myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

सर्वाइकल दर्द एक तरह का गर्दन का दर्द है, जिसमें दर्द के दौरान व्यक्ति असहज हो जाता है इसमें बेचैनी, मांसपेशियों में दर्द, नसें, रीढ़ की हड्डी, जोड़ों और रीढ़ की हड्डी के बीच की डिस्क प्रभावित होना शामिल हैं। सर्वाइकल दर्द गर्दन में कहीं भी उठ सकता है, सिर के आधार से लेकर कंधे के ऊपरी भाग तक और फिर यह पीठ के ऊपरी हिस्से या भुजाओं तक भी फैल सकता है।

यह बहुत आम समस्या है, विशेष रूप से 50 वर्ष से ऊपर के लोगों में। सर्वाइकल का दर्द आमतौर पर कुछ दिनों के अंदर ठीक हो जाता है और बहुत ही कम मामलों में यह गंभीर रूप होता है। यदि लक्षण तीन महीने से अधिक समय तक बने रहते हैं, तो इसे क्रोनिक नेक पेन कहते हैं।

गर्दन के दर्द के सबसे सामान्य कारणों में अजीब स्थिति में सोना, लंबे समय तक गर्दन का गलत अवस्था में रहना, तनाव, मांसपेशियों में खिंचाव और रूमेटाइड आर्थराइटिस शामिल हैं। सर्वाइकल दर्द से जुड़ी कुछ दुर्लभ चिकित्सा समस्याओं में डिस्क में चोट आना, कैंसर, रीढ़ का संक्रमण, मेनिन्जाइटिस यानी दिमागी बुखार, रीढ़ की हड्डी में सूजन, रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर, ऑस्टियोपोरोसिस और फाइब्रोमायल्जिया जैसे रोग शामिल हैं। सर्वाइकल दर्द के प्रमाणित उपचार में दर्द निवारक दवाइयां, गर्म या ठंडी चीज से सिकाई, गर्दन के लिए विशेष व्यायाम और पर्याप्त व उचित तरह से नींद लेना शामिल हैं।

होम्योपैथी एक ऐसा उपचार है, जिसका उद्देश्य किसी व्यक्ति में सिर्फ लक्षणों को ठीक करना ही नहीं, बल्कि उसे जड़ से खत्म करना और संपूर्ण स्वास्थ को ठीक करना है। होम्योपैथिक चिकित्सक व्यक्ति की शारीरिक व मानसिक स्थिति के साथ-साथ उसकी मेडिकल हिस्ट्री और बीमार होने की प्रवृत्ति के आधार पर दवा निर्धारित करते हैं। यही वजह है कि भले एक से ज्यादा व्यक्तियों में एक जैसी बीमारी व लक्षण हों, लेकिन होम्योपैथी दवा इन सभी मरीजों पर एक जैसा असर नहीं करती हैं।

सर्वाइकल दर्द के इलाज के लिए जिन होम्योपैथी दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है, उनमें एकोनिटम नेपेलस, बेलाडोना, सिमिसिफ्यूगा रेसमोसा, कोनियम मैक्यूलैटम, जेल्सेमियम सेपरविरेंस, गुआजैकम ऑफिसिनेल, हाइपरिकम पेर्फोराटम, जगलैंस सिनेरिया और रस टॉक्सीकोडेंड्रम शामिल हैं।

  1. सर्वाइकल दर्द की होम्योपैथिक दवा - Cervical dard ki homeopathic medicine
  2. होम्योपैथी के अनुसार सर्वाइकल दर्द के रोगियों के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - Cervical ke liye khan pan aur jeevan shaili me badlav
  3. सर्वाइकल दर्द के लिए होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - Cervical ki homeopathic medicine kitni effective hai
  4. होम्योपैथिक दवा के साइड इफेक्ट, जोखिम और सर्वाइकल दर्द के लिए उपचार - Cervical ki homeopathic medicine ke nuksan
  5. सर्वाइकल के होम्योपैथिक उपचार से संबंधित टिप्स - Cervical ke homeopathic ilaj se sambandhit tips

बेलाडोना
सामान्य नाम : 
डेडली नाइटशेड
लक्षण : यह उपाय ऐसे लोगों पर असर करता है जो अपने आप (लोगों से ज्यादा घुलना-मिलना पसंद नहीं करते हैं) में रहते हैं और लगातार बाहर निकलने की इच्छा रखते हैं। ये लोग निम्नलिखित लक्षणों का अनुभव करते हैं :

  • गर्दन में अकड़न
  • बेहोशी और मतिभ्रम (वास्तविकता और कल्पना के बीच अंतर नहीं कर पाना)
  • सूजी हुई और उभरी हुई आंखें
  • गर्दन की ग्रंथियों में सूजन
  • मानसिक स्थिति में परिवर्तन
  • होश में न रहना
  • नाक से खून आना
  • गर्दन के पीछे के भाग में ऐसे दर्द होना जैसे वह हिस्सा टूट गया हो

दोपहर में, लेटने या प्रभावित हिस्से को छूने पर यह लक्षण बिगड़ जाते हैं, लेकिन जब मरीज सेमी इरेक्ट पोजिशन (लेटने व बैठने के बीच वाली स्थिति) में बैठता है, तो इन लक्षणों में सुधार होता है।

सिमिकिफुगा रेसमोसा
सामान्य नाम : 
ब्लैक स्नेक रूट
लक्षण : यह उपाय ऐसे उदास व्यक्तियों में अच्छा काम करता है, जो लगातार बात करते रहते हैं। निम्न लक्षणों का इलाज सिमीसिफुगा रेसमोसा से किया जा सकता है :

  • मतिभ्रम व झटके लेना
  • प्रभावित हिस्से को छूने पर दर्द होना
  • गर्दन में अकड़न और ऐंठन
  • आंखों में तेज दर्द
  • गर्दन की मांसपेशियों में बिजली के झटके जैसा दर्द

यह लक्षण ठंड के मौसम में, सुबह और महिलाओं में पीरियड्स के दौरान बिगड़ जाते हैं। रोगी के खाने या प्रभावित हिस्से पर गर्म सिकाई करने पर सभी शिकायतें कम हो जाती हैं।

कोनियम मैक्यूलेटम
सामान्य नाम : 
पॉइजन हेमलॉक
लक्षण : यह उपाय उन लोगों में अच्छा असर करता है, जो भयभीत रहते हैं और अकेले रहना पसंद नहीं करते हैं। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक करने में सहायक है :

  • याददाश्त कमजोर होना
  • कंधों के बीच दर्द होना
  • मानसिक और शारीरिक कमजोरी
  • चक्कर आना, विशेष रूप से किसी एक तरफ सिर को झुकाने या बिस्तर पर लेटने पर
  • रोशनी न पसंद करना और आंखों से पानी आना

यह लक्षण अत्यधिक थकान, लेटने, मासिक धर्म के दौरान व इससे पहले बिगड़ जाते हैं। लेकिन अंधेरे में रहने, प्रभावित हिस्से पर दबाव डालने से इन लक्षणों में सुधार होता है।

जेल्सेमियम सेपरविरेंस
सामान्य नाम :
 येलो जैस्मिन
लक्षण : इस उपाय से निम्न लक्षणों वाले रोगी भी लाभान्वित होते हैं :

  • गर्दन में अत्यधिक दर्द
  • चक्कर आना और ऊंघाई
  • चक्कर
  • मांसपेशियों में कमजोरी
  • सिर में भारीपन
  • मांसपेशियों के तालमेल में कमी
  • धुंधला दिखाई देना
  • मांसपेशियों में चोट जैसा अहसास होना
  • पीठ के निचले हिस्से में धीमा दर्द होना जो धीरे-धीरे ऊपर की ओर बढ़ता है

यह लक्षण नम मौसम में आंधी तूफान आने से पहले, धूम्रपान करने पर और बीमारी के बारे में ज्यादा सोचने पर खराब होते हैं, जबकि खुली हवा में रहने और पर्याप्त मात्रा में पेशाब करने पर इन लक्षणों में सुधार होता है।

गुआजैकम ऑफिसिनेल
सामान्य नाम : 
रेजिन ऑफ लिग्नम वाइटे
लक्षण : इस उपाय का इस्तेमाल अक्सर निम्नलिखित लक्षणों को संबोधित करने के लिए किया जाता है :

  • सिर से गर्दन तक दर्द
  • कंधे के बीच और सिर के पीछे वाले हिस्से में चुभन वाला दर्द
  • गर्दन में अकड़न
  • गर्दन की मांसपेशियों में दर्द

ठंड, बरसात के मौसम में और प्रभावित हिस्से को छूने पर लक्षण बिगड़ जाते हैं, लेकिन दबाव डालने से सभी शिकायतों में सुधार होता है।

हाइपेरिकम पेर्फोराटम
सामान्य नाम : 
सेंट जॉन-वॉर्ट
लक्षण : हाइपेरिकम उन व्यक्तियों को दिया जाता है, जिनमें निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं :
ऐसा लगना मानो जैसे सिर ऊंचा या हवा में ऊपर उठा लिया गया हो

  • चेहरे के दाहिने हिस्से में दर्द
  • सिर में भारीपन
  • जी मिचलाना
  • कंधे में चुभन वाला दर्द
  • गर्दन की नस में दर्द
  • गर्दन की मांसपेशियों में मरोड़
  • हाथों और पैरों में झनझनाहट

नम, ठंडे वातावरण में और प्रभावित हिस्से को छूने पर यह लक्षण बिगड़ जाते हैं जबकि सिर को पीछे की ओर झुकाने में यह लक्षण ठीक हो जाते हैं।

जगलैंस सिनेरिया
सामान्य नाम : 
बटरनट
लक्षण : इस उपाय से निम्नलिखित लक्षणों को ठीक करने में मदद मिलती है :

  • गर्दन के ऊपरी और पिछले हिस्से में तेज दर्द
  • मुंह और गले में कड़वा स्वाद
  • गर्दन में अकड़न
  • सिर बढ़ने जैसा अहसास होना
  • ब्रेस्टबोन में दर्द
  • कंधे की हड्डी के बीच का दर्द

चलने से यह लक्षण बिगड़ जाते हैं और व्यायाम करने व सुबह के समय में इन लक्षणों में सुधार होता है।

रस टॉक्सीकोडेंड्रम
सामान्य नाम : 
पॉइजन-आईवी
लक्षण : इस उपाय का असर ऐसे लोगों में अच्छा होता है जो बेचैन रहते हैं, जिन्हें अक्सर सुसाइड करने का विचार आता है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों के इलाज में भी मदद करता है :

  • कुछ भी सोचने और फोकस करने में असमर्थता
  • चक्कर आना
  • चेहरे पर सूजन
  • सिर में भारीपन
  • चबाने पर जबड़े में दर्द होना
  • भोजन करने पर कंधों में दर्द
  • गर्दन की मांसपेशियों में दर्द और जकड़न

यह लक्षण सर्दी और बरसात के मौसम में, सोते या आराम करते समय, पीठ या दाईं ओर लेटने पर बिगड़ जाते हैं। जब​​कि बाहों को फैलाने, जगह बदलने और गर्म सिकाई से राहत मिलती है।

(और पढ़ें - सर्वाइकल दर्द का आयुर्वेदिक इलाज)

होम्योपैथिक दवाइयां हमेशा घुलनशील रूप में तैयार की जाती हैं। एक होम्योपैथिक डॉक्टर मरीजों को निम्नलिखित जीवन शैली में बदलाव का सुझाव देते हैं, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उपचार उन पर सटीक तरीके से कार्य करेगा :

क्या करना चाहिए

क्या नहीं करना चाहिए

  • कॉफी, चाय, बियर और औषधीय गुणों से युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें।
  • अत्यधिक मसालेदार भोजन, आइस-क्रीम, जड़ी-बूटियां, प्याज, अजवाइन, लहसुन, बासी पनीर और मांस न खाएं।
  • ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन न करें जो बहुत नमकीन या मीठे हों।
  • तेज सुगंध वाले इत्र का उपयोग करने से बचें।
  • लंबी अवधि तक एक ही मुद्रा में बैठने से बचें।
  • एयर कंडीशनिंग या हीटर का इस्तेमाल न करें।

सर्वाइकल के रोगियों के लिए होम्योपैथिक दवाएं रोगनिवारक दवाओं की तरह काम करती हैं। कुछ अध्ययनों से पता चला कि इन उपायों से चिकित्सीय लाभ होते हैं।

एक केस स्टडी की गई, जिसमें सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस के 10 रोगियों को शामिल किया गया। इसमें पता चला कि होम्योपैथी गर्दन के दर्द, गर्दन की जकड़न और चक्कर से राहत दिलाने में सहायक है।

होम्योपैथी दवाएं न केवल दर्द का प्रबंधन करती हैं, बल्कि अंतर्निहित कारण को भी जड़ से खत्म करती हैं, ताकि यह स्थिति दोबारा प्रभावित न कर सके। यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है, जिससे शरीर अपने आप बीमारियों से लड़ने में सक्षम हो जाता है। इसके अलावा ये दवाएं सभी उम्र के लोगों में उपयोग करने के लिए सुरक्षित हैं क्योंकि वे प्राकृतिक स्रोतों से तैयार की जाती हैं।

इसी संबंध में एक अध्ययन किया गया, जिसमें 65 वर्षीय ऐसी महिला को शामिल किया गया, जिसके गर्दन के दाईं तरफ दर्द था। इस अध्ययन में होम्योपैथिक दवाओं ने सकारात्मक असर किया और सफलतापूर्वक इलाज किया। जबकि एक अन्य अध्ययन में, 45 वर्षीय महिला जिसे अवसाद और फाइब्रोमाइल्गिया के कारण गर्दन में दर्द की समस्या थी, उसके लक्षणों को ठीक करने के लिए कैल्केरिया कार्बोनिका नामक होम्योपैथिक दवाई दी गई। अध्ययन के अंत में पता चला कि महिलाओं को इलाज के तीन महीने के अंदर दर्द से छुटकारा मिल गया।

(और पढ़ें - गर्दन में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज)

होम्योपैथिक दवाइयां प्राकृतिक पदार्थों से बनाई जाती हैं, जिन्हें उपयोग करने से पहले घुलनशील रूप दिया जाता है और इसी वजह से इन दवाइयों का कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। हालांकि, प्रमाणित और होम्योपैथिक दवाओं के असर को लेकर कोई खास जानकारी नहीं है, लेकिन सर्वाइकल दर्द के इलाज के लिए होम्योपैथिक उपचार सहायक के रूप में कार्य कर सकता है।

हालांकि, सही उपाय का चयन करने के लिए प्रमाणित होम्योपैथिक चिकित्सक से परामर्श लेना महत्वपूर्ण है। क्योंकि, होम्योपैथिक उपचार एक जैसी बीमारी वाले व्यक्तियों में एक जैसा असर नहीं करती है।

(और पढ़ें - गर्दन में दर्द की होम्योपैथिक दवा)

सर्वाइकल दर्द या गर्दन में दर्द होने से काफी असुविधा होती है। यह एक आम समस्या है, जो मुख्य रूप से अधिक उम्र के लोगों में देखी जाती है। दुर्लभ मामलों में, फाइब्रोमायल्जिया, टूटी हुई डिस्क या रीढ़ के संक्रमण की वजह से गर्दन में दर्द हो सकता है।

होम्योपैथिक उपचार का उद्देश्य प्रत्येक रोगी की शारीरिक, बौद्धिक और मानसिक स्थिति का अध्ययन करके बीमारी की जड़ तक पहुंचना है। होम्योपैथिक उपचार प्राकृतिक पदार्थों से बने होते हैं। इसलिए इन्हें सुरक्षित और प्रभावी माना जाता है। यदि इन दवाइयों को अनुभवी चिकित्सक की सलाह के अनुसार लिया जाए तो यह उपाय न केवल गर्दन के दर्द को कम करता है, बल्कि दोबारा बीमारी के जोखिम को खत्म कर देता है।

और पढ़ें ...

References

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Neck pain
  2. Nidirect [Internet]. Government of Northern Ireland; Neck pain and stiff neck
  3. [Internet]. Cologne, Germany: Institute for Quality and Efficiency in Health Care (IQWiG); 2006. 2010 Aug 24 Neck pain: Overview.
  4. Health on the Net Foundation. Neck pain. Australia; [internet]
  5. Versus Arthritis. Neck pain. UK; [internet]
  6. William Boericke. Homoeopathic Materia Medica. Kessinger Publishing: Médi-T 1999, Volume 1
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें