myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

चीकू का वैज्ञानिक नाम मनिल्करा सपोटा (Manilkara zapota) है। चीकू की खेती सबसे पहले मैक्सिको में की गई थी लेकिन अब इसकी खेती और अन्य पड़ोसी द्वीपों में भी की जाती है। आप इस फल को संयुक्त राज्य के विभिन्न हिस्सों में भी प्राप्त कर सकते हैं।  भारत के गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक और तमिलनाडु राज्यों में इसकी खेती की जाती है। ये फल 10 इंच लंबे और 4-5 इंच चौड़े तक हो सकते हैं। इस फल का रंग भूरा होता है और आंतरिक रूप से नारंगी या गुलाबी होता है। इस फल को कई रूपों में खाया जा सकता है जैसे मिल्क शेक बनाकर, आइसक्रीम या जैली के रूप में।

हालांकि यह फल दुनिया के कई हिस्सों में व्यापक रूप से उपलब्ध नहीं है। इस फल के भीतर पोषक तत्वों का अविश्वसनीय मिश्रण पाया जाता है जो मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण और फायदेमंद होते हैं। चीकू में विटामिन बी, सी और ई, साथ ही साथ पोटेशियम, मैंगनीज और आहार फाइबर, अन्य एंटीऑक्सिडेंट्स और खनिज पाए जाते हैं।

  1. चीकू खाने के फायदे हृदय के लिए - Chiku ke Fayde for Heart Health in Hindi
  2. चीकू बेनिफिट्स करें प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार - Chikoo ke Fayde for Immune System in Hindi
  3. चीकू के लाभ हैं वजन कम करने में सहायक - Sapota Fruit for Weight Loss in Hindi
  4. चीकू के फायदे बनायें हड्डियों को मजबूत - Mamey Sapote Benefits for Bone in Hindi
  5. चीकू करें तनाव को दूर - Chiku Benefits for Stress in Hindi
  6. चीकू का सेवन करे एनर्जी के लिए - Chiku for Energy in Hindi
  7. सूजन को कम करने में उपयोगी है चीकू - Chiku Good for Inflammation in Hindi
  8. चीकू के गुण करें पाचन में मदद - Chiku Helps in Digestion in Hindi
  9. चीकू रखें रक्तचाप को नियंत्रित - Mamey Sapote Controls Blood Pressure in Hindi
  10. सापोडिला फॉर प्रेगनेंसी - Sapodilla for Pregnancy in Hindi
  11. चीकू का उपयोग त्वचा के लिए लाभकारी - Chiku Fruit Benefits for Skin in Hindi

चीकू को व्यापक रूप से हृदय के लिए स्वस्थ भोजन माना जाता है।इस फल में पोटेशियम की एक उच्च एकाग्रता होती है, जो कि एक छोटी रक्‍तवाहिकाओं को बड़ा करने वाली औषधि (vasodilator) है और रक्तचाप को प्रभावी रूप से कम करने में सक्षम है। यह हृदय पर तनाव कम कर देता है और दिल के दौरे, स्ट्रोक और एथोरोसलेरोसिस को रोक सकता है। इस फल की उच्च फाइबर सामग्री शरीर में कुल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकती है, इससे कार्डियोवास्कुलर जटिलताओं के खतरे को कम किया जा सकता है। फल में पाए जाने वाले विटामिन ई और सी ऑक्सीडेटिव तनाव और कमजोर रक्त वाहिकाओं से दिल की रक्षा कर सकते हैं। (और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के लिए खाएं ये आहार)

रिसर्च के अनुसार चीकू प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्यों में सुधार करने में बहुत अच्छा है। इसमें मौजूद शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट्स और विटामिन सीधे शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को मजबूत करते हैं। कैरोटीनॉइड और अन्य एंटीऑक्सिडेंट बाहरी तत्वों को समाप्त कर सकते हैं। इससे पुराने रोग जैसे कि कैंसर और गठिया को रोका जा सकता है।

चीकू में आहार फाइबर सामग्री काफी अधिक पाई जाती है। इसलिए यह पूर्णता की भावना पैदा कर सकता है ताकि आप भोजन के बीच नाश्ते और अतिरिक्त कैलोरी ले सकें। इसके अलावा, मैमी सैपटे में खनिज और एंटीऑक्सिडेंट चयापचय को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं। इसलिए यदि आप अपना वजन कम करने की सोच रहे हैं तो चीकू आपके लिए वजन कम करने वाले फलों में से एक है। 

(और पढ़ें – वजन कम करने के लिए नाश्ते में क्या खाएं)

चीकू में कई महत्वपूर्ण खनिज पाए जाते हैं जिसमें तांबा, कैल्शियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम और लोहा शामिल हैं। उम्र के साथ, हमारी हड्डी खनिज घनत्व (bone mineral density) कम होने लगती है। दुर्बलता और अस्थि खनिज हानि का यह चक्र तेजी से और क्रूर हो सकता है, लेकिन इन खनिजों का सेवन बढ़ा कर आप इन प्रभावों का सामना कर सकते हैं। मैमी सपटे आपकी हड्डी की ताकत बढ़ाने के लिए एक बढ़िया विकल्प है। (और पढ़ें – हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए जूस रेसिपी)

कई अलग-अलग कारक मानसिक तनाव या चिंता पैदा कर सकते हैं। अनुसंधान ने दिखाया है कि विटामिन ई, पोटेशियम और कैरोटीनॉयड जैसे मैमी सपटे में पाए जाने वाले कुछ विटामिन और खनिज, तंत्रिका तंत्र के कार्य को अनुकूलित करके चिंता को कम कर सकते हैं। यदि आप अवसाद, मूड स्विंग या अन्य मानसिक समस्याओं से पीड़ित हैं तो अपने हार्मोन के स्तर में सुधार और तंत्रिका तंत्र फ़ंक्शन में सुधार कर सकते हैं।

सपाटा में प्राकृतिक फ्रुक्टोज और सुक्रोज़ सामग्री आपके शरीर को बहुत ऊर्जा दे सकती है। इसलिए यदि आप बहुत व्यस्त रहते हैं तो ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए घर से निकलते समय एक चीकू का सेवन करें।

चीकू में टैनिन की उच्च सामग्री पाई जाती है, जो बदले में एक प्राकृतिक सूजन को कम करने वाले के रूप में काम करती है। अच्छे परिणाम देखने के लिए नियमित रूप से खाएं।

यह आपके पाचन तंत्र को चेक में रखता है। यह इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम (चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम) से बचाता है। और इसमें मौजूद आहार फाइबर इसे एक लैक्सटिव बनाता है। इसलिए यह कब्ज की समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है। (और पढ़ें - साबूदाना का उपयोग करें पाचन के लिए)

चीकू में मौजूद मैग्नीशियम रक्त वाहिकाओं को ऊपर रखता है सही से चलने में मदद करता है। पोटेशियम रक्तचाप और ब्लड सर्कुलेशन को नियंत्रित करता है। साथ ही यह एनीमिया का इलाज करना में भी अच्छा है, क्योंकि यह लोहे में बहुत समृद्ध है। (और पढ़ें - नाचनी के फायदे उच्च रक्तचाप को रोकने में)

इलेक्ट्रोलाइट्स, विटामिन ए और कार्बोहाइड्रेट के साथ परिपूर्ण चीकू गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए भी बहुत अच्छा होता है। यदि आप गर्भवती हैं, तो एक चीकू का सेवन मॉर्निंग सिकनेस और चक्कर आना से निपटने में मदद कर सकता है। और क्योंकि यह कोलेजन के उत्पादन में भी मदद करता है तो यह पेट संबंधित विकारों को कम करता है।

नियमित रूप से चीकू का सेवन आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को हटाने में मदद करता है और इस प्रकार यह आपकी त्वचा और बालों के लिए अच्छा है। यह उन्हें स्वस्थ और मॉइस्चराइज़ रखता है। हालांकि, इसे बेहतर परिणाम के लिए खाने के बजाय इसे अपने चेहरे पर या अपने बालों में लगाएं। यह कोलेजन के उत्पादन को बढ़ावा देने में मदद करता है और गहरी झुर्रियों के विकास को रोकता है। 

इसके अलावा मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति को चीकू का सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए ।

और पढ़ें ...