myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

विटामिन ई स्किन के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। आप विटामिन ई का उपयोग कई प्रकार से कर सकते हैं। यह हृदय और रक्त की समस्याओं का इलाज कर सकता है, जिसमें धमनियों का सख्त होना, हाइपरटेंशन, डायबिटीज (मधुमेह) से संबंधित जटिलतायें, अल्जाइमर और डिमेंशिया आदि रोग शामिल हैं। विटामिन ई आंखों, गर्भ में भ्रूण की सुरक्षा, महिलाओं के स्वास्थ्य और पुरुषों में नपुंसकता दूर करने भी फायदेमंद है। यह आमतौर पर डिहाइड्रैटेड और ड्राई स्किन को ठीक करने के लिए प्रयोग किया जाता है। विटामिन ई या अल्फा-टोकोफेरॉल एक वसा-घुलनशील एंटीऑक्सिडेंट है जो मुख्य रूप से हरी पत्तेदार सब्जियों, नट्स/ बीज, समुद्री भोजन और फलों में पाया जाता है।

  1. विटामिन ई तेल के फायदे - Vitamin E Oil Benefits in Hindi
  2. विटामिन ई तेल के नुकसान - Vitamin E Oil Side Effects in Hindi

विटामिन ई सप्लीमेंट की सलाह तब दी जाती है जब आपका शरीर किसी कारण से, आपके नियमित आहार से पोषक तत्व को अवशोषित करने में असमर्थ होता है। विटामिन ई का बाहरी उपयोग आपकी त्वचा पर बहुत ही लाभकारी हो सकता है। तो आइये जानते हैं इससे होने वाले लाभों के बारे में:-

  1. विटामिन ई तेल के फायदे करें डिहाइड्रेटेड स्किन का इलाज - Vitamin E Oil for Dehydrated Skin in Hindi
  2. विटामिन ई ऑयल है एंटी एजिंग के लिए लाभकारी - Vitamin E Oil for Anti Aging in Hindi
  3. विटामिन ई तेल के लाभ करें सनबर्न ठीक - Vitamin E Oil for Sunburn in Hindi
  4. विटामिन ई का तेल है डार्क स्पॉट्स का प्रभावी उपचार - Vitamin E Oil Good for Dark Spots in Hindi
  5. विटामिन ई तेल का उपयोग करे ड्राई नेल्स के लिए - Vitamin E Oil for Dry Nails in Hindi
  6. स्ट्रेच मार्क्स के लिए विटामिन ई तेल का उपयोग करें - Vitamin E Oil to Treat Stretch Marks in Hindi
  7. मुंह के छाले ठीक करें विटामिन ई युक्त तेल से - Vitamin E Oil Good for Cold Sores in Hindi
  8. विटामिन ई आयल फॉर हेयर ग्रोथ - Vitamin E Oil Benefits for Hair Growth in Hindi
  9. विटामिन ई आयल बेनिफिट्स फॉर ग्रे हेयर - Vitamin E Oil for Gray Hair in Hindi
  10. विटामिन ई तेल के गुण करें दोमुँहें बालों दूर - Vitamin E Oil Good for Split Ends in Hindi
  11. जले का इलाज करें विटामिन ई आयल कैप्सूल्स से - Vitamin E Oil for Minor Burns in Hindi
  12. निशान हटाने के लिए विटामिन ई तेल है फायदेमंद - Vitamin E Oil Good for Scars in Hindi
  13. विटामिन ई तेल के गुण बचाएँ स्किन कैंसर से - Vitamin E Oil for Skin Cancer in Hindi
  14. विटामिन ई तेल है एक्जिमा का उपचार - Vitamin E Oil for Eczema Treatment in Hindi
  15. विटामिन ई तेल के गुण शिशुओं के लिए - Vitamin E Oil for Babies in Hindi

विटामिन ई तेल के फायदे करें डिहाइड्रेटेड स्किन का इलाज - Vitamin E Oil for Dehydrated Skin in Hindi

विटामिन ई डिहाइड्रेटेड स्किन को स्वस्थ रखने में मदद करता है। आप रात के समय जैतून के तेल (मॉइस्चराइजिंग लोशन) के साथ विटामिन ई तेल की कुछ बूंदों को मिलाएं और बिस्तर पर जाने से पहले इसे अपने शरीर पर लगाएं। विटामिन ई एक तेल-घुलनशील पोषक तत्व है और पानी में घुलने वाले उत्पादों की तुलना में भारी होता है। यह ड्राई और क्षतिग्रस्त त्वचा के लिए सबसे अच्छा होता है क्योंकि यह खोई हुई नमी को वापिस लाता है। 

(और पढ़ें - रूखी त्वचा के घरेलू नुस्खे)

विटामिन ई ऑयल है एंटी एजिंग के लिए लाभकारी - Vitamin E Oil for Anti Aging in Hindi

विटामिन ई आपकी त्वचा की सभी समस्याओं जैसे सुस्क त्वचा, झुर्रियां और त्वचा के ढ़ीलापन को दूर करता है। विटामिन ई कोलेजन, फाइबर (जैसे प्रोटीन) का उत्पादन बढ़ाता है, जो त्वचा की लोच को बनाए रखने के लिए जाना जाता है। इस प्रकार यह फाइन लाइन्स और झुर्रियों को कम करता है, जो कि बढ़ती उम्र के लक्षण होते हैं। 

(और पढ़ें - एजिंग के लक्षणों को कम करने के आयुर्वेदिक टिप्स)

विटामिन ई तेल के लाभ करें सनबर्न ठीक - Vitamin E Oil for Sunburn in Hindi

विटामिन ई सनबर्न से प्रभावित त्वचा को जल्दी से ठीक करने के लिए जाना जाता है। विटामिन ई तेल की कुछ बूंदों को लें या विटामिन ई कैप्सूल को तोड़कर सनबर्न वाली जगह पर रगड़ें। विटामिन ई में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो अल्ट्रावायलेट रेडिएशन के कारण मुक्त कणों के प्रभावों को बेअसर करते हैं, जिससे यह सनबर्न को बहुत ही प्रभावी ढंग से ठीक करने में मददगार होती है।  

(और पढ़ें - सनबर्न से छुटकारे के घरेलू उपाय)

विटामिन ई का तेल है डार्क स्पॉट्स का प्रभावी उपचार - Vitamin E Oil Good for Dark Spots in Hindi

'डार्क स्पॉट' विभिन्न कारकों जैसे कि, अल्ट्रावायलेट मुक्त कणों से क्षति, बुढ़ापे, लिवर की समस्याओं आदि के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं, और विटामिन ई ऐसी समस्याओं को कम कर सकता है। विटामिन ई कैप्सूल को तोड़कर इसे अपने लोशन या जैतून तेल के साथ मिक्स करें और इसे डार्क स्पॉट्स पर लगाएं। जब तक स्पॉट कम नहीं हो जाते हैं , तब तक दिन में एक बार लगाएं। विटामिन ई में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कणों से लड़ने का एक समृद्ध स्रोत है। इसके एंटीऑक्सिडेंट, अल्ट्रावायलेट मुक्त कणों से होने वाली क्षति को कम कर देते हैं। 

(और पढ़ें - काले दाग हटाने के घरेलू उपाय)

विटामिन ई तेल का उपयोग करे ड्राई नेल्स के लिए - Vitamin E Oil for Dry Nails in Hindi

विटामिन ई तेल ड्राई, टूटे हुए नाखूनों के लिए एक बहुत ही प्रभावी उपचार है। ड्राई नेल्स और इसके आसपास विटामिन ई के कुछ तेल की बूंद डालें और अच्छी तरह से मालिश करें। विटामिन ई तेल एक बहुत ही अच्छा मॉइस्चराइज़र होता है जिसके कारण यह ड्राई नेल्स और उसके आसपास की जगह पर उपयोग करने के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है। इस प्रकार यह तेल आपकी त्वचा को ड्राई होने से बचाता है। 

(और पढ़ें - नाखूनों की देखभाल के लिए टिप्स)

स्ट्रेच मार्क्स के लिए विटामिन ई तेल का उपयोग करें - Vitamin E Oil to Treat Stretch Marks in Hindi

विटामिन ई तेल डिलीवरी के बाद उपयोग करने के लिए बहुत ही लाभकारी होता है क्योंकि यह खिंचाव के निशानों (स्ट्रेच मार्क्स) को कम करने में मदद करता है। इस तेल के नियमित उपयोग से आप मार्क्स को कम कर सकते हैं।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के बाद खिंचाव के निशान दूर करने के उपाय

इसके लिए बस आपको दिन में एक बार मार्क्स के ऊपर धीरे-धीरे मालिश करनी है। 

(और पढ़ें - स्ट्रेच मार्क्स हटाने के घरेलू उपाय)

मुंह के छाले ठीक करें विटामिन ई युक्त तेल से - Vitamin E Oil Good for Cold Sores in Hindi

विटामिन ई तेल दर्दनाक मुंह के छालों का इलाज करने के लिए जाना जाता है। एक विटामिन ई तेल के कैप्सूल को खोलें और सीधे घाव पर इसे लगाएं। यह तेल एक लिप मॉइस्चराइज़र के रूप में बहुत ही प्रभावी होता है। इसके साथ ही साथ यह मुंह के छालों की वजह से होने वाले दर्द में भी राहत प्रदान करता है। 

(और पढ़ें - मुंह के छालों का घरेलू उपचार)

विटामिन ई आयल फॉर हेयर ग्रोथ - Vitamin E Oil Benefits for Hair Growth in Hindi

विटामिन ई बालों के क्षतिग्रस्त रोम (फॉलिकल्स) की रिपेयर और स्वस्थ बाल की वृद्धि में मदद करता है। विटामिन ई कैप्सूल तोड़ें और गर्म नारियल या जैतून के तेल के साथ मिक्स करें। फिर, इस मिश्रण के साथ अपने बालों और खोपड़ी (स्कैल्प) की मालिश करें। इसके 30 मिनट के बाद गर्म पानी से बालों को धो लें। विटामिन ई के तेल में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो शरीर के सभी भागों में रक्त के संचलन (ब्लड सर्कुलेशन) में सुधार करते हैं, जिनमें खोपड़ी भी शामिल है। 

(और पढ़ें - बाल बढ़ाने के उपाय)

विटामिन ई आयल बेनिफिट्स फॉर ग्रे हेयर - Vitamin E Oil for Gray Hair in Hindi

विटामिन ई तेल उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने में बहुत प्रभावी है, चाहे वह आपकी त्वचा या बाल ही क्यों न हों। विटामिन ई में मौजूद शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के कारण यह ऊतकों के क्षय को प्रभावी ढंग से रोक सकता है, जिससे समय से पहले का बालों के सफ़ेद होने की संभावना कम हो जाती है। 

(और पढ़ें - सफेद बालों से छुटकारा पाने के उपाय)

विटामिन ई तेल के गुण करें दोमुँहें बालों दूर - Vitamin E Oil Good for Split Ends in Hindi

निरंतर ड्राईग, कर्लिंग और कलरिंग जैसी कुछ सामान्य समस्याओं के कारण, हमारे बाल दोमुंहे हो जाते हैं, लेकिन इस समस्या को आप विटामिन ई तेल की मदद से घर पर ही ठीक कर सकते हैं। आपको तेल का एक मिक्सचर बनाने के लिए 3 भाग जैतून का तेल, 3 भाग नारियल तेल, 3 भाग भांग तेल और 3 भाग जोजोबा तेल की ज़रूरत है। इन सभी तेलों को एक साथ मिक्स करें। अब इसमें विटामिन ई तेल को मिक्स करें। अब इस तेल को दोमुंहे बालों को समाप्त करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। विटामिन ई आपके बालों की जड़ को मजबूत बनाता है, जिससे बालों के टूटने को कम किया जा सकता है। 

(और पढ़ें - दोमुंहे बालों के घरेलू नुस्खे)

जले का इलाज करें विटामिन ई आयल कैप्सूल्स से - Vitamin E Oil for Minor Burns in Hindi

विटामिन ई तेल का उपयोग माइनर बर्न्स और चोटों के इलाज के लिए किया जा सकता है। एक कॉटन की बॉल पर विटामिन ई तेल की कुछ बूंदें डालें और धीरे से इसे जले हुए क्षेत्र पर लगाएं। सुनिश्चित करें कि तेल को लगाने से पहले जलने का घाव ठंडा हो गया है। इसे घाव के पूरी तरह से ठीक हो जाने तक दोहराएं। विटामिन ई तेल में रोगाणु नष्ट करने वाली शक्तियां होती है। इसमें माइनर बर्न्स के घावों को ठीक करने की भी क्षमता होती है। 

(और पढ़ें - जलने पर करें ये घरेलू उपाय)

निशान हटाने के लिए विटामिन ई तेल है फायदेमंद - Vitamin E Oil Good for Scars in Hindi

जलने या मुँहासे के कारण होने वाले निशान को हटाने के लिए विटामिन ई तेल एक बेहतर उपचार विकल्प माना जाता है। आप विटामिन ई तेल की कुछ बूंदों को निशान पर लगा सकते हैं, भले ही यह निशान पुराना और फीका या फिर ताजा हो। एक गोलकार गति में धीरे से निशान की तेल के साथ मालिश करें। कुछ दिनों तक, जब तक निशान कम नहीं हो जाते हैं तब तक रोजाना उपयोग करें।

(और पढ़ें - मुँहासे हटाने के घरेलू उपाय)

विटामिन ई तेल के गुण बचाएँ स्किन कैंसर से - Vitamin E Oil for Skin Cancer in Hindi

विटामिन ई तेल त्वचा कैंसर के प्रभाव को रोकने के लिए भी जाना जाता है। अपने सनस्क्रीन में लगभग 4 से 5 विटामिन ई तेल की बूंदें मिलाएं और बाहर निकलने से पहले इसे उपयोग करें। विटामिन ई में मौजूद शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकते हैं। यह सूरज के हानिकारक प्रभावों के खिलाफ सुरक्षात्मक ढाल के रूप में कार्य करता हैं।

(और पढ़ें - स्किन कैंसर से बचाव)

विटामिन ई तेल है एक्जिमा का उपचार - Vitamin E Oil for Eczema Treatment in Hindi

विटामिन ई एक्जिमा और सोरायसिस जैसी त्वचा विकारों के लिए एक प्रभावी उपचार है। जड़ से ठीक करने के लिए इसे नियमित रूप से प्रभावित जगह पर दिन में दो बार लगायें।

(और पढ़ें - एक्जिमा क्यों होता है)

यह आपकी त्वचा को कोमल रखता है और एक्जिमा से होने वाले सूखेपन का मुकाबला करता है। इसके साथ ही साथ यह त्वचा की लोच को पुनर्स्थापित करता है। विटामिन ई प्रभावी ढंग से छालरोग/अपरस का भी उपचार करने में सहायक होता है। 

(और पढ़ें - एक्जिमा के घरेलू उपचार)

विटामिन ई तेल के गुण शिशुओं के लिए - Vitamin E Oil for Babies in Hindi

विटामिन ई के सप्लीमेंट्स सिस्टिक फाइब्रोसिस (एक अनुवांशिक बीमारी जिससे फेफड़े प्रभावित होते हैं और इससे प्रभावित शिशु को सांस की समस्या हो जाती है) जैसे विकार के प्रभाव से लड़ने में मदद करने के लिए भी जाने जाते हैं। इस समस्या को कम करने के लिए अपने बच्चे के भोजन में विटामिन ई की खुराक शामिल करें। विटामिन ई की खुराक सिस्टिक फाइब्रोसिस वाले बच्चों को सही वजन बनाए रखने में मदद करती हैं।

  1. अगर इसकी उच्च खुराक का सेवन किया जाता है तो यह आपके के लिए सुरक्षित नहीं है। यदि आपको हृदय रोग या मधुमेह जैसी कोई बीमारी है, तो इसका प्रयोग 400 आईयू से अधिक नहीं करना चाहिए। 
  2. शोध से पता चला है कि विटामिन ई तेल के अधिक सेवन से मौत की संभावना बढ़ सकती है और शायद अन्य गंभीर दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं। 
  3. विटामिन ई, "हेमोरहाजिक स्ट्रोक" नामक एक गंभीर स्ट्रोक होने की संभावना को बढ़ा सकता है, जिससे मस्तिष्क में ब्लीडिंग होती है। कुछ शोध से पता चलता है कि प्रत्येक दिन 300-800 आईयू से अधिक विटामिन ई लेने से इस तरह के स्ट्रोक की संभावना 22% तक बढ़ सकती है।
  4. कुछ शोधों से पता चला है कि मल्टीविटामिन के साथ-साथ विटामिन ई सप्लीमेंट लेने से कुछ पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर के विकास की संभावना बढ़ सकती है। 
  5. विटामिन ई का अत्यधिक सेवन उच्च खुराक मतली (जी मिचलाना), दस्त, पेट की ऐंठन, थकान, कमजोरी, सिरदर्द आदि का कारण भी बन सकती है। 
और पढ़ें ...