myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

भला ऐसा कौन है जो चाहे कि युवावस्था में ही बाल सफेद हो जाए? कोई नहीं। इसके बावजूद बदलती जीवनशैली, खराब खानपान, काम के बढ़ते दबाव, तनाव, चिंता, भावनात्मक कमजोरी आदि की वजह से बालों के सफेद होने की समस्या दिनों दिन बढ़ रही है। हालांकि इस समस्या से निपटने के लिए आजकल बालों को कलर करने का विकल्प चुन लिया गया है। जबकि इससे बालों को फायदा होने के बजाय नुकसान ज्यादा होता है। ऐसा नहीं है कि सफेद बालों की समस्या से निपटा नहीं जा सकता। इसके लिए अपनी डाइट में ऐसी चीजें शामिल करें जो बालों को सफेद होने से रोकते हैं। जानिए, इनके बारे में।

हरी पत्तेदार सब्जियां

बालों को सफेद होने से रोकने के लिए अपनी डाइट में हरी पत्तेदार सब्जियां शामिल करें। इसमें फोलिक एसिड मौजूद होता है। यह बालों को सफेद होने से रोकता है। हरी पत्तेदार सब्जियों में पालक, धनिया पत्ता आदि सब्जियां शामिल करें। हरी पत्तेदार सब्जियों को आप पकाकर या फिर सलाद के रूप में कच्चा भी खा सकते हैं। इससे स्वास्थ्य को अन्य लाभ मिलते हैं। बालों की खूबसूरती बढ़ाने में भी इनका खास योगदान है।

(और पढ़ें - सफेद बालों को काला करने के लिए तेल)

ब्लूबेरी

क्या आप जानते हैं कि बाल सफेद क्यों होते हैं? बाल सफेद विटामिन बी 12, आयोडीन और जिंक जैसे तत्वों की कमी की वजह से होते हैं। ब्लूबेरी में विटामिन बी 12, आयोडिन, जिंक और कई अन्य जरूरी पोषक तत्व अच्छी मात्रा में मौजूद होते हैं। इसका मतलब है कि इस स्वादिष्ट फल को अपनी रोजमर्रा की डाइट में आवश्यक रूप से शामिल करें और बालों को वक्त से पहले सफेद होने से रोकें।

(और पढ़ें - सफेद बालों के लिए आयुर्वेदिक सुझाव)

काॅपर युक्त आहार

बालों के सफेद होने की एक वजह काॅपर की कमी भी होती है। इसीलिए अपनी डाइट में ऐसे फल और सब्जियां शामिल करें जिसमें काॅपर अच्छी मात्रा में मौजूद हों। उदाहरण के तौर पर आलू, मशरूम, ड्राई फ्रूट जैसे अखरोट आदि। कुछ एंजाइम के लिए काॅपर की आवश्यकता होती है जिसमें टायरोसिन भी शामिल हैं। टायरोसिन मेलेनिन के उत्पादन के लिए जरूरी है। यह त्वचा और बालों को रंग देने के लिए उपयोगी तत्व है। एक अध्ययन से यह पुष्टि हुई है कि काॅपर की कमी की वजह से बाल युवावस्था में ही सफेद होने लगते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार एक प्रौढ़ महिला और पुरूष को प्रत्येक दिन 900 माइक्रोग्राम काॅपर लेना चाहिए। गर्भवती महिला के लिए 1000 माइक्रोग्राम और स्तनपान करा रही महिलाओं को 1300 माइक्रोग्राम काॅपर की मात्रा रोजाना लेनी चाहिए।

आयरन से भरपूर आहार

काॅपर की ही तरह बालों के लिए आयरन युक्त आहार भी उपयोगी है। आपको बीन्स, आलू, किशमिश आदि से भरपूर मात्रा में आयरन मिल सकता है। विशेषज्ञों के अनुसार 19 से 50 आयु वर्ग के पुरूष और महिलाओं को क्रमशः 8 मिलीग्राम और 18 मिलीग्राम आयरन लेना चाहिए। जबकि गर्भवती महिलाओं के लिए रोजाना 27 मिलीग्राम आयरन जरूरी होता है। कहने की बात यह है कि अगर आयरन का स्तर शरीर में कम होने लगता है कि कम उम्र में बालों के सफेद होने की समस्या होने लगती है। इसीलिए आयरन युक्त आहार को अपनी डाइट में जगह जरूर दें।

मशरूम

मशरूम स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी है। संभवतः ज्यादातर लोगों को मशरूम का स्वाद पसंद न हो, लेकिन अगर आपको अपने बालों को सफेद होने से रोकता है तो मशरूम जरूर खाएं। मशरूम में कई तरह के ऐसे तत्व होते हैं जो बालों को प्राकृतिक रूप से काला बनाए रखता है। 

(और पढ़ें - सफेद बालों को काला करने के लिए तेल)

ब्रोकली

हरी पत्तेदार सब्जियों की तरह ब्रोकली भी फोलिक एसिड का अच्छा स्रोता है। हालांकि यही माना जाता है कि फोलिक एसिड केवल गर्भवती महिलाओं के लिए जरूरी है। जबकि अन्य लोगों के लिए भी यह उपयोगी है। जैसा कि पहले ही जिक्र किया गया  है कि यह बालों को कम उम्र में सफेद होने से रोकता है। ब्रोकली की ही तरह अपनी डाइट में मटर, दाल भी शामिल करें।

उम्र बढ़ने के साथ बालों का सफेद होना आम बात है। लेकिन हार्मोन में असंतुलन, तनाव की वजह से भी बालों का झड़ना और समय पूर्व बालों का सफेद होने जैसी समस्या भी बढ़ गई है। इसी तरह अगर आप बालों में ब्लीच या अन्य रासायनिक तत्वों का इस्तेमाल करते हैं, तब भी बाल सफेद हो सकते हैं। अगर किसी के पैरेंट्स के बाल युवावस्था में सफेद हो गए हैं तो उनके बालों के सफेद होने की आशंका ज्यादा होती है। हां, अपनी डाइट में यहां बताई गई चीजों को शामिल कर इस तरह की समस्या से बच सकते हैं।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए)

और पढ़ें ...