लिवर में दर्द - Liver pain in Hindi

Dr. Rajalakshmi VK (AIIMS)MBBS

July 06, 2022

July 06, 2022

लिवर में दर्द
लिवर में दर्द

लिवर शरीर की पसलियों के नीचे होता है. यह हमारे शरीर में 500 से अधिक कार्यों को करने में मदद करता है. ऐसे में लिवर को सुरक्षित रखना जरूरी है. कुछ स्थितियों में लिवर में हल्का-सा दर्द होने लगता है, जिसके बारे में पता लगाना काफी मुश्किल हो सकता है. ऐसे में यह समझना कठिन हो जाता है कि लिवर में दर्द होने की किस स्थिति में डॉक्टर को दिखाना चाहिए. लिवर में दर्द के पीछे वायरल हेपेटाइटिस व लिवर में चोट लगाना आदि हो सकता है. ऐसे में कुछ जरूरी बातों को ध्यान में रखकर इस समस्या को कम किया जा सकता है.

आज इस लेख में आप जानेंगे कि लिवर में दर्द होने के कारण, लक्षण और इलाज क्या हैं -

(और पढ़ें - लिवर इन्फेक्शन का इलाज)

लिवर में दर्द के लक्षण - Liver pain Symptoms in Hindi

लिवर में हल्का दर्द होना अपने आप में एक लक्षण है. यह परेशानी कई कारणों से हो सकती है. ऐसे में लिवर में दर्द के लक्षण इसके कारणों पर निर्भर करते हैं. वहीं, कुछ लक्षण सामान्य हो सकते हैं, जैसे -

(और पढ़ें - लिवर खराब होने के घरेलू उपाय)

लिवर में दर्द के कारण - Liver pain Causes in Hindi

लिवर में दर्द के कई कारण हो सकते हैं, जिसमें अधिक शराब का सेवन, लिवर कैंसर व लिवर में सिस्ट आदि शामिल हैं. आइए, इस बारे में विस्तार से जानते हैं -

वायरल हेपेटाइटिस

वायरल हेपेटाइटिस की वजह से लिवर में सूजन आने लगती है. हेपेटाइटिस-ए, बी और सी सबसे आम है. वायरल हेपेटाइटिस की वजह से पेट के ऊपरी दाहिने हिस्से में दर्द होने लगता है. हेपेटाइटिस के अन्य लक्षणों में गहरे रंग का पेशाब, स्किन का रंग पीला होना, आंखों का रंग पीला होना, थकान व उल्टी-मतली इत्यादि शामिल है.

(और पढ़ें - लिवर फेल होने का इलाज)

अल्कोहलिक हेपेटाइटिस

शराब के अधिक सेवन से अल्कोहलिक हेपेटाइटिस होता है. इस स्थिति में लिवर में सूजन आ जाती है. अल्कोहलिक हेपेटाइटिस के कारण लिवर में हल्का-सा दर्द महसूस हो सकता है. इसके अलावा, अल्कोहलिक हेपेटाइटिस के कारण थकान और कमजोरी महसूस हो सकती है. 

(और पढ़ें - लिवर को मजबूत करने के लिए क्या खाएं)

फैटी लिवर

फैटी लिवर से ग्रसित मरीजों के लिवर में हल्का-सा दर्द हो सकता है. यह समस्या लिवर में अधिक फैट जमा होने की वजह से होती है. इसकी वजह से मरीज को अन्य परेशानियां जैसे- वजन बढ़ना, कोलेस्ट्रॉल व डायबिटीज इत्यादि हो सकती है.

(और पढ़ें - लिवर इंफेक्शन में क्या खाएं)

लिवर में घाव या सिस्ट

लिवर में घाव या सिस्ट के कारण भी दर्द हो सकता है. यह समस्या बैक्टीरिया व फंगल के कारण होती है, जिसकी वजह से लिवर के आसपास मवाद इकट्ठा होने लगता है. इस स्थिति में तुरंत डॉक्टर से संपर्क की जरूरत होती है. लिवर में दर्द के साथ-साथ बुखार व ठंड लगने जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं.

(और पढ़ें - लिवर रोग का आयुर्वेदिक इलाज)

लिवर में चोट लगना

लिवर में किसी कारण से चोट लगने की वजह से भी दर्द हो सकता है. चोट लगने की वजह से अगर लिवर से काफी ज्यादा खून बह रहा हो, तो इस स्थिति में पेट और कंधे के दाहिने हिस्से में दर्द जैसा महसूस हो सकता है. साथ ही शरीर में खून की कमी भी हो सकती है.

(और पढ़ें - लिवर की बीमारी के लिए व्यायाम)

लिवर कैंसर

लिवर कैंसर के कारण भी दर्द हो सकता है. हालांकि, आमतौर पर लिवर में दर्द तब तक नहीं होता, जब तक कि लिवर कैंसर लास्ट गंभीर स्टेज में न पहुंचा हो. लिवर कैंसर के लक्षणों में वजन कम होना, खुजली होना, स्किन का पीलापन व आंखों का रंग पीला होना शामिल है.

लिवर में हल्का दर्द होने के अन्य कारण -

  • सिरोसिस
  • रेये सिंड्रोम (Reye’s syndrome), जो लिवर और मस्तिष्क में सूजन के कारण होता है. 
  • हेमोक्रोमैटोसिस (hemochromatosis), शरीर में आयरन की अधिकता की वजह से यह समस्या हो सकती है.
  • इंफेक्शन
  • मोटापा
  • डायबिटीज
  • असुरक्षित यौन संबंध
  • केमिकलयुक्त पदार्थ का अधिक इस्तेमाल इत्यादि.

(और पढ़ें - लिवर की गर्मी का इलाज)

लिवर में दर्द का इलाज - Liver pain Treatment in Hindi

लिवर में हल्का दर्द होने का इलाज, इसके कारणों पर निर्भर करता है. अगर किसी व्यक्ति के आहार या फिर लाइफस्टाइल की वजह से लिवर में दर्द हो रहा है, तो इस स्थिति में डॉक्टर लाइफस्टाइल में बदलाव की सलाह दे सकते हैं. साथ ही कुछ अन्य तरीके भी अपनाने के लिए कह सकते हैं. वहीं, गंभीर स्थितियों में दवाओं के माध्यम से लिवर के दर्द का इलाज किया जाता है. आइए, जानते हैं सामान्य स्थितियों में लिवर में दर्द होने पर डॉक्टर क्या सलाह देते हैं -

  • लिवर को स्वस्थ रखने के लिए अधिक से अधिक मात्रा में पानी पिएं.
  • अल्कोहलिक लिवर की स्थिति में शराब से दूरी बनाए रखें.
  • वसायुक्त आहार का सेवन न करना.
  • लिवर में किसी तरह का दबाव या दर्द होने पर तुरंत डॉक्टर से चेकअप कराएं. साथ ही जरूरी टेस्ट कराएं.
  • लिवर को हेल्दी रखने के लिए पर्याप्त रूप से प्रोटीन का सेवन करें.
  • नियमित रूप से कोलेस्ट्रॉल की जांच कराएं.
  • रोजाना एक्सरसाइज करने की आदत डालें.

ध्यान रखें कि अगर लिवर में दर्द होने के लक्षण कई घंटों या दिनों तक बने रहते हैं, तो इस स्थिति में तुरंत डॉक्टर से चेकअप कराएं, क्योंकि ये गंभीर स्थिति की ओर भी इशारा हो सकता है. वहीं, शुरुआती अवस्था में लाइफस्टाइल को हेल्दी रखने की कोशिश करें. 

(और पढ़ें - फैटी लिवर का आयुर्वेदिक इलाज)

सारांश – Summary

लिवर में हल्का-सा दर्द महसूस होने के कई गंभीर और सामान्य कारण हो सकते हैं. इन कारणों के आधार पर इसके लक्षण भिन्न-भिन्न हैं. बस ध्यान रखें कि लंबे समय तक लिवर में दर्द होने पर डॉक्टर से सलाह जरूर लें, ताकि किसी भी तरह की गंभीर स्थिति से बचा जा सके. वहीं, मरीज का समय पर इलाज किया जा सके.

(और पढ़ें - लिवर रोग का होम्योपैथिक इलाज)



लिवर में दर्द के डॉक्टर

Dr. Murugan N Dr. Murugan N हीपैटोलॉजी (यकृत पित्त अग्न्याशय चिकित्सा )
18 वर्षों का अनुभव
Dr. Ashwin P Vinod Dr. Ashwin P Vinod हीपैटोलॉजी (यकृत पित्त अग्न्याशय चिकित्सा )
5 वर्षों का अनुभव
Dr. Rathod Bhupesh Dr. Rathod Bhupesh हीपैटोलॉजी (यकृत पित्त अग्न्याशय चिकित्सा )
6 वर्षों का अनुभव
Dr. Datta Sawangikar Dr. Datta Sawangikar हीपैटोलॉजी (यकृत पित्त अग्न्याशय चिकित्सा )
3 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ