जामुन (Syzygium cumini) काले रंग का एक ऐसा छोटा सा फल है, जिसके सेवन से आप कई तरह की बीमारियों को दूर कर सकते हैं. साथ ही यह स्वाद में भी बेमिसाल होता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि जामुन ही नहीं, इसकी गुठली भी स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी होती हैं. इसके इस्तेमाल से डायबिटीज से लेकर वायरल फीवर को दूर किया जा सकता है.

गर्मियों में आम की तरह ही जामुन मार्केट में चारों देखने को मिल जाते हैं. लेकिन इसकी गुठली से तैयार पाउडर आपको किसी भी आयुर्वेदिक स्टोर में आसानी से मिल सकता है. आयुर्वेद में जामुन की गुठली का इस्तेमाल कई तरह की बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है.

आज हम इस लेख में जामुन की गुठली के फायदों के बारे में बताएंगे.

(और पढ़ें - जामुन के बीज)

  1. जामुन की गुठली के फायदे - Health benefits of Jamun Kernel in Hindi
  2. जामुन की गुठली के साइड-इफेक्ट्स - Jamun kernel side effects in Hindi
  3. सारांश - Takeaway
जामुन की गुठली के फायदे और नुकसान के डॉक्टर

जामुन की गुठली के कई स्वास्थ्य लाभ हैं जैसे डायबिटीज और हाई बीपी को कंट्रोल रखने में मदद करती है, पाचन शक्ति बढ़ाती है और कब्ज से राहत दिलाती है, और सूजन को कम करती है।

आइए जामुन की गुठली के इन और कई अन्य फायदों के बारे में जानते हैं।

डायबिटीज को करे कंट्रोल

जामुन की गुठली का सेवन करने से आप डायबिटीज को कंट्रोल कर सकते हैं. दरअसल, जामुन की गुठली में एंटी-डायबिटीज गुण मौजूद होता है. टाइप-2 डायबिटीज मरीजों के लिए इसकी गुठली से तैयार अर्क और पाउडर का सेवन करने से काफी फायदा हो सकता है. यह आपके शरीर में ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मददगार हो सकता है. अगर आप डायबिटीज में होने वाली परेशानियों से दूर रहना चाहते हैं, तो जामुन की गुठली से तैयार पाउडर या फिर अर्क का सेवन कर सकते हैं.

(और पढ़ें - शुगर का आयुर्वेदिक इलाज)

कब्ज से दिलाए राहत

कब्ज से राहत दिलाने में जामुन की गुठली लाभकारी हो सकती है. दरअसल, इसकी गुठली में क्रूड फाइबर (Crude Fiber) होता है, जो कब्ज रोगियों के लिए लाभकारी हो सकता है. क्रूड फाइबर युक्त आहार का सेवन करने से मल त्यागने में आसानी होती है. ऐसे में आप कब्ज की शिकायत होने पर जामुन की गुठली का सेवन कर सकते हैं.

(और पढ़ें - कब्ज का इलाज)

वायरल इंफेक्शन से करे बचाव

जामुन की गुठली का सेवन करने से वायरल इंफेक्शन के खतरे से बचा जा सकता है. जामुन की गुठली में एंटी-माइक्रोबियल (antimicrobial) और एंटी-बैक्टीयल (anti-bacterial) गुण होता है, जो वायरल इंफेक्शन को दूर करने में आपकी मदद कर सकता है. इसकी गुठली से तैयार अर्क का सेवन करने से शरीर में मौजूद बैक्टीरिया नष्ट हो सकते हैं. ऐसे में अगर आप वायरल इंफेक्शन से बचना चाहते हैं, तो जामुन की गुठली से तैयार अर्क या पाउडर का सेवन करें.

(और पढ़ें - वायरल इन्फेक्शन का इलाज)

कैंसर रोधी गुणों से भरपूर

जामुन की गुठली में कई कैंसर रोधी (Anti-Cancer) गुण मौजूद होते हैं. स्टडी के मुताबिक, इसकी गुठली में साइटोटोक्सिक (Cytotoxicity) गुणों वाले कुछ घटक मौजूद होते हैं, जिनका इस्तेमाल विशेष रूप से फेफड़ों के कैंसर का उपचार करने के लिए एंटी-कैंसर एजेंटों के रूप में किया जाता है. हालांकि, कैंसर रोगियों के लिए जामुन की गुठली कितनी असरकारी हो सकती है, इसके लिए अभी गहन अध्ययन की आवश्यकता है.

(और पढ़ें - फेफड़ों के कैंसर का ऑपरेशन)

शरीर में सूजन को करे कम

जामुन की गुठली में एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं, जो शरीर में होने वाली सूजन और दर्द को दूर करने में मददगार हो सकते हैं. खासतौर पर अगर आपको अर्थराइटिस की समस्या है, तो आप जामुन की गुठली से तैयार पाउडर और अर्क का सेवन कर सकते हैं. इससे सूजन और दर्द से राहत मिल सकती है.

(और पढ़ें - गठिया के घरेलू उपाय)

पीरियड्स की परेशानियों से दिलाए राहत

जामुन की गुठली का सेवन करने से आप पीरियड्स में होने वाली परेशानियों जैसे - अनियमित ब्लड फ्लो और दर्द को दूर कर सकते हैं. दरअसल, इसकी गुठली में जिंक पाया जाता है, जो पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से आराम दिलाने में आपकी मदद कर सकता है.

(और पढ़ें - पीरियड्स नहीं आने के कारण)

ब्लड प्रेशर को करे कंट्रोल

ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में जामुन की गुठली मददगार हो सकती है. रिसर्च के मुताबिक, जामुन की गुठली में लेजिक एसिड (Ellagic Acid) होता है, जो ब्लड प्रेशर को सुधारने में मददगार साबित हो सकता है. अगर आपको ब्लड प्रेशर की समस्या है, तो जामुन की गुठली का इस्तेमाल कर सकते हैं. इससे ब्लड प्रेशर की परेशानी को काफी हद तक कम किया जा सकता है.

(और पढ़ें - हाई बीपी का आयुर्वेदिक इलाज)

पाचन शक्ति को बढ़ाए

पाचन क्रिया को बेहतर करने में जामुन की गुठली का सेवन किया जा सकता है. दरअसल, जामुन की गुठली में क्रूड फाइबर होता है. क्रूड फाइबर के सेवन से आपकी पाचन क्रिया बेहतर तरीके से कार्य करती है. ऐसे में अगर आप अपनी पाचन शक्ति को मजबूत करना चाहते हैं, तो जामुन की गुठली से तैयार अवयवों (अर्क या पाउडर) का सेवन कर सकते हैं.

(और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)

जामुन की गुठली स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हो सकती हैं. इसमें फाइबर, कार्बोहाड्रेट और विटामिन सी की अधिकता होती है. इन पोषक तत्वों से सेवन से शरीर को कई फायदे हो सकते हैं. लेकिन अगर आप इनका अधिक मात्रा में सेवन करते हैं, तो इससे आपके सेहत को नुकसान भी पहुंच सकता है. इसलिए जामुन की गुठली का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें.

(और पढ़ें - विटामिन की कमी के लक्षण)

जामुन की गुठली का सेवन करने से स्वास्थ्य को कई बेहतर रिजल्ट मिल सकते हैं. लेकिन इसका सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर राय लें. खासतौर पर जब आप किसी गंभीर परिस्थिति से जूझ रहे हैं, तो डॉक्टर से सलाह लेकर ही इसका सेवन करें. ताकि गंभीर परेशानियों से बचा जा सके.

Dr. Ravikant Sharma

Dr. Ravikant Sharma

आयुर्वेद
5 वर्षों का अनुभव

Dr.Roomy

Dr.Roomy

आयुर्वेद
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Man Singh

Dr. Man Singh

आयुर्वेद
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Poonam Kalia

Dr. Poonam Kalia

आयुर्वेद
14 वर्षों का अनुभव

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ