संक्षेप में सुनें

क्या है धातु (धात) रोग रोग?

धातु रोग का मतलब होता है, वीर्य का अनैच्छिक रूप से निकलना, जो आम तौर पर नींद के दौरान या अन्य परिस्थितियां जैसे पेशाब या मल त्याग के दौरान होता है।

यह एक पुरुषों की यौन समस्या है, जिसमें अनैच्छिक रूप से वीर्यपात (वीर्य रिसना या बहना) होने लगता है, जो आमतौर पर यौन उत्तेजना और संभोग के बिना होता है।

यह समस्या अक्सर रोगी के चिड़चिड़ेपन और उसके यौन अंगों में दुर्बलता से जुड़ी होती है। कुछ प्रकार के मामलों में कब्ज के दौरान मल त्याग करने के लिए लगाए गए ज़ोर से भी मूत्र के साथ वीर्य निकलने लगता है। कुछ मामलों में वीर्य मूत्र से पहले निकल जाता है, या मूत्र से मिलकर भी निकलने लग जाता है। 

(और पढ़ें - स्वप्नदोष के उपाय)

  1. धातु (धात) रोग के लक्षण - Spermatorrhea Symptoms in Hindi
  2. धातु (धात) रोग के कारण - Spermatorrhea Causes in Hindi
  3. धातु (धात) रोग का इलाज - Spermatorrhea Treatment in Hindi
  4. धातु (धात) रोग के घरेलू उपाय
  5. धातु (धात) रोग की दवा - OTC Medicines for Spermatorrhea in Hindi
  6. धातु (धात) रोग के डॉक्टर

धातु रोग के  लक्षण व संकेत क्या हो सकते हैं?

धात गिरना एक रोग के मुकाबले एक लक्षण ज्यादा होता है।

यदि समस्या अत्यधिक हस्तमैथुन या सेक्स के कारण होती है, तो दीर्घकालिक यौन थकान से संबंधित निम्न लक्षण दिखाई दे सकते हैं:

  • कमर में दर्द (विशेष रूप से कमर के निचले भाग में)
  • कमर के निचले भाग में दर्द जिसकी पीड़ा की लहरें टांगों की तरफ जाती हों
  • अंडकोष या पेरिनियम में दर्द,
  • चक्कर आना,
  • सामान्य कमज़ोरी,
  • रात को पसीना आना, (और पढ़ें - ज्यादा पसीना आना रोकने के लिए घरेलू उपाय)
  • अंडकोष क्षेत्र में पसीना आना,
  • गर्म और नम त्वचा,
  • गर्म और नम हथेलियां और तलवे।

धातु रोग के कारण व जोखिम कारक क्या हो सकत हैं?

धातु रोग के मुख्य कारण में निम्न शामिल हैं:

  • पुरूष जननांग टेस्टेस (वृषण) को बाकी शरीर के तापमान से कुछ हद तक ठंडा रखना चाहिए। जब टेस्टेस अधिक गर्मी के प्रभाव में आते हैं, (जैसे गर्म पानी के टब में नहाने के बाद) तो रात को सोने के बाद शुक्राणु जारी होने लगते हैं, क्योकिं शुक्राणु की सप्लाई क्षतिग्रस्त हो जाती है।
  • यौन उत्तेजनाओं को प्रभावित करने वाला दृश्य या ख्याल आदि भी इस समस्या को पैदा कर सकता है।
  • खारब आहार भी इस समस्या का एक कारण है। कम प्रोटीन युक्त आहार, या बिना अंडे वाले आहार का सेवन करना भी लाभदायक साबित हो सकता है।
  • अत्याधिक हस्तमैथुन या सेक्स करना भी धातु रोग का कारण बन सकता है। (और पढ़ें - sex kaise kare)
  • धात का रोग कमजोर पाचन तंत्र या सामान्य शारीरिक कमजोरी के कारण भी हो जाता है।
  • यह दक्षिण पूर्व एशियाई देश जैसे चीन और भारत जैसे देशों के पुरूषों में आम समस्या है। चीन, भारत और दक्षिण एशियाई देशों उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में है। इन देशों में लोग शरीर के तापमान को निम्न रखने के लिए मसालेदार खाना खाते हैं, क्योंकि यह पुरूषों में कब्ज की समस्या काफी सामान्य है। इसके अलावा, अधिकांश पूर्वी शहर, वेस्टरन टॉयलेट्स (पश्चिमी प्रकार के शौचालयों) से रहित हैं। उनके शौचालय जमीन पर लगाए जाते हैं क्योंकि पुरुषों को उन पर उकड़ू बैठने (squat) की आवश्यकता पड़ती है। इस अवस्था में जब मल त्याग करने के लिए अत्याधिक जोर लगाया जाता है, तो वीर्य अपने आप निकलने लगता है। अगर वीर्य निकलने की समस्या रोजाना होने लगे तो यह एक गंभीर स्थिति हो सकती है।
  • आदमी को अपने दैनिक मल क्रिया से पूरी तरह से पेट साफ कर सकता है। हालांकि पश्चिमी देशों में स्थिति पूरी तरह से अलग है। वहां के लोगों में जब अनैच्छिक रूप से वीर्य रिसने की समस्या बार-बार नहीं होती तब तक इसे शुक्राणु उत्पादन के एक संकेत के रूप में देखा जाता है।
  • तंत्रिका तंत्र की कमजोरी।
  • मूत्र और जननांग अंगों की क्षीणता।
  • अत्याधिक हस्थमैथुन करने की आदत।
  • यौन असंतोष।
  • त्वचा आदि की समस्या के कारण वृषण संबंधी समस्याएं।
  • संकीर्ण (तंग) मूत्र निकास मार्ग।
  • मलाशय के विकार जैसे बवासीर, एनल फिशर, कीड़े और त्वचा में फोड़े फुंसी आदि।
  • मूत्राशय भरना।
  • टेस्टोस्टेरोन पर आधारित दवाएं।
  • गद्दे या कंबल के साथ संपर्क (घर्षण) के कारण उत्तेजना।

धातु रोग का उपचार कैसे किया जा सकता है?

  • सफल रोगनिवारक उपचार के लिए धातरोग की पैथोलोजी का सही दृश्य जरूरी होता है।
  • एक अच्छी तरह से संतुलित, पौष्टिक आहार खाएं।
  • शराब आदि से दूर रहें,
  • रात के समय कम खाना खाएं,
  • बिस्तर छोड़ने के बाद मूत्र त्याग करें।
  • थोड़े कठोर गद्दों पर सोने की कोशिश करें।
  • रात को सोते समय तंग अंतर्वस्त्रों का इस्तेमाल ना करें।
  • अलार्म की मदद से सुबह जल्दी उठने की कोशिश करें, यह वीर्यपात की समस्या आम तौर पर सुबह के कुछ घंटो में ही होती है।
  • विवेकपूर्ण विचारों में ध्यान लगाने की बजाए अपनी एनर्जी तथा क्षमता को रचनात्मक और निर्माणकारी कार्यों में लाने की कोशिश करें।
  • स्वस्थ मल त्याग करने की आदतों में शामिल रहने की कोशिश करें ताकि बवासीर और अन्य गुदा संबंधी विकारों की जांच की जा सके।
  • जननांगों को पूर्ण तरीके से स्वच्छ रखें, ताकी क्षेत्र की जलन और उसके कारण होने वाले अनैच्छिक वीर्यपात की जांच की जा सके।

धातु रोग के इलाज के लिए कीगल एक्सरसाइज करें 

जब आप जान लेते हैं कि कौनसी मांसपेशी को टारगेट करना है, तब कीगल एक्सरसाइज (Kegel Exercise) करने में काफी आसान हो जाती है। यह पेशाब के दौरान अपनी मांसपेशियों का पता लगाने के सबसे आसान तरीकों में से एक है। जो कुछ ऐसे है -

  • आधा पेशाब त्याग करने के बाद बाकी के पेशाब को रोकने या धीरे-धीरे करने की कोशिश करें।
  • अपने नितंबों, टांगों या पेट में मांसपेशियों में तनाव उत्पन्न ना करें, और ना ही अपनी सांसों को रोकने का प्रयास करें।
  • जब आप अपने मूत्र के प्रवाह को धीमा या बंद करने में सफल हो जाते हैं, तो आप उस मांसपेशी पर नियंत्रण पा लेते हैं।
  • कब्ज होने पर उसका पता जल्द से जल्द लगा लिया जाना चाहिए और उसका ईलाज भी कर दिया जाना चाहिए।

कीगल व्यायाम करने के लिए -

  • 5 तक धीरे-धीरे गिनती करें, और अपने इन मांसपेशियों को सिकोड़ें।
  • और फिर ऐसे ही 5 गिनते हुऐ धीरे-धीरे वापस खोलें।
  • इस प्रक्रिया को 10 बार करें।
  • 10 बार केगल के सेट को दिन में कम से कम 10 बार करें।

(और पढ़ें - एक्सरसाइज के फायदे)

Dr. Tarun

Dr. Tarun

सेक्सोलोजी

Dr. Ghanshyam Digrawal

Dr. Ghanshyam Digrawal

सेक्सोलोजी

Dr. Pahun Tiwari

Dr. Pahun Tiwari

सेक्सोलोजी

धातु (धात) रोग के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

OTC Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Baidyanath Swarna Parpati Baidyanath Swarna Parpati (S Y)439.0
Baidyanath Jatiphaladi Bati (Stambhak)Baidyanath Jatiphaladi Bati (Stambhak)799.0
Baidyanath Dhatupaushtik ChurnaBaidyanath Dhatupaushtik Churna110.0
Hamdard Majun Supari PakHamdard Majun Supari Pak84.0
Baidyanath Swapandosh HariBaidyanath Swapn Doshari Tablet133.0

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

धातु (धात) रोग से जुड़े सवाल और जवाब

सवाल 8 महीना पहले

Sir mijha 20 din se dhatu ha

Dr. Akshatha Kp BAMS

Joni ji aap chandraprabha vati 1 goli din main do baar khane ke baadh le Dhatu poustik choorn 1tsp doodh ke Saath din main do baar le Zyada stress Na le

और पढ़ें ...