myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आँखों की थकान व भारीपन क्या है?

आइस्ट्रेन (आँखों का थकना या आँखों में भारीपन) एक आम स्थिति है जो तब होती है जब आपकी आंखें बहुत ज़्यादा उपयोग से थक जाती हैं, जैसे लंबी दूरी की ड्राइविंग करते समय या कंप्यूटर स्क्रीन और अन्य डिजिटल उपकरणों पर देर तक काम करते समय।

(और पढ़ें - आँखों की थकान दूर करने के उपाय)

आँखों का थकना परेशान करने वाला हो सकता है। लेकिन आमतौर पर यह गंभीर नहीं होता है और आंखों को आराम मिलने के बाद या अन्य उपाय करने के बाद ख़त्म हो जाता है। कुछ मामलों में, आंखों की थकान के लक्षण आँख की किसी ऐसी स्थिति को इंगित कर सकते हैं जिसके लिए उपचार की आवश्यकता होती है।

(और पढ़ें - मोतियाबिंद क्या है)

 

  1. आंखों की थकान व भारीपन के लक्षण - Eye Strain Symptoms in Hindi
  2. आंखों की थकान व भारीपन के कारण व जोखिम कारक - Eye Strain Causes in Hindi
  3. आंखों की थकान व भारीपन से बचाव - Prevention of Eye Strain in Hindi
  4. आंखों की थकान व भारीपन का परीक्षण- Diagnosis of Eye Strain in Hindi
  5. आंखों की थकान व भारीपन का इलाज - Eye Strain Treatment in Hindi
  6. आंखों की थकान व भारीपन की जटिलताएं - Eye Strain Risks & Complications in Hindi
  7. आंखों की थकान व भारीपन की दवा - OTC Medicines for Eye Strain in Hindi
  8. आंखों की थकान व भारीपन के डॉक्टर

आंखों की थकान व भारीपन के लक्षण - Eye Strain Symptoms in Hindi

आँखों की थकान या भारीपन के लक्षण क्या हैं?

आँखों के थकने या भारीपन महसूस होने के साथ यह लक्षण हो सकते हैं:

आँखों की थकान से स्वयं निजात ना मिले तो डॉक्टर को दिखाएं। 

 

आंखों की थकान व भारीपन के कारण व जोखिम कारक - Eye Strain Causes in Hindi

आँखों की थकान क्यों होती है?

आंखों की थकान के आम कारण :

  • डिजिटल डिवाइस स्क्रीन पर काम करना
  • आंखों को आराम दिए बिना लगातार पढ़ना
  • लंबी ड्राइव करना और लगातार फोकस से जुड़ी अन्य गतिविधियाँ करना
  • तेज़ रोशनी या चमक के संपर्क में आना
  • बहुत मंद प्रकाश में देखने का प्रयास करना
  • आंख की अंतर्निहित समस्या होना, जैसे खुश्क आंखें या ख़राब दृष्टि (और पढ़ें - काला मोतियाबिंद)
  • तनाव या थकान
  • पंखे, हीटर या एसी की सूखी हवा के संपर्क में होना

कंप्यूटर और अन्य डिजिटल उपकरणों का लगातार उपयोग इसके सबसे आम कारणों में से एक हैं। इसे "कंप्यूटर दृष्टि सिंड्रोम", या "डिजिटल आइस्ट्रेन" भी कहते हैं। जो लोग रोजाना दो या चार घंटे लगातार स्क्रीन देखते हैं, उन्हें सबसे ज़्यादा जोखिम होता है।

(और पढ़ें - आँख में फुंसी का इलाज)

कम्प्यूटर का उपयोग किताब या कुछ भी छपा हुआ पढ़ने के मुकाबले आँखों को ज़्यादा नुक्सान पहुंचाता है क्योंकि लोग:

  • कंप्यूटर का उपयोग करते समय आँखों को कम झपकाते हैं (आंखों को गीला करने के लिए झपकाना आवशयक है)
  • ज़्यादा पास से या अनुचित कोण पर डिजिटल स्क्रीन देखते हैं
  • चमक या प्रतिबिंब वाले उपकरणों का उपयोग करते हैं
  • अक्षरों और पृष्ठभूमि के बीच खराब कॉन्ट्रास्ट वाले उपकरणों का उपयोग करते हैं

कुछ मामलों में, आंख की अंतर्निहित समस्या जैसे कि मांसपेशियों में असंतुलन या ख़राब दृष्टि, कंप्यूटर आइस्ट्रेन होने या बढ़ने का कारण बन सकती है। 

(और पढ़ें - आँखों की सूजन का इलाज)

कुछ अन्य कारक जो आँखों की थकान या भारीपन को बढ़ा सकते हैं :

  • आपकी स्क्रीन पर चमक
  • ख़राब मुद्रा में बैठना (और पढ़ें - कूबड़ का इलाज)
  • आपके कंप्यूटर कार्य स्टेशन का सेटअप
  • एयर कंडीशनिंग या पंखे द्वारा हवा का प्रसार

आंखों की थकान व भारीपन से बचाव - Prevention of Eye Strain in Hindi

आँखों की देखभाल कैसे करें?

आंखों की थकान को कम करने या रोकने की युक्तियाँ:

  • रौशनी एडजस्ट करें -
    टेलीविजन देखते समय, यदि आप कमरे में मद्धिम रौशनी रखते हैं तो आपकी आंखों के लिए अच्छा है। (और पढ़ें- आँखों की देखभाल कैसे करें)

    प्रिंटेड सामग्री पढ़ने या करीब से काम करते वक्त रौशनी का स्रोत अपने पीछे रखें। यदि आप एक डेस्क पर पढ़ रहे हैं, तो अपने सामने ढ़का हुआ बल्ब या ट्यूबलाइट रखें। लैंप का उपयोग रौशनी को सीधे आपकी आंखों में चमकने से रोकता है।
     
  • ब्रेक लीजिये -
    नज़दीक से काम करते समय, बीच-बीच में ब्रेक लें और विश्राम अभ्यास से मांसपेशियों के तनाव को कम करें।
     
  • स्क्रीन पर काम का समय सीमित करें -
    यह बच्चों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।
     
  • कृत्रिम आंसुओं का प्रयोग करें -
    ओवर-द-काउंटर कृत्रिम आँसू खुश्क आंखों को राहत देने में मदद कर सकते हैं। (और पढ़ें - आँखों की एक्सेर्साइज)

आंखों की थकान व भारीपन का परीक्षण- Diagnosis of Eye Strain in Hindi

आँखों की थकान का परीक्षण कैसे होता है?

डॉक्टर आपसे उन कारकों के बारे में पूछेंगे जो लक्षण पैदा कर सकते हैं। वह आपका दृष्टि परीक्षण करेंगे, ख़ास तौर से यह जांचने के लिए कि कहीं आपको चश्मे की जरूरत तो नहीं है।

आंखों की थकान व भारीपन का इलाज - Eye Strain Treatment in Hindi

आँखों की थकान का क्या इलाज है?

आम तौर पर, आंखों की थकान के उपचार में आपकी दैनिक आदतों या आसपास के वातावरण में परिवर्तन करना जरूरी होता है। कुछ लोगों को आंख की अंतर्निहित समस्या के लिए इलाज की आवश्यकता हो सकती है।

(और पढ़ें - आँखों की रोशनी बढ़ाने के उपाय)

कुछ लोगों को, विशेष गतिविधियों के लिए निर्धारित चश्मा पहनना, जैसे कि कंप्यूटर या रीडिंग के लिए, समस्या को कम करने में मदद करता है। डॉक्टर आपको सुझाव दे सकते हैं कि आप आंखों का नियमित व्यायाम करें जिससे आँखों को अलग-अलग दूरी पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिल सके।

(और पढ़ें - आँख फड़कना)

 

 

आंखों की थकान व भारीपन की जटिलताएं - Eye Strain Risks & Complications in Hindi

आँखों में थकान की क्या जटिलताएं हैं?

आइस्ट्रेन (eye strain) के गंभीर या दीर्घकालिक परिणाम नहीं होते, लेकिन यह बढ़ सकता है और अप्रिय हो सकता है। यह आपको थका सकता है और ध्यान केंद्रित करने की क्षमता को कम कर सकता है।

(और पढ़ें - आँखों की बीमारी)

 
Dr. Pragya Singh

Dr. Pragya Singh

ऑपथैल्मोलॉजी

Dr. Mihir Mehta

Dr. Mihir Mehta

ऑपथैल्मोलॉजी

Dr. Vijay Pratap Vipsy

Dr. Vijay Pratap Vipsy

ऑपथैल्मोलॉजी

आंखों की थकान व भारीपन की दवा - OTC medicines for Eye Strain in Hindi

आंखों की थकान व भारीपन के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

OTC Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Himalaya Herbal KajalHimalaya Herbal Kajal120.0
Himalaya Ophthacare Eye DropsHimalaya Ophthacare Eye Drops45.0

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

सम्बंधित लेख

और पढ़ें ...