाने के उपाय)

 
Face Serum
₹289  ₹599  51% छूट
खरीदें

एक्ने वुल्गारिस के लक्षण:Symptoms of Acne vulgaris in Hindi

मुँहासे सबसे अधिक चेहरे, छाती, पीठ और कंधों पर होते हैं और तीन तरीकों के हो सकते हैं -

  • हल्के मुँहासे: जब 20 से कम ब्लैकहेड्स और व्हाइटहेड्स होते हैं 
  • मध्यम मुँहासे:  जब 20 से 100 व्हाइटहेड्स या ब्लैकहेड्स और 15 से 50 सूजन वाले पपल्स और पस्ट्यूल होते हैं। 5 मुँहासे नोड्यूल तक हो सकते हैं।

  • गंभीर मुँहासे: जब 100 से अधिक व्हाइटहेड्स या ब्लैकहेड्स, 50 से अधिक सूजन वाले पपल्स और पस्ट्यूल और 5 से अधिक मुँहासे नोड्यूल होते हैं। गंभीर घाव भी हो सकते हैं।

एक्ने होने का प्राथमिक कारण त्वचा में बालों के रोम का न बनना होता है। इस रुकावट का कारण त्वचा में बहुत ज्यादा तेल का आना या त्वचा कोशिकाओं का बंद हो जाना शामिल हैं। आपको निम्नलिखित एक या अधिक लक्षण दिखाई दे सकते हैं:

  • व्हाइटहेड्स, जो बंद रोमछिद्र होते हैं। 
  • ब्लैकहेड्स, जो खुले रोमछिद्र होते हैं। 

  • कोमल लाल उभार जिन्हें पपुल्स कहा जाता है। 

  • फुंसी, जिसमें मवाद होता है। 

  • त्वचा के नीचे दर्दनाक गांठें, जिन्हें नोड्यूल्स और सिस्टिक घाव कहा जाता है। 

ये लक्षण सिर्फ चेहरे तक ही सीमित नहीं होते कई बार ये शरीर के अन्य भागों जैसे पीठ,कंधों गरदन या छाती पर भी दिखाई दे सकते हैं। त्वचा को चमकदार बनाए माई उपचार के बायोटिन टॅबलेट्स के साथ 

 (और पढ़ें : मुहांसे (पिंपल) और डाइट प्लान)

 

एक्ने वुल्गारिस के प्रकार :Types of Acne vulgaris in Hindi

मुँहासे मृत त्वचा कोशिकाओं और सीबम द्वारा त्वचा के रोम छिद्र के बंद हो जाने से होते हैं। ब्रेकआउट या मुँहासे निम्न प्रकार के हो सकते हैं। 

व्हाइटहेड: यह छोटे सफेद रंग के दाने होते हैं जिसे बंद कॉमेडोन के रूप में जाना जाता है। ये तब होते हैं जब त्वचा कोशिकाएं और तेल छिद्र को बंदकर देते हैं लेकिन त्वचा के नीचे रहते हैं।

ब्लैकहेड्स: इन्हे ओपन कॉमेडोन कहा जाता है। ब्लैकहेड्स तब बनते हैं जब मृत त्वचा कोशिकाएँ और तेल रोम छिद्रों से बाहर निकलने लगता है। ऑक्सीजन के संपर्क में आने से ये दाने गहरे भूरे या काले रंग में बदल जाते हैं। 

फुंसी: फुंसी तब होती है जब बंद रोम छिद्र के अंदर बैक्टीरिया का संक्रमण बनने लगता है, जिसमें मवाद के साथ ही सूजन हो जाती है। 

पप्यूल्स: जब बंद रोम छिद्रों में मवाद के बिना सूजन वाली गांठ बन जाती है। पप्यूल्स अक्सर आगे बढ़कर पस्ट्यूल्स में बदल सकते हैं।

गांठ वाले मुँहासे: यह मुहासों का गंभीर रूप है जिसमें बड़ी बड़ी गाँठे बन जाती हैं जिसमें सूजन होती है और ये छूने पर दर्दनाक होते हैं। इसमें मवाद त्वचा की सतह के काफी नीचे होती है।

सिस्टिक मुँहासे: इस तरह के मुहासों में  गांठ न केवल बड़ी होती है बल्कि नरम होती है और मवाद त्वचा की सतह के करीब ऊपर ही होता है। 

(और पढ़ें : आयुर्वेद की मदद से करें मुंहासों का इलाज)

 

एक्ने वुल्गारिस के कारण : Causes of Acne vulgaris in Hindi

मुँहासे होने के कारण हार्मोनल असंतुलन के साथ साथ आपकी जीवनशैली से जुड़े होते हैं। अन्य कई कारण भी कॉमेडोन और पिंपल्स के विकास को बढ़ावा देते हैं।

  1. हार्मोन

यौन अवस्था के दौरान पुरुषों में एण्ड्रोजन नामक पुरुष सेक्स हार्मोन बनते हैं, जिससे पुरुषों के शरीर में परिवर्तन शुरू हो जाते हैं। परिवर्तनों के परिणामस्वरूप तेल उत्पादक ग्रंथियां जिन्हें वसामय ग्रंथियां कहा जाता है, बड़ी मात्रा में सीबम बनाने लगती हैं।सीबम त्वचा की सतह पर मृत त्वचा कोशिकाओं में जमा होकर रोम छिद्रों को बंद कर देते हैं जितना ज्यादा सीबम बनेगा, मुहासों का खतरा उतना ही अधिक होगा और जैसे-जैसे पुरुष वयस्कता में प्रवेश करते हैं, एण्ड्रोजन का स्तर कम होता जाता है जिससे एक्ने निकलना कम हो जाता है और समय के साथ खत्म होने लगते हैं। 

40% महिलाओं में, निम्न लिखित स्थितियों के कारण हॉर्मोन परिवर्तन होते हैं जिससे मुँहासे निकलने लगते हैं जो 40 की उम्र तक भी रह सकते हैं। 

अधिकांश लोगों के लिए, बार-बार होने वाले मुँहासे आमतौर पर 30 वर्ष की आयु के बाद खत्म हो जाते हैं। लेकिन कुछ वयस्कों में  40 या 50 की उम्र में भी मुंहासे हो सकते हैं। 

 2.तनाव और मुँहासे 

कुछ लोगों को तनाव होने के कारण , अधिक काम करने या नींद पूरी न होने पर मुँहासे हो जाते हैं। ऐसा शरीर में कोर्टिसोल नामक हार्मोन के उत्पादन के कारण होता है जो रक्त में शुगर को बढ़ा सकता है और पूरे शरीर में सूजन पैदा कर देता है और सूजन सीबम के उत्पादन को बढ़ा देती है। 

3. आहार

क्या खाते हैं और कैसे खाते हैं इसका असर हमारी स्किन और बॉडी में साफ साफ दिखाई देता हैं।नियमित रूप से उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) वाले खाद्य पदार्थ खाने से मुहासों को बढ़ावा मिलता है। ये खाद्य पदार्थ रक्त मे शुगर को बढ़ाते हैं, जिससे सूजन होती है और सीबम का उत्पादन बढ़ जाता है। प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ, शर्करा युक्त खाद्य पदार्थ, और सफेद ब्रेड, आलू और सफेद चावल जैसे स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थ उच्च-जीआई खाद्य पदार्थों के उदाहरण हैं जिन्हे खाने से मुहासे बढ़ने लगते हैं। 

(और पढ़ें : क्या बायोटिन सप्लीमेंट्स से मुंहासे ठीक हो सकते हैं?)

  माई उपचार एलोवेरा जूस जो त्वचा में नमी बनाए रखने में मदद करते हैं और पोषण भी देते हैं।

4. त्वचा की देखभाल

कई बार मुहासों का कारण ये भी होता है कि त्वचा की देखभाल ठीक से न करने के कारण रोम छिद्र बंद हो जाते हैं या बैक्टीरिया रोम में प्रवेश कर जाते हैं जिससे मुँहासे बढ़ने लगते हैं।आप अपनी त्वचा की देखभाल के लिए कुछ साधारण प्रोडक्टस का इस्तेमाल अपनी दिनचर्या में कर सकते हैं।जैसे-

  1. अल्कोहल आधारित टोनर
  2. क्रीम और मॉइस्चराइज़र

  3. नारियल का तेल 

  4. कुछ आयुर्वेदिक प्रोडक्टस

  5. माइल्ड क्लींजर 

क्या गंदी त्वचा पर मुंहासे होते हैं?

जितना गंदी त्वचा मुँहासे का कारण नहीं होती उससे ज्यादा अगर त्वचा पर बैक्टीरिया हों तो मुहासे हो सकते हैं,त्वचा का बहुत ज्यादा सूखा होना,जिससे सीबम का अधिक उत्पादन हो सकता है और मुहासों की वजह बन सकते हैं।

5. पारिवारिक इतिहास

मुहासों का कारण आनुवांशिक भी हो सकता है अगर माता-पिता या भाई-बहन को मुँहासे होते हैं तो हो सकता है वयस्क होने पर आपको भी मुँहासे होने की संभावना हो। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि माता-पिता से बच्चों में जाने वाले कुछ जीन उत्परिवर्तन अति सक्रिय तेल वाली ग्रंथियों से जुड़े होते हैं। कई बार आपने ये कहते हुए सुना भी होगा कि इसकी त्वचा अपनी माँ पर गई है या ये अपने पिता के जैसा है।  

6. दवाएं

कई दवाएं हार्मोन को प्रभावित करती हैं जिससे सीबम का उत्पादन प्रभावित होता है । जब दवाइयाँ बंद की जाती हैं तो  हार्मोन का स्तर अचानक असंतुलित हो जाता है, जो मुहासों का कारण बनते हैं। जैसे -

  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स
  • गर्भनिरोधक गोली

  • गर्भनिरोधक इंजेक्शन (डेपो-प्रोवेरा)

  • स्टेरॉयड्स

  • मिर्गी की दवाइयाँ 

  • तपेदिक की दवाइयाँ  

  • साइक्लोस्पोरिन जैसे इम्यूनोसप्रेसेन्ट

 (और पढ़ें : इन उपाय से रातो रात मुँहासे हो जायेंगे छूमंतर)

 
Aloe Vera Juice
₹269  ₹299  10% छूट
खरीदें

एक्ने वुल्गारिस का परीक्षण : Diagnosis of Acne vulgaris in Hindi

मुहासों का परीक्षण करने के लिए डॉक्टर आमतौर पर आपसे मेडिकल इतिहास के बारे में पूछेंगे।  विशेष रूप से, आपके परिवार में मुँहासे का इतिहास के बारे में , क्या आप ऐसी कोई दवाएँ लेते हैं जो हार्मोन के स्तर को प्रभावित कर सकती हैं, या त्वचा की देखभाल के लिए जिन उत्पादों का उपयोग करते हैं उनके बारे में । डॉक्टर ये पूछेंगे कि मुहासे कब शुरू हुए? डॉक्टर मुँहासे के प्रकार और गंभीरता को निर्धारित करने के लिए त्वचा के प्रभावित क्षेत्रों को देखेंगे।मुँहासे का निदान आमतौर पर चिकित्सा इतिहास और शारीरिक परीक्षा के आधार पर किया जा सकता है, लेकिन कभी कभी रक्त परीक्षण भी मुँहासे से जुड़े हार्मोन (जैसे टेस्टोस्टेरोन) के स्तर को मापने में सहायक होते हैं। ज्यादातर समय, मुहासों का परीक्षण त्वचा को देख कर किया जाता है।इस बात से भी मुहासों का पता लगाया जा सकता है कि वे कब शुरू हुए और क्या चीज़ उन्हें ठीक करती है और बेकार बनाती है। साथ ही आपके डॉक्टर आपसे निम्न लिखित प्रश्न भी पूछ सकते हैं। यदि आपके ब्रेकआउट के कारण सामान्य कारणों से अलग लगते हैं, तो अन्य संभावित परीक्षणों को करने के लिए आप त्वचा विशेषज्ञ के पास जा सकते हैं।जैसे कहीं आपको -

 

एक्ने वुल्गारिस का निदान : Treatment of Acne vulgaris in Hindi

मुहासों की गंभीरता (हल्के, मध्यम, गंभीर) को देखते हुए डॉक्टर उचित उपचार लिख सकते हैं।जैसे-

  • जीवनशैली में बदलाव - जीवनशैली में बदलाव करके मुहासों के खतरे को कम किया जा सकता है

 

       कोर्टिसोल के स्तर को कम करने के लिए भरपूर आराम 

         योग और ध्यान से तनाव को प्रबंधित करना 

         व्यायाम करने से त्वचा धीरे धीरे अच्छी होती जाती है 

         त्वचा को ज़्यादा साफ़ करने से बचें

         सौम्य तेल-मुक्त मॉइस्चराइज़र का प्रयोग 

         फैटी एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे नट्स, बीज और मछली का सेवन 

         मुँहासे की दवाएँ

 

  • मुहासों की कुछ दवाइयाँ जो सबसे आम हैं- 

 

बेंज़ोयल पेरोक्साइड: ये दवा मुँहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करती है। 

सैलिसिलिक एसिड: यह सूजन को कम करने और रोम छिद्रों को खोलने का काम करता है।

रेटिनोइड्स: इसमें विटामिन ए होता है जिसको लगाने से मृत त्वचा कोशिकाओं को बनने से रोक जा सकता है।

मौखिक एंटीबायोटिक्स: डॉक्सीसाइक्लिन, मिनोसाइक्लिन, एज़िथ्रोमाइसिन, एरिथ्रोमाइसिन और टेट्रासाइक्लिन जैसे एंटीबायोटिक्स उन बैक्टीरिया को कम करते हैं जिनसे पपल्स और पस्ट्यूल बनते हैं।

  • विशेषज्ञ की प्रक्रियाएँ

अगर मुहासे इतने गंभीर हैं कि उन पर दवाओं का असर नहीं होता, तो कुछ अन्य परीक्षण भी किए जा सकते हैं।जैसे-

निष्कर्षण: इसमें विशेष उपकरणों के द्वारा एक प्रशिक्षित चिकित्सक व्हाइटहेड्स, ब्लैकहेड्स या पिंपल्स को धीरे से हटाते हैं।

केमिकल पील : इसमें त्वचा के क्षतिग्रस्त क्षेत्रों को हटाने और सामान्य उपस्थिति में लाने के लिए सैलिसिलिक एसिड, ग्लाइकोलिक एसिड या रेटिनोइक एसिड का उपयोग किया जाता है।

स्टेरॉयड इंजेक्शन: सूजन और दर्द को तुरंत कम करने के लिए गांठदार मुँहासे के साथ इसका उपयोग किया जाता है।

लाइट थेरेपी: धूप त्वचा के लिए अच्छी होती है, सोरायसिस जैसी त्वचा की स्थिति के लिए उपयोग की जाने वाली पराबैंगनी (यूवी) प्रकाश की चिकित्सा लेने की सलाह अब नहीं दी जाती क्यूंकी कुछ लोगों की त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है।

ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) उपचार, प्रिस्क्रिप्शन दवा और जीवनशैली में बदलाव से एक्ने को ठीक करने में मदद मिल सकती है। 

ज्यादा तेल मसाले और बाहर का खाना न खाएँ और ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियों और फलों का सेवन करें। साधारण खाना आपकी स्किन को बेहतर करने मे हमेशा मदद करता है और लंबे समय तक बना रहता है। स्किन के दाग धब्बों को काम करने और पिग्मन्टैशन हटाने के लिए माई उपचार की Nalpamaradi Skin Glow & Brightening Cream का इस्तेमाल करें।