myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

परवल को त्रिकोसांथेस डीओइका, पटोला, और हरा आलू के नामो से भी जाना जाता है। ये सभी कुकुरबिटेसी के परिवार से सम्बन्ध रखते हैं और ककड़ी, स्क्वैश के समान होते हैं। हालांकि ककड़ी, स्क्वैश बारहमासी नहीं होतें लेकिन परवल का पौधा सदाबहार है।

यह भारत की महत्वपूर्ण सब्जियों में से एक है। परवल को अकेले या अन्य सब्जियों के साथ बनाया जाता है। मुख्यतः परवल को ग्रेवी की तरह और सूखे व्यंजन की तरह भी बनाया जाता है। कुछ हिस्सों में इसे मिठाई बनाने के लिए भी उपयोग किया जाता है। आइवी लौकी या टिंडोरा के साथ इस सब्जी को न जोड़ें क्यूंकि ये सब्ज़ी आइवी लौकी की तरह तो दिखती है लेकिन आकर में थोड़ी बड़ी होती है।

परवल के पौधे की पत्तियां दिल के आकार की, 7-10 सेंटीमीटर लंबी, और 4-8 सेमी चौड़ी होती हैं। परवल को अंग्रेजी में पॉइंटेड गॉर्ड (Pointed Guard) कहा जाता है। इसका पौधा बेल की तरह बढ़ता है, और इसकी लम्बाई 5-6 मीटर होती है। यह गर्म या नमी वाले जलवायु में अच्छी तरह से पनपता है। सर्दियों के मौसम में परवल का पौधा सूख कर मर जाता है, लेकिन बाद में फिर से वसन्त ऋतु में नई कोपलें निकलने लगती हैं। परवल के पौधे के लिए जल का उचित प्रबन्ध होना चाहिए। 

  1. परवल के स्वास्थ से जुड़े फायदे - Health benefits of Pointed gourd in Hindi
  2. परवल रखे शरीर के खून को साफ़ - Parwal is best blood purifier vegetable in Hindi
  3. परवल फ्लू से रखे दूर - Pointed Guard helps prevent flu in Hindi
  4. परवल पाचन क्रिया को सुधारता है - Parwal improve digestion in Hindi
  5. परवल करे बढ़ती उम्र के चेहरे की देखभाल - Pointed gourd protects ageing skin in Hindi
  6. परवल कब्ज़ के लिए है अचूक उपाय - Parwal treats constipation in Hindi
  7. परवल करे शुगर और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित - Pointed gourd controls blood sugar and cholesterol in Hindi
  8. परवल वज़न कम करने में है सहायक - Pointed gourd aids weight loss in hindi
  9. परवल से जुड़े आयुर्वेदिक फायदे - Ayurvedic benefit of pointed gourd in Hindi
  10. परवल के पौधे का पारंपरिक उपयोग - Traditional use of parwal in Hindi
  11. परवल के नुकसान - Side effects of Pointed gourd in Hindi

परवल को खाने के बहुत से स्वास्थ्य लाभ हैं और लोगो को कम ही इसके बारें में पता है। परवल की सब्ज़ी को सबसे पौष्टिक खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है इसमें कई प्रकार के विटामिन पाएं जातें हैं जैसे विटामिन ए, विटामिन बी 1, विटामिन बी 2 और विटामिन सी। परवल में बहुत ही कम कैलोरी पायी जाती हैं इसलिए यह कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी नियंत्रण में रखता है। आयुर्वेद में परवल का प्रयोग गैस की समस्याओं और यौन जीवन को सुधरने में किया जाता है।

आज हम आपको परवल से जुड़ें कुछ प्रचलित स्वास्थ्य लाभों के बारें में बताएंगे :

परवल खून की सफाई करने के लिए बेहद फायदेमंद है। यह हमारे खून, ऊतकों को साफ करने में मदद करता है। इसकी मदद से हमारे चेहरे की देखभाल भी होती है। रक्त शुद्धि हर इंसान के लिए महत्वपूर्ण होती है। परवल को खाने से आपके सभी रोग दूर होते हैं और यहाँ तक कि शरीर के भीतर की अशुद्धता भी दूर होती हैं। (और पढ़ें - खून को साफ करने वाले आहार)

सर्दी और फ्लू सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है जो मौसम के परिवर्तन के कारण होती हैं। आयुर्वेद के अनुसार परवल प्रतिरोधक क्षमता (immunity system) को बढ़ावा देता है। (और पढ़ें - प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ)

इसका उपयोग फ्लू, गले की समस्याओं और उच्च तापमान के इलाज के लिए किया जाता है। अगर आप नियमित आधार पर परवल को खातें हैं तो यह सर्दी और फ्लू की समस्या को कम करने में मदद करेगा। (और पढ़ें - फ्लू के लक्षण, कारण, उपचार, इलाज, दवा, निदान)

ग्रीन रंग का परवल बहुत अधिक फाइबर मात्रा में पाया जाता है जो उचित पाचन को बढ़ावा देने में मदद करता है। यह गैस और लिवर से जुडी समस्याओं का हल करने में भी मदद करता है। यदि आप अच्छी तरह से पचा सकते हैं तो इससे स्पष्ट हो जाएगा कि आपकी पाचन क्रिया अच्छे से काम कर रही है। इसको देखते हुए आपको स्वस्थ रहने की बेहतर संभावना मिल जाती है। अपने नियमित आहार में परवल को लेने से पाचन में सुधार किया जा सकता है। (और पढ़ें - पाचन क्रिया सुधारने के आयुर्वेदिक उपाय)

चेहरे पर झुर्रिया और मृत त्वचा हमारे चेहरे पर सबसे आम होती हैं। परवल में अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन ए और सी पाया जाता है जो कि कणिक अणुओं से लड़ने में मदद करता है। हर व्यक्ति के लिए बढ़ती उम्र बहुत ही चिंता का विषय रहता है। चूंकि यह एक प्राकृतिक प्रक्रिया है, फिर भी इन दिनों वृद्धावस्था की प्रक्रिया पहले दिखने लगी हैं और यह सब दूषित हवा और प्रदूषण के कारण है लेकिन प्राकृतिक परवल बढ़ती उम्र से जुडी चीज़ों को रोक सकता है। बढ़ती उम्र को रोकने के लिए ज़रूरी है अपने दैनिक आहार में परवल को लें। (और पढ़ें - आयुर्वेद की मदद से एजिंग के लक्षणों को कम करके रहें हमेशा युवा)

कब्ज एक दर्दनाक स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है जो आम तौर पर महिलाओं या पुरुषों में कम पानी पीने से होती हैं। ये कब्ज़ और भी ज़्यादा बढ़ सकती है अगर आपके खाने में अधिक खनिज हो। परवल में मौजूद बीज कब्ज़ की समस्या को कम करने में मदद करते हैं। अगर आपको कब्ज़ से बचना है तो अपने खाने में परवल ज़रूर लें। (और पढ़ें - कब्ज के लक्षण, कारण, उपचार, इलाज, दवा, निदान)

जब आप परवल खा रहें हो तो इसके बीज बाहर न डालें, इनसे शुगर स्तर संतुलित रहता है जिससे शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ती नहीं हैं। परवल को अपने नियमित आहार में शामिल करने से आप इन बिमारियों से बचे रहेंगे। (और पढ़ें - हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण, कारण, उपचार, इलाज, दवा, निदान)

हम सभी अपना वज़न कम करने के लिए लगातार प्रयास करते रहते हैं। आज के समय में फिट और ठीक रहना ज़रूरी है जिसके लिए लोग अपना वज़न कम करने के लिए हर तरीका अपनाते हैं लेकिन ये एक या दो हफ्ते की बात नहीं हैं। वजन को नियंत्रित करने के लिए आपको अपने व्यायाम और आहार पर सख्ती से ध्यान देना होगा साथ ही परवल को लेने से आपका वज़न कम होगा। इसके नियमित खाने से आपका पेट भरा रहेगा और जल्दी भूख भी नहीं लगेगी।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए डाइट टिप्स)

परवल से जुड़े आयुर्वेदिक फायदे इस प्रकार हैं -

  1. सिर दर्द : परवल की जड़ को काट दें और अब इसका पेस्ट बनाएं। फिर अपने माथे पर इस पेस्ट को लगाएं और सूखने दें। इससे आपके सर का दर्द कम होगा और काफी आराम मिलेगा। (और पढ़ें - सिर दर्द के घरेलू उपाय)
  2. घाव : परवल की जड़ का काढ़ा तैयार करें और घावों को धोने के लिए इसका उपयोग करें। इससे आपके घावों को आराम मिलेगा।(और पढ़ें - घाव ठीक करने के घरेलू उपाय)
  3. गंजेपन की बीमारी : परवल के पत्तो को पेस्ट बनाने के लिए पीस लें और अपने सर पर जहां-जहां बाल नहीं है वह इसे लगाएं। जब पेस्ट सूख जाये तो इसे धो लें। इससे आपके बालों को बढ़ने में मदद मिलेगी। (और पढ़ें - बाल बढ़ाने के उपाय)
  4. लिवर बीमारी : पूरे दिन में एक बार 2 चम्मच परवल के पत्ते का रस पियें। इससे आपके लिवर से जुडी परेशानियां कम होंगी। (और पढ़ें - लिवर को साफ करने के लिए किसी चमत्कार से कम नहीं यह जूस)
  5. खून साफ़ : हफ्ते में तीन बार 20 मिलीलीटर परवल का जूस पियें। यह रक्त के लिए फायदेमंद होता है। (और पढ़ें - खून साफ़ करने के लिए क्या खाना चाहिए)
  6. खांसी : पूरे दिन में दो बार 5 मिलीलीटर परवल की जड़ों का रस पियें। इससे आपके गले से जुडी परेशानियां कम होंगी। (और पढ़ें - खांसी के लिए घरेलू उपचार)
  7. त्वचा की बीमारी : 1 चम्मच परवल के पत्तों का रस लें उसमें शहद की कुछ मात्रा जोड़ें और फिर इसे गरम पानी से लें। इसके पीने से आपकी त्वचा से जुडी समस्याएं दूर हो जाएंगी। (और पढ़ें - शहद के फायदे)

परवल के पौधे का पारंपरिक उपयोग इस प्रकार हैं -

  1. इसका उपयोग पाचन, त्वचा और बुखार का इलाज करने के लिए किया जाता है।
  2. परवल के बीज को कोलेस्ट्रॉल और शुगर का स्तर कम करने के लिए प्रयोग किया जाता है। (और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए क्या खाएं)
  3. पेट में गैस दूर करने और लिवर के लिए यह उपयोगी है। (और पढ़ें - पेट में गैस दूर करने के घरेलू उपाय)
  4. इसका उपयोग पीलिया, वायरल संक्रमण, और त्वचा रोगों में किया जाता है।
  5. यह पेट से कीड़े और कब्ज को ठीक करने में मदद करता है।
  6. यह यौन शक्ति बढ़ाने के लिए अच्छा होता है। (और पढ़ें - यौन शक्ति बढ़ने के उपाय)
  7. यह खाँसी, एक्जिमा, रक्त की अशुद्धता, अत्यधिक कफ और पेट फूलना भी ठीक करता है। (और पढ़ें - पेट फूलने की समस्या का उपाय)
  8. हिंग के पाउडर के साथ बीज के रस के साथ मिलाएं और इसे पियें। (और पढ़ें - हींग के फायदे)
  9. मोटापा कम करने में मदद मिलेगी। (और पढ़ें - मोटापा कम करने के उपाय)
  10. परवल का जूस पीने से आपका शरीर स्वस्थ रहेगा। 

 परवल के नुकसान इस प्रकार हैं -

  1. परवल ज्यादा खाने से पेट खराब हो सकता है।
  2. परवल को अधिक खाने से पेट में पानी की मात्रा बढ़ सकती है जिससे पेट ख़राब हो सकता है। 
Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Divya Mahasudarshan VatiDivya Maha Sudarshan Vati80.0
Divya Mahamanjisthadi Kwath (Pravahi)Divya Mahamanjishthadi Kwath (Pravahi)75.0
Divya UshirasavaDivya Ushirasava85.0
Zandu Sudarshan TabletZandu Sudarshan Tablet45.0
और पढ़ें ...