अक्सर भोजन को स्वादिष्ट बनाने के लिए अदरक का इस्तेमाल किया जाता है। वैसे तो भारत के सभी प्रदेशों में अदरक उगाया जाता है, लेकिन सबसे ज्यादा केरल में इसका उत्पादन होता है। इसकी यह खासियत है कि गीली मिट्टी में दबाकर रखने से यह कई दिनों तक तरोताजा बना रहता है। आयुर्वेद में इसे महाऔषध भी कहा जाता है। अदरक स्वाद में तीखा और तासीर में गर्म होता है और इसे भूख बढ़ाने का स्रोत भी माना जा सकता है।

अदरक के गुण
डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, अदरक तासीर में गर्म होने के कारण यह कफनाशक होता है। अदरक को सुखाकर बनाए जाने वाले सोंठ में भी काफी औषधीय गुण मौजूद होते हैं। सौंठ में प्रोटीन, नाइट्रोजन, एमिनो एसिड्स, ग्लूकोज, सुक्रोज, फ्रुक्टोज, ओलियोरेसिन, जिंजीबरीन, रैफीनीस, कैल्शियम, विटामिन बी और विटामिन सी, आयरन आदि होते हैं। सोंठ में पाया जाने वाला प्रोटीथिलीट एन्जाइम कफ हटाने के साथ ही पाचन ठीक करने का कार्य भी करता है। अदरक कई तरह की शारीरिक समस्याओं को ठीक करने में सक्षम होता है। आइए जानते हैं अदरक के अन्य फायदों के बारें में -

(और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)

पेट दर्द के निवारण में सहायक
अदरक और लहसुन बराबर मात्रा में लेकर अच्छी तरह से पीसकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट का एक चम्मच सेवन पानी के साथ करने से पेट दर्द में राहत मिलती है। इसके अलावा पीसी हुई सोंठ, सेंधा नमक और हींग बराबर मात्रा में मिलाकर इसका आधा चम्मच चूर्ण गर्म पानी के साथ ले सकते हैं।

भूख की कमी दूर करने में असरदार
अदरक भूख की कमी को दूर करने की भी असरदार औषधि है। भूख बढ़ाने के लिए अदरक के छोटे-छोटे टुकड़ों को नींबू के रस में भिगोकर इसमें सेंधा नमक मिलाकर भोजन से पहले इस मिश्रण का सेवन नियमित रूप से रोज करें, भूख निश्चित ही बढ़ेगी।

सर्दी जुकाम की सबसे कारगर औषधि
सर्दी-जुकाम से निजात पाने के लिए अदरक काफी कारगर है। पानी में गुड़, अदरक, नींबू का रस, अजवाइन और हल्दी को बराबर मात्रा में डालकर उबालें और इसे छानकर पीने से फायदा होता है।

(और पढ़ें - जानें कैसे बालों के लिए फायदेमंद है अदर‍क)

जोड़ों के दर्द को ठीक करे
डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, अदरक के रस को गुनगुना करके इससे अच्छी तरह से मालिश करने से जोड़ों का दर्द दूर होता है। मालिश यदि नियमित रूप से करेंगे तो जोड़ों में दर्द ठीक होने के साथ ही जोड़ भी मजबूत होंगे।

कान दर्द से छुटकारा
अदरक से कान का दर्द भी दूर किया जा सकता है। कान में दर्द होने पर अदरक का रस गुनगुना करके इसकी 3-4 बूंदें कान में डालें। कान दर्द में काफी फायदा होगा।

पेट और सीने में जलन में फायदेमंद
पेट और सीने में जलन की शिकायत होने पर भी अदरक का इस्तेमाल राहत दे सकता है। इसका इस्तेमाल करने के लिए एक गिलास गन्ने के रस में दो चम्मच अदरक का रस और एक चम्मच पुदीने का रस मिलाकर पीने से जलन ठीक होती है।

(और पढ़ें - गले में जलन होने पर क्या करें)

बुखार के लिए भी कारगर दवा
बुखार ठीक करने के लिए अदरक एक बेहतर औषधि है। बुखार आने पर एक चम्मच शहद के साथ अदरक का रस मिलाकर दिन में 3-4 बार लेने पर बुखार कम होता है।

लकवा में फायदेमंद
लकवा से ग्रसित मरीज को सोंठ पाउडर देने से जल्दी फायदा होता है। घी में उड़द की दाल को भूनकर गुड़ और सौंठ मिलाकर पीस लें। इस मिश्रण की दो चम्मच मात्रा दिन में 3 बार नियमित रूप से लकवा ग्रसित व्यक्ति को खिलाते रहें तो उसमें काफी सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलता है।

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ