myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आंवला को इंडियन गूस्बिरी (Indian Gooseberry) के नाम से जाना जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम फाइलैन्थस एम्बलिका (Phyllanthus emblica) है। आवंले के पेड़ की खेती पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में की जाती है, लेकिन अब इससे बने उत्पाद (आंवले का मुरब्बा, तेल, अचार आदि) दुनिया भर में फैल हुए हैं। यह पौधे व्यापक रूप से आयुर्वेदिक दवाओं में उपयोग किया जाता है। आंवले का तेल को आंवले के फल से निकाला जाता है। आंवले का तेल मुख्य रूप से बालों की चमक, सुंदरता और रूसी से छुटकारे के साथ साथ त्वचा के लिए भी किया जाता है।

आँवला तेल में विटामिन सी, पॉलीफेनिक यौगिक और टैनिन की उच्च सामग्री पाई जाती हैं जो न केवल बालों और त्वचा के लिए बल्कि शरीर के बाकी हिस्सों के लिए भी लाभकारी होती है। इसे व्यापक रूप से एक इलाज के रूप में भी प्रयोग किया जाता है और विभिन्न बीमारियों पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। तो आइए जाने आँवला तेल के लाभों के बारे में -

  1. आंवला तेल के फायदे रूसी के लिए - Amla Oil Good for Dandruff in Hindi
  2. आंवला तेल में हैं एंटीऑक्सिडेंट गुण - Amla Oil have Antioxidant Properties in Hindi
  3. आंवला तेल के लाभ रखें हृदय को स्वस्थ - Amla Tel ke Fayde for Heart in Hindi
  4. आंवला आयल का उपयोग रोके बालों का झड़ना - Amla Oil for Hair Loss in Hindi
  5. आमला तेल के फायदे बनाएँ प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत - Amla Oil ke Fayde for Immune System in Hindi
  6. आँवला के तेल के फायदे करें उम्र बढ़ने के लक्षणों को कम - Amla ke Tel ke Fayde for Premature Aging in Hindi
  7. आंवला तेल के गुण त्वचा के लिए - Amla Oil Benefits for Skin in Hindi
  8. आँवला का तेल करे सूजन को कम - Amla Oil for Inflammation in Hindi
  9. आंवला तेल के नुकसान - Amla Tel ke Nuksan in Hindi
  10. आंवला तेल बनाने की विधि - Amla Oil Banane ka Tarika in Hindi

आँवला तेल का सबसे अधिक उपयोग बालों पर होता है, क्योंकि यह आपकी जड़ों को मॉइस्चराइज़ और मजबूत कर सकता है। इस तेल के मॉइस्चराइजिंग और सूजन को कम करने वाले गुण स्कैल्प के लिए बहुत ही अच्छे होते हैं। क्योंकि यह स्किन को ड्राई होने से रोकता है और सिर में किसी भी प्रकार की उत्तेजना को शांत करता है जो कि बालों में रूसी का कारण हो सकती है। यही कारण है कि आंवला का तेल त्वचा के अन्य क्षेत्रों के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह नमी को बनाए रख सकता है और आपको त्वचा के ऊपरी संक्रमणों और सूजन से बचा सकता है। फ्लेवोनोइड, एंटीऑक्सिडेंट्स, विटामिन और अन्य सक्रिय यौगिकों के अलावा, इसमें स्वस्थ फैटी एसिड भी होते हैं जो बालों के सम्पूर्ण विकास के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। (और पढ़ें - बालों से रूसी हटाने के उपाय)

आंवला के तेल में विटामिन सी, फ्लेवोनोइड और अन्य एंटीऑक्सिडेंट का उच्च स्तर ऑक्सीडेटिव तनाव के खिलाफ एक बहुत शक्तिशाली सहयोगी बना देता है और शरीर में मुक्त कणों पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। मुक्त कण सेल उत्परिवर्तित (cell mutation) को उत्तेजित कर सकते हैं और कैंसर का खतरा बढ़ा सकते हैं, इसलिए आंतरिक रूप से (छोटी मात्रा में) इस तेल का सेवन आपको कई पुराने रोगों से बचा सकता है।

यह तेल उच्च रक्तचाप और उच्च कोलेस्ट्रॉल के लिए लाभकारी साबित हुआ है। आंवला तेल में पोटेशियम और अन्य सूजन को कम करने वाले यौगिक हृदय प्रणाली में तनाव को दूर करने में मदद कर सकते हैं, जबकि इसमें मौजूद स्वस्थ फैटी एसिड, समग्र कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकता है जो एथेरोस्लेरोसिस, दिल के दौरे और स्ट्रोक के खिलाफ रक्षा करने में मदद करता है। (और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए क्या खाएं)

यदि आपको समय से पहले बालों के झड़ने या बालों के टूटने का सामना करना पड़ रहा है, तो आपके बालों में नमी की आवश्यकता की कमी या सिर में संक्रमण का कारण हो सकता है। जो भी कारण है, आपको अपने बालों के रोम की शक्ति को बढ़ाने और विकास को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है जिसके लिए आँवला तेल जाना जाता है। आप अपने बालों में चमक बढ़ाने के लिए नियमित रूप से एक हेयर मास्क, सिर की मालिश या कंडीशनर या शैम्पू के रूप में उपयोग कर सकते हैं। आंवला तेल की कुछ बूंदों को अपने शैम्पू में मिलाएं या एक प्राकृतिक कंडीशनर ख़रीदे जिसमें आंवला तेल हो। (और पढ़ें - बालों को झड़ने से रोकने के लिए जूस रेसिपी)

आँवला तेल की जीवाणुरोधी क्षमता पेट में मौजूद सुखदायक जीवाणु संक्रमण, सर्दी से बचाने आदि के लिए आदर्श बनाती है। और यह आमतौर पर आपकी संपूर्ण प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए टॉनिक के रूप में कार्य करता है। (और पढ़ें - गुड़ के साथ दूध पीना है प्रतिरक्षा के लिए अच्छा)

पुरानी बीमारी, झुर्रियां, आगे स्पॉट्स, दाग़ धब्बे, वेरीकोज वेन्स (वे नसें जो त्वचा की ऊपरी सतह से उभरी हुई दिखाई देती हैं) आदि उम्र बढ़ने के कुछ ना टालने वाले संकेत होते हैं। सौभाग्य से, इस एंटीऑक्सिडेंट युक्त तेल का नियमित रूप से उपयोग बालों के विकास को उत्तेजित करके और विषाक्त पदार्थों को नष्ट करके इन आयु-संबंधी लक्षणों को कम कर सकता है। (और पढ़ें - रागी के गुण त्वचा को रखते हैं युवा)

अपनी त्वचा को एक स्वस्थ चमक देने और छालरोग, एक्जिमा, रोजेसिया और मुँहासे जैसी आम संक्रमण और कंडीशंस को रोकने के लिए आवंला का उपयोग बहुत ही अच्छा होता है। हालांकि त्वचा की किसी भी समस्या के लिए, शुद्ध आंवला तेल का उपयोग करना या घर पर स्वयं बनाना महत्वपूर्ण है। क्योंकि कुछ मिश्रणों में खनिज तेल होते हैं, जो रोम छिद्र को रोकते हैं और कुछ समस्याओं को बढ़ा सकते हैं।

जोड़ों में सूजन या मांसपेशियों में दर्द से लेकर पूरे शरीर में सूजन और श्वसन तंत्र तक आंवला तेल में मौजूद फैटी एसिड शरीर और उसके ऊतकों को शांत कर सकता है, जोड़ों को चिकना कर सकता है और दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। (और पढ़ें - सूजन को कम करने में सहायक है नाशपाती)

  1. इस तेल से संबंधित बहुत ही सीमित दुष्प्रभाव है। लेकिन संभावित त्वचा की सूजन और जोखिम कम-गुणवत्ता वाले तेल (खनिज तेलों के साथ मिश्रित) से जुड़े हुए हैं। इसलिए आवंला तेल खरीदते समय अच्छा गुणवत्ता का ध्यान रखें।
  2. आप सीधे आवंला तेल का सेवन कर सकते हैं। लेकिन यह सीमित मात्रा में किया जाना चाहिए क्योंकि इससे एलर्जी और पेट में दर्द हो सकता है। (और पढ़ें – पेट दर्द का घरेलू इलाज)
  3. लेकिन आमतौर पर यह तेल स्वास्थ्य के लिए सबसे सुरक्षित प्राकृतिक पदार्थों में से एक माना जाता है।

बहुत से लोग अपने द्वारा बनाये गए आवंला तेल का ही उपयोग करते हैं। घर पर अपना खुद का आवंला तेल बनाने के लिए कई तरह की रेसिपी है जिसमें आवंला पाउडर, अलग-अलग तेल साथ ही सूखे या ताजे फल भी शामिल होते हैं। हालांकि एक सरल, शुद्ध और अत्यधिक शक्तिशाली तेल का मिश्रण बनाने के लिए नीचे दिए गए निर्देशों का पालन करें।

सामग्री

  1. 1 कप ताजा आंवला (पीसा हुआ)
  2. 1 बड़ी चम्मच शुद्ध नारियल तेल

बनाने की विधि

  1. पीसे हुए आंवला को दबाकर रस निकालें।
  2. शुद्ध आंवला रस में नारियल का तेल मिलाएं।
  3. इन दोनों अवयवों को अच्छी तरह से मिला लें, जब तक ये समान रूप से मिश्रित न हो जाएँ।
  4. नारियल के तेल को पिघलाने के लिए इस मिश्रण को थोड़ा गर्म करें।
  5. ठंडा करने के बाद इस तेल को बालों, स्कैल्प या त्वचा पर लगाएं।
और पढ़ें ...

References

  1. Yu JY, Gupta B, Park HG, Son M, Jun JH, Yong CS, Kim JA, Kim JO. Preclinical and Clinical Studies Demonstrate That the Proprietary Herbal Extract DA-5512 Effectively Stimulates Hair Growth and Promotes Hair Health. 2017;2017:4395638. PMID: 28539964
  2. Journal of the Pakistan Medical Association. Effect of Topical Application of Oils of Amla, Coconut, Sarson and Samsol on Growth of Rabbit's Hair and Sheep Wool. Karachi, Pakistan.
  3. Binic I, Lazarevic V, Ljubenovic M, Mojsa J, Sokolovic D. Skin Ageing: Natural Weapons and Strategies. 2013;2013:827248. PMID: 23431351
  4. Gaire BP, Subedi L. Phytochemistry, pharmacology and medicinal properties of Phyllanthus emblica Linn. 2014 Dec 9.PMID: 25491539
  5. Garg AP, Müller J. Inhibition of growth of dermatophytes by Indian hair oils. 1992 Nov-Dec;35(11-12):363-9. PMID: 1302812
  6. Pasquetti M, Min ARM, Scacchetti S, Dogliero A, Peano A. Infection by Microsporum canis in Paediatric Patients: A Veterinary Perspective. 2017 Sep 19;4(3):46. PMID: 29056704.
  7. Rajpreet Kaur Goraya and Usha Bajwa. Enhancing the functional properties and nutritional quality of ice cream with processed amla (Indian gooseberry). 2015 Dec; 52(12): 7861–7871. PMID: 26604358
  8. Krishnaveni M, Mirunalini S. Therapeutic potential of Phyllanthus emblica (amla): the ayurvedic wonder. 2010;21(1):93-105. PMID: 20506691
  9. National Center for Advancing Translational Sciences [internet]: US Department of Health and Human Services; Lichen planus pigmentosus