myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आज के समय में प्रेगनेंसी टेस्‍ट करना कोई मुश्किल काम नहीं है। हर महिला के लिए मां बनना सबसे बड़ा सुख होता है लेकिन कभी-कभी महिलाओं को अनचाही प्रेगनेंसी का भी डर लगा रहता है। ऐसी स्थिति में प्रेगनेंसी टेस्‍ट की मदद से महिलाएं मिनटों में अपने मन की दुविधा को दूर कर सकती हैं।  

अधिकतर प्रेगनेंसी टेस्‍ट किट से एचसीजी (ह्यूमन कोरिओनिक गोनाडोट्रोपिन) नामक हार्मोन की मौजूदगी का पता चलता है। स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ और महिलाएं गर्भावस्‍था का परीक्षण करने के लिए कई प्रकार के प्रेगनेंसी टेस्‍ट का इस्‍तेमाल करते हैं। 

(और पढ़ें - अनचाहा गर्भ रोकने के उपाय)

यूरिन प्रेगनेंसी टेस्‍ट के लिए एक स्ट्रिप, कैसेट या मिडस्‍ट्रीम डिवाइस की जरूरत पड़ सकती है। इसके बाद प्रेगनेंसी टेस्‍ट किट पर दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए प्रेगनेंसी टेस्ट को पूरा करना होता है। चूंकि, प्रेगनेंसी टेस्‍ट किट 100 प्रतिशत ठीक नहीं होते हैं इसलिए गर्भावस्‍था को सुनिश्‍चित करने के लिए चिकित्‍सक खून की जांच या अल्‍ट्रासाउंड के ज़रिए गर्भावस्‍था की पुष्टि करते हैं।

प्रेगनेंसी टेस्‍ट में क्‍या होता है?

प्रेगनेंसी टेस्‍ट में खून या पेशाब में प्रेगनेंसी हार्मोन एचसीजी (ह्यूमन कोरिओनिक गोनाडोट्रोपिन) का पता लगाया जाता है। आपको बता दें कि प्रेगनेंसी टेस्‍ट में सिर्फ हार्मोन का पता लगाया जाता है न कि भ्रूण का। भ्रूण के गर्भाशय के अंदरूनी परत से जुड़ने पर प्लेसेंटा से यह हार्मोन रिलीज़ होता है।

इसलिए, प्रेगनेंसी टेस्‍ट से गर्भावस्‍था के होने या न होने का पता चलता है। यूरिन टेस्‍ट के अलावा चिकित्‍सक की देखरेख में किए गए प्रेगनेंसी टेस्‍ट से भी खून में एचसीजी हार्मोन की उपस्थिति का पता चलता है जबकि अल्‍ट्रासाउंड ध्‍वनि तरंगों का इस्‍तेमाल कर गर्भ में भ्रूण के होने की जांच करती हैं।

  1. प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए - When to take a Pregnancy Test in Hindi
  2. प्रेग्नेंसी टेस्ट के घरेलू उपाय - Pregnancy test at home without kit in Hindi
  3. प्रेगनेंसी टेस्ट किट - Pregnancy test kit in Hindi
  4. प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे इस्तेमाल करें - How to use pregnancy test kit in Hindi
  5. प्रेगनेंसी टेस्ट किट रिजल्ट्स - Pregnancy test kit results in Hindi
  6. प्रेगनेंसी टेस्ट एट क्लिनिक - Pregnancy tests at clinics in Hindi
  7. प्रेगनेंसी टेस्ट कब और कैसे करें के डॉक्टर
  8. पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे

जैसे जैसे आपकी गर्भावस्था में प्रगति होगी आपके एचसीजी हार्मोन के स्तर में वृद्धि होगी। गर्भवती होने पर आपका शरीर मासिक धर्म होने से पहले भी एचसीजी का उत्पादन कर सकता है इसलिए अगर आप पीरियड्स मिस होने के पहले दिन ही प्रेगनेंसी टेस्ट कर लेती हैं तो टेस्ट करने के लिए यह समय उपयुक्त होता है और अगर पीरियड्स मिस होने के एक दिन पहले ही टेस्ट कर लिया है तो यह आपको वास्तव में सकारात्मक (positive) परिणाम दे सकता है लेकिन अगर परीक्षण सही तरीके से किया है तो। यह टेस्ट उस स्थिति में नकारात्मक (negative) परिणाम दिखता है जब आपका एचसीजी स्तर कम हो या न हो। कभी कभी यह पॉजिटिव परिणाम दिखता है लेकिन आप गर्भवती नहीं होती ऐसा उस स्थिति में हो सकता है जब अचानक किसी कारणवश गर्भपात हो चुका हो।

(और पढ़ें - गर्भ में लड़का कैसे हो और बच्चा गोरा कैसे पैदा हो से जुड़े मिथक)

आमतौर पर गर्भावस्था हार्मोन एचसीजी सुबह अपने उच्चतम स्तर पर होता है इसलिए अगर आपने अभी गर्भधारण किया ही है तो यह आपके लिए परीक्षण करने का सबसे अच्छा समय है। यह ध्यान रखें कि जांच करने से पहले अपने पेय पदार्थों का अत्यधिक सेवन न किया हो क्योंकि ये एचसीजी में मिलकर उसे पतला कर देते हैं और आपको गलत या नकारात्मक परिणाम दे सकते हैं। जैसे ही आप परीक्षण स्टिक को पैकेट से बहार निकालती हैं उसके मूत्र अवशोषित करने वाले क्षेत्र पर हाथ न लगाएं। आप दो तरीकों से परीक्षण कर सकती हैं: पहला सीधा स्टिक को मूत्र के संपर्क में लाकर और दूसरा कप में स्टिक को डुबाकर।

यदि आप एंटीबायोटिक दवाएं जैसे गर्भनिरोधक या दर्द निवारक गोलियाँ ले रही हैं तो इनका आपके टेस्ट परिणाम पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। अगर आप गर्भ से सम्बंधित कोई और दवा ले रही हैं जिसमें एचसीजी है तो आपको गलत सकारात्मक (false positive) परिणाम मिल सकता है। इस सम्बन्ध में आपको डॉक्टर से परामर्श लेने की आवश्यकता है। 

(और पढ़ें – गर्भनिरोधक गोलियों के नुकसान)

 

आप घर पर ही बिना किसी किट के काफी सही परिणाम के लिए गर्भावस्था जांच कर सकती हैं। हालांकि बाज़ार में प्रेगनेंसी टेस्ट स्ट्रिप्स उपलब्ध होती हैं जिनका प्रयोग आप गर्भावस्था की पुष्टि के लिए कर सकती हैं। लेकिन अगर आपको वो स्ट्रिप्स नहीं मिल रही हैं या अभी नहीं ला सकती हैं और आप यह जानने के लिए उत्सुक हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं तो निम्न घरेलू चीज़ों का उपयोग करके आप यह परीक्षण कर सकती हैं:

  1. साबुन से करें प्रेगनेंसी टेस्ट - Pregnancy test with soap in Hindi
  2. गर्भावस्था की जांच करें चीनी से - Pregnancy test with sugar in Hindi
  3. गर्भ की जांच करें टूथपेस्ट से - Pregnancy test with toothpaste in Hindi
  4. प्रेगनेंसी टेस्ट करते हैं विनेगर से - Pregnancy test with vinegar in Hindi
  5. पाइन सॉल से करें गर्भधारण की जांच - Pregnancy test with pine sol in Hindi
  6. प्रेगनेंसी टेस्ट करें घर पर बेकिंग सोडा से - Pregnancy test with baking soda in Hindi
  7. प्रेगनेंसी की जांच करें ब्लीच से - Pregnancy test with bleach in Hindi

साबुन से करें प्रेगनेंसी टेस्ट - Pregnancy test with soap in Hindi

घर पर साबुन पानी के साथ गर्भावस्था का परीक्षण बहुत विश्वसनीय नहीं है, लेकिन परीक्षण की आसान प्रकृति के कारण आप इसे अपना सकती हैं।

सबसे पहले अपने मूत्र का नमूना एक पात्र में ले लें। फिर साबुन को पानी से भिगो लें। झाग बना लें और साबुन रख दें। अब इस साबुन के झाग को अपने मूत्र के नमूने में डालें अगर उसमें बुलबुले उठ रहे हैं तो आपके गर्भवती होने की सम्भावना है। लेकिन क्योंकि यह अधिक विश्वसनीय टेस्ट नहीं है इसलिए कोई और परीक्षण करना बेहतर विकल्प होगा।

गर्भावस्था की जांच करें चीनी से - Pregnancy test with sugar in Hindi

चीनी गर्भावस्था के परीक्षण में अधिक व्यापक रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले तरीकों में से एक है, जिसमें किट के बिना घर पर गर्भावस्था की पुष्टि की जाती है।

एक पात्र में पेशाब लें। उसमें 2-3 चम्मच चीनी मिलाएं अब इस मिश्रण को घोलने के लिए हिलाएं। अगर आप गर्भवती हैं तो आपके मूत्र में उपस्थित एचसीजी हार्मोन चीनी अणुओं के साथ प्रतिक्रिया कर के गुठलीदार रूप में बदल जाएगी। ध्यान रहे कि आप कितना भी उस पात्र को हिला लें पूरी चीनी नहीं घुलेगी और अगर ऐसा नहीं होता है तो आप गर्भवती नहीं हैं।

गर्भ की जांच करें टूथपेस्ट से - Pregnancy test with toothpaste in Hindi

यह टेस्ट काफी हद तक सही परिणाम देता है, लेकिन यह पूरी तरह विश्वसनीय नहीं है, इसलिए सही मेडिकल टेस्ट अवश्य करें।

इस परीक्षण के लिए सफ़ेद टूथपेस्ट का ही इस्तेमाल करें। एक कप में मूत्र लें। अब बहुत कम मात्रा में इसमें टूथपेस्ट डालें और ब्रश की सहायता से इसे मिलाएं अगर आपके मूत्र में मौजूद एचसीजी टूथपेस्ट के साथ प्रतिक्रिया करता है तो यह या तो झाग बनाएगा या फिर नीले रंग में परिवर्तित हो जायेगा। लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो आप गर्भवती नहीं हैं।

प्रेगनेंसी टेस्ट करते हैं विनेगर से - Pregnancy test with vinegar in Hindi

आप प्रेगनेंसी टेस्ट के लिए सिरके का प्रयोग भी कर सकती हैं। एक पात्र में थोड़ा विनेगर लें अब उसमें अपने मूत्र को मिलाएं। अगर मिश्रण में बुलबुले उठ रहे हैं तो थोड़ी देर और रुकिए अगर कुछ समय में इसका रंग परिवर्तित होता है तो आप गर्भवती हैं लेकिन कोई रंग परिवर्तित न होने का मतलब यह है कि आप गर्भवती नहीं हैं।

पाइन सॉल से करें गर्भधारण की जांच - Pregnancy test with pine sol in Hindi

पाइन-सॉल घरेलू वस्तुओं की सफाई के लिए उपयोग किया जाता है। इसका प्रयोग मुख्य रूप से ग्रीस या गहरे मिट्टी के दाग साफ़ करने के लिए किया जाता है। गर्भावस्था जांच के लिए इसे उपयोग करने के लिए थोड़ा सा पाइन-सॉल का घोल लें अब इसमें अपना मूत्र मिलाएं और इसे 5 मिनट के लिए छोड़ दें। अगर मिश्रण का रंग परिवर्तित हो रहा है तो आप गर्भवती हैं।

प्रेगनेंसी टेस्ट करें घर पर बेकिंग सोडा से - Pregnancy test with baking soda in Hindi

लोगों का मानना है कि यह तकनीक गर्भावस्था के परीक्षण के साथ साथ बच्चे का लिंग भी बताती है। लेकिन वास्तव में यह बिलकुल गलत धारणा है क्योंकि इसके पीछे कोई भी वैज्ञानिक तथ्य नहीं है। घर पर यह परीक्षण करने के लिए 2 चम्मच बेकिंग सोडा एक कटोरे में लीजिये इसमें मूत्र की कुछ बूँदें डालिये अगर बेकिंग सोडा मूत्र के साथ प्रतिक्रिया करता है तो आप गर्भवती हैं।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में पेट दर्द करना)

प्रेगनेंसी की जांच करें ब्लीच से - Pregnancy test with bleach in Hindi

यह गर्भावस्था जांच की सबसे आसान और सही परिणाम देने वाली तकनीक है। एक पात्र में पेशाब का नमूना लें और इसमें ब्लीच की कुछ मात्रा मिलाएं। अगर झाग बनने लगता है तो आप गर्भवती हैं। बेहतर होगा अगर आप यह प्रयोग बंद जगह न करके खुली जगह करें क्योंकि ब्लीच के कारण इससे कुछ गैस बनती हैं जिससे घुटन हो सकती है।

उपर्युक्त सारे उपयोग अगर सुबह के मूत्र के साथ किये जाएं तो यह बेहतर परिणाम देंगे।

जल्दी, आसान और सही परिणाम जानने के लिए आपको सिर्फ एक परीक्षण पट्टी पर अपने मूत्र की कुछ बूँदें डालनी होती हैं और परिणाम आपके सामने होता है। इस परीक्षण पट्टी को गर्भावस्था परीक्षण किट कहते हैं। यह आपके मूत्र में एचसीजी हार्मोन की मात्रा की जांच करती है। इस टेस्ट में केवल 5 मिनट लगते हैं और दो लाइनों के प्रदर्शन पर आपकी गर्भावस्था निर्भर करती है। ये किट दो प्रकार की होती हैं:

  1. स्ट्रिप प्रेगनेंसी टेस्ट: यह प्रेगनेंसी टेस्ट किट का प्रमुख प्रकार है। आप अपने मूत्र की धार में इसे पकड़ सकते हैं। अगर आपके मूत्र में एचसीजी हार्मोन उपस्थित है तो स्ट्रिप के एक छोर का रंग परिवर्तित होने लगेगा। जो यह संकेत करता है कि आप गर्भवती हैं।
  2. कप परीक्षण किट: इस किट में परीक्षण उपकरण के साथ मूत्र एकत्रित करने के लिए एक कप भी होता है। इस कप में मूत्र लेने के बाद इस परीक्षण उपकरण को कप में डुबोइये। अगर मूत्र में एचसीजी उपस्थित है तो इसका रंग बदल जायेगा जिसका अर्थ है कि आप गर्भवती हैं।
  1. आप अपनी किट के अनुसार जो भी विधि अपना रही हैं, उस विधि में मूत्र का नमूना उपयोग करने के लिए मिडस्ट्रीम नमूने (midstream sample) का उपयोग करें जिसका अर्थ है कि मूत्र को एकत्रित करने से पहले थोड़ा मूत्र निकल जाने दें।
  2. अगर आप सीधा स्ट्रिप पर मूत्र कर रही हैं तो ऐसा करने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि कितनी देर ऐसा करना है क्योंकि कुछ किट पर निर्देश दिए होते हैं कि इसका उपयोग 5 सेकंड से ज्यादा न करें। समय देखने के लिए आप स्टॉपवॉच का प्रयोग भी कर सकती हैं। इसे उपयोग करने से पहले ध्यान रखें कि स्ट्रिप का मूत्र अवशोषक छोर मूत्र की ओर हो।
  3. मूत्र की कुछ बूँदें डालने के लिए ड्रॉपर का उपयोग करें। यह कप किट विधि में उपयोगी है। मूत्र की बूँदें सही निर्देशित जगह ही डालें। कुछ ब्रांड्स के किट में आपको स्टिक का अवशोषक वाला भाग मूत्र में डुबाना होता है और 5-10 सेकंड के लिए रुकें या फिर जितना समय किट पर लिखा हो उतने समय के लिए रुकें।
  4. अब कुछ समय इंतज़ार करें। और टेस्ट स्टिक को एक साफ़ जगह पर रख दें। 5 मिनट में परिणाम आ जाता है लेकिन कुछ किट के परिणाम 10 मिनट भी ले लेते हैं। बेहतर होगा कि किट पर लिखे निर्देशानुसार परिणाम का इंतज़ार करें।
  5. अब निर्धारित समय के बाद परिणाम देखें। अगर आपको परिणाम समझ नहीं आ रहा है तो अपनी किट पर निर्देश पढ़ें क्योंकि कुछ किट में परिणाम "प्लस और माइनस" के रूप में आता है कुछ में "रंग" बदलता है और कुछ में लिख कर आता है कि आप "प्रेग्नेंट" है या "नॉट प्रेग्नेंट" हैं।

यदि आपने अपने पीरियड्स मिस होने के पहले दिन ही कर लिया है तो ये सभी घरेलू परीक्षण 99% सही हो सकते हैं। इसके बावजूद भी कभी कभी टेस्ट करने में थोड़ी सी लापरवाही से भी परिणाम गलत हो सकता है जिसे गलत सकारात्मक (false positive) या गलत नकारात्मक (false negative) परीक्षण भी कहते हैं। ऐसा एचसीजी हार्मोन के गलत परीक्षण के कारण भी होता है।

  1. प्रेगनेंसी टेस्ट लाइट पिंक लाइन डार्क पिंक लाइन - Pregnancy test light pink line dark pink line in Hindi
  2. प्रेगनेंसी टेस्ट पॉजिटिव फेंट लाइन - Pregnancy test results faint line in Hindi
  3. प्रेगनेंसी टेस्ट रिजल्ट्स पॉजिटिव मीन्स - Pregnancy test positive means in Hindi
  4. प्रेगनेंसी टेस्ट रिजल्ट्स नेगेटिव मीन्स - Pregnancy test negative means in Hindi

प्रेगनेंसी टेस्ट लाइट पिंक लाइन डार्क पिंक लाइन - Pregnancy test light pink line dark pink line in Hindi

अगर परीक्षण में हल्की पिंक पॉजिटिव लाइन आती है तो इसका मतलब है कि आप गर्भवती हैं और कुछ मामलों में यह लाइन गहरे रंग की भी होती है उसका मतलब भी यही है कि आप गर्भवती हैं। असल में लाइन का रंग आपके मूत्र में एचसीजी हार्मोन की मात्रा दर्शाता है। अधिक मात्रा होने पर गहरे पिंक रंग की लाइन दिखाई देती है और कम मात्रा होने पर हल्के पिंक रंग की लाइन दिखाई देती है।

प्रेगनेंसी टेस्ट पॉजिटिव फेंट लाइन - Pregnancy test results faint line in Hindi

अगर आप माहवारी मिस होने के अगले दिन ही टेस्ट करती हैं तो पॉजिटिव फेंट लाइन आने की सम्भावना अधिक होती है क्योंकि इस समय आपके मूत्र में एचसीजी तो होता है लेकिन मात्रा में कम होता है इसलिए इसे पॉजिटिव फेंट टेस्ट कहते हैं और जैसे जैसे गर्भावस्था बढ़ती जाती है एचसीजी की मात्रा भी बढ़ती है और तब परीक्षण करने पर डार्क पिंक लाइन दिखाई देती है।

प्रेगनेंसी टेस्ट रिजल्ट्स पॉजिटिव मीन्स - Pregnancy test positive means in Hindi

परीक्षण स्टिक में एक नियंत्रण लाइन परीक्षण करने से पहले और दूसरी लाइन परीक्षण करने के बाद दिखाई देती है। परीक्षण करने से पहले किट पर दिए गए निर्देशों को सही से पढ़ें और उनके अनुसार परीक्षण का परिणाम देखें। सकारात्मक परिणाम की लाइन पहले से उपस्थित लाइन के जितनी गहरी नहीं होती है लेकिन अगर आपको दूसरी लाइन दिखाई दे रही है तो खुश हो जाइये क्योंकि इसका मतलब है कि आप गर्भवती हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कितनी गहरी या हल्की लाइन दिखाई दे रही है।

प्रेगनेंसी टेस्ट रिजल्ट्स नेगेटिव मीन्स - Pregnancy test negative means in Hindi

एक नकारात्मक गर्भावस्था परीक्षण में सिर्फ नियंत्रण लाइन दिखाई देती है जो परीक्षण के पहले से प्रदर्शित होती है। इसके अलावा और कोई लाइन प्रदर्शित नहीं होती है। कभी कभी परिणाम स्वरुप एक हल्की लाइन दिखाई देती है लेकिन निर्धारित समय के बाद। अगर कभी ऐसा होता है तो उसे भी नकारात्मक परिणाम माना जाता है क्योंकि इस परीक्षण की एक समय सीमा होती है और उस समय सीमा के बाद परीक्षण को बर्खास्त कर दिया जाता है अर्थात कोई भी परिणाम मान्य नहीं होता है।

अगर आपका परिणाम नकारात्मक आया है और फिर भी आपको माहवारी आना शुरू नहीं हुई है तो एक बार फिर गर्भावस्था परीक्षण कर लें क्योंकि हो सकता है कि आपने अपने पीरियड्स के दिन गिनने में कोई गलती की हो या मूत्र में एचसीजी का स्तर बहुत ही कम हो। यदि दोबारा टेस्ट के बाद भी परिणाम नकारात्मक आ रहा है और आपको पीरियड्स नहीं हो रहे है तो डॉक्टर से सलाह लें। कुछ महिलाओं को इस शुरूआती दौर में सकारात्मक परिणाम नहीं मिलता या कुछ को सिर्फ खून की जांच कराने पर ही पता चल पाता है। प्रत्येक महिला का शरीर अलग तरह से काम करता है इसलिए अगर आपको लगता है कि आप गर्भवती हैं तो आप डॉक्टर से जांच करवा सकती हैं।

डॉक्टर गर्भावस्था की जांच निम्न प्रकार से करते हैं :

  • यूरिन टेस्ट : उपर्युक्त किट विधि से ही डॉक्टर भी परीक्षण करते हैं।
  • ब्लड टेस्ट : इसमें डॉक्टर आपको खून की जांच कराने को कहता है और उसकी रिपोर्ट में परिणाम आ जाता है लेकिन यह परीक्षण यूरिन टेस्ट से कम उपयोग होता है। 
  • सोनोग्राम या अल्ट्रासाउंड : सोनोग्राम या अल्ट्रासाउंड गर्भावस्था के दौरान किया जाने वाला परीक्षण है जिसमें आप अपने गर्भ में पल रहे भ्रूण की अस्पष्ट तस्वीर कंप्यूटर स्क्रीन पर देख सकती हैं। यह तस्वीर काले या सफ़ेद रंग की होती है।  इन चित्रों को सोनोग्राम, इकोग्राम (echogram) या स्कैन भी कहा जाता है। सोनोग्राम आपके भ्रूण की गर्भकालीन आयु (gestational age) भी बताता है साथ ही अगर आपके गर्भ में एक से ज्यादा भ्रूण पल रहे हैं तो यह भी इसमें प्रदर्शित हो जाता है।

घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट करने के आसान तरीके सम्बंधित चित्र

Dr. Riddhi Acharya

Dr. Riddhi Acharya

Obstetrics & Gynaecology

Dr. Pratiksha Mishra

Dr. Pratiksha Mishra

Obstetrics & Gynaecology

Dr. Deepa Tantry

Dr. Deepa Tantry

Obstetrics & Gynaecology

और पढ़ें ...

References

  1. Office on Women's Health [Internet] U.S. Department of Health and Human Services; Pregnancy tests.
  2. U. S Food and Drug Association. [Internet]. Pregnancy
  3. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Pregnancy testing
  4. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Pregnancy test
  5. Chard T. Pregnancy tests: a review. Hum Reprod. 1992 May;7(5):701-10. PMID: 1639991
  6. C. Gnoth, S. Johnson. Strips of Hope: Accuracy of Home Pregnancy Tests and New Developments. Geburtshilfe Frauenheilkd. 2014 Jul; 74(7): 661–669. PMID: 25100881