ड्राई स्कैल्प - Dry Scalp in Hindi

Dr. Apratim GoelMBBS,MD,DNB

August 17, 2022

August 17, 2022

ड्राई स्कैल्प
ड्राई स्कैल्प

जिस तरह सभी लोगों की स्किन टाइप अलग-अलग होती है, उसी तरह स्कैल्प की स्किन भी अलग-अलग होती है. कुछ लोगों के स्कैल्प की स्किन ऑयली होता है, तो किसी की ड्राई होती है. ड्राई स्कैल्प के पीछे मुख्य कारण पानी कम पीना, मौसम में बदलाव या फिर एटॉपिक डर्मेटाइटिस जैसे संक्रमण को माना गया है. इस स्थिति में स्कैल्प पर खुजली, रेडनेस और जलन महसूस हो सकती है. ऐसे में पर्याप्त पानी पीने और साफ-सफाई का ध्यान रखकर ड्र्राई स्कैल्प की समस्या को कम किया जा सकता है.

आज इस लेख में आप ड्राई स्कैल्प के लक्षण, कारण व इलाज के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - ड्राई हेयर के लिए आयुर्वेदिक शैम्पू)

ड्राई स्कैल्प क्या है? - What is Dry Scalp in Hindi

ड्राई स्कैल्प यानी सिर की त्वचा में रूखापन होना. स्कैल्प ड्राई तब होती है, जब स्कैल्प में पर्याप्त नमी (ऑयल) नहीं होती है. ड्राई स्कैल्प में अक्सर खुजली हो सकती है, डैंड्रफ देखने को मिल सकता है. साथ ही ड्राई स्कैल्प बालों के झड़ने का कारण भी बन सकता है. आमतौर पर बदलता मौसम भी ड्राई स्कैल्प का कारण बन सकता है. ड्राई स्कैल्प को नमी की जरूरत होती है, इसके लिए ऑयलिंग की जा सकती है. ऑयलिंग करने से ड्राई स्कैल्प और बालों से छुटकारा मिल सकता है.

(और पढ़ें - सिर में खुजली की होम्योपैथिक दवा)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Urjas Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को सेक्स समस्याओं के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Long time capsule
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

ड्राई स्कैल्प के लक्षण - Dry Scalp Symptoms in Hindi

जिन लोगों की स्कैल्प ड्राई होती है, वे कुछ लक्षण महसूस कर सकते हैं. ड्राई स्कैल्प, डैंड्रफ का भी एक लक्षण हो सकता है. ड्राई स्कैल्प के लक्षण इस प्रकार हैं -

  • पपड़ीदार स्कैल्प
  • स्कैल्प पर खुजली
  • स्कैल्प पर रेडनेस
  • डैंड्रफ होना
  • परतदार त्वचा
  • स्कैल्प पर जलन

(और पढ़ें - सिर में खुजली के लिए घरेलू उपाय)

ड्राई स्कैल्प के कारण - Dry Scalp Causes in Hindi

स्कैल्प ड्राई तब हो सकती है, जब त्वचा की कोशिकाओं को नैचुरल नमी नहीं मिल पाती है. इसके अलावा, कई अलग-अलग चीजें भी स्कैल्प को ड्राई बना सकती हैं. ड्राई स्कैल्प के निम्न कारण हो सकते हैं -

बार-बार बाल धोना

ज्यादा बार बाल धोने से स्कैल्प ड्राई हो सकती है. दरअसल, अधिक बार बाल धोने से स्कैल्प से नैचुरल ऑयल निकल जाता है, इससे स्कैल्प ड्राई हो जाती है. इसलिए, स्कैल्प में नमी को बनाए रखने के लिए अधिक बार बाल धोने से बचना चाहिए. घने बालों को सप्ताह में एक बार धोया जा सकता है. वहीं, जिन लोगों के बाल अच्छे हैं, वे हफ्ते में 2-3 दिन बाल धो सकते हैं. इसके साथ ही गर्म पानी से बाल धोने से भी स्कैल्प ड्राई हो सकती है. गर्म पानी स्किन से नमी को कम कर देता है और रूखेपन को बढ़ा सकता है.

(और पढ़ें - सिर में फंगल इन्फेक्शन)

हेयर प्रोडक्ट्स

अगर बालों को धोने के बाद, खुजली होने लगती है, तो यह समस्या प्रोडक्ट्स की वजह से हो सकती है. दरअसल, कई बार बालों में कुछ खास शैंपू व कंडीशनर आदि का इस्तेमाल करने से ड्राइनेस हो सकती है. कई बार लोग ऐसे हेयर केयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल कर लेते हैं, जो स्कैल्प से नैचुरल ऑयल को छीन लेते हैं. इससे स्कैल्प पर ड्राइनेस बढ़ने लगती है और खुजली होने लगती है.

(और पढ़ें - रूसी का होम्योपैथिक इलाज)

मौसम में बदलाव

मौसम में बदलाव भी ड्राई स्कैल्प का एक कारण हो सकता है. सर्दियों के मौसम में अधिकतर लोगों को ड्राई स्कैल्प का सामना करना पड़ता है. दरअसल, सर्दियों में हवा में नमी कम हो जाती है. इसकी वजह से त्वचा और स्कैल्प ड्राई होने लगती है. इसलिए, सर्दी के मौसम में बालों और स्कैल्प में नमी बनाए रखने की पूरी कोशिश करनी चाहिए.

(और पढ़ें - तैलीय बालों की देखभाल)

पानी न पीना

पर्याप्त मात्रा में पानी न पीने की वजह से भी स्कैल्प ड्राई हो सकती है. जब पानी नहीं पिया जाता है, तो नमी कम होने लगती है. इससे धीरे-धीरे त्वचा और स्कैल्प रूखी होने लगती है. ऐसे में आपको रोजाना 8-10 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए. इसके अलावा, आर्टिफिशयल हीटिंग का उपयोग करने से भी स्कैल्प पर ड्राइनेस बढ़ सकती है.

(और पढ़ें - बालों के लिए टी ट्री ऑयल के फायदे)

एटॉपिक डर्मेटाइटिस

एटॉपिक डर्मेटाइटिस को ड्राई स्कैल्प का मुख्य कारण माना जाता है. एटॉपिक डर्मेटाइटिस एक्जिमा का सबसे आम प्रकार है. बच्चों में एटॉपिक डर्मेटाइटिस के कारण स्कैल्प पर खुजली हो सकती है व स्कैल्प ड्राई बन सकती है. वहीं, वयस्कों में स्कैल्प बहुत ड्राई, रेड और चिड़चिड़ी हो जाती है.

(और पढ़ें - तैलीय बालों के लिए घरेलू उपाय)

सोरायसिस

सोरायसिस की वजह से भी स्कैल्प ड्राई हो सकती है. सोरायसिस एक पुरानी त्वचा की स्थिति है, जिसमें त्वचा की कोशिकाएं तेजी से बढ़ने लगती हैं. सोरायसिस से ग्रसित लगभग 50 प्रतिशत लोगों को स्कैल्प में सूजन का भी सामना करना पड़ता है. इंफेक्शन, चोट या दवाइयां सोरायसिस को ट्रिगर कर सकते हैं. स्कैल्प सोरायसिस के लक्षण हो सकते हैं -

  • स्कैल्प पर धब्बे (काली त्वचा पर बैंगनी और सफेद त्वचा पर लाल धब्बे होना)
  • डैंड्रफ
  • खुजली (खुजली हल्के से लेकर तेज हो सकती है)

(और पढ़ें - बालों के लिए अलसी के बीज के फायदे)

टिनिया कैपिटिस

टिनिया कैपिटिस या दाद स्कैल्प पर होने वाला एक फंगल इंफेक्शन है. यह इंफेक्शन किसी भी व्यक्ति में आसानी से फैल जाता है. इंफेक्शन किसी व्यक्ति या जानवर से मिल सकता है. जब टिनिया कैपिटिस होता है, तो स्कैल्प ड्राई हो सकती है. इस स्थिति में स्कैल्प पर खुजली और रेडनेस महसूस हो सकती है.

(और पढ़ें - भृंगराज तेल के फायदे)

एक्टिनिक केराटोसिस

एक्टिनिक केराटोसिस भी ड्राई स्कैल्प का कारण हो सकता है. यह समस्या तब होती है, जब सूरज की हानिकारक किरणों से सिर का बचाव नहीं किया जाता है. 50 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लोगों में एक्टिनिक केराटोसिस आम है. एक्टिनिक केराटोसिस की स्थिति होने पर स्कैल्प में रूखापन हो सकता है. स्कैल्प सूखी और पपड़ीदार हो सकती है.

(और पढ़ें - बालों से रूसी हटाने के घरेलू उपाय)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Kesh Art Hair Oil बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने 1 लाख से अधिक लोगों को बालों से जुड़ी कई समस्याओं (बालों का झड़ना, सफेद बाल और डैंड्रफ) के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Bhringraj hair oil
₹425  ₹850  50% छूट
खरीदें

ड्राई स्कैल्प का इलाज - Dry Scalp Treatment in Hindi

किसी भी बीमारी का इलाज, उसके कारण पर निर्भर करता है. ड्राई स्कैल्प का इलाज भी कारण को ध्यान में रखकर ही किया जाता है -

  • कई बार पानी की कमी होने से स्कैल्प ड्राई हो जाती है. ऐसे में पर्याप्त मात्रा में पानी पीना जरूरी होता है. इसके अलावा, लिक्विड डाइट का सेवन अधिक करें.
  • बालों को बार-बार धोने से बचना चाहिए. आप सप्ताह में 1-2 बार बालों को हाइड्रेटिंग शैंपू से धो सकते हैं.
  • कैमिकल युक्त हेयर केयर प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल से बचना चाहिए. नैचुरल प्रोडक्ट्स का यूज करना चाहिए.
  • सर्दी में ड्राई स्कैल्प की समस्या बढ़ सकती है. ऐसे में हेयर ऑयलिंग करें और त्वचा में नमी बनाए रखने की कोशिश करें.
  • अच्छी नींद लें. कैफीन और शराब से परहेज करें, ये स्कैल्प को अधिक ड्राई बना सकते हैं.
  • अगर एटॉपिक डर्मेटाइटिस है, तो तनाव लेने से बचें. साथ ही सही हेयर प्रोडक्ट्स का यूज करें. पसीने से बचना भी जरूरी होता है.
  • सोरायसिस के लिए ओवर-द-काउंटर प्रोडक्ट्स ले सकते हैं. सैलिसिलिक एसिड युक्त प्रोडक्ट्स ड्राई स्कैल्प का इलाज करने में मदद कर सकते हैं.
  • अगर किसी स्वास्थ्य स्थिति के कारण स्कैल्प ड्राई होती है, तो डॉक्टर इस स्थिति में कुछ दवाइयां लिख सकते हैं. इतना ही नहीं कई बार दवाइयों के साथ ही कुछ थेरेपी और सर्जरी की मदद से भी ड्राई स्कैल्प का इलाज करना पड़ता है. इसलिए, कभी भी ड्राई स्कैल्प की समस्या को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

(और पढ़ें - बालों के पतले होने का इलाज)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Urjas Energy & Power Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को शारीरिक व यौन कमजोरी और थकान जैसी समस्या के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Power capsule for men
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

सारांश – Summary

ड्राई स्कैल्प सिर से जुड़ी एक आम समस्या है. यह किसी भी व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है. ड्राई स्कैल्प वाले लोग खुजली, रेडनेस और जलन महसूस कर सकते हैं. साथ ही स्कैल्प पर डैंड्रफ और पपड़ी भी हो सकती है. कई बार ड्राई स्कैल्प होना आम होता है, लेकिन कुछ स्थितियों में यह किसी समस्या के कारण हो सकता है. इसलिए, अगर आपको स्कैल्प पर लगातार खुजली, लालिमा और जलन हो, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.

(और पढ़ें - बालों को बढ़ाने के लिए विटामिन-ई के फायदे)



ड्राई स्कैल्प की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Dry Scalp in Hindi

ड्राई स्कैल्प के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।