myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

छाती में दर्द की शिकायत बेहद आम है। सीने में दर्द का कारण ह्रदय तक रक्त का प्रवाह कम होना जिसे एनजाइना कहते हैं। लोगों को इसमें कसा हुआ, भारीपन, जलन और ब्रेस्टबोन पर दबाव महसूस होता है।

छाती में दर्द के साथ अन्य जगह भी दर्द देखने को मिलता है जैसे पेट में दर्द (आम तौर से पेट के ऊपरी हिस्सों में), कमर दर्द, गर्दन में दर्द, जबड़ा में दर्द या कंधे में दर्द साथ ही साथ मतली होना, थकान, सांस लेने में तकलीफ, पसीना और चक्कर आना। 

सीने के दर्द के मुख्य जोखिम कारक धूम्रपान, शुगर, हाई कोलेस्ट्रॉल, हाई बीपी, एक गतिहीन (sedentary) जीवन शैली और हृदय रोग हैं। 

अगर आपकी छाती में दर्द है तो उसके इलाज के लिए आप अपने डॉक्टर से ज़रूर बात करें। इसके साथ ही आप कुछ घरेलू उपायों का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। इनके उपयोग से आपको छाती में दर्द से राहत मिल सकती है -

  1. सीने में दर्द का घरेलू उपाय करें लहसुन से - Chest pain ka gharelu upay hai garlic in hindi
  2. सीने में दर्द से बचने का उपाय है अदरक - Ginger helps chest pain in hindi
  3. छाती दर्द का घरेलू नुस्खा है हल्दी - Seene ke dard ka desi upchar hai turmeric in hindi
  4. छाती दर्द के उपाय में करें लाल मिर्च का उपयोग - Cayenne pepper helps chest pains in hindi
  5. छाती में दर्द के उपाय के लिए लाभदायक है तुलसी - Chest pain treatment at home with basil in hindi
  6. छाती के दर्द का उपाय करें अल्फाल्फा से - Chest me dard ke upay karen alfalfa se in hindi
  7. सीने में दर्द का उपाय है मेथी - Chest pain relief home remedies hai fenugreek in hindi
  8. सीना दर्द के उपाय के लिए करें बादाम का उपयोग - Almonds good for chest pain in hindi
  9. छाती में दर्द होने का उपाय है ओमेगा - 3 फैटी एसिड
  10. सीने में दर्द होने पर करें मेडिटेशन - Seene me dard ka upchar hai meditation in hindi
  11. सीने में दर्द से तत्काल राहत पाने के अन्य उपाय - Chest pain tips in hindi

लहसुन सीने के दर्द के लिए बेहद प्रभावी घरेलू उपाय है। एक अध्ययन के मुताबिक रोज़ाना लहसुन खाने से ह्रदय रोग रुक जाता हैं और उसका इलाज करने में मदद मिलती है। लहसुन हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और प्लाक को धमनियों तक पहुंचने से रोकता है। इसकी मदद से आपके हृदय में रक्त का प्रवाह सुधरता है। 

लहसुन का इस्तेमाल कैसे करें

  1. एक कप पानी में आधा चम्मच लहसुन के जूस को मिला दें और इस मिश्रण को पी जाएँ।
  2. इसके अलावा आप एक या दो लहसुन की फांकों को पानी के साथ खाली पेट खा सकते हैं।

(और पढ़ें - लहसुन के फायदे)

अदरक सीने के दर्द के लिए एक और प्रभावी घरेलू उपाय है। जिंजरोल अदरक में एक रासायनिक योगिक होता है जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है। अदरक में एंटीऑक्सीडेंट के गुण भी होते हैं जो रक्त वाहिकाओं को ख़राब होने से बचाते हैं।

अदरक को इस्तेमाल करने के दो तरीके -

पहला तरीका -

  1. छाती में दर्द महसूस होने पर अदरक की चाय पियें।
  2. चाय बनाने के लिए एक चम्मच पिसा अदरक एक कप गर्म पानी में डालें।
  3. अब उसे ढक दें और पांच मिनट के लिए उबलने दें। फिर उसे छानकर पी लें।

दूसरा तरीका -

  1. हृदय स्वास्थ्य के लिए रोज़ कच्ची अदरक के टुकड़े खाएं।

(और पढ़ें - अदरक के फायदे)

हल्दी का इस्तेमाल छाती के दर्द के लिए किया जाता है। इसमें मौजूद करक्यूमिन कोलेस्ट्रॉल ऑक्सीडेशन, प्लाक को बढ़ने और क्लोट (clot) को कम करने में मदद मदद करता है। इसके साथ ही इसमें मौजूद सूजनरोधी गुण सीने के दर्द से राहत दिलाते हैं।

हल्दी को इस्तेमाल कैसे करें

  1. एक ग्लास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाएं और उसे उबलने के लिए रख दें।
  2. उबलने के बाद उसमे शहद मिलाएं और गुनगुना मिश्रण पी जाएँ।
  3. ह्रदय स्वास्थ ठीक करने के लिए अपने रोज़ाना के आहार में हल्दी ज़रूर मिलाएं या फिर डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद हल्दी के सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं।

(और पढ़ें - हल्दी के फायदे)

 

छाती के दर्द के लिए लाल मिर्च बेहद प्रभावी है। इसमें कैप्साइसिन मौजूद होता है जिसमे सूजनरोधी गुण होते हैं। ये रक्त के प्रवाह को भी सुधारता है।

लाल मिर्च का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. एक ग्लास दूध या फ्रूट जूस में एक या आधा चम्मच लाल मिर्च पाउडर मिलाएं।
  2. अब इस मिश्रण को पी लें।
  3. डॉक्टर से पूछने के बाद आप लाल मिर्च के सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं।

(और पढ़ें - लाल मिर्च के फायदे

छाती के दर्द के लिए तुलसी एक बेहद अच्छा घरेलू उपाय है। तुलसी की पत्तियों में मौजूद मैग्नीशियम रक्त के प्रवाह को बढ़ाते हैं। इससे ह्रदय के रोग का इलाज होता है और रक्त वाहिकाओं को आराम मिलता है। इसके साथ ही इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण रक्त वाहिकाओं में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को रोकने में मदद करते हैं। 

तुलसी को इस्तेमाल करने के दो तरीके -

पहला तरीका -

  1. सीने में दर्द के दौरान 8 से 10 ताजी तुलसी के पत्तों को चबाएं या फिर एक कप तुलसी की पत्तियों की चाय पीएं।

दूसरा तरीका -

  1. छाती के दर्द को रोकने और ह्रदय की स्थिति सुधारने के लिए, एक चम्मच तुलसी की पत्तियों के जूस को एक चम्मच शहद के साथ खाली पेट लें।

(और पढ़ें - तुलसी के फायदे

अल्फाल्फा छाती के दर्द को दूर के लिए बेहद प्रभावी है। यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को दूर करता है, प्लाक को बढ़ने से रोकता है और ह्रदय तक रक्त के प्रवाह को सुधरता है। इसमें कोलोरोफिल की मात्रा अच्छी होती है। इसकी मदद से ये धमनियों को सही रखता है और सीने के दर्द को दूर करता है।

अल्फाल्फा का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. जब आपके छाती में दर्द हो तो अल्फाल्फा चाय ज़रूर पियें।
  2. चाय बनाने के लिए, एक चम्मच सूखे अल्फाल्फा की पत्तियों को गर्म पानी के बर्तन में मिलाएं।
  3. पांच मिनट तक इस मिश्रण को उबलने दें।
  4. अब इसे छान लें और पी जाएँ।
  5. डॉक्टर से पूछने के बाद आप अल्फाल्फा के सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं।

(और पढ़ें - अल्फाल्फा के फायदे

आयुर्वेद के अनुसार, मेथी ह्रदय को स्वस्थ रखती है और सीने के दर्द को रोकती है। इसके एंटीऑक्सीडेंट और कार्डियों- प्रोटेक्टिव गुण कोलेस्ट्रॉल को दूर करते हैं और रक्त के प्रवाह को बढ़ाते हैं।

मेथी के बीज का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. एक चम्मच मेथी के बीज को एक या आधा कप पानी में डालें और पांच मिनट तक उबालने के लिए रख दें।
  2. फिर इसे छान लें और दो चम्मच शहद को इसमें मिलाकर पी जाएँ।
  3. कोलेस्ट्रॉल को दूर करने के लिए और छाती के दर्द को रोकने के लिए भीगे मेथी के बीज को रोज़ाना खाएं।
  4. एक चम्मच मेथी के बीज को पानी में रातभर डालें रखें।
  5. अगली सुबह, भीगे मेथी के बीज को पानी के साथ खाली पेट खाएं।

(और पढ़ें - मेथी के फायदे

बादाम पोलिअनसेचुरेटेड फैटी एसिड से समृद्ध होता है जो ब्लड कोलेस्ट्रॉल को दूर करता है और ह्रदय स्वास्थ्य को बढ़ाता है। यह स्टेरोल्स पौधे से समृद्ध होता है जिसमे फाइबर और मैग्नीशियम पाया जाता है। ये कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और सीने के दर्द को रोकता है।

बादाम का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. बादाम का तेल और गुलाब का तेल एक साथ बराबर मात्रा में मिला लें।
  2. अब इस मिश्रण को सीने पर धीरे धीरे रगड़ें।
  3. इस तरह आपका दर्द जल्द ठीक हो जाएगा।
  4. सीने के दर्द को और ह्रदय रोग को कम करने के लिए रोज़ाना भुने मुट्ठीभर बादाम खाएं।

(और पढ़ें - बादाम के फायदे)

अगर आपको ह्रदय रोग या हाई कोलेस्ट्रॉल हैं तो आपको ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना होगा जो ओमेगा-3 फैटी एसिड से समृद्ध हो। ये स्वस्थ फैटी एसिड आपके ट्राइग्लिसराइड्स (खून में वसा) के स्तर को कम करते हैं और सीने में दर्द को रोकते हैं। इसके साथ ही इसके एंटीऑक्सिडेंट्स और सूजनरोधी गुण ह्रदय पर स्वस्थ प्रभाव डालते हैं।

  1. हर हफ्ते दो से तीन बार फैटी मछली का सेवन करें जैसे मैकेरल, ट्यूना, ट्राउट, हेरिंग, सैल्मन, ब्लूफ़िश और सार्डिन।
  2. ओमेगा-3 फैटी एसिड के वेजिटेरियन स्त्रोत जैसे फ्लैक्ससीड्स, चिया बीज, अखरोट, सोयाबीन, टोफू और जैतून का तेल
  3. आप डॉक्टर से पूछने के बाद ओमेगा-3 फैटी एसिड के सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं। सामान्य खुराक 500 मिलीग्राम प्रति दिन लें।

मेडिटेशन सीने के दर्द से छुटकारा पाने के लिए सबसे अच्छा उपाय है। ये शरीर में रक्त का प्रवाह और ऑक्सीजन को बढ़ाता है और ह्रदय की गति को धीमा कर देता है। इसके अलावा, मैडिटेशन आपको आराम देता है और तनाव या थकान को दूर करता है। (और पढ़ें - मेडिटेशन (ध्यान) क्या है)

मैडिटेशन कैसे करें -

  1. एक आरामदायक स्थिति में सबसे पहले बैठ जाएँ और अपने शरीर को आराम दें।
  2. अपनी नाक के माध्यम से एक गहरी साँस लें।
  3. अब अपने मुंह से धीरे-धीरे सांस को बाहर निकालें।
  4. इस दौरान, आपको किसी भी चीज़ पर अपना ध्यान केंद्रित करना है जो आपको खुश रखती हैं।
  5. दर्द जब तक चला नहीं जाता तब तक इसे दोहराएं।
  1. जब भी सीने में दर्द हो तो अपनी नाक से सांस ले और मुँह से सांस छोड़ें। इससे आपके शरीर को आराम पहुंचेगा और शरीर को ज़्यादा से ज़्यादा ऑक्सीजन मिलेगा।
  2. सीने के दर्द को ठीक करने के लिए एक ग्लास अनार का जूस पियें।
  3. डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद Coenzyme Q10 सप्लीमेंट्स लें। इससे आपके ह्रदय तक रक्त की आपूर्ति अच्छे से होगी।
  4. अपने भोजन को जैतून के तेल में बनाएं इससे शरीर में रक्तचाप बढ़ेगा। छाती के दर्द को रोकने का ये एक प्रभावी उपाय है। (और पढ़ें - जैतून के तेल के फायदे)
  5. धीरे धीरे और आराम आराम से खाएं क्योंकि निगलते समय जाने वाली हवा सीने के दर्द का कारण बनती है।
  6. ज़्यादा ठंड वाले वातावरण से बचें।
  7. पोषक और संतुलित आहार खाएं जो ओमेगा-3 फैटी एसिड, फोलिक एसिड, विटामिन b12 और अन्य तत्वों से समृद्ध हों। (और पढ़ें - संतुलित आहार चार्ट)
  8. ऐसे काम न करें जिनमें बहुत ज़ोर लगाने की ज़रुरत पड़ती है। ऐसे काम करने से छाती में दर्द हो सकता है।
  9. तनाव कम करें क्योंकि यह आपकी स्थिति और भी ज़्यादा ख़राब कर सकता है। ऐसी परिस्थितियों से बचें जो आपको परेशान या तनावपूर्ण बनाती हैं। (और पढ़ें - तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)
  10. यदि आपका वजन बहुत अधिक है, तो वजन कम करें। (और पढ़ें - वजन घटाने के घरेलू नुस्खे)
  11. धूम्रपान या अन्य तंबाकू उत्पादों का उपयोग न करें। (और पढ़ें - धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय)
  12. आहार और दवाइयों से अपने ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित रखें।

अगर आपकी स्थिति बेहद ख़राब होती जा रही और कुछ मिनटों में नहीं सुधर रही तो अपने डॉक्टर को जल्द से जल्द दिखाएं।

और पढ़ें ...