myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत
संक्षेप में सुनें

सिफलिस/ उपदंश (Syphilis) क्या है?

सिफिलिस 'टी.पैलिडम' (T. Pallidum) बैक्टीरिया के द्वारा फैलने वाला संक्रमण है, जो त्वचा पर होने वाले सिफिलिटिक छाले और श्लेष्मा झिल्ली (Mucous Membranes) में प्रत्यक्ष रूप से हस्तांतरित होता है। यह एक यौन संचारित संक्रमण (एसटीडी) है जो इलाज न कराये जाने पर गंभीर रूप धारण कर सकता है।

इसका संक्रमण सिफिलिटिक छालों (इसे दर्दरहित छाले भी कहा जाता है) से संक्रमित व्यक्ति के साथ यौन संपर्क के माध्यम से भी फैलता है। संक्रमित व्यक्ति द्वारा दरवाज़ों के हैंडल या मेज़ जैसी सतहों को छूने से यह संक्रमण नहीं फैलेगा।

इसके तहत योनि, गुदा, मलाशय, होंठ और मुँह में छाला हो सकता है। मौखिक (Oral), गुदा (Anal) या योनि सम्बन्धित यौन गतिविधि के दौरान इस बीमारी के फैलने की संभावना होती है। बहुत ही कम मामलों में यह चुंबन के माध्यम से भी फैल सकता है।

जननांगों, मलाशय, मुँह या त्वचा की सतह पर दर्दरहित छाला इस संक्रमण का पहला संकेत है। कुछ लोगों का ध्यान इस छाले की तरफ जाता भी नहीं है क्योंकि यह दर्दरहित होता है। कई बार ये छाले अपने आप ठीक हो जाते हैं, लेकिन यदि इलाज न किया जाए तो बैक्टीरिया शरीर में ही रह जाते हैं।

(और पढ़ें - मुंह के छाले का घरेलू उपाय)

पेनिसिलिन के साथ प्रारंभिक उपचार द्वारा इसे ठीक किया जा सकता है। उपचार के बाद सिफिलिस दुबारा वापस नहीं होता लेकिन इस बैक्टीरिया के अधिक संपर्क में आने पर इस बीमारी की पुनरावृत्ति हो भी सकती है। एक बार सिफिलिस से संक्रमित होने के बाद किसी व्यक्ति को इस बीमारी से फिर से संक्रमित होने से  नहीं बचाया जा सकता।

गर्भावस्था के दौरान महिलाएं अपने अजन्मे बच्चे को सिफलिस प्रेषित कर सकती हैं, जिसके संभावित रूप के घातक परिणाम हो सकते हैं।

सिफिलिस का संक्रमण अपनी तीसरी अवस्था में लौटने से पहले 30 साल तक निष्क्रिय भी रह सकता है।

  1. उपदंश (सिफलिस) के चरण - Stages of Syphilis in Hindi
  2. उपदंश (सिफलिस) के लक्षण - Syphilis Symptoms in Hindi
  3. उपदंश (सिफलिस) के कारण - Syphilis Causes in Hindi
  4. उपदंश (सिफलिस) से बचाव - Prevention of Syphilis in Hindi
  5. उपदंश (सिफलिस) का परीक्षण - Diagnosis of Syphilis in Hindi
  6. उपदंश (सिफलिस) का इलाज - Syphilis Treatment in Hindi
  7. उपदंश (सिफलिस) के जोखिम और जटिलताएं - Syphilis Risks & Complications in Hindi
  8. उपदंश (सिफलिस) में परहेज़ - What to avoid during Syphilis in Hindi?
  9. उपदंश (सिफलिस) में क्या खाना चाहिए? - What to eat during Syphilis in Hindi?
  10. सिफलिस (उपदंश) की दवा - Medicines for Syphilis in Hindi
  11. सिफलिस (उपदंश) के डॉक्टर

उपदंश (सिफलिस) के चरण - Stages of Syphilis in Hindi

सिफलिस संक्रमण के चरण:

सिफलिस/ उपदंश के चार चरण होते हैं –

  1. प्राथमिक 
  2. माध्यमिक
  3. छिपा हुआ (अव्यक्त)
  4. तृतीयक

पहले दो चरणों में सिफलिस सबसे अधिक संक्रामक होता है।

जब सिफलिस छिपा हुआ या अव्यक्त अवस्था में होता है तो रोग सक्रिय रहता है, लेकिन अक्सर कोई लक्षण दिखाई नहीं देते और यह दूसरों के लिए संक्रामक भी नहीं होता है।  सिफलिस की तृतीयक अवस्था स्वास्थ्य के लिए सबसे अधिक घातक होती है।

  1. प्राथमिक उपदंश –
    बैक्टीरिया से संक्रमित होने के तीन-चार सप्ताह बाद उपदंश का प्राथमिक चरण शुरू होता है। यह एक छोटे, गोल छाले से शुरू होता है। यह छाला दर्दरहित, लेकिन बेहद संक्रामक होता है। बैक्टीरिया आपके शरीर के जिस भी हिस्से में प्रवेश करते है, वहां छाले हो सकते हैं, जैसे कि आपके मुँह, जननांगों या मलाशय के अंदर या बाहर का भाग। छाला संक्रमण के तीन सप्ताह बाद दिखाई देता है, लेकिन इसके प्रकट होने में 10 से 90 दिन भी लग सकते हैं। शरीर के किसी भी हिस्से में होने वाला छाला दो से छह सप्ताह तक रहता है। उपदंश छाले के साथ सीधे संपर्क में आने से फैलता है। यह आमतौर पर ओरल सेक्स सहित यौन गतिविधि के दौरान होता है।
     
  2. माध्यमिक उपदंश – 
    उपदंश के दूसरे चरण के दौरान आपकी त्वचा पर चकत्ते और गले में खराश हो सकती है। चकत्तों में खुजली नहीं होती है और आमतौर पर ये आपकी हथेलियों और तलवों पर पाए जाते हैं, लेकिन ये शरीर पर कहीं भी हो सकते हैं। कुछ लोगो का ध्यान इन चकत्तों की तरफ जाये, उससे पहले ही ये ठीक भी हो सकते हैं।
     
  3. छिपा हुआ (अव्यक्त) उपदंश  
    उपदंश का तीसरा चरण अव्यक्त या छिपा चरण है। प्राथमिक और द्वितीयक लक्षण गायब हो जाते हैं और इस चरण में आपको कोई भी लक्षण दिखाई नहीं देगा। हालांकि, आप अभी भी सिफलिस से संक्रमित रहते हैं। द्वितीयक उपदंश के लक्षण फिर से प्रकट हो सकते हैं या आप तृतीयक उपदंश के चरण की ओर बढ़ने से पहले कई वर्षों तक इस चरण से संक्रमित रह सकते हैं।
     
  4. तृतीयक उपदंश 
    संक्रमण का अंतिम चरण तृतीयक उपदंश है। लगभग 15 से 30 प्रतिशत लोग इस चरण में प्रवेश करते हैं, जो उपदंश का उपचार नहीं कराते। प्रारंभिक रूप से संक्रमित होने के बाद तृतीयक उपदंश एक साल से लेकर दस सालों तक हो सकता है।

उपदंश (सिफलिस) के लक्षण - Syphilis Symptoms in Hindi

उपदंश (सिफलिस) के लक्षण:

1. प्राथमिक उपदंश 

  • पीड़ारहित
  • छोटे छाले 

2. माध्यमिक उपदंश 

बिना उपचार किया हुआ (अनुपचारित) माध्यमिक उपदंश अप्रकट (Latent) और तृतीयक चरणों में प्रगति कर सकता है।

3. अव्यक्त उपदंश 

अव्यक्त चरण कई वर्षों तक रह सकता है। इस समय के दौरान शरीर बिना लक्षणों वाले रोग का घर बन जायेगा।

4. तृतीयक (अंतिम) उपदंश 

  • अंधापन
  • बहरापन
  • मानसिक बीमारी
  • स्मरण शक्ति की क्षति
  • नरम ऊतक और हड्डी को नुक्सान 
  • तंत्रिका संबंधी विकार, जैसे स्ट्रोक या मेनिनजाइटिस
  • दिल की बीमारी
  • न्यूरोसिफलिस, जो मस्तिष्क या रीढ़ की हड्डी में होने वाला संक्रमण है।

उपदंश (सिफलिस) के कारण - Syphilis Causes in Hindi

उपदंश (सिफलिस) के कारण:

यौन गतिविधियों के दौरान टी. पैलिडम बैक्टीरिया एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक स्थानांतरित होने के कारण सिफलिस होता है।

बैक्टीरिया आपकी त्वचा में लगी मामूली चोट अथवा खरोंच या श्लेष्मा झिल्ली के माध्यम से शरीर में प्रवेश करते हैं। उपदंश अपने प्राथमिक और माध्यमिक चरणों या कभी-कभी प्रारंभिक अवधि (Early latent period) के दौरान संक्रामक का कारण बनता है।

यह गर्भावस्था के दौरान मां से गर्भ तक या प्रसव के दौरान शिशु को भी हस्तांतरित हो सकता है। इस प्रकार के सिफलिस को 'जन्मजात सिफलिस' कहा जाता है। 

(और पढ़ें - गर्भावस्था में क्या करना चाहिए)

सिफलिस दरवाजे के हैंडल को संक्रमित व्यक्ति द्वारा छूने और टॉयलेट सीट जैसी वस्तुओं के साझा उपयोग से नहीं फैलता है।

एक बार ठीक हो जाने के बाद उपदंश दुबारा अपने आप नहीं होता है। हालांकि, यदि आप उपदंश से ग्रसित किसी व्यक्ति के संपर्क में आते हैं, तो आप फिर से संक्रमित हो सकते हैं।

उपदंश (सिफलिस) से बचाव - Prevention of Syphilis in Hindi

उपदंश (सिफलिस) से बचाव:  

उपदंश को रोकने का सबसे अच्छा तरीका सुरक्षित रूप से सेक्स करना है। किसी भी प्रकार के यौन संपर्क के दौरान कंडोम का उपयोग करना एक अच्छा विचार है। इसके अतिरिक्त निम्नलिखित उपाय भी उपयोगी हो सकते हैं –

  • कई व्यक्तियों के साथ यौन संबंध रखने से बचें। (और पढ़ें - सुरक्षित यौन संबंध
  • ओरल सेक्स के दौरान डेंटल डैम (लेटेक्स का एक चौकोर टुकड़ा) या कंडोम का प्रयोग करें। (और पढ़ें - कंडोम का इस्तेमाल)
  • सेक्स खिलौने साझा (Share) करने से बचें।
  • यौन संचारित संक्रमण की जांच कराएं और अपने सहयोगियों से उनके परिणामों के बारे में बात करें।

मेडिकल सुई को साझा करने के माध्यम से भी सिफलिस फैल सकता है। यदि आप दवाओं का उपयोग करने जा रहे हैं, तो नयी सुई का उपयोग करें।

उपदंश (सिफलिस) का परीक्षण - Diagnosis of Syphilis in Hindi

सिफलिस का परीक्षण (निदान):

इसके लिए चिकित्सक आपका शारीरिक परीक्षण करेंगे और यौन इतिहास के बारे में पूछेंगे ताकि चिकित्सकीय परीक्षण से पहले उपदंश की पुष्टि की जा सके।

इन परीक्षणों में शामिल हैं –

  1. रक्त परीक्षण – इसके माध्यम से मौजूदा या पिछले संक्रमण का पता लगा सकते हैं, क्योंकि रोग के प्रतिरक्षी (एंटीबॉडीज) कई वर्षों तक शरीर में मौजूद रहते हैं।
  2. शारीरिक द्रव –​ प्राथमिक या माध्यमिक चरणों के दौरान दर्द रहित छाले से रोग का मूल्यांकन किया जा सकता है।
  3. सेरेब्रोस्पाइनल तरल पदार्थ – इसे स्पाइनल टेप के माध्यम से एकत्र किया जाता है और तंत्रिकातंत्र (Nervous System) पर किसी भी प्रभाव के परीक्षण के लिए इसकी जाँच की जाती है।

यदि सिफलिस की पहचान होती है, तो अपने यौन साझेदार को इसके बारे में बताना चाहिए और उसकी जाँच की जानी चाहिए।

यौन साझेदारों को सिफलिस के संभावित जोखिमों के बारे में सूचित करने, परीक्षण को सक्षम बनाने और यदि आवश्यक हो तो इलाज के लिए स्थानीय सेवाएं उपलब्ध हैं।

उपदंश (सिफलिस) का इलाज - Syphilis Treatment in Hindi

उपदंश (सिफलिस) का उपचार:

जब प्रारंभिक अवस्था में उपदंश का निदान और उपचार किया जाता है, तो इसे पूर्ण रूप से ठीक करना आसान होता है। सभी चरणों के लिए सबसे मुख्य उपचार पेनिसिलिन है, जो एक एंटीबायोटिक दवा है और उपदंश के लिए उत्तरदायी जीवों को नष्ट कर सकती है। यदि आपको पेनिसिलिन से एलर्जी है तो आपके डॉक्टर अन्य एंटीबायोटिक का सुझाव देते हैं। 

यदि आपको सिफलिस से संक्रमित हुए एक वर्ष से भी कम समय हुआ है, तो पेनिसिलिन का एक इंजेक्शन इस बीमारी को बढ़ने से रोक सकती है। अगर आपको सिफलिस से संक्रमित हुए एक वर्ष से अधिक समय हो गया है, तो आपको पेनिसिलिन की अतिरिक्त मात्रा की आवश्यकता हो सकती है।

उपदंश से ग्रसित गर्भवती महिलाओं के लिए पेनिसिलिन एकमात्र सुझाया गया उपचार है। जिन महिलाओं को पेनिसिलिन से एलर्जी है, उन्हें 'विसुग्राहीकरण' (Desensitization) की प्रक्रिया से गुजरना पड़ सकता है, जिसके बाद वे पेनिसिलिन लेने में समर्थ हो सकती हैं। यहां तक कि अगर आप गर्भावस्था के दौरान सिफलिस का इलाज करवा रही हैं, तो आपके नवजात शिशु का भी एंटीबायोटिक उपचार करवाना चाहिए।

(और पढ़ें – गर्भावस्था के लक्षण और प्रेगनेंसी टेस्ट)

पहले दिन के उपचार के बाद आप 'जेरिश-हरक्सहैमेर' प्रतिक्रिया (Jarisch-Herxheimer reaction), जिसे एक अल्पकालिक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के रूप में जाना जाता है – का अनुभव कर सकते हैं। इसके संकेतों और लक्षणों में बुखार, ठंड लगना, मतली, पीड़ादायक दर्द और सिर दर्द शामिल हैं। यह प्रतिक्रिया आमतौर पर एक दिन से अधिक नहीं रहती है।

उपचार को बाद देखभाल -

सिफलिस के इलाज के बाद आपके डॉक्टर बताएंगे –

  1. पेनिसिलिन की सामान्य खुराक का प्रभाव आपके ऊपर हो रहा है या नहीं, यह सुनिश्चित करने के लिए समय-समय पर रक्त परीक्षण और जांच करवाएं। 
  2. जब तक उपचार पूरा नहीं हो जाता और रक्त परीक्षण से संक्रमण ठीक होने का संकेत नहीं मिल जाता, तब तक यौन संपर्क से बचें। 
  3. अपने यौन भागीदारों को सूचित करें ताकि उनका परीक्षण किया जा सके और यदि आवश्यक हो, तो इलाज किया जा सके।  
  4. एचआईवी संक्रमण के लिए भी परीक्षण कराएं।

उपदंश (सिफलिस) के जोखिम और जटिलताएं - Syphilis Risks & Complications in Hindi

उपदंश (सिफलिस) के जोखिम कारक:

आपको उपदंश होने का जोखिम हो सकता है, यदि आप; 

  • असुरक्षित यौन संबंध बनातें हैं। 
  • कई व्यक्तियों के साथ सेक्स संबंध रखते हैं। 
  • ऐसे पुरुष, जो पुरुषों के साथ यौन संबंध रखते हैं।
  • ऐसा व्यक्ति जो एचआईवी वायरस से संक्रमित हैं या जिसे एड्स है। 

उपदंश की जटिलताएं:

यदि उपदंश का उपचार न किया जाये, तो ये आपके संपूर्ण शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है। सिफलिस एचआईवी संक्रमण के जोखिम को भी बढ़ाता है और महिलाओं के लिए गर्भावस्था के दौरान समस्याएं पैदा कर सकता है। इसका उपचार भविष्य में होने वाली क्षति को रोकने में मदद कर सकता है, लेकिन पहले हो चुके क्षति को ठीक नहीं कर सकता है।

उपदंश (सिफलिस) में परहेज़ - What to avoid during Syphilis in Hindi?

इनसे बचें –

सिफलिस और अन्य एसटीडी (Sexually Transmitted Diseases) से बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि एनल सेक्स या मौखिक (ओरल) सेक्स से बचा जाये। चूँकि, ज्यादातर लोग अपने जीवन की  कुछ विशेष अवस्थाओं में यौन संबंध बनाते हैं, इसलिए वह जानते हैं कि सुरक्षित रूप से सेक्स करना कितना महत्वपूर्ण है। सुरक्षित रूप से सेक्स करने से एसटीडी होने की संभावना कम हो सकती है।

(और पढ़ें - sex karne ke tarike)

शराब और दवाओं के सेवन को कम करके भी उपदंश को रोकने में मदद मिल सकती हैं, क्योंकि इन गतिविधियों से जोखिम भरा यौन व्यवहार हो सकता है।

(और पढ़ें – शराब की लत से छुटकारा पाने के तरीके)

उपदंश (सिफलिस) में क्या खाना चाहिए? - What to eat during Syphilis in Hindi?

क्या खाएं?

प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले सभी खाद्य पदार्थों में से निम्नलिखित विशेष ध्यान देने योग्य हैं:

  1. लहसुन – लहसुन रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में बहुत फायदेमंद होता है।
  2. प्याज  लहसुन की तरह प्याज भी जीवाणुरोधी, एंटी-फंगल और एंटी-वायरल घटकों से भरपूर होते  हैं।
  3. संतरे, नींबू और अन्य खट्टे फल  इनमें भरपूर विटामिन सी के साथ एंटीऑक्सीडेंट गुण भी शामिल होते हैं। 
  4. खुबानी   इनमें विटामिन सी और बीटा-कैरोटीन प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होते हैं। ये बहुत प्रभावकारी एंटीऑक्सीडेंट होते हैं।
  5. मिर्च – यह विटामिन सी से समृद्ध खाद्य पदार्थों में से एक हैं। (और पढ़ें - हरी मिर्च खाने के फायदे)
  6. फूलगोभी, ब्रसेल्स स्प्राउट, पत्तागोभी, ब्रोकली –  गोभी के समूह वाली सब्ज़ियों में विटामिन सी, विटामिन बी और बीटा-कैरोटीन के साथ-साथ एंटीऑक्सीडेंट के गुण भी पाए जाते हैं।
  7. गाजर – कैरोटीनॉड्स से भरपूर होने के कारण गाजर सबसे अच्छे बॉडी प्यूरीफायर में शामिल हैं। इनकी एंटी वायरल और जीवाणुनाशक क्षमता साबित हो चुकी है।
  8. पालक – पालक बीटा-कैरोटीन, विटामिन सी और विटामिन बी का समृद्ध स्रोत है। पालक में प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने की क्षमता होती है।
  9. मशरूम – ये प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत बनाते हैं। (और पढ़ें - इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं)
  10. ब्लूबेरी, स्ट्रॉबेरी – ये सबसे अच्छे एंटीऑक्सीडेंट खाद्य पदार्थों में से एक हैं। इनमें जीवाणु नाशक तत्व उपस्थित होते हैं।
  11. बादाम
  12. कद्दू
  13. अखरोट
  14. अंडे
  15. गेहूँ
  16. जई
  17. चावल इत्यादि।
Dr. Jogya Bori

Dr. Jogya Bori

संक्रामक रोग

Dr. Lalit Shishara

Dr. Lalit Shishara

संक्रामक रोग

Dr. Amisha Mirchandani

Dr. Amisha Mirchandani

संक्रामक रोग

सिफलिस (उपदंश) की दवा - Medicines for Syphilis in Hindi

सिफलिस (उपदंश) के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
AdoxAdox Tablet180.0
BiodoxiBiodoxi 100 Mg Tablet12.0
CodoxCodox 100 Mg Capsule18.0
Codox LCodox L 100 Mg Capsule56.0
CordoxCordox 100 Mg Tablet29.0
DelineDeline 100 Mg Capsule17.0
Detab PlusDetab Plus Tablet46.0
DetabDetab Tablet10.0
DetaxlDetaxl 120 Mg Injection15570.0
DifidoxDifidox 100 Mg Injection399.0
DmtDmt 100 Mg Capsule31.0
Doc DrDoc Dr 100 Mg Tablet49.0
DoxDox 10 Mg Capsule14.0
Doxid (Drakt)Doxid 100 Mg Tablet45.0
DoxificDoxific 100 Mg Injection359.0
DoxikaDoxika 100 Mg Tablet10.0
Dox MDox M 100 Mg Capsule12.0
DoxmoDoxmo 100 Mg Tablet14.0
Doxmo TzDoxmo Tz Tablet42.0
DoxolDoxol Tablet6.0
DoxtDoxt 100 Mg Tablet15.0
Doxy 24Doxy 24 Tablet26.0
DoxyclinDoxyclin 100 Mg Capsule17.0
Doxycycline 100 Mg CapsuleDoxycycline 100 Mg Capsule19.0
DoxydayDoxyday 100 Mg Tablet318.0
DoxylabDoxylab 100 Mg Capsule34.0
DoxylebDoxyleb 100 Mg Capsule15.0
DoxylinDoxylin 100 Mg Capsule13.0
DoxylivDoxyliv 100 Mg Tablet13.0
DoxypalDoxypal 100 Mg Capsule Dr67.0
Doxyrek DrDoxyrek Dr 100 Mg Capsule39.0
Doxy ( A N Pharmacia)Doxy Tablet69.0
Doxytab (Omega)Doxytab Tablet29.0
DoxytinDoxytin Tablet67.0
DoxytopDoxytop 100 Mg Tablet9.0
DoxywellDoxywell 100 Mg Tablet11.0
DuradoxDuradox Capsule13.0
LaaLaa 100 Mg Capsule52.0
LandoxLandox 100 Mg Tablet170.0
LenteclinLenteclin 100 Mg Capsule10.0
Martidox MMartidox M 100 Mg Tablet8.0
NabNab 100 Mg Tablet34.0
Nee (Bennet)Nee 100 Mg Tablet Dt59.0
NovadoxNovadox 100 Mg Tablet6.0
NudoxyNudoxy 100 Mg Capsule10.0
RalidexRalidex 100 Mg Capsule456.0
RapidoxynRapidoxyn 100 Mg Tablet6.0
SeadoxSeadox 100 Mg Tablet8.0
SwidoxSwidox 100 Mg Capsule10.0
TabdoxTabdox 100 Mg Tablet142.0
UltracyclineUltracycline 100 Mg Capsule8.0
WedoxWedox 100 Mg Tablet27.0
Akem TabletAkem Tablet Dt64.0
AndoxAndox Tablet37.0
BidoxBidox 100 Mg Tablet11.0
CadoxyCadoxy 100 Mg Capsule8.0
DcDc 100 Mg Capsule9.0
DocmycinDocmycin 100 Mg Tablet11.0
Dox (Dd Pharma)Dox 75 Mg Capsule57.0
DoxicipDoxicip 100 Mg Capsule10.0
DoxitabDoxitab Tablet35.0
DoxitasDoxitas 100 Mg Tablet17.0
DoxycylineDoxycyline Capsule13.0
DoxygatesDoxygates Tablet37.0
DoxygeeDoxygee 100 Mg Tablet8.0
DoxynDoxyn 100 Mg Tablet16.0
Doxy PlusDoxy Plus 100 Mg Tablet57.0
DoxyricDoxyric 100 Mg Tablet47.0
DoxytabDoxytab 100 Mg Tablet31.0
EffidoxEffidox 100 Mg Capsule28.0
EldoxEldox 100 Mg Capsule29.0
G DoxG Dox Capsule7.0
LytedoxLytedox Tablet24.0
Lytedox LbLytedox Lb Tablet28.0
MinicyclineMinicycline Capsule11.0
MonodoxMonodox Capsule24.0
Mydox SMydox S Tablet53.0
NicodoxyNicodoxy 100 Mg Capsule9.0
Novadox (Radicura)Novadox 100 Mg Tablet98.0
NurodoxNurodox Capsule75.0
OdclinOdclin 100 Mg Capsule29.0
QuidoxQuidox 100 Mg Capsule10.0
R DoxR Dox 100 Mg Tablet34.0
RevidoxRevidox 100 Mg Tablet7.0
Sandox CpSandox Cp 100 Mg Tablet121.0
Sk DoxSk Dox Tablet14.0
SolomycinSolomycin 50 Mg Tablet14.0
TetradoxTetradox 100 Mg Capsule41.0
ZeedoxyZeedoxy Capsule9.0
Acnetoin TabletAcnetoin 10 Mg Tablet76.0
Agrocin TabletAgrocin 250 Mg Tablet11.0
AlthrocinAlthrocin 100 Mg Drop27.0
Citamycin TabletCitamycin 250 Mg Tablet38.0
Cynoryl TabletCynoryl 250 Mg Tablet50.0
E MycinE Mycin 100 Mg Suspension23.0
ErocinErocin 100 Mg Tablet63.0
ErokidErokid 125 Mg Tablet31.0
EromedEromed 125 Mg Suspension27.0
EryconErycon 250 Mg Tablet39.0
ErypalErypal 100 Mg Syrup23.0
ErysterEryster 250 Mg Tablet14.0
ErythrocinErythrocin 100 Mg Tablet16.0
ErythrolErythrol 250 Mg Tablet38.0
Erythrol KidErythrol Kid Tablet24.0
EstocinEstocin 5 Mg Eye Ointment62.0
Q MycinQ Mycin 125 Mg Tablet20.0
RekcinRekcin 2% Solution60.0
RethrocinRethrocin 150 Mg Tablet97.0
AllmycinAllmycin Syrup33.0
Althrocin ForteAlthrocin Forte 250 Mg Syrup31.0
Althrocin KidAlthrocin Kid 125 Mg Tablet25.0
AlthroxAlthrox 250 Mg Tablet167.0
Bestocin (Bestochem)Bestocin 250 Mg Injection7.0
BiomycinBiomycin 250 Mg Tablet46.0
Citamycin PCitamycin P Tablet19.0
EbEb 333 Mg Tablet58.0
ElthrocinElthrocin 500 Tablet58.0
EltocinEltocin 125 Mg Suspension31.0
ElucinElucin 250 Mg Tablet22.0
EnthrocinEnthrocin 250 Mg Tablet27.0
EroateEroate 250 Mg Tablet35.0
ErybestErybest 250 Mg Tablet41.0
Erycin (Cipla)Erycin Dt 125 Mg Tablet16.0
ErynEryn Suspension21.0
EryspansEryspans 250 Mg Capsule44.0
EryspicEryspic 250 Mg Tablet18.0
ErythoErytho 500 Mg Tablet36.0
Erythro (Cadila)Erythro 500 Mg Tablet19.0
ErythrokemErythrokem 125 Mg Syrup20.0
ErythromarkErythromark 125 Mg Syrup21.0
Erythromycin EstolErythromycin Estol 500 Mg Tablet19.0
ErythrotoneErythrotone 250 Mg Tablet24.0
EtominEtomin 125 Mg Suspension24.0
Ticin(Trq)Ticin Suspension18.0
ArnocinArnocin 100 Mg Capsule255.45
CnnCnn 100 Mg Tablet Mr300.0
CynomycinCynomycin 100 Mg Capsule206.51
Cynomycin CpCynomycin Cp 100 Mg Capsule185.75
MclinMclin 100 Mg Tablet203.16
MinocynMinocyn 100 Mg Tablet240.87
MinolinMinolin 100 Mg Tablet275.0
MinozMinoz 100 Mg Tablet325.0
DivaineDivaine 100 Mg Tablet273.5
EthiminEthimin 50 Mg Tablet189.51
MinoloxMinolox 100 Tablet297.0
MinonilMinonil 45 Mg Tablet Er190.0
MinovaMinova 100 Mg Tablet47.85
SynoSyno 100 Mg Capsule270.51
ArcyclineArcycline 250 Mg Capsule86.97
LinemettLinemett 333 Mg Tablet15.37
SubamycinSubamycin 250 Mg Capsule12.78
TerapalTerapal 250 Mg Capsule96.25
TetracycllinTetracycllin 250 Mg Capsule72.83
TetralabTetralab 250 Mg Capsule9.2
AchromycinAchromycin 250 Mg Capsule14.7
CadicyclineCadicycline 250 Mg Capsule6.87
GetraGetra 250 Mg Capsule6.71
HostacyclineHostacycline 250 Mg Capsule16.99
NicocyclineNicocycline 250 Mg Capsule10.0
RancyclineRancycline 250 Mg Capsule6.87
ResteclinResteclin 250 Mg Capsule11.3
TetlinTetlin 250 Mg Capsule5.62
TetracylineTetracyline 250 Mg Capsule7.33
TetrastarTetrastar 500 Mg Capsule10.74
Bp InjectionBp 1200000 Iu Injection0.0
Fort.Proc.Pen InjectionFort.Proc.Pen 2000000 Iu Injection0.0
Pentids TabletPentids 200 Tablet4.25
P.P.F InjectionP.P.F 400000 Iu Injection0.0
SodicillinSodicillin 1000000 Iu Injection0.0
StanpenStanpen 500 Tablet0.0
Benzylpenicillin InjectionBenzylpenicillin 1000000 Iu Injection8.83
BistrepenBistrepen 2000000 Iu Injection29.23
BpgBpg 1000000 Iu Injection7.97
Fortified P.PFortified P.P 100000 Iu Injection6.02
Fortified Procaine PenicillinFortified Procaine Penicillin 1000000 Iu Injection18.34
Fort.ProcFort.Proc Injection6.03
Pencip TabletPencip 200 Tablet3.45
PenidurePenidure 12 Lac Units Injection12.47
PentasPentas 200 Tablet4.18
Procaine InjectionProcaine Injection10.86
OxyteracinOxyteracin 2% Injection20.1
TetracinTetracin 1 Gm Ointment30.0
EcomycinEcomycin 1 Gm Injection194.56
Oxy Dihydrate LaOxy Dihydrate La Infusion180.95
Oxy (Pfizer Ltd)Oxy 500 Mg Capsule99.9
Oxytetracycline AfOxytetracycline Af Tablet22.0
OxytetracylineOxytetracyline Solution67.06
Oxytetracylin LaOxytetracylin La Solution83.48
Oxytetra WockOxytetra Wock 50 Mg Liquid41.81
Oxytetra(Wyeth)Oxytetra Injection19.97
TerramycinTerramycin 250 Mg Capsule8.37
T MT M 250 Mg Capsule8.37
T M SfT M Sf 250 Mg Capsule9.89
AcrubAcrub 1% Lotion66.0
AfdethroAfdethro Cream15.0
ClinacClinac Gel66.0
Erycin (Dermo Care)Erycin (Dermo Care) Gel44.76
Gery OintGery Oint 3% Ointment26.5
SyniSyni 0.025% Gel49.0
AcnebenzAcnebenz Gel81.12
ErylentErylent Gel42.0
MedisoftMedisoft Cream14.86
OkamycinOkamycin 3% Cream28.75
BactominBactomin 375 Mg Tablet375.0
LeosultaLeosulta 375 Mg Tablet387.0
MarzonMarzon Duo Tablet425.0
RecontrexRecontrex 375 Mg Tablet375.0
SybilSybil 375 Mg Tablet375.0
BenzathineBenzathine 1200000 Iu Injection0.0
PencomPencom 12 Injection11.62
LedermycinLedermycin 150 Mg Tablet19.91
Adoxy Lb CapsuleAdoxy Lb Capsule59.0
Doxol LbDoxol Lb Tablet47.16
Doxy 1 Ld R ForteDoxy 1 Ld R Forte Capsule71.75
Microdox LbxMicrodox Lbx Capsule63.5
CodoCodo Capsule Xl56.17
Doxt SlDoxt Sl Capsule63.0
Doxy Plus LbDoxy Plus Lb Tablet52.0
DoxytasDoxytas Tablet10.0
Zedox LbZedox Lb Capsule32.62
AtrocinAtrocin 1% W/W/1% W/W Ointment40.75
CortecyclineCortecycline Eye Ointment9.4
TerracortTerracort Eye/Ear Drops29.62
Dox M OzDox M Oz 100 Mg/500 Mg/50 Mg Tablet85.0
Dox M StDox M St 100 Mg/15 Mg Tablet0.0
DoxysepDoxysep 100 Mg/10 Mg Tablet0.0
Dx 24 SDx 24 S 100 Mg/15 Mg Tablet0.0
Minicycline PlusMinicycline Plus Capsule35.86
Dox M TzDox M Tz 100 Mg/600 Mg Tablet65.0
ImidoxImidox 100 Mg/600 Mg Tablet69.0
TidoTido Tablet55.0
DobactDobact Tablet75.2
Doxypal Dr LDoxypal Dr L Capsule67.75
Ec DoxEc Dox 30 Mg/100 Mg Tablet55.0
Entakon MEntakon M 400 Mg/333 Mg Capsule0.0
EntakonEntakon Tablet0.0
LancetLancet 400 Mg/333 Mg Tablet0.0
MeklinMeklin 400 Mg/333 Mg Capsule0.0
MetroclineMetrocline Capsule32.9
Rez Q DRez Q D 600 Mg/100 Mg Tablet223.36
TiniclineTinicline 250 Mg/300 Mg Tablet44.0

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

और पढ़ें ...