myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

बवासीर एक बेहद आम समस्या है जो आमतौर पर बड़े लोगों को होती है। गुदा के निचले हिस्से में मौजूद नसों की सूजन को बवासीर कहते हैं। ये गुदा के अंदर या आस-पास और गुदा नली में हो सकता है। बवासीर के कई कारण हो सकते हैं, जैसे गर्भावस्था के दौरान नसों पर अधिक दबाव पड़ना या कब्ज आदि।

(और पढ़ें - कब्ज के घरेलू उपाय)

कभी-कभी बवासीर के कोई लक्षण नहीं होते, लेकिन कभी-कभी इससे गुदा में खुजली, खून का रिसाव या अन्य समस्याएं हो सकती हैं। ये ज्यादातर अपने आप ठीक हो जाती है, लेकिन कई मामलों में इसके लिए दवाएं, टीके और यहां तक कि सर्जरी की आवश्यकता भी हो सकती है।

(और पढ़ें - खुजली दूर करने के घरेलू उपाय)

इस लेख में बवासीर से क्या होता है, बवासीर हो तो क्या करना चाहिए और बवासीर के लिए डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए के बारे में बताया गया है।

  1. बवासीर में क्या होता है - Bawasir se kya hota hai
  2. बवासीर के लिए क्या करें - Piles hone par kya karna chahiye
  3. बवासीर के लिए डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए - Bavasir me doctor ke pas kab jaye

बवासीर में निम्नलिखित समस्याएं हो सकती हैं -

  • मल त्याग करते समय गुदा से खून निकलना। (और पढ़ें - मल में खून आने के कारण)
  • गुदा के आस-पास का क्षेत्र लाल होना।
  • गुदा के आस-पास खुजली होना।
  • मल त्याग करते समय दर्द होना।
  • गुदा के बाहर एक गांठ निकल जाना, जिसे मल त्याग करने के बाद गुदा के अंदर करना पड़े। (और पढ़ें - फर्स्ट ऐड बॉक्स)
  • गुदा में दर्द या असहजता होना।
  • गुदा के आस-पास दर्दनाक सूजन होना। (और पढ़ें - सूजन कम करने के घरेलू उपाय)
  • गुदा से चिपचिपा रिसाव होना।
  • मल त्याग करने के बाद चिपचिपा रिसाव होना।
  • गुदा के पास गांठ बनना। (और पढ़ें - चर्बी की गांठ के कारण)

(और पड़ें - गुदा कैंसर के लक्षण)

बवासीर के लक्षण बढ़ने पर आपको डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता होती है, लेकिन हल्के लक्षणों के लिए आप निम्नलिखित प्राथमिक चिकित्सा कर सकते हैं -

  1. सबसे पहले इस बात का ध्यान रखें कि आप गुदा के क्षेत्र को खरोचें नहीं, ऐसा करने से लक्षण और बिगड़ सकते हैं।
  2. दिन में कुछ बार 15 से 20 मिनटों के लिए गर्म पानी में बैठने या नहाने से बवसीर की सूजन में आराम मिल सकता है। (और पढ़ें - गर्म पानी से नहाने के फायदे)
  3. मल त्याग को आसान बनाने के लिए और मल की कठोरता को कम करने के लिए अपने आहार में धीरे-धीरे फाइबर की मात्रा बढ़ाएं। (और पढ़ें - फाइबर युक्त आहार)
  4. जैसे ही आपको मल आने की भावना हो, उसे रोकने का प्रयास न करें। ऐसा करने से बाद में मल करने में अधिक जोर लगाने की आवश्यकता होती है। (और पढ़ें - कब्ज दूर करने के घरेलू उपाय)
  5. तरल पदार्थ अधिक लेने से मल त्याग करते समय गुदा पर पड़ने वाला दबाव कम होता है, इसीलिए जितना हो सके तरल पदार्थों का सेवन करें। (और पढ़ें - गर्म पानी पीने के फायदे)
  6. किसी तकिये पर बैठने का प्रयास करें, ऐसा करने से आपको आराम मिलेगा और सूजन भी कम होगी। (और पढ़ें - जमीन पर सोने के फायदे)
  7. फाइबर और तरल पदार्थ के सेवन से मल ज्यादा आता और आसानी से आता है, जिससे आपको मल त्याग करते समय अधिक जोर लगाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी और बवासीर के लक्षण नहीं बढ़ेंगे। (और पढ़ें - बवासीर में परहेज)
  8. बहुत ज्यादा समय तक एक जगह पर न बैठे रहें। हर घंटे उठें और कुछ मिनटों के लिए इधर-उधर टहलें।
  9. मल त्याग करने के बाद गुदा के क्षेत्र को साफ करने के लिए गीले व बिना परफ्यूम या अल्कोहल वाले टॉयलेट पेपर का इस्तेमाल करें। (और पढ़ें - बवासीर के लिए योग)
  10. हो सके तो कॉटन के ढीले अंडरवियर पहनें, ताकि आपको गुदा के क्षेत्र में असहजता न हो।
  11. आप मेडिकल स्टोर पर मिलने वाली बवासीर की क्रीम या पैड का उपयोग भी कर सकते हैं। हालांकि, इन्हें उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें। (और पढ़ें - सेनेटरी पैड का उपयोग)
  12. मल त्याग करने के लिए बहुत अधिक देर तक टॉयलेट में न रहें और अगर मल नहीं आ रहा है, तो जबरदस्ती जोर न लगाएं। (और पढ़ें - आंत्र असंयम के कारण)
  13. अगर आपको अधिक दर्द हो रहा है, तो आप कुछ समय तक दर्द से राहत के लिए मेडिकल स्टोर पर मिलने वाली एसीटामिनोफेन (Acetaminophen), आइबुप्रोफेन (Ibuprofen) या एस्पिरिन (Aspirin) दवाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  14. बवासीर में गुदा को साफ रखना महत्वपूर्ण होता है, इसीलिए रोजाना नहाएं और अपने गुदा के क्षेत्र को अच्छे से साफ करें। (और पढ़ें - भगन्दर के लक्षण)
  15. रोजाना कुछ देर एक्सरसाइज करने से मल त्याग में आसानी होती है और स्वास्थ्य भी बेहतर होता है।
  16. गुदा के क्षेत्र को सुखाना भी महत्वपूर्ण होता है, इसीलिए नहाने के बाद गुदा के क्षेत्र को सही से सुखा लें। ध्यान रहे इस क्षेत्र को सुखाने के लिए सूखे व खुशबू वाले टॉयलेट पेपर का उपयोग न करें।
  17. सूजन कम करने के लिए आप गुदा के क्षेत्र में ठंडी सिकाई भी कर सकते हैं। (और पढ़ें - सिकाई के फायदे)

(और पढ़ें - बवासीर के घरेलू उपचार)

बवासीर के कई लक्षण सामान्य होते हैं, जिनके लिए आपको डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता नहीं होती। हालांकि, निम्नलिखित स्थितियों में अपने डॉक्टर के पास अवश्य जाएं -

  • गुदा से खून आना कभी भी सामान्य नहीं होता है और इसके लिए आपको डॉक्टर के पास जाना ही चाहिए क्योंकि गुदा से खून आने के कई और गंभीर कारण भी हो सकते हैं। तो अगर आपको गुदा से खून आने की समस्या हो रही है, तो तुरंत अपने डॉक्टर के पास जाएं। (और पढ़ें - मल में खून आने के कारण)
  • अगर आप खून पतला करने वाली दवाएं लेते हैं, तो अपने डॉक्टर से इसके बारे में सलाह करें।
  • अगर बवासीर के कारण आपको दर्द या कोई अन्य असहजता हो रही है, तो अपने डॉक्टर से बात करें। (और पढ़ें - फिशर के लक्षण)
  • अगर आपको बवासीर के साथ चक्कर आना या कमजोरी महसूस होती है, तो हो सकता है आपको खून की कमी हो। ऐसी स्थिति में तुरंत अपने डॉक्टर के पास जाएं। (और पढ़ें - चक्कर आने पर क्या करें)
  • अगर घरेलू उपचार और अन्य उपाय करने के बाद भी बवासीर के लक्षण कम नहीं हो रहे हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर के पास जाएं।
  • बवासीर में पेट में दर्द नहीं होता है, लेकिन अगर आपको ये लक्षण अनुभव हो रहा है, तो अपने डॉक्टर के पास अवश्य जाएं। (और पढ़ें - पेट दर्द के घरेलू उपाय)
  • अगर बवासीर में गुदा से बाहर निकलने वाली गांठ को आप अंदर नहीं कर पा रहे हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर के पास जाएं। (और पढ़ें - बच्चेदानी में गांठ होने के लक्षण)

(और पढ़ें - ब्लीडिंग कैसे रोकें)
 

नोट: प्राथमिक चिकित्सा या फर्स्ट ऐड देने से पहले आपको इसकी ट्रेनिंग लेनी चाहिए। अगर आपको या आपके आस-पास किसी व्यक्ति को किसी भी प्रकार की आपातकालीन स्वास्थ्य समस्या है, तो डॉक्टर या अस्पताल ​से तुरंत संपर्क करें। यह लेख केवल जानकारी के लिए है।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें