खराब लाइफस्टाइल और खान-पान की वजह से अक्सर लोगों को तरह-तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ता है. इसमें थायराइड की समस्या आम है. थायराइड एक तितली के आकार की ग्रंथि होती है, जो गर्दन के निचले हिस्से में स्थित होती है. यह ग्रंथि हार्मोन बनाती है, जिससे शारीरिक ऊर्जा, तापमान, अंगों और मांसपेशियों को ठीक से काम करने में मदद मिलती है. ऐसे में जब थायराइड ग्रंथि ठीक के काम नहीं कर पाती है, तो हार्मोन का असामान्य उत्पादन होने लगता है. इस स्थिति में व्यक्ति को अनियमित पीरियड्स, गर्दन में सूजन, वजन बढ़ना या कम होना, थकान और बाल झड़ने जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं.

आज इस लेख में आप थायराइड में बाल झड़ने के लक्षण, कारण और इलाज के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - बाल किन बीमारियों से झड़ते हैं)

  1. थायराइड में बाल झड़ने के लक्षण
  2. थायराइड में बाल झड़ने के कारण
  3. थायराइड में बाल झड़ने का इलाज
  4. सारांश
थायराइड में बाल झड़ने के लक्षण, कारण व इलाज के डॉक्टर

वैसे तो कुछ बालों का झड़ना बिल्कुल सामान्य है. हर व्यक्ति के रोजाना 50-100 बाल झड़ना आम बात है, लेकिन थायराइड ग्रंथि के ठीक से काम नहीं करने पर बालों का तेजी से झड़ना शुरू हो सकता है. जब थायराइड हार्मोन का असामान्य उत्पादन होता है, तो हाइपोथायरायडिज्म (अंडरएक्टिव) और हाइपरथायरायडिज्म (ओवरएक्टिव) की स्थिति पैदा होने लगती है. ये दोनों ही स्थितियां बालों के झड़ने का कारण बन सकती हैं. इसके अलावा, इन दोनों में कुछ अन्य लक्षण भी महसूस हो सकते हैं -

हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण

हाइपरथायरायडिज्म के लक्षण

हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म दोनों के लक्षणों में काफी भिन्नता देखने को मिलती है, लेकिन इन दोनों ही स्थितियों में बाल झड़ने जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं. अगर आपको बाल लगातार झड़ रहे हैं, पतले हो गए हैं तो इस स्थिति में थायराइड के स्तर की जांच करने के लिए डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए.

(और पढ़ें - बाल झड़ने के कारण)

थायराइड की दोनों ही स्थितियों (हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म) में बाल झड़ने शुरू हो सकते हैं. इस स्थिति में सामान्य से अधिक बाल झड़ सकते हैं. इसलिए, इसे नजरअंदाज करना बिल्कुल ठीक नहीं है. थायराइड में बाल झड़ने के कारण निम्न प्रकार से हैं -

हेयर फॉलिकल्स का विकास न होना

थायराइड हार्मोन हेयर फॉलिकल्स के विकास और रखरखाव में अहम भूमिका निभाता है. ऐसे में जब गंभीर या लंबे समय तक हाइपोथायरायडिज्म या हाइपरथायरायडिज्म रहता है, तो हेयर फॉलिकल्स प्रभावित होते हैं. इससे बालों का झड़ना शुरू हो सकता है. आपको बता दें कि फॉलिकल्स त्वचा के नीचे छोटे पॉकेट होते हैं, जिनमें बाल उगते हैं.

(और पढ़ें - कम उम्र में बाल झड़ने का इलाज)

टेलोजेन एफ्लुवियम

जब शरीर में अधिक या पर्याप्त थायराइड हार्मोन नहीं बन पाता है, तो यह टेलोजेन एफ्लुवियम की स्थिति पैदा कर सकता है. टेलोजन एफ्लुवियम एक स्कैल्प डिसऑर्डर है. इसमें बालों की जड़े कमजोर होने लगती हैं और हेयर फॉल होने लगता है. टेलोजन एफ्लुवियम की स्थिति में लगभग 2 महीने में 70 फीसदी बाल झड़ सकते हैं.

(और पढ़ें - पुरुषों में बाल झड़ने के कारण)

एलोपेसिया

थायराइड के चलते एलोपेसिया की समस्या भी विकसित हो सकती है. इसकी वजह से बालों का झड़ना शुरू हो सकता है. एलोपेसिया एरीटा की स्थिति को नजरअंदाज न करें. यह बालों के झड़ने का कारण बनता है और गंजापन हो सकता है.

(और पढ़ें - बालों के टूटने का इलाज)

एंटीथायराइड दवाइयां

थायराइड हार्मोन को संतुलन में रखने के लिए रोजाना दवा लेना जरूरी होता है. ऐसे में कई बार एंटीथायराइड दवाइयां भी बालों के झड़ने का कारण बन सकती हैं. मेथिमाजोल और प्रोपीलेथियोरासिल दवाइयां लेने के बाद व्यक्ति के बाल झड़ सकते हैं. 

(और पढ़ें - बाल किस कमी से झड़ते हैं)

थायराइड से संबंधित बालों के झड़ने को रोकने के लिए थायराइड का इलाज कराने की जरूरत होती है. अंडरएक्टिव थायराइड का इलाज करने के लिए डॉक्टर आमतौर पर लेवोथायरोक्सिन सोडियम नामक सिंथेटिक हार्मोन लिख सकते हैं. वहीं, ओवरएक्टिव थायराइड का इलाज हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग होता है. इसका इलाज इस प्रकार किया जा सकता है -

एंटीथायरायड दवाइयां

मेथिमाजोल और पीटीयू दवाइयां ओवरएक्टिव थायराइड को संतुलित करने में मदद कर सकती हैं. ये दवाइयां थायराइड हार्मोन बनाने वाली ग्रंथि की क्षमता को अवरुद्ध करके काम करती हैं.

(और पढ़ें - गर्भावस्था में बालों का झड़ना)

रेडियोएक्टिव आयोडीन

कई बार डॉक्टर रेडिएशन थेरेपी की सलाह दे सकते हैं. यह थेरेपी थायराइड ग्रंथि में कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाती है, इससे थायराइड ग्रंथि हार्मोन के उत्पादन को कम कर पाती है.

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने की होम्योपैथिक दवा)

सर्जरी

सर्जरी के जरिए भी थायराइड का इलाज किया जा सकता है. इसमें थायराइड ग्रंथि को हटाया जा सकता है, लेकिन सभी मामलों में सर्जरी की जरूरत नहीं पड़ती है.

(और पढ़ें - महिलाओं के बाल झड़ने के कारण)

थायराइड बालों के झड़ने का कारण बन सकता है, ये तो आप जान ही चुके हैं. अगर अंडरएक्टिव या ओवरएक्टिव थायराइड के अन्य लक्षण भी नजर आए, तो उन्हें बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें. इलाज के बाद थायराइड से संबंधित बालों के झड़ने की समस्या आमतौर पर ठीक हो जाती है.

(और पढ़ें - किस विटामिन की कमी से बाल गिरते हैं)

Dr. Afroz Alam

Dr. Afroz Alam

डर्माटोलॉजी
4 वर्षों का अनुभव

Dr. Pranjal Praveen

Dr. Pranjal Praveen

डर्माटोलॉजी
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Nihal Yadav

Dr. Nihal Yadav

डर्माटोलॉजी
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Ravichandran G

Dr. Ravichandran G

डर्माटोलॉजी
23 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ