myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

नाशपाती एक लोकिप्रय फल है। नाशपाती दुनिया भर में कई संस्कृतियों का फल के रूप में एक अभिन्न हिस्सा है और यह रसीला फल बहुत अधिक न्यूट्रिशनल और औषधीय लाभ प्रदान करता है। यह फल रोज़ेशी (Rosaceae) परिवार का सदस्य है।

यह फल उत्तरी अफ्रीका, पश्चिमी यूरोप और एशिया में सबसे पहले उगाया गया था। भारत में नाशपाती की खेती उत्तर प्रदेश, पंजाब और कश्मीर में की जाती है। यह हजारों सालों से अंतर्राष्ट्रीय आहार का एक हिस्सा रहा है। इसका पौधा समशीतोष्ण (temperate) जलवायु में अच्छी तरह से बढ़ता है। यह एक मध्यम ऊंचाई वाला पेड़ होता है। इसकी कुछ प्रजातियां झाड़ जैसी होती हैं, जिनकी ऊंचाई अधिक नहीं होती है। नाशपाती की कई किस्मों का उपयोग सजावटी पेड़ों और झाड़ियों के रूप में किया जाता है।

नाशपाती अपनी उपलब्धता और स्वाद के अलावा, हजारों सालों से औषधीय लाभ के लिए भी उपयोग की जाती रही है। नाशपाती में मौजूद खनिज, विटामिन और आर्गेनिक कंपाउंड सामग्री स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होती है। नाशपाती में कुछ सक्रिय और प्रभावी घटक जैसे पोटेशियम, विटामिन-सी, विटामिन K, फिनालिक कंपाउंड, फोलेट, आहार फाइबर, तांबा, मैंगनीज, मैग्नीशियम के साथ साथ बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन भी हैं।

  1. नाशपाती के फायदे - Nashpati ke Fayde in Hindi
  2. नाशपाती के नुकसान - Nashpati ke Nuksan in Hindi
  1. नाशपाती के फायदे है पाचन में सहायक - Pears Good for Digestion in Hindi
  2. नाशपाती के लाभ वजन कम करने के लिए - Pears Reduce Weight in Hindi
  3. नाशपाती के गुण करें कैंसर की रोकथाम - Pears for Cancer in Hindi
  4. नाशपाती खाने के फायदे बढ़ाएँ प्रतिरक्षा - Nashpati ke Fayde for Immune System in Hindi
  5. नाशपाती का सेवन करे हृदय रोगों को कम - Pears Good for Heart in Hindi
  6. पियर बेनिफिट्स है घाव भरने में लाभकारी - Pears for Wound Healing in Hindi
  7. नाशपाती खाने के लाभ बचाएँ एनीमिया से - Nashpati ke Gun for Anemia in Hindi
  8. नाशपाती फल के फायदे हैं गर्भवती महिलाओं के लिए - Pears Benefits During Pregnancy in Hindi
  9. सूजन को कम करने में सहायक है नाशपाती - Pears Good for Inflammation in Hindi
  10. नाशपाती का उपयोग करें हड्डियों के लिए - Pears Good for Bones in Hindi
  11. नाशपाती के औषधीय गुण रखें त्वचा को जवां - Pears for Skin Health in Hindi
  12. नाशपाती करे घेंघा बीमारी को कम करने में मदद - Nashpati Khane ke Fayde for Goiter in Hindi
  13. नाशपाती का प्रयोग मधुमेह रोगियों के लिए अच्छा - Eating Pears Good for Diabetes in Hindi
  14. नाशपाती बेनिफिट्स करें साँस से जुड़ी समस्या को ठीक - Nashpati ke Labh for Shortness Breath Problem in Hindi

नाशपाती के फायदे है पाचन में सहायक - Pears Good for Digestion in Hindi

मानव पाचन में जूसी और रेशेदार नाशपाती फल की एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। एक सिंगल सर्विंग के साथ नाशपाती से हमें दैनिक आवश्यकता का 18% फाइबर मिलता है। नाशपाती पाचन स्वास्थ्य और पाचन कार्य के लिए एक बहुत मजबूत एजेंट हो सकती है। यह गैस्ट्रिक और पाचन के रस के स्राव को उत्तेजित करती है ताकि खाद्य पदार्थ अधिक चिकना हो और अधिक जल्दी पच जाएँ। यह आँतों के कार्यों को नियंत्रित करती है जिससे कब्ज की संभावना कम हो जाती है। इसमें मौजूद पेक्टिन दस्त और कब्ज को ठीक कर सकता है। 

(और पढ़ें - आम पन्ना बढ़ाए पाचन क्रिया)

नाशपाती के लाभ वजन कम करने के लिए - Pears Reduce Weight in Hindi

विभिन्न फलों के बारे में कुछ लोगों को कैलोरी सामग्री और उनमें मौजूद प्राकृतिक शर्करा से शिकायत होती है। हालांकि, नाशपाती सबसे कम कैलोरी फलों में से एक हैं। एक औसत नाशपाती में 100 से अधिक कैलोरी हैं, जो एक स्वस्थ आहार की दैनिक कैलोरी का 5% है। हालांकि इसमें मौजूद फाइबर से आपको अपना पेट भरा हुआ महसूस होता है। इसलिए जो लोग अपना वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं उनके लिए नाशपाती बहुत ही अच्छा फल। वजन और मोटापे पर कम प्रभाव के साथ यह एक उच्च-ऊर्जा, उच्च-पोषक आहार है। 

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट)

नाशपाती के गुण करें कैंसर की रोकथाम - Pears for Cancer in Hindi

नाशपाती में एंटी कैसरोजेनिक गुण होते हैं और यह कई विभिन्न प्रकार के कैंसर की रोकथाम से जुडी हुई है जिनमें कोलन, मलाशय, स्तन, प्रोस्टेट और फेफड़े के कैंसर शामिल हैं। नाशपाती में हाइड्रोऑक्सीनॉमिक एसिड होता है जो पेट के कैंसर को रोकने में मदद करता है। इसमें मौजूद फाइबर पेट के कैंसर को बढ़ने से रोकता है। कई अन्य फलों की तुलना में नाशपाती में बहुत अधिक एंटीऑक्सिडेंट पाएं जाते हैं।

(और पढ़ें – कैंसर के लक्षण)

नाशपाती धूम्रपान करने वाले लोगों के लिए बहुत मददगार हो सकती हैं। धूम्रपान करने वाले धूम्रपान करने के बाद नियमित रूप से नाशपाती के सेवन से कैंसर से छुटकारा पा सकते हैं। विशेषज्ञों के पैनल के एक शोध के मुताबिक, धूम्रपान मानव शरीर के अंदर कैसिनोजेनिक पदार्थ को बढ़ावा दे सकता है। ये कैंसरजनक पदार्थ शरीर से आसानी से हटाए नहीं जा सकते हैं। हालांकि, अगर धूम्रपान करने वाले लोग धूम्रपान के बाद नाशपाती का सेवन करते हैं तो विषाक्त पदार्थों को तुरंत शरीर से मूत्र के माध्यम से नष्ट कर दिया जा सकता है। नाशपाती के पेड़ के पत्ते चाय के लिए महत्वपूर्ण स्रोत हैं। इसकी चाय के द्वारा मूत्रमार्ग, सिस्टिटिस और यूथथ्रल कैलकुस जैसी बीमारियों से निपटा जा सकता है।

(और पढ़ें – कैंसर से लड़ने वाले दस बेहतरीन आहार)

नाशपाती खाने के फायदे बढ़ाएँ प्रतिरक्षा - Nashpati ke Fayde for Immune System in Hindi

इसी तरह इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन-सी की गतिविधियों से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली भी को बढ़ाया जाता है। विटामिन सी लंबे समय से प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए फायदेमंद माना जाता है, क्योंकि यह सफेद रक्त कोशिका उत्पादन और गतिविधि को उत्तेजित करता है। परंपरागत रूप से, नाशपाती जैसे फलों को सामान्य सर्दी, फ्लू या अन्य कई हल्के बीमारियों जैसे सामान्य स्थिति में खाने की सलाह दी जाती है। इससे एक त्वरित प्रतिरक्षा तंत्र को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है। 

(और पढ़ें - मसालेदार खाना करे प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत)

नाशपाती का सेवन करे हृदय रोगों को कम - Pears Good for Heart in Hindi

नाशपाती पोटेशियम का एक बहुत ही बढ़िया उदाहरण है, जिसका मतलब है कि नाशपाती का हृदय स्वास्थ्य पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है, क्योंकि पोटेशियम एक प्रसिद्ध वेदोडिलेटर (छोटी रक्‍तवाहिकाओं को बड़ा करने वाली औषधि) है। इसका मतलब यह है कि यह रक्तचाप को कम करता है, जिससे पूरे कार्डियोवस्कुलर सिस्टम में तनाव कम हो जाता है। इसके अलावा, इससे शरीर के सभी हिस्सों में रक्त का प्रवाह बढ़ता है, जो अंगों को ऑक्सीजन देता है और अपने प्रभावी कार्य को बढ़ावा देता है। रक्तचाप का कम होना अथेरोस्क्लेरोसिस (धमनियाँ सख्त होना), हार्ट अटैक और स्ट्रोक जैसी हृदय रोगों की कम संभावना से भी जुड़ा हुआ है। अंत में, पोटेशियम शरीर में एक द्रव नियामक के रूप में काम करता है, जिसका अर्थ है कि यह शरीर के विभिन्न हिस्सों को हाइड्रेटेड रखता है और कोशिकाओं और अंगों में आवश्यक द्रवों के संतुलन को सुनिश्चित करता है। पोटेशियम के बिना, हमारे सबसे ज़रूरी कार्य धीमे या पूरी तरह बंद हो जाएंगे! 

(और पढ़ें - ज्वार के फायदे हृदय स्वास्थ्य के लिए)

पियर बेनिफिट्स है घाव भरने में लाभकारी - Pears for Wound Healing in Hindi

विटामिन सी शरीर के विभिन्न अंगों और सेलुलर संरचनाओं में नए ऊतक को संश्लेषित (synthesizing) करने का एक अनिवार्य हिस्सा है। यह शरीर के चयापचय को सुचारू रूप से चलाने और सभी कार्यों को ठीक से संचालित करना सुनिश्चित करता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद घाव भरने वाला एसिंर्बिक एसिड चोटों और बीमारियों से होने वाली छोटी चोटें, कट्स और इंजरीज को तेजी से भर सकता है। यह क्षतिग्रस्त रक्त वाहिकाओं की रिपेयर में भी मदद करता है, जिससे हृदय प्रणाली पर तनाव को कम होता है। 

(और पढ़ें - गोटू कोला है घाव को जल्दी भरने में लाभकारी)

नाशपाती खाने के लाभ बचाएँ एनीमिया से - Nashpati ke Gun for Anemia in Hindi

ऐसे रोगियों के लिए जो एनीमिया या अन्य खनिज की कमी से पीड़ित हैं उनके लिए नाशपाती अपनी तांबे और लोहे की सामग्री के कारण बहुत सहायक हो सकती है। कॉपर शरीर में खनिजों की तेजता को बेहतर बनाता है और बढ़ाता है। और लोहे के स्तर में बढ़ोतरी का मतलब है कि शरीर में लाल रक्त कोशिका के संश्लेषण का बढ़ जाना। आप थकान, संज्ञानात्मक खराबी, मांसपेशियों की कमजोरी आदि के लिए इसका सेवन बहुत ही अच्छा होता है।

(और पढ़ें – जीरा वाटर बेनिफिट्स करें एनीमिया का इलाज)

नाशपाती फल के फायदे हैं गर्भवती महिलाओं के लिए - Pears Benefits During Pregnancy in Hindi

फोलेट नाशपाती का अन्य मूल्यवान पोषण घटक हैं। नवजात शिशुओं में न्यूरल ट्यूब दोषों (neural tube defects) में कमी के साथ फोलिक एसिड का सकारात्मक संबंध रहा है, इसलिए नाशपाती जैसे फोलेट-समृद्ध फल खाने से आपके बच्चे के स्वास्थ्य और खुशी की रक्षा हो सकती है, इसलिए गर्भवती महिलाओं को हमेशा अपने फोलिक एसिड स्तर पर निगरानी रखने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। 

(और पढ़ें - आयुर्वेद कहता है नई माताएं इन बातों पर देकर विशेष ध्यान करें अपनी देखभाल)

सूजन को कम करने में सहायक है नाशपाती - Pears Good for Inflammation in Hindi

नाशपाती की एंटीऑक्सीडेंट और फ्लैवोनॉइड घटक भी शरीर में एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव को प्रेरित करते हैं और सूजन वाले रोगों के साथ जुड़े दर्द को कम कर सकते हैं। इसमें गठिया, रूमेटिक कंडीशन, गाउट और इसी तरह की स्थितियों के लक्षणों में कमी शामिल है।

नाशपाती का उपयोग करें हड्डियों के लिए - Pears Good for Bones in Hindi

नाशपाती की उच्च खनिज सामग्री जिसमें मैग्नीशियम, मैंगनीज, फास्फोरस, कैल्शियम और तांबे शामिल हैं। यह सामग्री हड्डियों के खनिज नुकसान और दुर्बल करने वाली कंडीशंस जैसे ऑस्टियोपोरोसिस और शरीर की सामान्य कमजोरी को कम कर सकती है। 

(और पढ़ें - सूर्य के प्रकाश के लाभ रखें हड्डियों को मजबूत)

नाशपाती के औषधीय गुण रखें त्वचा को जवां - Pears for Skin Health in Hindi

मानव शरीर में सबसे बहुमुखी विटामिन में से एक है विटामिन ए। नाशपाती विटामिन ए में उच्च होती है। नाशपाती त्वचा पर उम्र बढ़ने के प्रभाव को कम कर सकती हैं जैसे झुर्रियाँ और उम्र के धब्बे। इस शक्तिशाली फल से बालों के झड़ने, मैकुलर डिजनरेशन (धब्बेदार अध: पतन), मोतियाबिंद और उम्र बढ़ने की प्रक्रिया से जुड़े अन्य कंडीशंस को भी कम किया जा सकता है।

(और पढ़ें - इस चमत्कारी मिश्रण से होंगी आँखों की झुर्रियाँ हमेशा के लिए दूर)

नाशपाती करे घेंघा बीमारी को कम करने में मदद - Nashpati Khane ke Fayde for Goiter in Hindi

नाशपाती में आयोडीन की प्रचुर मात्रा होती है जो मरीजों को घेंघा बीमारी को कम करने में मदद करता है। बूढ़े लोगों को आंतरिक अंगों को फ़िल्टर करने के लिए नियमित रूप से नाशपाती को सेवन को बढ़ावा देना चाहिए। यह कैल्शियम को स्टोर करने और रक्त वाहिकाओं को नरम करने में भी मदद करता है। नाशपाती की उचित खपत से अपच, गाउट, एनीमिया, कब्ज और कुपोषण जैसे विभिन्न रोगों को छुटकारा पाने में प्रभावी ढंग से मदद मिल सकती है।

नाशपाती का प्रयोग मधुमेह रोगियों के लिए अच्छा - Eating Pears Good for Diabetes in Hindi

फाइबर से भरपूर नाशपाती मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए एक बहुत ही अच्छा फल है। इसलिए जिन शुगर पेशेंट को मीठा खाने की इच्छा होती है यह उनके लिए बहुत गुणकारी होता है। इसमें मौजूद नेचुरल शुगर को रक्त धीरे अवशोषित कर लेता है। नाशपाती में लेवल्ज़ (Levulose) होता है जो एक प्राकृतिक शुगर का एक रूप है। इससे आपका रक्त शर्करा का स्तर नहीं बढ़ता है।

नाशपाती बेनिफिट्स करें साँस से जुड़ी समस्या को ठीक - Nashpati ke Labh for Shortness Breath Problem in Hindi

कुछ बच्चों को ग्रीष्मकाल में सांस लेने में समस्या होती हैं जिनसे बड़ी समस्याएं हो सकती हैं। नाशपाती का नियमित सेवन करने से इस समय को ठीक करने में मदद मिलती है। 

(और पढ़े – च्यवनप्राश खाने के फायदे श्वसन प्रणाली के लिए)

नाशपाती को छिलके समेत धो कर अच्छे से चबा कर खाना चाहिए। लेकिन इसके छिलके को जल्दबाजी में बिना चबाये खाने से पाचन तंत्र पर प्रभाव पड़ सकता है जिससे कई बार पेट में दर्द हो जाता है।

नाशपाती को काट कर अधिक देर तक रख कर नहीं खाना चाहिए। क्योंकि हवा के सम्पर्क में आने पर यह भूरे रंग का हो जाता है जो नुकसानदेह हो सकता है।

ठंड में गला बैठनेबुखार, दस्त होने पर रोगी को नाशपाती का सेवन नहीं करना चाहिए। (और पढ़ें – बुखार के घरेलू उपचार)

नाशपाती खरीदते समय ध्यान रखना चाहिए कि नाशपाती न अधिक मुलायम हो और न ही अधिक सख्त। नाशपाती से मीठी खुशबू आनी चाहिए। नाशपाती को खरीदने के दो तीन दिन तक खा लेना चाहिए।

और पढ़ें ...