myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

जिन लोगों का वजन बहुत अधिक होता है उन्हें पता होता है कि वजन बढ़ने में ज्यादा समय नहीं लगता, लेकिन उसे घटाने में सबसे अधिक मेहनत और लगन की जरूरत होती है। प्रेग्नेंसी के बाद वजन को कम कर पाना बेहद मुश्किल हो जाता है, क्योंकि गर्भावस्था के बाद लाइफ बहुत व्यस्त हो जाती है और साथ में वर्कआउट करना आसान नहीं होता। कुछ ऐसा ही फातिमा के साथ था, प्रेगनेंसी के बाद फातिमा का वजन बहुत बढ़ गया था। अधिक वजन की वजह से उन्हें थायराइड की भी समस्या शुरू हो गयी थी।

(और पढ़ें - वजन कम करने का तरीका)

आइए आगे जानते हैं फातिमा की वेट लॉस यात्रा के बारें में:

आपने वजन घटाने का फैसला कब लिया?

गर्भावस्था के बाद मैं पहले से ही अपने अत्यधिक वजन के साथ लड़ रही थी और फिर मुझे थायरॉइड के बारें में पता चला, जिसकी वजह से मैं और ज्यादा तनाव में आ गयी। थाइरॉइड की वजह से मेरा वजन और बढ़ता चला जा रहा था। इतने मोटापे की वजह से मुझे खुद को पहचान पाना मुश्किल होता था। तब मैंने महसूस किया कि अब वो समय आ गया है जब मुझे अपना वजन कम कर लेना चाहिए। अगर अब वजन कम नहीं किया तो शरीर बिमारियों का घर बन जायेगा। इस लिए मैंने वजन कम करने का फैसला लिया।

(और पढ़ें - कमर पतली करने की एक्सरसाइज)

आप क्या खाती थी?

  • मेरा नाश्ता – मुझे म्यूसली दूध में डालकर खाना बेहद अच्छा लगता था और इसमें मैं कई फलों को भी शामिल करती थी। कुछ दिनों तक, मैं पोहा, उपमा और वर्मिसिली (vermicelli) बनाकर खाती रही, जो की बेहद स्वस्थ होते हैं और जिन्हें पचाना आसान होता है।
  • मेरा दोपहर का खाना – मेरे लिए हैल्थी लंच बेहद जरूरी है। मैं दोपहर में ब्राउन राइस और मल्टीग्रेन आटे से बनी चीजें खाने लगी थी। मैं रोजाना एक कटोरी दाल खाती थी और अपनी सब्जियां नारियल तेल में बनाती थी। पाचन क्रिया को सही रखने के लिए, मैं तिल या अलसी के बीज से बना रायता खाती थी। (और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)
  • मेरा रात का खाना – रात का खाना आमतौर पर हल्का होता था, मैं रात में रोटी कम खाती थी। रात में आमतौर पर मैं उबले अंडे या ग्रिल फिश के साथ सलाद खाती थी।
  • चीट डेस के समय – जब मैं डाइट पर नहीं होती थी, मैं भरवां पराठा या कोई भी मांसाहारी सब्जी खाया करती थी।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए क्या खाएं)

क्या आप वर्कआउट करती थीं?

मैं रोजाना योग, कार्डियो और वेट ट्रेनिंग किया करती थी। इससे मेरा वजन तेजी से कम होता था और साथ ही इसकी वजह से मैं स्वस्थ भी रहती थी।

(और पढ़ें - खाने में कितनी कैलोरी होती हैं)

आप इस दौरान कैसे प्रेरित रहीं?

जब भी मेरा आत्म-विश्वास डगमगाता था, मैं शीशे में खुद को देखती थी। अपने में आए बदलाव देखने के बाद खुद से यही बोलती थी कि मैं अपने लक्ष्य के इतना पास आ चुकी हूं। अब मुझे हार नहीं माननी है। इस तरह में खुद को प्रेरित करती थी।  

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट)

आपने ये कैसे सुनिश्चित किया कि आप कभी अपने लक्ष्य से भटकेंगी नहीं?

पुरानी फोटो को देखकर मुझे आगे बढ़ते रहने में मदद मिलती थी। साथ ही मेरा 15 महीने का एक बच्चा है जो मुझे सारा दिन यहां से वहां भगाता रहता है। इस कारण भी मैं फिट रह पाती हूं।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के उपाय)

अधिक वजन की वजह से आपके लिए कौन सा हिस्सा सबसे मुश्किल भरा था?

अत्यधिक वजन के कारण मैं बहुत आलसी हो गयी थी और मेरे लिए चलना-फिरना भी मुश्किल हो रहा था। थोड़ा सा पैदल चलकर हांफने लगाती थी। इस कारणवश मैं अपने बच्चे के साथ खेल भी नहीं पाती थी। ऐसे में मुझे बेहद बुरा महसूस होता था।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए योग)

आप खुद को कुछ सालों में किस आकार में देखना चाहती हैं?

अब तो मुझे आराम करना जरा भी पसंद नहीं है। मैं अपने बच्चे की खातिर हमेशा स्वस्थ और फिट रहना चाहती हूं।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए क्या खाना चाहिए)

जीवनशैली में बदलाव लाने के लिए आपने क्या क्या किया?

अपनी दिनचर्या में मैंने नियमित व्यायाम को शामिल किया। साथ ही, मैंने जंक फूड और बाहर का खाना बिल्कुल छोड़ दिया था। मैं केवल घर का बना स्वस्थ खाना ही खाती थी।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए डांस)

आपके लिए सबसे निराशाजनक बात क्या थी?

थयरॉइड मेरा बहुत ज्यादा बढ़ चूका था, जिसकी वजह से मैं तनाव में रहने लगी थी और मोटापे की वजह से मेरी पर्सनालिटी भी खराब हो रही थी।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए योगासन)

वजन घटाने के बाद आपने क्या सीखा?

वेट लॉस से अब मेरा आत्म-विश्वास पहले के मुकाबले कई गुना बढ़ा है। अब मैं जीवन में अपने लक्ष्यों के प्रति अधिक समर्पित और केंद्रित हुई हूं।

(और पढ़ें - हिप्स कम करने के टिप्स)

--------------

आशा करते हैं कि आपको फातिमा के बारे में पढ़ कर प्रेरणा मिली होगी। अब आप अपना वजन घटाने का सफर ज़रूर शुरू करें। 

अगर आपके पास भी अपनी या अपने किसी मित्र, परिवार के सदस्य या परिचित की कोई ऐसी ही प्रेरणा देने वाली कहानी है, तो हमसे ज़रूर शेयर करें। आप अपनी कहानी हमें [email protected] पर ईमेल कर सकते हैं।

और पढ़ें ...