पनीर फूल या पनीर डोडा को इंडियन रेनेट (Indian Rennet) भी कहा जाता है. इसका वानस्पतिक नाम विथानिया कोगुलांस (Withania Coagulans) है. हिन्दी में इसे पनीर बूटी व ऋष्यगंध भी कहा जाता है. पनीर फूल या पनीर डोडा के सभी हिस्सों बीज, जड़, टहनी, फल, फूल, पत्तियां और छाल का इस्तेमाल दवा के तौर पर किया जाता है. इसमें अमीनो एसिड, फैटी ऑयल, एसेंशियल ऑयल और एल्केलॉइड के गुण पाए जाते हैं, जो सेहत को बनाए रखने में अहम भूमिका निभाते हैं. पनीर फूल डायबिटीज व वजन को कम करने आदि में फायदेमंद साबित हो सकता है.

आज इस लेख में हम पनीर फूल या पनीर डोडा के फायदे व नुकसान के बारे में चर्चा करेंगे -

(और पढ़ें - छोटी दूधी के फायदे)

  1. पनीर फूल के फायदे
  2. पनीर डोडा के नुकसान
  3. सारांश
पनीर डोडा के फायदे व नुकसान के डॉक्टर

पनीर फूल को पानी में भिगोकर उसका पानी छानकर सुबह खाली पेट पीने की सलाह दी जाती है. पनीर फूल में हाइपोग्लाइसेमिक, हाइपोलिपिडेमिक, कार्डियोवस्कुलर, हेपाटोप्रोटेक्टिव, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-ऑक्सीडेंट व एंटी-फंगल जैसे औषधीय गुण पाए जाते हैं. यह डायबिटीज, अस्थमा व वेट लॉस मैनेजमेंट में मददगार होने के साथ-साथ स्किन के लिए भी फायदेमंद है. आइए, पनीर फूल या पनीर डोडा के फायदे के बारे में विस्तार से जानते हैं -

टाइप 2 डायबिटीज

पनीर फूल में एंटी हाइपरग्लाइसेमिक प्रभाव पाया जाता है. यह खून में ग्लूकोज को कंट्रोल कर सकता है. इसलिए, टाइप 2 डायबिटीज के इलाज के तौर पर पनीर फूल से निकले एक्सट्रेक्ट का नियमित सेवन करना फायदेमंद हो सकता है.

(और पढ़ें - वाराही कंद के फायदे)

वेट लॉस मैनेजमेंट

शोध बताते हैं कि पनीर डोडा बढ़े हुए सीरम कोलेस्ट्रॉल, ट्राईग्लाइसराइड्स, लिपोप्रोटीन और एलपीओ लेवल को कम करने की क्षमता रखता है. इसके लगातार इस्तेमाल का रिजल्ट वेट लॉस के तौर पर सामने आया है.

(और पढ़ें - लता कस्तूरी के फायदे)

त्वचा के लिए लाभदायक

पनीर फूल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण इसे स्किन को जवां बनाए रखने में मददगार होता है. इसका एंटी-इंफ्लेमेशन गुण सूजी हुई स्किन को ठीक कर सकता है, जिससे स्किन बैरियर में सुधार आता है और स्किन में नमी भी बनी रहती है. यह स्किन को सूरज की परा बैंगनी किरणों से से बचा सकता है.

(और पढ़ें - कुचला के फायदे)

अस्थमा में सुधार

सांस से जुड़ी समस्या में पनीर डोडा के फायदे को अनदेखा नहीं किया जा सकता है. इसके लगातार सेवन से अस्थमा वाले लोगों की स्थिति में कुछ सुधार देखा गया है. यह अस्थमा के अचानक होने वाले अटैक से भी सुरक्षा कर सकता है.

(और पढ़ें - ब्रह्म कमल के फायदे)

खून को करे साफ

पनीर डोडा एक प्राकृतिक ब्लड प्यूरिफायर है, जो शरीर में वात्त को संतुलित रखने में मददगार है. पनीर फूल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण खून को साफ रखने में सहायता कर सकता है. यह डैमेज हुए सेल्स को रिपेयर करने में भी मदद कर सकता है और शरीर में मौजूद खतरनाक फ्री रेडिकल्स के प्रभाव काे कम करने में मदद कर सकता है.

(और पढ़ें - वृद्धिवाधिका वटी के फायदे)

चोट को करे ठीक

अगर शरीर के किसी भी हिस्से पर चोट लगी है, तो पनीर डोडा के फल को मैश करके वहां लगाने से चोट तेजी से ठीक होने लगती है.

(और पढ़ें - चित्रक के फायदे)

पेशाब में दर्द से राहत

यदि पेशाब कम आ रहा है, तो पनीर फूल के सेवन से इसमें कुछ सुधार हो सकता है. पनीर डोडा में ड्यूरेटिक गुण मौजूद होता है, जो पेशाब की मात्रा को बढ़ाता है. यदि पेशाब करने के दौरान दर्द होता है, तो भी पनीर फूल के सेवन से राहत मिल सकती है.

(और पढ़ें - विदारीकंद के फायदे)

मेन्सट्रूअल डिसऑर्डर

अनियमित पीरियड्स और पीरियड्स के दौरान शरीर में होने वाले दर्द को ठीक करने में पनीर डोडा मददगार साबित हुआ है. यह यूट्रस को भी प्यूरिफाई कर सकता है. 

(और पढ़ें - अपामार्ग के फायदे)

लिवर को रखे स्वस्थ

इस फल में मौजूद हेपाटोप्रोटेक्टिव गुण लिवर को डैमेज होने से बचाते हैं. यदि लिवर से संबंधित कोई पुरानी बीमारी हो, तो भी पनीर फूल लाभदायक है.

(और पढ़ें - कुटकी के फायदे)

पनीर फूल के कुछ नुकसान भी हैं, जिसकी वजह से इसके सेवन से पहले आयुर्वेदिक एक्सपर्ट से सलाह लेने के लिए कहा जाता है. आइए, पनीर फूल या पनीर डोडा को इस्तेमाल करने से होने वाले नुकसान के बारे में जानते हैं -

  • शोध बताते हैं कि पनीर डोडा को इस्तेमाल करने से नसों पर दबाव पड़ सकता है, जिसकी वजह से यह कन्फ्यूजनडिजिनेससिरदर्दड्राई माउथ और याददाश्त संबंधी परेशानियों का कारण बन सकता है. 
  • पनीर फूल में इम्यूनोसप्रेसिव क्षमता पाई जाती है. इसके कारण इन्फेक्शन व अन्य बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है.
  • गर्भावस्था व स्तनपान के दौरान के सेवन को सुरक्षित नहीं माना जाता है.

(और पढ़ें - मंडूर भस्म के फायदे)

पनीर फूल या पनीर डोडा डायबिटीज व अस्थमा जैसी स्थितियों में लाभकारी होने के साथ-साथ स्किन को भी खूबसूरत और हेल्दी बनाने में फायदेमंद है. वहीं, नसों को दबाने वाले प्रभाव की वजह से पनीर फूल कन्फ्यूजन व सिरदर्द जैसी परेशानियों का कारण भी बन सकता है. साथ ही प्रेगनेंसी में भी इसके सेवन को मना किया जाता है. बेहतर तो यह होगा कि किसी भी बीमारी या स्थिति को ठीक करने के लिए पनीर फूल/पनीर डोडा के सेवन या इस्तेमाल से पहेल आयुर्वेदिक एक्सपर्ट की सलाह ले ली जाए.

(और पढ़ें - विच हेजल के फायदे)

Dr. Gourav Vashishth

Dr. Gourav Vashishth

आयुर्वेद
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Anil Sharma

Dr. Anil Sharma

आयुर्वेद
8 वर्षों का अनुभव

Dr. Prerna Choudhary

Dr. Prerna Choudhary

आयुर्वेद
6 वर्षों का अनुभव

Dr. Satpal

Dr. Satpal

आयुर्वेद
24 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ