myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

कान बंद होना क्या है?

कान में लगातार कुछ जमा होने जैसा महसूस होना ही कान बंद होना है। इस अवस्था में पीड़ित को कम सुनाई देता है साथ ही उसे बेहद असुविधाजनक महसूस होता है।

कान मानव शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। उनमें एक नली या मार्ग होता है, जिससे ध्वनि की तरंगे अंदर प्रवेश करती हैं और कानों का मैल बाहर निकलता है। आंतरिक रूप से कान गले और नाक आपस में जुड़े हुए होते हैं। ऐसे कई सारे कारण होते हैं, जिनके कारण यह मार्ग रुक हो जाता है। इन कारणों में कान के आंतरिक हिस्से में मौजूद पतली नलिकाओं में जलन या सूजन आ जाना शामिल है। इसके अलावा कान में मैल भर जाने और संक्रमण हो जाने के कारण भी कान बंद होने जैसा महसूस होता है।

अगर आपका कान लंबे समय से लगातार बंद रह रहा है और अपने आप ठीक नहीं हो रहा है तो आपको डॉक्टर से मिलने की जरूरत है। एक ईएनटी (नाक, कान, गला) विशेषज्ञ ही अपने उपकरणों की मदद से आपके कान में देखकर आपके कानों के बंद होने का कारण बता सकता है।

(और पढ़ें - कान बहना क्या होता है)

बंद कान के लक्षणों में सुनने की क्षमता घट जाना, कान में सनसनी होना, कान में हवा भर जाने जैसा महसूस होना या वैसी आवाजें आना और कान में कोई द्रव्य भरे होने जैसा महसूस होना। इस हर एक समस्या का अपना अलग समाधान है। कान में अतिरिक्त मैल भर जाने पर चिकित्सक आपको महज ईयर ड्रॉप्स दे सकता है या फिर कान में संक्रमण होने की स्थिति में कोई एंटी बायॉटिक ईयर ड्रॉप दी जा सकती है। कान बंद हो जाने से आगे चलकर "टिनिटस" (Tinnitus: कान बजना) और श्रवण शक्ति खो जाना जैसी दिक्क़ते सामने आती है।

(और पढ़ें - सुनने में परेशानी के घरेलू उपाय

  1. कान बंद होने के प्रकार - Types of Blocked Ear in Hindi
  2. कान बंद होने के लक्षण - Blocked Ear Symptoms in Hindi
  3. कान बंद होने के कारण - Blocked Ear Causes in Hindi
  4. कान बंद होने से बचाव - Prevention of Blocked Ear in Hindi
  5. कान बंद होने का परीक्षण - Diagnosis of Blocked Ear in Hindi
  6. कान बंद होने का इलाज - Blocked Ear Treatment in Hindi
  7. कान बंद होने की जटिलताएं - Blocked Ear Complications in Hindi
  8. कान बंद होना की दवा - Medicines for Blocked Ear in Hindi
  9. कान बंद होना के डॉक्टर

कान बंद होने के प्रकार - Types of Blocked Ear in Hindi

डॉक्टर बेहद आसानी से कान बंद होने की समस्या से निबट सकते हैं। इसका सबसे प्रमुख कारण कान में मैल भर जाना है। आपका डॉक्टर आपसे आपके रोग के लक्षण, अवधि और कब से दिक्क्त हो रही है जैसी जानकारियां लेता है।

(और पढ़ें - कान का मैल साफ करने के तरीके)

आपका डॉक्टर ऑटोस्कोप (कान के अंदर जांच करने वाला उपकरण) से आपके कान में मैल, कर्ण संक्रमण के लक्षण और आपके कान या कानों के पर्दे पर पहुंचे आंतरिक नुकसान की जांच करेगा।

हो सकता है कि आपका डॉक्टर आपकी सुनने की क्षमता जांचने के लिए पीड़ित और रोग रहित कान की श्रवण शक्ति से जुड़े टेस्ट लें।

कान बंद होने के लक्षण - Blocked Ear Symptoms in Hindi

कान बंद होने के लक्षण क्या हैं?

मलिन और बंद कान के लक्षण

  • कान में लगातार कुछ भराव महसूस होना।
  • कानों का लगातार बजना, सनसनी महसूस होना और कान में सीटियां बजता महसूस होना।
  • प्रभावित कान से कम सुनाई देना।
  • चक्कर आना – इसका कारण एलर्जी, जुकाम या साइनस कुछ भी हो सकता है।
  • जलन, असुविधाजनक लगना या दर्द होना।
  • आपको ऐसा महसूस होगा जैसे कानों में हवा प्रवेश कर गई हो।
  • कान के अंदर आपको खुजली महसूस होगी जिसके साथ ही कई बार गले में खराश जैसा भी महसूस होगा।
  • आपको कान में बलगम या कोई अन्य द्रव बहता हुआ लगेगा।
  • कुछ लोगों को भीषण पीड़ा महसूस होती है तो कुछ को असुविधाजनक लगता है जबकि कुछ को कोई दर्द महसूस नहीं होता।
  • आपको कुछ अन्य लक्षण भी महसूस हो सकते जैसे सिरदर्द
  • नींद की कमी
  • कानों में जलन या खुजली

डॉक्टर से कब मिला जाएं?

अगर आपके लक्षण दो सप्ताह या उससे अधिक वक्त तक ऐसे ही रहें तो आपको चेकअप के लिए डॉक्टर से मिलना चाहिए। गौरतलब है कि अगर आपमें तीव्र कान दर्द, सिरदर्द, चक्कर आना, मतली, बुखार या श्रवण शक्ति कम होने जैसे लक्षण हैं या आपको ठीक नहीं लग रहा है तो आपको तुरंत चिकित्सकीय सहायता लेनी चाहिए।

(और पढ़े - सुनने में परेशानी के घरेलू उपाय

कान बंद होने के कारण - Blocked Ear Causes in Hindi

कान किन कारणों से बंद हो जाते हैं? 

कान कई कारणों से भर या बंद हो जाते हैं, इसमें शामिल है:

  • अधिक ऊंचाई पर अचानक जाना, जैसे कि पर्वतीय इलाके में ड्राइव करना या विमान में उड़ान भरना।
  • कान के बाहरी हिस्से में काफी मैल भर जाना।
  • बाहरी वातावरण में बहुत ज्यादा गंदगी होने से भी कान में सनसनी होने से लेकर कान बंद तक हो जाता है।
  • जुकाम, बुखार या भरे हुए साइनस के कारण।
  • नहाने या तैराकी के दौरान कर्ण गुहा में पानी चले जाने के कारण।
  • कान में संक्रमण होने के कारण।
  • काफी दुर्लभ जैसे ट्यूमर या फिर स्ट्रोक

(और पढ़ें - धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय

कान बंद होने की आशंका किन वजहों से बढ़ जाती है?

  • किसी भी उम्र के व्यक्ति के साथ यह कान बंद होने वाली दिक्क्त पेश आ सकती है। हालांकि बच्चें इस दिक्क्त से सर्वाधिक दो-चार होते हैं क्योंकि ठंड लगने और कानों में संक्रमण हो जाने की दिक्क्त के प्रति वे बेहद संवेदनशील होते हैं। बच्चों को यूं भी वायरल बुखार जल्दी आ जाता है क्योंकि उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता इतनी मजबूत नहीं होती।
  • आप कानों में जो यंत्र लगाते हैं, जैसे कि सुनने वाली मशीन या ईयर प्लग। इन सभी से आपके कान का मैल और भी अंदर चला जाता है।
  • बहुत अधिक यात्रा करने वालों, गोताखोरों और तैराकों को भी आम तौर पर अक्सर कान बंद होने की दिक्क्तों से जूझना पड़ता है।
  • जो लोग अक्सर उड़ान भरते हैं, उनके साथ भी यह दिक्क्त पेश आती है।
  • मोटापा और धूम्रपान भी खतरों को बढ़ाता है।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने की दवा

कान बंद होने से बचाव - Prevention of Blocked Ear in Hindi

कान बंद होने से कैसे बचें और क्या क्या उपाय काम में लें? 

  • अपने कानों को किसी भी तीखी वस्तु से साफ़ न करें, इसकी जगह अपनी ऊंगली पर कपड़ा या टिश्यू पेपर लपेट कर कान की सफाई करें।  
  • दूषित पानी में न तैरें।
  • तैरते समय कानों में ईयर प्लग पहनें।
  • अगर तैराकी के दौरान आपके कान में पानी चला जाए तो तुरंत प्रभावित कान के बल करवट लेकर लेट जाएं ताकि पानी बाहर निकल जाए।
  • कानों को साफ और सूखा रखें। 
  • कानों को छूने से पहले हाथ धो लें। 
  • नमी वाली परिस्थितियों से संपर्क में आने के बाद कानों को पूरी तरह सूखा लें।
  • कानों में खुजलाएं नहीं। 
  • कानों को अत्याधिक साफ करने से बचे, इससे कानों में जलन, संक्रमण या मैल का बढ़ना जैसी दिक्क्तें हो सकती है।                                
  • कानों में रूई के फाहे, बालों की पिन, टूथपिक और ऐसी कोई अन्य चीज न ड़ालें। इससे आपके कानों के पर्दों, कान की भीतरी गुहा और कान की हड्डियों को नुकसान पहुंच सकता है।
  • विमान में टेक ऑफ या लैंडिंग करते समय कोई टॉफी चूसें, इससे आपके कान बंद नहीं होंगे।
  • कानों में धूल घूसने से रोकने के लिए ईयर प्लग पहनें।
  • अगर आपको लगातार कान बंद  रहने की दिक्क्त होती है तो ईएनटी विशेषज्ञ से मिलें।
  • देखा जाए तो, कान बंद हो जाने के लिए उत्तरदायी कान के मैल को रोकने का कोई उपाय अभी तक ज्ञात नहीं है। इसके साथ ही बतौर सावधानी कान नाक गला विशेषज्ञ (ईएनटी) से हर छह से बारह महीनें में एक बार कानों के मैल की सफाई के लिए मिला जा सकता है।  

(और पढ़ें - दूषित पानी से होने वाले नुकसान

कान बंद होने का परीक्षण - Diagnosis of Blocked Ear in Hindi

बंद कान का परीक्षण कैसे होता है? 

डॉक्टर बेहद आसानी से कान बंद होने की समस्या से निबट सकते हैं। इसका सबसे प्रमुख कारण कान में मैल भर जाना है। आपका डॉक्टर आपसे आपके रोग के लक्षण, अवधि और कब से दिक्क्त हो रही है जैसी जानकारियां लेते हैं।

(और पढ़ें - कान का मैल साफ करने के तरीके)

आपके डॉक्टर ऑटोस्कोप (कान के अंदर जांच करने वाला उपकरण) से आपके कान में मैल, कर्ण संक्रमण के लक्षण और आपके कान या कानों के पर्दे पर पहुंचे आंतरिक नुकसान की जांच करेंगे।

हो सकता है कि आपके डॉक्टर आपकी सुनने की क्षमता जांचने के लिए पीड़ित और रोग रहित कान की श्रवण शक्ति से जुड़े टेस्ट लें।

(और पढ़ें - बहरेपन के लक्षण

कान बंद होने का इलाज - Blocked Ear Treatment in Hindi

बंद कान का इलाज कैसे होता है? 

बंद कान बेहद कष्ट देता है। ऐसे में इसका इलाज जल्द किया जाना जरूरी है। आपके डॉक्टर ही आपको यह बता पाएंगे कि आपकी जरूरतों, मेडिकल हिस्ट्री और खतरे की संभावनाओं को देखते हुए कौनसा इलाज आपके लिए सबसे अधिक उचित रहेगा।

मैल साफ करने के लिए ईयर बड या अपनी ऊंगली का प्रयोग करना लाभ की जगह हानिप्रद हो सकता है क्योंकि इससे मैल कान में और अंदर तक सरक सकता है और आपकी तकलीफ बढ़ सकती है।

मैल निकलने की पद्धतियां 

कान नाक और गले के डॉक्टर द्वारा मैल निकाला जाना जरूरी है। ये डॉक्टर मैल निकालने के लिए विशेष उपकरणों का प्रयोग करते हैं। आपके डॉक्टर:

  • मैल को पानी से धोकर बाहर निकालेंगे (ईयर इर्रिगेशन)
  • खींच कर मैल बाहर निकालेंगे (माइक्रोसक्शन)

ये उपचार आम तौर पर दर्द रहित होते हैं।

दवाएं

अगर आपका कान बंद है तो डॉक्टर द्वारा आपको दी गई दवाइयों में शामिल हो सकती है:

  • एंटी बायोटिक्स (ईयर इंफेक्शन, साइनस इंफेक्शन)
  • एंटी फंगल (तैराक के कानों में)
  • एंटी इस्टामाइन

ऑपरेशन

"अकूस्टिक न्यूरोमा" (Acoustic Neuroma: एक तरह कैंसर रहित ट्यूमर) एक ऐसी गांठ है जो कैंसर न होने के बावजूद काफी तकलीफ देती है। अगर यह गांठ काफी बड़ी हो या आपकी सुनने की क्षमता को प्रभावित कर रही हो तो ही डॉक्टर ऑपरेशन की सलाह देते हैं।

प्राकृतिक उपचार

  • जोर जोर से सांस लेना
  • बंद कान की दिक्क्त से राहत पाने के लिए आप जोर जोर से सांस ले सकते हैं। इससे कान में भरी हवा और दर्द से राहत मिलेगी।
    • अपना मुंह बंद करें और अपनी ऊंगलियों से अपने नथुने बंद करते हुए उन्हें दबाएं। इसके बाद एक तेज सांस लें।
    • हवा के दबाव को नियमित करने के लिए अपनी नाक से तेजी से हवा बाहर निकाले। अगर आप इसे ठीक से करेंगे तो आपको एक आवाज सुनाई देगी, जिसका मतलब है कि आपके कानों के पर्दों के यूस्टाचियन ट्यूब खुल गए हैं।   

कुछ तकनीकों से बंद कान खोलने और कान बंद हो जाने के एहसास को कम किया जा सकता है। इन तकनीकों में शामिल है:

  • पानी पीना
  • च्युइंग गम चबाना
  • जम्हाई लेना
  • लगातार निगलना
  • लहसुन - अगर कानों में अतिरिक्त मैल के कारण कान बंद हुए हैं तो उनसे दबाव हटाने के लिए लहसुन एक कारगर उपाय है। हालांकि अगर ऊंचाई बढ़ने जैसे कि विमान यात्रा के कारण तकलीफ हुई है तो यह घरेलू उपाय कारगर नहीं होता।
  • जैतून का तेल - बंद और मलिन कानों की वजह उनके भीतर मैल जम जाना हो तो आप जैतून के तेल का प्रयोग कर सकते हैं। इसके उपयोग से मैल नरम पड़ जाएगा और आप उसे आसानी से निकाल सकेंगे।
  • गर्म पानी - अपने कानों को गर्म पानी से साफ़ करने से भी आपको तकलीफ से निजात मिलेगी।
  • भाप लेना - जुखाम से कान बंद होने पर भांप लेने से आपको काफी राहत मिलेगी। यह एक आसान और प्राकृतिक घरेलू उपचार है।
  • नमक के पानी से धोना। (और पढ़ें - नमक के पानी के फायदे)

कई बार गले के इंफेक्शन की सफाई करने से भी कान में भरा जमाव हट जाता है।

कान बंद होने की जटिलताएं - Blocked Ear Complications in Hindi

कान बंद होने से क्या-क्या समस्याएं हो सकती हैं? 

बंद कान से आपको कई दिक्क्तों का सामना करना पड़ सकता है। यह दिक्क्त दर्द के कारण और कानों की सफाई में काम ली गई गलत तकनीक के कारण होती है। इनमें शामिल है:

Dr. Chintan Nishar

Dr. Chintan Nishar

कान, नाक और गले सम्बन्धी विकारों का विज्ञान
10 वर्षों का अनुभव

Dr. K. K. Handa

Dr. K. K. Handa

कान, नाक और गले सम्बन्धी विकारों का विज्ञान
21 वर्षों का अनुभव

Dr. Aru Chhabra Handa

Dr. Aru Chhabra Handa

कान, नाक और गले सम्बन्धी विकारों का विज्ञान
24 वर्षों का अनुभव

Dr. Jitendra Patel

Dr. Jitendra Patel

कान, नाक और गले सम्बन्धी विकारों का विज्ञान
22 वर्षों का अनुभव

कान बंद होना की दवा - Medicines for Blocked Ear in Hindi

कान बंद होना के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine Name
Kolq खरीदें
Wikoryl खरीदें
Alex खरीदें
Solvin Cold खरीदें
Tusq DX खरीदें
Febrex Plus खरीदें
Ascoril D खरीदें
Sinarest Levo खरीदें
Alcof D खरीदें
Cosome खरीदें
Drilerg खरीदें
Low Dex खरीदें
Niltuss DC खरीदें
Lpc खरीदें
Cosome Cough Syrup खरीदें
Ebast Dc खरीदें
Vilcold Z खरीदें
Sunephrine H खरीदें
Kufma Syrup खरीदें
Trigenic Plus खरीदें
Allercet Cold खरीदें
Kufma Junior Cough Syrup खरीदें
Rinose खरीदें

References

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Ear - blocked at high altitudes
  2. HealthLink BC [Internet] British Columbia; Blocked Eustachian Tubes
  3. Baylor College of Medicine is a health sciences university. Eustachian Tube Dysfunction. Texas; [Internet]
  4. Llewellyn A, Norman G, Harden M, et al. Interventions for adult Eustachian tube dysfunction: a systematic review.. Southampton (UK): NIHR Journals Library; 2014 Jul. (Health Technology Assessment, No. 18.46.) Chapter 1, Background.
  5. InformedHealth.org [Internet]. Cologne, Germany: Institute for Quality and Efficiency in Health Care (IQWiG); 2006-. Middle ear infection: Overview. 2009 Jun 29 Middle ear infection: Overview.
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें