myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

अल्सरेटिव कोलाइटिस एक इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज है जो पाचन तंत्र में लंबे समय तक रहने वाली (क्रोनिक) सूजन और अल्सर (घाव) का कारण बनता है। इस स्थिति में बृहदान्त्र (बड़ी आंत) और मलाशय के अंदरूनी अस्तर पर जलन की समस्या भी हो जाती है। अल्सर से ब्लीडिंग और मवाद निकल सकता है। अल्सरेटिव कोलाइटिस के सबसे साधारण लक्षणों में शामिल हैं :

अल्सरेटिव कोलाइटिस के असामान्य लक्षणों में आंखों में जलन, चकत्ते और जोड़ों में दर्द या खराश शामिल है। इस स्थिति वाले अधिकांश लोग हल्के से मध्यम लक्षणों का अनुभव करते हैं, लेकिन लगभग 10 प्रतिशत लोग गंभीर लक्षणों का सामना करते हैं जैसे बुखार, पेट में तेज ऐंठन और बार-बार होने वाला दस्त (जिसमें खून, मवाद या बलगम निकलता है) शामिल हैं।

अल्सरेटिव कोलाइटिस एक ऑटोइम्यून स्थिति है। यह तब होता है जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली गलती से आंतों के अस्तर की स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला करती है। हालांकि, इसका सटीक कारण स्पष्ट नहीं है लेकिन शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि यह आनुवंशिक और पर्यावरणीय कारकों के कारण हो सकता है।

परंपरागत रूप से, अल्सरेटिव कोलाइटिस का उपचार कुछ दवाइयों और जीवन शैली में संशोधन के जरिए किया जाता है। दुर्लभ मामलों में सर्जरी की आवश्यकता होती है।

अल्सरेटिव कोलाइटिस से जुड़े लक्षणों का प्रबंधन करने और स्थिति का इलाज करने के लिए कई होम्योपैथिक उपचार उपलब्ध हैं। इनमें से कुछ उपायों में वेराट्रम एल्बम, पोडोफाइलम, एलोए सोकोट्रिना, एंटीमोनियम क्रूडम, पल्सेटिला प्रेटेंसिस, बैप्टीशिया टिंक्टोरिआ, ब्रायोनिया अल्बा, बेलाडोना, आइपेकुआना, एकोनिटम नेपेलस, कार्बो वेजिटेबिलिस, आर्सेनिक एल्बम, मर्सिडीज एल्बम, मर्क्यूरियस कोरोसाइवस शामिल हैं। होम्योपैथिक डॉक्टर दवा निर्धारित करने से पहले मरीज के व्यक्तित्व लक्षणों के अलावा उसकी शारीरिक और मानसिक स्थिति पर विचार करते हैं। यही वजह है कि यह दवा एक जैसी बीमारी वाले व्यक्तियों में एक जैसा असर नहीं करती हैं।

  1. आंतों में सूजन (अल्सरेटिव कोलाइटिस) के लिए होम्योपैथिक दवाएं - Aant me sujan ki homeopathic medicine
  2. होम्योपैथी के अनुसार आंतों में सूजन (अल्सरेटिव कोलाइटिस) के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - Aant me sujan ke liye khanpan aur jeevan shaili me badlav
  3. आंतों में सूजन (अल्सरेटिव कोलाइटिस) के लिए होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - Aant me sujan ke liye homeopathic medicine kitni effective hai
  4. आंतों में सूजन (अल्सरेटिव कोलाइटिस) के लिए होम्योपैथिक दवा के नुकसान और जोखिम - Aant me sujan ki homeopathic medicine ke nuksan
  5. आंतों में सूजन (अल्सरेटिव कोलाइटिस) के लिए होम्योपैथिक उपचार से संबंधित टिप्स - Aant me sujan ki homeopathic treatment se jude tips

पल्सेटिला प्रेटेंसिस
सामान्य नाम :
विंड फ्लावर
लक्षण : पल्सेटिला प्रेटेंसिस बुखार के प्रबंधन के लिए एक प्रभावी उपाय है जो अंतर्निहित गैस्ट्रिक विकारों के कारण होता है। यह निम्नलिखित लक्षणों के उपचार में भी मदद कर सकती है :

  • मुंह में कड़वा या चिकना स्वाद
  • पेट में दर्द
  • दस्त
  • पेचिश; रोगी के मल में बलगम और खून आना
  • गर्म वातावरण में भी, ठंड की भावना

यह लक्षण शाम को, वसायुक्त भोजन करने के बाद और गर्म वातावरण में बिगड़ जाते हैं, जबकि कोल्ड एप्लीकेशन (जैसे बर्फ की सिकाई), खुली हवा में घूमने या ठंडा खानपान लेने से इनमें सुधार होता है।

वेराट्रम एल्बम
सामान्य नाम :
व्हाइट हेलबोर
लक्षण : वेराट्रम एल्बम को मुख्य रूप से कमजोरी के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसका उपयोग निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी किया जा सकता है :

  • पेट में दर्द और ऐंठन
  • ठंड लगने के साथ बुखार; इसमें रोगी को बहुत तेज ठंड लगती है
  • पेट खाली महसूस होना
  • अत्यधिक मतली और उल्टी
  • आंत में संक्रमण

यह लक्षण रात के दौरान, ठंड या बरसात के मौसम में बढ़ जाते हैं, जबकि गर्म परिस्थितियों में और टहलने पर बेहतर होते हैं।

आर्सेनिकम एल्बम
सामान्य नाम :
आर्सेनिक एसिड
लक्षण: इस उपाय का उपयोग शरीर में सेप्टिक इंफेक्शन और जलन के इलाज के लिए किया जाता है। यह निम्नलिखित लक्षणों का इलाज करने में भी मदद करता है :

  • पेट में गड़बड़ी
  • उल्टी में पित्त, बलगम और खून आना
  • पेट में सूजन और जलन
  • पेचिश की गंभीर समस्या जिसमें खून भी आ सकता है
  • तेज बुखार और थकावट
  • एंटरोकोलाइटिस यानी छोटी और बड़ी आंत की सूजन

यह लक्षण ठंडे और बरसात के मौसम में, आधी रात के बाद और ठंडे खानपान के बाद बिगड़ जाते हैं जबकि गर्म पेय का सेवन करने पर इन लक्षणों में सुधार होता है।

हाइड्रैस्टिस कैनाडेंसिस
सामान्य नाम :
गोल्डन सील
लक्षण : हाइड्रैस्टिस कैनाडेंसिस मुख्य रूप से श्लेष्मा झिल्ली पर काम करता है। हालांकि, यह निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी मदद करता है :

पोडोफाइलिनम
सामान्य नाम :
मे-एप्पल
लक्षण : पोडोफाइलिनम पाचन तंत्र में सूजन और दर्द के लिए एक अत्यधिक प्रभावी उपाय है। हालांकि, यह मुख्य रूप से मलाशय, छोटी आंत और लिवर पर कार्य करता है। यह उपाय निम्नलिखित लक्षणों के उपचार में भी मदद करता है :

  • खट्टी डकार
  • पेट में ऐसा एहसास होना जैसे कुछ गड़बड़ होने वाली है
  • लंबे समय तक दस्त
  • पेचिश
  • सुबह (लगभग 7 बजे) से पहले ठंड लगना

यह सभी लक्षण गर्म मौसम में और सुबह जल्दी खराब हो जाते हैं।

एलोए सोकोट्रिना
सामान्य नाम :
सोकोट्रिन एलोए
लक्षण : एलोए सोकोट्रिना का उपयोग पेचिश को ठीक करने के लिए किया जाता है। हालांकि, यह निम्नलिखित लक्षणों को प्रबंधित करने में भी मदद करता है :

  • पेट में दर्द
  • पेट भरा महसूस होना
  • मल में बलगम
  • गुदा और मलाशय में जलन
  • दस्त
  • शौच के बाद मलाशय में दर्द

यह सभी लक्षण गर्म और शुष्क मौसम में, सुबह में और खाने या पीने के बाद बढ़ जाते हैं। ठंड के मौसम में और खुली हवा में इन लक्षणों में सुधार होता है।

एंटीमोनियम क्रूडम
सामान्य नाम :
ब्लैक सल्फाइड ऑफ एंटीमोनी
लक्षण : यह गैस्ट्रिक शिकायतों के लिए एक प्रभावी उपाय है और इसका उपयोग निम्नलिखित लक्षणों के इलाज के लिए भी किया जाता है:

  • गैस्ट्रिक विकारों से जुड़ा बुखार
  • भूख में कमी
  • खाने के बाद पेट फूलना
  • कब्ज के साथ बारी-बारी से दस्त
  • मल में पानी आना
  • मतली, उल्टी और दस्त के साथ अनियमित बुखार
  • मल में बलगम
  • लगातार डकार
  • गर्म वातावरण, ठंडे पानी में स्नान, खट्टी शराब या अम्लीय खाद्य पदार्थों के कारण होने वाली गैस्ट्रिक और आंतों से जुड़ी समस्याएं

यह लक्षण शाम और शराब या पानी के सेवन के बाद बिगड़ जाते हैं। आराम करने या खुली हवा में समय बिताने पर रोगी को कुछ राहत मिलती है।

बैप्टीशिया टिंक्टोरिआ
सामान्य नाम : 
वाइल्ड इंडिगो
लक्षण : बैप्टीशिया टिंक्टोरिआ मुख्य रूप से उन बच्चों को दिया जाता है, जिन्हें क्रोनिक बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण बदबूदार मल और लगातार खुजली होती है। यह अन्य लक्षणों के इलाज के लिए भी फायदेमंद है जैसे :

  • पेट में दर्द व कुछ गड़बड़ होने की भावना
  • पतला या मोटा मल जिसमें खून भी निकलता है
  • पेचिश, विशेष रूप से वृद्ध व्यक्तियों में
  • जठरांत्र संबंधी रोगों से संबंधित बुखार
  • आंतों और पेट में अल्सर व सूजन

यह लक्षण गर्म और नम मौसम और धुंधले मौसम में बिगड़ जाते हैं।

ब्रायोनिया अल्बा
सामान्य नाम :
वाइल्ड हॉप्स
लक्षण : इस दवा का प्रयोग निम्नलिखित लक्षणों के उपचार में किया जा सकता है :

  • गैस्ट्रिक और सूजन संबंधी बीमारियों के कारण बुखार
  • उठने के दौरान मतली या बिहोशी
  • पेट में दर्द और जलन जो खांसने या दबाव डालने पर बिगड़ जाता है

यह लक्षण गर्म मौसम और प्रभावित हिस्से पर गर्म सिकाई करने व दर्द वाले हिस्से को छूने पर बिगड़ जाते हैं। ठंड के मौसम में, दर्द की तरफ लेटने और थोड़ा आराम करने के बाद लक्षणों में सुधार होता है।

बेलाडोना
सामान्य नाम :
डेडली नाइटशेड
लक्षण : यह दवा मुख्य रूप से शरीर में धमक वाले दर्द और जलन के इलाज के लिए उपयोग की जाती है। इसका उपयोग निम्नलिखित लक्षणों के उपचार के लिए भी किया जा सकता है :

  • भूख में कमी
  • पेट में सूजन और छूने पर दर्द
  • उल्टी के साथ मतली
  • पेट और मलाशय में दर्द
  • तेज बुखार

यह सभी शिकायतें दोपहर में, लेटने पर और प्रभावित हिस्से को छूने पर खराब हो जाती हैं, जबकि सेमी इरेक्ट पोजिशन (लेटने व बैठने के बीच वाली स्थिति) में बैठने पर रोगी को अच्छा महसूस होता है।

आइपेकुआना
सामान्य नाम :
आईपेकेक-रूट
लक्षण : यह उपाय लगातार मतली और उल्टी के लिए प्रभावी है। यह निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी उपयोगी है :

  • पेचिश के साथ हरा मल
  • उल्टी में भोजन के साथ बलगम, पित्त और खून आना
  • अनियमित बुखार, विशेष रूप से कुछ अंतर्निहित गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रोग के कारण

जब रोगी लेट जाता है या गर्म और नम हवा के संपर्क में आता है, तो लक्षण बढ़ जाते हैं।

एकोनिटम नेपेलस
सामान्य नाम :
मॉन्कशूद
लक्षण : एकोनिइटम नैपेलस बुखार और बेचैनी के इलाज के लिए उपयोगी है। कुछ अन्य लक्षण जिन्हें इस उपाय का उपयोग करके प्रबंधित किया जा सकता है, उनमें शामिल हैं :

  • उल्टी में बलगम और खून आना
  • तेज प्यास, विशेष रूप से ठंडे पानी के लिए; पानी को छोड़कर हर चीज कड़वी लगती है
  • पेट में दर्द
  • बच्चों में पानी जैसा दस्त
  • पाचन तंत्र में सूजन

यह लक्षण शाम और रात में, धूम्रपान तंबाकू का सेवन करने और प्रभावित हिस्से के बल लेटने पर बदतर हो जाते हैं, जबकि खुली हवा में इनमें सुधार होता है।

होम्योपैथिक दवाइयां प्राकृतिक पदार्थों से तैयार की जाती हैं। इनका इस्तेमाल करने से पहले इन्हें अत्यधिक घुलनशील रूप दिया जाता है। कुछ जीवनशैली और भोजन की आदतें होम्योपैथिक उपचार की कार्रवाई में बाधा डालती हैं, इसीलिए आदतों में कुछ बदलाव करने और उचित आहार को अपने रूटीन में शामिल करने की जरूरत है।

होम्योपैथी न सिर्फ बीमारी के लक्षणों को ठीक करती है, बल्कि यह रोगी के समग्र स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करती है।

क्या करना चाहिए :

  • पौष्टिक आहार लें।
  • व्यक्तिगत स्वच्छता के साथ आसपास साफ सफाई बनाए रखें।
  • अपनी दिनचर्या में पर्याप्त व्यायाम को शामिल करें।

क्या नहीं करना चाहिए :

  • चाय और कॉफी जैसे कैफीन युक्त पेय से बचें।
  • ऐसे इत्र का प्रयोग न करें जिनमें तेज गंध हो।
  • उन खाद्य पदार्थों से बचें जिनमें औषधीय गुण हैं।
  • नमक, चीनी और मसालों का सेवन नियंत्रित करें।
  • ऐसी गतिविधियों से बचें जो शारीरिक या मानसिक परिश्रम का कारण बन सकती हैं।
  • गीली और दलदली जगहों पर रहने से बचें।

अल्सरेटिव कोलाइटिस के उपचार के लिए कई होम्योपैथिक दवाएं उपलब्ध हैं। इन्हें व्यक्ति की स्वास्थ्य स्थिति के आधार पर निर्धारित किया जाता है। हालांकि, अल्सरेटिव कोलाइटिस के उपचार में होम्योपैथिक दवाओं की दक्षता की पुष्टि करने के लिए बहुत वैज्ञानिक प्रमाण नहीं हैं।

भारत में संबंधित मामले पर एक अध्ययन किया गया था। इडियोपैथिक अल्सरेटिव कोलाइटिस के उपचार में हाइड्रैस्टिस को प्रभावी पाया गया। अध्ययन में शामिल रोगी एक 40 वर्षीय व्यक्ति था, जिसे मल में खून आने, पेट में ऐंठन जैसा दर्द, शौच के दौरान गंभीर दर्द व जलन और अत्यधिक पेट फूलने के साथ मल के लगातार पारित होने की समस्या थी। रोगी को लगभग 6 महीने तक हाइड्रैटिस दी गई और अंत में उसे सभी लक्षणों से राहत मिल गई।

होम्योपैथिक दवाएं जड़ी-बूटियों, पशु उत्पादों और खनिजों जैसे प्राकृतिक पदार्थों से तैयार की जाती हैं। इन दवाओं को व्यापक रूप से पतला रूप दिया जाता है, इसीलिए यह गर्भवती महिलाओं, बच्चों और बुजुर्ग व्यक्तियों सहित सभी उम्र के लोगों में सुरक्षित और प्रभावी है।

हालांकि, किसी भी दवा को शुरू करने से पहले एक अनुभवी होम्योपैथिक चिकित्सक से परामर्श कर लेना एक अच्छा विचार होता है, क्योंकि वह इन दवाओं की संरचना से अच्छी तरह से वाकिफ हैं और व्यक्ति की नैदानिक स्थिति के लिए उपयुक्त दवा लिख सकते हैं।

अल्सरेटिव कोलाइटिस आंत में सूजन संबंधी स्थिति है, जो गंभीर बेचैनी का कारण बनती है। चूंकि, यह एक ऑटोइम्यून स्थिति है, इसलिए आमतौर पर जीवनशैली प्रबंधन और लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए दवाओं की मदद ली जाती है। अल्सरेटिव कोलाइटिस के इलाज के लिए होम्योपैथी में कई दवाओं का वर्णन किया गया है। होम्योपैथिक दवाओं की दक्षता को साबित करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक अध्ययन नहीं हैं, लेकिन चूंकि ये दवाएं प्राकृतिक पदार्थों से बनाई जाती हैं, इसलिए उन्हें सुरक्षित माना जाता है। ध्यान रहे, इन दवाओं का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है, बावजूद इसके अपने मन से इन दवाइयों को सेवन नहीं करना चाहिए।

और पढ़ें ...

References

  1. National Institute of Diabetes and Digestive and Kidney Diseases [internet]: US Department of Health and Human Services; Ulcerative Colitis
  2. National Health Service [Internet]. UK; Ulcerative colitis
  3. Partha Pratim Pal, Madhu Sudhan Ghosh, Abhijit Chakma. Homoeopathic treatment of ulcerative Colitis: A case report. Year : 2017 Volume : 11 Issue : 1 Page : 74-78
  4. Oscar E. Boericke. Repertory. Médi-T; [lnternet]
  5. Wenda Brewster O’Reilly. Organon of the Medical art by Wenda Brewster O’Reilly. B jain; New Delhi
  6. The European Comittee for Homeopathy. Benefits of Homeopathy. Belgium; [Internet]
ऐप पर पढ़ें