myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

किसी भी लड़की या महिला की मेकअप किट का सबसे अहम हिस्सा शायद लिपस्टिक ही है क्योंकि कोई भी मेकअप किट एक या कई, विभिन्न रंगों और ब्रैन्ड्स की लिपस्टिक के बिना पूरी नहीं होती। इसमें कोई शक नहीं कि लिपस्टिक आपके होंठ और चेहरे की खूबसूरती को कई गुणा बढ़ाने में मदद करती है। लिपस्टिक आपके व्यक्तित्व में ग्लैमर ऐड करने का काम करती है लेकिन किस कीमत पर? क्या आप जानती हैं कि इस खूबसूरत सी दिखने वाली लिपस्टिक के कई गंभीर दुष्प्रभाव भी हैं।

(और पढ़ें - मेकअप लगाने के फायदे और नुकसान)

आपकी फेवरिट लिपस्टिक विभिन्न केमिकल जैसे लेड, क्रोमियम आदि से बनी होती है। ये सभी केमिकल आपके होंठों की प्राकृतिक चमक और सुंदरता को कम करने के साथ ही आपकी सेहत को भी कई तरह से नुकसान पहुंचाते हैं। यही नहीं अक्सर हम खाने और पेय पदार्थों के साथ लिपस्टिक के कुछ अंश का भी सेवन कर लेते हैं। इसलिए, आपके लिए यह जानना बेहद जरूरी है कि आपकी लिपस्टिक आपको और आपके स्वास्थ्य को कैसे नुकसान पहुंचा सकती है। 

(और पढ़ें - रोज मेकअप करना सेहत के लिए हो सकता है हानिकारक)

इस आर्टिकल में हम आपको लिपस्टिक के कारण सेहत को होने वाले नुकसान के साथ ही यह भी बताएंगे कि कभी-कभार और कम मात्रा में लिपस्टिक लगाना आपके होंठों के लिए कैसे फायदेमंद हो सकता है और इसे लगाने का सही तरीका क्या है।

  1. लिपस्टिक लगाने के नुकसान - Lipstick lagane ke nuksan
  2. लिपस्टिक से होने वाले नुकसान से कैसे बचें? - Lipstick ke nuksan se kaise bache?
  3. लिपस्टिक लगाने के फायदे - Lipstick lagane ke fayde
  4. लिपस्टिक लगाने का सही तरीका - Lipstick lagane ka sahi tarika

लिपस्टिक में पाए जाने वाले हानिकारक केमिकल्स की वजह से होंठ और आसपास की त्वचा में एलर्जी, जलन और झनझनाहट भी हो सकती है। इसके अलावा कई हानिकारक केमिकल्स और मेटल्स तो ऐसे हैं जिनसे कैंसर तक होने का खतरा रहता है। लिपस्टिक में मौजूद प्रिसर्वेटिव्स या परिरक्षक अगर स्वीकार्य स्तर से अधिक हों तो व्यक्ति को निम्नलिखित नुकसान हो सकते हैं: 

  1. पेट में ट्यूमर और किडनी फेलियर का खतरा - Tumour aur kidney failure ka khatra
  2. ब्रेन के विकास पर प्रतिकूल असर - Brain ke vikas par bura asar
  3. लिपस्टिक से कैंसर का खतरा - Lipstick se cancer ka khatra
  4. तंत्रिका तंत्र के लिए हानिकारक है लेड - Nervous system ke liye nuksandeh hai lead
  5. शरीर में टॉक्सिन्स का जमाव बढ़ता है - Toxins ke jama hone ka khatra
  6. लिपस्टिक के डिब्बे में होता है हानिकारक बीपीए - Lipstick ke container me bpa
  7. गर्भवती महिलाओं के लिए नुकसानदेह है लिपस्टिक - Pregnant ladies ke liye lipstick nuksandeh
  8. त्वचा के रोमछिद्र को बंद कर देता है - Skin ke pores ho jate hain band

पेट में ट्यूमर और किडनी फेलियर का खतरा - Tumour aur kidney failure ka khatra

लिपस्टिक में कैडमियम, मैग्नीशियम और क्रोमियम जैसे भारी धातु पाए जाते हैं और इन सभी धातुओं की वजह से शरीर के अंगों को नुकसान हो सकता है और कई खतरनाक बीमारियां भी हो सकती हैं। अगर लिपस्टिक में कैडमियम की मात्रा अधिक हो तो इसकी वजह से किडनी फेलियर का खतरा हो सकता है। इसके अलावा बार-बार और अधिक मात्रा में लिपस्टिक का इस्तेमाल करने से पेट में ट्यूमर का गंभीर खतरा भी हो सकता है।

(और पढ़ें - ट्यूमर और कैंसर में क्या अंतर है जानें)

ब्रेन के विकास पर प्रतिकूल असर - Brain ke vikas par bura asar

लेड की ही तरह लिपस्टिक का एक और कॉमन इन्ग्रीडिएंट है पेट्रोकेमिकल्स जो बहुत सी लिपस्टिक में पाया जाता है और इसका भी शरीर पर कई तरह से दुष्प्रभाव देखने को मिलता है। पेट्रोकेमिकल्स एंडोक्राइन डिसरप्शन यानी अंतःस्रावी व्यवधान का कारण बनती हैं जिसकी वजह से विकास, वृद्धि, प्रजनन और बुद्धि में बाधा आ सकती है।

(और पढ़ें - न्यूरोएंड्रोक्राइन ट्यूमर क्या है)

लिपस्टिक से कैंसर का खतरा - Lipstick se cancer ka khatra

लिपस्टिक में फॉर्मलडेहाइड और पैराबीन्स जैसे प्रिसर्वेटिव्स या परिरक्षक पाए जाते हैं जिन्हें कैंसरकारी माना जाता है। जिन लिपस्टिक्स में इस तरह के प्रिजर्वेटिव्स होते हैं उनके इस्तेमाल से त्वचा में जलन और उत्तेजना, सांस लेते वक्त घरघराहट की आवाज, खांसी और आंखों में खुजली जलन की समस्या हो सकती है। इतना ही नहीं लिपस्टिक के नियमित रूप से और अधिक इस्तेमाल के कारण कैंसर का भी खतरा हो सकता है।

तंत्रिका तंत्र के लिए हानिकारक है लेड - Nervous system ke liye nuksandeh hai lead

आपको जानकर हैरानी होगी कि ज्यादातर लिपस्टिक में पाया जाने वाला कॉमन घटक है लेड यानी सीसा जो बेहद हानिकारक होता है और यह भविष्य में आपकी सेहत को इस कदर नुकसान पहुंचा सकता है जिसे ठीक नहीं किया जा सकता। लेड न्यूरोटॉक्सिन होता है जिसका शरीर के नर्वस सिस्टम (तंत्रिका तंत्र) पर हानिकारक असर होता है। लेड की वजह से ब्रेन डैमेज, हार्मोनल असंतुलन और बांझपन (इन्फर्टिलिटी) का भी खतरा हो सकता है।

(और पढ़ें - लेड या सीसा विषाक्तता क्या है)

शरीर में टॉक्सिन्स का जमाव बढ़ता है - Toxins ke jama hone ka khatra

लिपस्टिक को ज्यादातर महिलाएं हर वक्त लगाकर रखती हैं, यहां तक खाना खाते वक्त भी और कई बार गलती से लिपस्टिक खाने के साथ शरीर के अंदर भी चली जाती है। इस कारण लिपस्टिक में मौजूद विषाक्त पदार्थ (टॉक्सिन्स) समय के साथ शरीर में जमा होने लगते हैं और विषाक्तता का कारण बनते हैं। इन धातुओं का सेवन उनकी स्वीकृत दैनिक खपत (ADI) की सीमा का 20 प्रतिशत से अधिक है।

लिपस्टिक के डिब्बे में होता है हानिकारक बीपीए - Lipstick ke container me bpa

लिपस्टिक के करीब 95 प्रतिशत डिब्बों (ऑर्गैनिक और केमिकल फ्री होने का दावा करने वाली लिपस्टिक के डिब्बे भी) में बीपीए पाया जाता है और यह केमिकल बड़ी आसानी से डिब्बे से लिपस्टिक तक पहुंच जाता है। बीपीए बेहद हानिकारक माना जाता है जिसकी वजह से बांझपन (फर्टिलिटी से जुड़ी समस्याएं), जन्मजात दोष और कैंसर तक का खतरा हो सकता है। बीपीए एक्सपोजर की वजह से ब्रेस्ट कैंसर और पीसीओडी का भी खतरा हो सकता है। 71 महिलाओं पर की गई क्रॉस-सेक्शनल स्टडी में पीसीओडी की मरीजों में बीपीए का अधिक लेवल पाया गया था।

(और पढ़ें- कॉस्मेटिक्स के कारण स्किन एलर्जी तो करें ये घरेलू उपचार)

गर्भवती महिलाओं के लिए नुकसानदेह है लिपस्टिक - Pregnant ladies ke liye lipstick nuksandeh

लिपस्टिक में पाया जाने वाला लेड या सीसा का कोई भी स्तर सुरक्षित नहीं माना जाता खासकर जब गर्भवती महिलाओं की बात आती है क्योंकि गर्भवती महिला गर्भ में पल रहे अपने बच्चे को लेड पॉइजनिंग की समस्या हस्तांतरित कर सकती है। इतना ही नहीं, आपके शरीर में बहुत अधिक सीसा गर्भपात के जोखिम को बढ़ाता है या समय से पहले लेबर की समस्या का कारण बन सकता है। साथ ही यह अजन्मे बच्चे के मस्तिष्क, गुर्दे और तंत्रिका तंत्र के विकास को भी नुकसान पहुंचा सकता है।

त्वचा के रोमछिद्र को बंद कर देता है - Skin ke pores ho jate hain band

लिपस्टिक में पाया जाने वाला मिनरल ऑयल जो उसे चमक देने का काम करता है, स्किन के पोर्स यानी रोमछिद्र को बंद कर देता है जिसकी वजह से होंठ में दरार आ जाती है, होंठ फट जाते हैं और कई तरह की एलर्जी और इरिटेशन की भी समस्या हो सकती है।

लिपस्टिक के इतने सारे नुकसान के बारे में जानकर आप भी यही सोच रही होंगी कि आपको इसका इस्तेमाल भूल से भी नहीं करना चाहिए। लेकिन हम आपको कुछ टिप्स बता रहें जिसका इस्तेमाल कर आप कभी-कभार लिपस्टिक लगा सकती हैं और इससे सेहत को कोई नुकसान भी नहीं होगा:

  • लिपस्टिक को अपने होंठों पर लगाने से पहले होंठ पर पेट्रोलियम जेली लगा लें। ऐसा करने से लिपस्टिक में मौजूद हानिकारक केमिकल्स के प्रभावों को कम किया जा सकता है।
  • लिपस्टिक मेकअप प्रॉडक्ट है इसलिए इसे सिर्फ विशेष अवसरों पर ही इस्तेमाल करने के लिए रखें और रोजाना या नियमित रूप से लिपस्टिक का इस्तेमाल न करें।
  • डार्क शेड या गहरे रंग की लिपस्टिक में भारी धातुओं की मात्रा अधिक हो सकती है इसलिए जहां तक संभव हो लाइट शेड वाली लिपस्टिक का ही इस्तेमाल करें।
  • लिपस्टिक खरीदते वक्त उसके इन्ग्रीडिएंट्स को भी जरूर पढ़ें, वह किस चीज से बनी है, उसमें कौन सा केमिकल कितनी मात्रा में है, इन सब बातों की जानकारी लेने के बाद जहां तक संभव हो ऑर्गैनिक और नैचरल लिपस्टिक ही खरीदें।
  • लिपस्टिक को बहुत देर तक लगाकर न रखें और खासकर सोने से पहले तो लिपस्टिक को जरूर हटा लें और इसके लिए एक अच्छे मेकअप रिमूवर का इस्तेमाल करें।

(और पढ़ें - त्वचा को नुकसान से बचाएं, मेकअप हटाने के ये प्राकृतिक तरीके अपनाएं)

लिपस्टिक बीते कई दशकों से मेकअप का सबसे लोकप्रिय हिस्सा रही है। ऊपर हमने आपको लिपस्टिक में पाए जाने वाले केमिकल्स की वजह से होने वाले नुकसानों के बारे में बताया है लेकिन, क्या आप जानती हैं कि आपकी सुंदरता को बढ़ाने के अलावा लिपस्टिक के कुछ और फायदे भी हैं:

  • लिपस्टिक हमारे होठों के लिए एक सुरक्षात्मक कवर या बचाव का काम करती है। विशेष रूप से सर्दी के मौसम में ठंडी हवा से हमारे होंठों की रक्षा करती है लिपस्टिक। विशेष रूप से ऐसी लिपस्टिक चुनें जिसमें प्राकृतिक तेल की सही मात्रा पायी जाती हो ताकि आपके होंठों को सही मात्रा में जरूरी नमी मिल सके।
  • होंठों की त्वचा शरीर के बाकी हिस्सों की त्वचा से अलग होती है क्योंकि इसमें मेलेनिन कम होता है। मेलेनिन एक ऐसा पिग्मेंट है जो सूरज की रोशनी से होने वाले नुकसान से स्किन को बचाता है, इसलिए होंठ सूरज की रोशनी से क्षतिग्रस्त हो सकते हैं। लिपस्टिक में मौजूद एसपीएफ सूरज की किरणों के खिलाफ होंठों पर सुरक्षात्मक लेयर बनाने का काम करती है।
  • लिपस्टिक आपकी मुस्कान को खूबसूरत और चमकदार बनाने में मदद करती है। अगर आप अपनी मुस्कान को बेहतर बनाने के लिए लिपस्टिक लगा रही हैं तो आपको बहुत अधिक गहरे रंग की लिपस्टिक लगाने से बचना चाहिए।
  • लिपस्टिक लगाने के मनोवैज्ञानिक लाभ भी हैं। लिपस्टिक लगाने वाली महिलाएं आमतौर पर अधिक आत्मविश्वास और शक्तिशाली महसूस करती हैं और वास्तव में दूसरे लोग भी उन्हें आत्मविश्वास से भरपूर मानते हैं। इतना ही नहीं, लिपस्टिक लगाने से आपका उत्साह और जोश भी बढ़ता है।

आपके लुक को और बेहतर बनाने का एक मजेदार तरीका है लिपस्टिक जो आपकी स्टाइल को भी व्यक्त करने का काम करता है। लेकिन लिपस्टिक लगाना कई बार पेचीदा काम हो सकता है। अगर गलत तरीके से लगाया जाए तो लिपस्टिक असमान दिख सकती है और जल्द ही फीकी पड़ने लगती है। ऐसे में लिपस्टिक लगाने का सही तरीका क्या है, जानें:

1. लिपस्टिक लगाने से पहले होंठों पर लिप बाम या पेट्रोलियम जेली की बारीक लेयर लगाएं ताकि आपके होठों को पोषण मिले और वे शुष्क और परतदार न बनें। वैसे तो लिप बाम को लगाते ही सूख जाना चाहिए लेकिन अगर लिप्स पर ज्यादा लिप बाम दिख रहा हो तो टीशू पेपर की मदद से अतिरिक्त लिप बाम को धीरे से पोंछ दें। (और पढ़ें- वैसलीन के फायदे)

2. अब एक लिप पेंसिल की मदद से होंठों को पेंसिल से ट्रेस कर लें। ऐसा करने से होंठों को सही आकार मिलता है और होंठ सही तरीके से परिभाषित होते हैं।

3. मुस्कुराइए ताकि लिपस्टिक ऐप्लिकेशन एक समान हो। जब आप बात करती हैं या अपना मुंह घुमाती हैं तो आपकी त्वचा स्वाभाविक रूप से फैलती है, जिससे आपकी लिपस्टिक असमान नजर आ सकती है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि यह समान रूप से होंठों पर लगी है, लिपस्टिक लगाते समय थोड़ा मुस्कुराएं।

4. लिपस्टिक को होंठ के सेंटर से लगाना शुरू करें और फिर होंठ के कोने तक लेकर जाएं।

(और पढ़ें - होंठों का कालापन दूर करने के उपाय)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें