myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

अगर आप दिन-रात जिम, योग, एक्सरसाइज, ध्यान आदि पर फोकस करके अपना सौंदर्य बढ़ाना चाहती हैं, लेकिन अपनी डाइट पर ध्यान नहीं दे पा रही हैं तो मन-माफिक परिणाम ना आने से आप को बार-बार निराशा का सामना करना पड़ता है। दरअसल वजन घटाने, सुंदर दिखने तथा आकर्षक व्यक्तित्व के लिए एक सही डाइट का चयन सबसे जरूरी होता है। गलत डाइट के नियमित सेवन से शरीर में टॉक्सिक तत्व घर कर जाते हैं, जोकि आप की सुंदरता को ग्रहण लगाने के साथ ही आपको अनेक बीमारियों से भी ग्रसित कर देते हैं। शरीर में सही डाइट के साथ-साथ आपको नियमित रूप से अपने शरीर को डीटॉक्स करना चाहिए, ताकि आप स्वास्थ्य और सुंदरता दोनों ग्रहण कर सकें। फलों और सब्जियों का जूस शरीर से विषैले तत्व निकालने में अहम भूमिका अदा करते हैं।

जूस के नियमित सेवन से आपको एक ही गिलास में फल, सब्जियों के ताकतवर एंटी आक्सीडेंट मात्रा एक गिलास में ही मिल जाती है। एक स्वास्थयवर्धक जीवनशैली की शुरुआत सुबह एक गिलास जूस के सेवन से शुरू होती है। सुबह नियमित एक गिलास जूस के सेवन से शरीर में पानी का संतुलन बना रहता है तथा इससे रक्त शुद्ध होता है। पाचन शक्ति मजबूत होती है, वजन कम होता है तथा शरीर में रोगों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता विकसित होती है। जूस में विद्यमान फाईबर तथा जरूरी पोषक तत्व शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालकर त्वचा तथा बालों को ताजगी प्रदान करते हैं।

(यह भी पढ़ें - चेहरे के बाल और डल स्किन से परेशान हैं तो जाने शहनाज हुसैन के टिप्स)

एक खीरे को काटकर इसमें अजवायन की पत्तियों को काटकर दोनों को जूसर/मिक्सर में अच्छी तरह पीस लीजिए। इस जूस में आप अपने स्वाद के अनुसार नमक या काली मिर्च मिलाकर प्रतिदिन सुबह एक गिलास ले सकते हैं। यह जूस विटामिन से भरपूर माना जाता है तथा अमाशय में अम्लीय तत्वों की अधिकता से होने वाली जलन से राहत पहुंचाता है।

दो टमाटर तथा थोड़ी सी स्ट्राबेरी को इकट्ठा करके जूसर/मिक्सर में अच्छी तरह पीस लें। आप इस जूस में अपने स्वादानुसार शहद या पानी मिला सकते हैं। इस जूस के नियमित प्रयोग से आपके रक्त में प्लेटलेट्स तथा होमोग्लोबिन का संतुलन बना रहता है।

एक सेब और संतरे के कुछ स्लाइस को मिलाकर इसका जूस निकाल लें। इस जूस में आप स्वादानुसार शहद या पानी मिलाकर पतला कर सकते हैं। इस जूस को हफ्ते में तीन दिन तक सेवन से शरीर में विटामिन तथा पौषाहार की आपूर्ति होती है तथा यह जूस कामकाजी महिलाओं व स्कूली बच्चों के लिए अत्यधिक लाभप्रद माना जाता है।

(यह भी पढ़ें - चेहरे की खूबसूरती बनाए रखने के लिए शहनाज़ हुसैन के ब्यूटी टिप्स)

गाजर तथा पपीते को मिलाकर बनाए गए जूस से शरीर में यौवनता का संचार होता है। तथा त्वचा में रंगत व निखार आता है। इससे हवा में फैले विषाकृत किटाणुओं से प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने में मदद मिलती है तथा इससे आंखों की रोशनी बढ़ती है तथा जोड़ों को सुदृढ़ करने में मदद मिलती है। गेहूं के जवारों का जूस शरीर में एंटीआक्सीडेंट के विकास में मदद करता है। गेहूं के जवारों में कुछ पानी मिलाकर इसे जूसर/मिक्सर में डालकर जूस बना लीजिए। इसके नियमित सेवन से यौवनता बरकरार रहती है तथा चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़तीं।

अनार का जूस रक्त को साफ करके शरीर में पौष्टिकता बढ़ाकर त्वचा में निखार लाता है। प्रतिदिन एक गिलास अनार के जूस के नियमित सेवन से कोशिकाओं का पुर्ननिर्माण होता है। इससे शरीर में यौवनता तथा सौंदर्य का आगाज होता है।

अदरक तथा नींबू जूस सौंदर्य के लिए काफी लाभदायक माना जाता है। नींबू को दो भागों में काटकर उसका जूस निकालकर इसमें कुछ बूंदें अदरक रस की डाल लें। इसमें आप शहद भी मिला सकते हैं। इसके नियमित सेवन से त्वचा में निखार यौवनता तथा आकर्षण पैदा होता है।

(यह भी पढ़ें - पिम्पल से छुटकारा पाने के लिए जानें शहनाज़ हुसैन के टिप्स)

शुरुआत में आप अपने स्वादानुसार किसी एक जूस के नियमित सेवन से शुरू कर सकती हैं। हालांकि, शरीर में डिटॉक्स के लिए अनेक जूसों का विकल्प मौजूद रहता है, लेकिन आप अपनी सुविधा और रुचि के हिसाब से किसी भी जूस का चयन कर सकती हैं। वैसे यह ज्यादा बेहतर होगा अगर आप किसी भी प्लान को शुरू करने के पहले डॉक्टर की सलाह लें तथा उसे अपने शरीर की आवश्यकताओं की जानकारी दें।

(यह भी पढ़ें - शहनाज हुसैन से जानें कैसे अपने लिए सर्वोत्तम लिपिस्टिक चुनें )

कृपया ध्यान रखें कि जूस हमेशा शुद्ध/ऑर्गनिक फलों सब्जियों से निकाला जाए अन्यथा बाजार में बिकने वाले ज्यादातर फल सब्जियों में कीटनाशक तत्वों की भरमार रहती है तथा इससे फायदा होने की बजाय नुकसान भी हो सकता है। जूस का उपयोग सभी प्रकार के बॉडी टाइप के लिए नहीं होता तथा जूस का सेवन करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें। गर्भपात करवा चुकी महिलाओं, कमजोर, मधुमेह से पीड़ित, हृदय रोगियों और रक्त चाप के रोगियों को जूस का प्रयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सम्पर्क करना चाहिए। सर्दियों में जूस का सेवन नुकसान पहुंचा सकता है।

(यह भी पढ़ें - शहनाज हुसैन से जानें साधना के जरिए कैसे पाएं सुंदरता)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें