myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आज बवासीर एक सामान्य बीमारी बन चुकी है। यह बीमारी मुख्य रूप से आपके खाने-पीने के ढंग पर बहुत ज्यादा निर्भर करती है। भोजन बवासीर को कम करने में महत्वपूर्ण रोल निभाता है। हांलाकि, आधुनिक युग में अधिकतर लोग फास्ट फूड का इस्तेमाल करते हैं, जिससे बवासीर होने की संभावना बढ़ जाती है। अगर आप बात करें बवासीर रोगियों कि, तो वो इस बात से परेशान रहते हैं कि बवासीर की समस्या में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए। किन चीजों से परहेज करना चाहिए और किन चीजों से परहेज नहीं करना चाहिए।

(और पढ़ें - बवासीर के लिए योग)

इस रोग से राहत पाने के लिए अधिक फाइबर वाले खाद्य पदार्थ खाएं। यह आपके पाचन शक्ति को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। इसके अलावा ताजा सब्जियों और फलों के जूस बवासीर को ठीक करने में बहुत ज्यादा लाभदायक हैं। तो आइए जानते हैं, कैसे बवासीर की समस्या को आहार के माध्यम से ठीक किया जा सकता है।

(और पढ़ें - बवासीर के घरेलू उपचार)

  1. बवासीर में परहेज और क्या नहीं खाना चाहिए - What to avoid or not eat in piles in Hindi
  2. बवासीर में क्या खाना चाहिए - What to eat in piles in Hindi

बवासीर में परहेज करें फैट युक्त खाद्य पदार्थ से - Avoid high fat foods in piles in Hindi

अधिक वसा वाले और अधिक तले हुए खाद्य पदार्थ पेट के लिए नुकसानदायक होते हैं। इन्हें अधिक खाने से पेट में दर्द की समस्या और सीने में जलन की समस्या होती है। इसलिए वसा वाले और तले हुए खाद्य पदार्थ से परहेज करना चाहिए। इसके साथ ही साथ इन खाद्य पदार्थों को खाने से बवासीर की समस्या और बढ़ जाती है। इन्हें अधिक मात्रा में खाने से कब्ज की समस्या होती है। इसलिए जितना हो सके संतृप्त वसा को बहुत कम मात्रा में खाएं। इसके अलावा कम वसा वाले डेरी उत्पादों का चुनाव करें।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में कब्ज का कारण)

बवासीर में ना करें धूम्रपान का सेवन - Avoid smoking and alcohol in Piles in Hindi

शराब और धूम्रपान आपके (गैस्ट्रोइन्टेस्टनल वॉल) जठरांत्र की दीवार को नुकसान पहुंचाते हैं। अधिक शराब पीने से शरीर में पानी की कमी हो जाती है, जिससे आपको कब्ज हो सकती है। इसलिए शराब की जगह अधिक से अधिक पानी पीएं। सिगरेट, पाचन तंत्र और आंतों को नुकसान पहुंचाता है। धूम्रपान करने से बवासीर के दौरान गुदा में रक्त का स्राव बढ़ जाता है। इसके अलावा ये पाचन क्रिया को भी प्रभावित करता है, जिससे संक्रमण ठीक होने की समय अवधि बढ़ जाती है। इसलिए बवासीर की समस्या में शराब और धूम्रपान का सेवन किसी भी हाल में न करें।

(और पढ़ें - शराब छुड़ाने के उपाय और धूम्रपान छोड़ने के तरीके)

अधिक मसाले नहीं खाना चाहिए बवासीर में - Avoid spicy food in piles in Hindi

लाल मिर्च, काली मिर्च और मसालों से बने खाद्य पदार्थों को बवासीर की समस्या में किसी भी हाल में न खाएं। इसकी जगह पर आप स्वस्थ्य भोजन और उबला हुआ भोजन खाएं। इसके साथ ही साथ सब्जियां, फल और अनाज भी खाएं। भोजन बनाने में कम से कम तेल का इस्तेमाल करें। अधिक मसाले खाने से आंत में और शौच के दौरान जलन की समस्या होती है। मसाले वाले खाद्य पदार्थ बवासीर के लक्षणों को और भी बढ़ाते हैं। 

(और पढ़ें - गरम मसाले के फायदे)

कैफीन युक्त खाद्य पदार्थ ना खाएं बवासीर में - Do not eat caffeine rich foods in piles

अधिक कॉफी और चाय पीने से आपके शरीर में पानी की कमी होती है और कब्ज की समस्या बढ़ जाती है। इसके अलावा कैफीन युक्त खाद्य पदार्थ आतों में सूजन का कारण भी बन सकते हैं। इसलिए कैफीन युक्त खाद्य पदार्थ जैसे कॉफी, चाय और चॉकलेट को न खाएं। इन सब की जगह पर आप अधिक से अधिक पानी पीएं।

(और पढ़ें - कैफीन के फायदे)

बवासीर में क्या नहीं खाना चाहिए बेकरी उत्पाद - Bakery products are harmful in piles in Hindi

बेकरी वाले खाद्य पदार्थ बवासीर में बहुत ज्यादा नुकसानदायक होते हैं क्योंकि अधिकतर बेकरी वाले खाद्य पदार्थ रिफाइन्ड ऑयल से बने होते हैं, जैसे ब्रेड, केक और प्रेस्ट्री आदि। इन सब को खाने से कब्ज की समस्या होती है। इसलिए बेकरी वाले खाद्य पदार्थों को बवासीर की समस्या में किसी भी हाल में न खाएं।

(और पढ़ें - सफेद ब्रेड या ब्राउन ब्रेड क्या है फायदेमंद)

बवासीर में न खाये है प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ - Avoid rich protein-containing foods in piles in Hindi

प्रोटीन यु्क्त खाद्य पदार्थ कई प्रकार की दालें जैसे मसूर की दाल, अरहल की दाल बवासीर की समस्या में बहुत ज्यादा नुकसानदायक होते हैं। अधिक मात्रा में प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ आसानी से नहीं पचते हैं, जिससे कब्ज की समस्या होती है। इसके अलावा यह खाद्य पदार्थ आंत में जलन की समस्या भी पैदा करती हैं। इसके साथ ही साथ गुदा में सूजन बढ़ने से मल त्याग में भी परेशानी होती है।

(और पढ़ें - प्रोटीन युक्त भारतीय आहार)

बवासीर में खान पान है हरी पत्तेदार सब्जियां - Eat green leafy vegetables in piles in Hindi

हरी पत्तेदार सब्जियों में बहुत अधिक मात्रा में पोषक तत्व और एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं। यह बवासीर को ठीक करने के साथ-साथ पाचन क्रिया में भी में सहायक होते हैं। अधिक से अधिक मात्रा में पालक, पत्ता गोभी, शतावरी, ब्रोकली, फूल गोभी, प्याज, खीरा और गाजर आदि को बवासीर की समस्या में अपने आहार में शामिल करें।

(और पढ़ें - एंटीऑक्सीडेंट युक्त भोजन)

बवासीर में खाएं ईसबगोल की भूसी - Eat Psyllium husk in piles in Hindi

ईसबगोल की भूसी में बहुत अधिक मात्रा में घुलनशील फाइबर मौजूद होते हैं, जो कब्ज से राहत दिलाते हैं। इसके अलावा ईसबगोल की भूसी खाने से आपका मल भारी हो जाता, जिससे मल त्याग में आसानी होती है।

(और पढ़ें - पुरानी कब्ज के घरेलू उपाय)

बवासीर में पीएं भरपूर मात्रा में पानी - Drink plenty of water in piles in Hindi

बवासीर की समस्या में कम से कम 3 से 4 लीटर पानी रोजाना पीना चाहिए। अधिक पानी पीने से आपके शरीर से विषैले पदार्थ आसानी से बाहर निकल जाते हैं। इसके साथ ही साथ अधिक पानी पीने से आपके शरीर का रक्त प्रवाह भी बढ़ता है, जो बवासीर को ठीक करने में मदद करता है। इसके अलावा भरपूर पानी पीने से मल त्याग में आसानी होती है और कब्ज की समस्या नहीं होती है।

(औप पढ़ें - खाली पेट पानी पीने के फायदे)

बवासीर आहार में खाएं ताजा फल - Eat fresh fruits in piles in Hindi

फलों को जितना हो सके छिलके सहित खाना चाहिए, क्योंकि छिलकों में बहुत अधिक मात्रा में फाइबर मौजूद होते हैं। फलों में मौजूद पौषक तत्व, विटामिन और खनिज आपके पाचन शक्ति को बढ़ाने में मदद करते हैं। सेब, स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी, अंगूर, पपीता, केले, संतरे, अंगूर जैसे फलों को अपने आहार में शामिल करें। यह बवासीर को ठीक करने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें - फल खाने का सही समय)

बवासीर का भोजन है साबुत अनाज - Eat whole grains if you have piles in Hindi

साबुत अनाज और चोकर युक्त अनाज बवासीर की समस्या में बहुत ज्यादा लाभदायक है। साबुत और चोकर युक्त अनाज खाने से मल त्याग आसानी से हो जाती है। ब्राउन राइस, ओटमील, होल ग्रेन आटा, होल वीट पास्ता और मल्टी ग्रेन ब्रेड को अपने आहार में शामिल करें। यह सब बवासीर को ठीक करने में बहुत ज्यादा लाभदायक है। 

(और पढ़ें - हेल्दी ओट्स रेसिपी)

बवासीर में खाये अंकुरित अनाज - Sprouted grains are beneficial in hemorrhoids in Hindi

अंकुरित अनाज में बहुत अधिक मात्रा में बिटामिन सी, प्रोटीन और कैल्सियम मौजूद होते हैं। ये सभी पोषक तत्व बवासीर के इलाज में लाभदायक हैं। कम से कम रोजाना 1 कप अंकुरित अनाज खाएं। लेकिन इस बात का ध्यान रखें की कच्चे अंकुरित अनाज न खाएं, इससे बवासीर की समस्या और भी बढ़ती है।

(और पढ़ें - अंकुरित अनाज के फायदे)

बवासीर में पीएं छांछ - Drink lots of butter milk in piles in Hindi

दही या छांछ बवासीर की समस्या में बहुत ज्यादा लाभदायक है। यह आपके पाचन क्रिया में सहायक होते हैं। दही और छाछ आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी मदद करते हैं। प्रोबायोटिक्स आपके शरीर में सूजन को कम करने में सहायक होते हैं और किसी भी प्रकार के संक्रमण से लड़ने में भी मदद करते हैं। इसके साथ ही साथ यह बवासीर के लक्षणों को कम करते हैं।

(और पढ़ें - रात को दही खाना चाहिए या नहीं)

और पढ़ें ...