myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

टांगों में दर्द एक परेशान करने वाली स्थिति है क्योंकि इसमें चलने, घुटने टेकने या सीढ़ियां चढ़ने जैसी गतिविधियों में दिक्कत आती है। चूंकि इस दर्द के कारण व्यक्ति विचलित हो जाता है, इसलिए वह नियमित कामों को पूरा करने में असमर्थ हो जाता है। हालांकि, टांगों में दर्द होना अपने आप में कोई खास बीमारी नहीं है, लेकिन यह कई तरह की चिकित्सकीय स्थितियों का लक्षण हो सकता है। इसके अलावा थकान या निर्जलीकरण (शरीर में पानी की कमी) के कारण यह दर्द ट्रिगर हो सकता है। टांगों में दर्द के सबसे सामान्य कारणों में शामिल हो सकते हैं :

टांग में दर्द के प्रबंधन के लिए कई मान्यताप्राप्त ओवर-द-काउंटर (ऐसे दवाइयां जिन्हें डॉक्टर के पर्चे के बिना सीधे उपभोक्ता को बेची जा सकती हैं) और प्रिस्क्रिप्शन (ऐसे दवाइयां जिन्हें डॉक्टर के कहने पर उपभोक्ता को बेची जा सकती हैं) दवाएं उपलब्ध हैं। हालांकि, ये दर्द निवारक दवाएं केवल लक्षणों का इलाज करती हैं, जबकि अंतर्निहित कारणों को ठीक नहीं कर सकती हैं। इन दवाओं का लंबे समय तक उपयोग करने से कुछ दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं।

होम्योपैथिक उपचार न केवल स्थिति को ठीक करने पर फोकस करता है, बल्कि रोगी की विशिष्ट स्थिति से पीड़ित होने की प्रवृत्ति पर भी ध्यान केंद्रित करता है। इसमें व्यक्ति की मानसिक स्थिति और मेडिकल हिस्ट्री जानने के बाद इलाज निश्चित किया जाता है।

होम्योपैथी में दर्द के प्रबंधन और इससे जुड़े लक्षणों को ठीक करने के लिए कई दवाएं मौजूद हैं। इनमें प्रमुख हैं कैप्सिकम एन्नम, कार्बोनियम सल्फ्यूरेटम, डायोस्कोरिया विलोसा, जेल्सेमियम सेंपरविरेंस, ग्नैफैलियम पॉलीसेफालम, कैलियम कार्बोनिकम, फॉस्फोरस, प्लंबम मेटालिकम, विपरा बेरस, अर्निका मोंटाना, कैलकेरिया कार्बोनिका, रस टॉक्सीकोडेंड्रोन, कैलियम बाइक्रोमिकम, मैग्नीशियम फास्फोरिकम और बैप्टिसिया टिंक्टोरिया।

इन दवाओं को या तो अकेले या अन्य दवाइयों के साथ टांग में दर्द के उपचार के लिए दिया जाता है।

  1. टांगों में दर्द के लिए होम्योपैथिक दवाएं - Homeopathic medicines for leg pain in Hindi
  2. टांग दर्द के रोगी के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - Dietary and lifestyle changes for a leg pain patient as per homeopathy in Hindi
  3. टांगों में दर्द के लिए होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - How effective are homeopathic medicines and treatments for leg pain in Hindi
  4. होम्योपैथिक दवा के साइड इफेक्ट्स और जोखिम और टांगों में दर्द के लिए इलाज - Side effects and risks of homeopathic medicine and treatments for leg pain in Hindi
  5. टिप्स - Takeaway in Hindi

कैप्सिकम एन्नम
सामान्य नाम :
केयेन पेप्पर
लक्षण : इस उपाय का उपयोग मुख्य रूप से मांसपेशियों में दर्द, अचानक झटके आना या मांसपेशियों में खिंचाव और ठंड लगने के इलाज के लिए किया जाता है। इसके अलावा यह निम्नलिखित प्रबंधन में भी उपयोगी है :

इसमें दर्द तब बिगड़ता है, जब व्यक्ति खुली हवा में बाहर जाता है या प्रभावित हिस्से को खुला रखता है, लेकिन प्रभावित हिस्से पर गर्म वातावरण या कुछ गर्म अप्लाई (जैसे सिकाई) करने से लक्षणों में सुधार होता है।

कार्बोनियम सल्फ्यूरेटम
सामान्य नाम :
अल्कोहल सल्फर
लक्षण : कार्बोनियम सल्फ्यूरेटम लंबे समय से गठिया झेल रहे व्यक्तियों के लिए एक उपयोगी उपाय है। यह निम्नलिखित लक्षणों को प्रबंधित करने में भी मदद कर सकता है :

  • साइटिका
  • टांगों में सेंसेशन (महसूस करना) की कमी
  • हाथ-पांव में दर्द होना
  • टांगों में मरोड़ या ऐंठन
  • दर्द, जिसमें एक हिस्सा सीज हो जाता है और इसके बाद दूसरा हिस्सा प्रभावित होने लगता है, निश्चित समय में दर्द उठना और लंबे समय तक दर्द बने रहना।

इसमें रोगियों को गर्म वातावरण में आने के बाद दर्द की समस्या होती है। नहाने के बाद दर्द और भी बढ़ जाता है, जबकि खुली हवा में दर्द से राहत मिल सकती है।

डायोस्कोरिया विलोसा
सामान्य नाम :
वाइल्ड यम
लक्षण : डायोस्कोरिया विलोसा दर्द के इलाज के लिए एक आम उपाय है। इसके अलावा निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी मददगार है जैसे :

यह लक्षण व्यक्ति के लेटने के दौरान और खराब हो जाते हैं, खासकर शाम व रात के समय में। लेकिन खड़े होने और प्रभावित हिस्से पर दबाव पड़ने से यह लक्षण बेहतर हो सकते हैं।

जेल्सेमियम सेंपरविरेंस
सामान्य नाम :
येलो जैस्मिन
लक्षण : यह उन लोगों के लिए एक उपयोगी उपाय है, जिनकी मांसपेशियां कमजोर हैं और रक्त परिसंचरण धीमा है। इस उपाय का उपयोग करके निम्नलिखित लक्षणों को भी सुधारा जा सकता है :

  • हाथ-पांव में कमजोरी
  • टांगों की मांसपेशियों से नियंत्रण कम होना
  • टांगों में अनियंत्रित थरथराहट होना
  • जल्दी थकान महसूस करना

यह सभी लक्षण नम मौसम में, तम्बाकू धूम्रपान करने पर और लक्षणों के बारे में ज्यादा सोचने पर बदतर हो जाते हैं। खुली हवा में घूमने पर यह लक्षण ठीक हो जाते हैं।

ग्नैफैलियम पॉलीसेफालम
सामान्य नाम :
कड-वीड, ओल्ड बालसा
लक्षण : ग्नैफैलियम पॉलीसेफालम का उपयोग मुख्य रूप से साइटिका के इलाज के लिए किया जाता है। यह निम्नलिखित लक्षणों के उपचार में भी सहायक है :

  • टांगों में ऐंठन, विशेष रूप से पिंडली में
  • दर्द और सुन्न होने की समस्या
  • जोड़ों में दर्द
  • टांगों और टखने के जोड़ों में गठिया संबंधी दर्द होना

कैलियम कार्बोनिकम
सामान्य नाम :
कार्बोनेट ऑफ पोटेशियम
लक्षण : कैलियम कार्बोनिकम तेज, धड़कन और चुभने वाले दर्द के लिए सबसे उपयुक्त उपचारों में से एक है। यह निम्नलिखित उपचार में भी उपयोगी है :

  • मांसपेशी फड़कना
  • टांगों में सूजन और दर्द
  • हाथ-पैर भारी लगना
  • घुटनों में दर्द

यह लक्षण लेटने (दर्द वाले टांग के बल) के दौरान, संभोग (सेक्स) के बाद, ठंडे वातावरण में और कॉफी या सूप पीने के बाद बढ़ जाते हैं। हालांकि, यह लक्षण दिन के दौरान तब ठीक हो जाते हैं जब गर्म वातावरण वाली परिस्थितियों में बाहर निकलते हैं।

फॉस्फोरस
सामान्य नाम :
फॉस्फोरस
लक्षण : ऑस्टियोमायलायटिस और हड्डी की नाजुकपन के लिए फॉस्फोरस एक प्रभावी दवा है। यह निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक करने में सहायक है :

  • पिंडली में सूजन
  • टांगों में कमजोरी, जिसकी वजह से कंपन्न होने लगता है
  • दर्द वाले हिस्से में को छूने, गर्म खाद्य और पेय पदार्थों का सेवन करने, शाम को और दर्द वाले हिस्से के बल लेटने से यह लक्षण बिगड़ जाते हैं। ठंडे खाद्य और पेय पदार्थों का सेवन करने, प्रभावित हिस्से को धोने, खुली हवा में समय बिताने और सोते समय इन लक्षणों में सुधार होने लगता है।

प्लंबम मेटालिकम
सामान्य नाम :
लीड
लक्षण : प्लंबम मेटालिकम गाउट और धमनियों में रुकावट के इलाज में प्रभावी है, जो पैर दर्द के सामान्य कारणों में से एक है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों में भी सुधार कर सकते है :

  • पिंडली की मांसपेशियों में ऐंठन
  • जांघ में दर्द
  • टांगों में सुन्नता और फड़फड़ाने से जुड़ा दर्द
  • टांगों को फैलाने में कठिनाई
  • टांगों में सूजन

उपरोक्त सभी लक्षण गतिविधियां करने से खराब हो जाते हैं, खासकर रात में। प्रभावित हिस्से को रगड़ने और टांगों पर दबाव पड़ने से यह लक्षण ठीक हो सकते हैं।

विपेरा/वाइपेरा बेरस
सामान्य नाम :
दि जर्मन वाइपर
लक्षण : इस उपाय का उपयोग मुख्य रूप से टांगों में अंतुलन और मोटर फंक्शंस (मांसपेशियों से जुड़े कार्य) के इलाज के लिए किया जाता है। यह निम्नलिखित लक्षणों का इलाज करने में भी मदद कर सकता है :

  • वैरीकोज वाइन्स
  • नसों में सूजन
  • टांगों में दर्द, जो पैरों को नीचे लटकाने पर और बढ़ जाता है।

अर्निका मोंटाना
सामान्य नाम :
लीपर्ड बेन
लक्षण : इस दवा का उपयोग चोट और खरोंच के इलाज के लिए किया जाता है। इसका उपयोग निम्नलिखित लक्षणों के उपचार में भी किया जा सकता है :

  • गाउट
  • मोच
  • हड्डियों का खिसक जाना
  • थके होने पर टांगों में दर्द होना
  • श्रोणि (पेल्विक) वाले हिस्से में दर्द

प्रभावित हिस्से को छूने या हिलाने पर लक्षण बिगड़ जाते हैं। नम मौसम भी लक्षणों को बढ़ा देता है, लेकिन लेटने पर दर्द ठीक हो जाता है।

कैल्केरिया कार्बोनिका
सामान्य नाम :
कार्बोनेट ऑफ लाइम
लक्षण : कैलकेरिया कार्बोनिका मुख्य रूप से फोड़े के इलाज में उपयोगी है, जिसकी जड़ें मांसपेशियों के अंदर होती हैं। इसका उपयोग निम्नलिखित लक्षणों के उपचार के लिए भी किया जा सकता है :

  • मोच के कारण तेज दर्द
  • पिंडली में ऐंठन के साथ घुटनों में ठंड लगना
  • हाथ-पांव में कमजोरी
  • घुटनों में सूजन
  • मांसपेशियों का फटना
  • गठिया का दर्द
  • लंबे समय से मोच की समस्या

खड़े होने और थकावट से (शारीरिक और मानसिक दोनों) लक्षण बिगड़ जाते हैं। किसी भी रूप में ठंडा, प्रभावित हिस्से को धोना, नम हवा और मानसून के मौसम भी इन लक्षणों को बढ़ाता है, जबकि शुष्क मौसम में लक्षण बेहतर होते हैं।

रस टॉक्सीकोडेंड्रोन
सामान्य नाम :
पॉइजन-आइवी
लक्षण : यह गठिया और मांसपेशियों के फटने वाले दर्द के इलाज के लिए एक प्रभावी दवा है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों को भी प्रबंधित कर सकता है :

  • सूजन और जोड़ों में दर्द
  • हाथ-पैर में अकड़न
  • अत्यधिक खिंचाव के बाद सुन्न हो जाना
  • टेंडन और स्नायुबंधन (लिगामेंट) में दर्द
  • साइटिका

नम मौसम में और सोते समय यह लक्षण बिगड़ जाते हैं, खासकर पीठ के बल लेटने पर। शुष्क और गर्म मौसम में गर्म सिकाई और हाथ-पैर को फैलाने पर यह लक्षण बेहतर हो जाते हैं।

(और पढ़ें - टांगों में दर्द का आयुर्वेदिक उपचार)

होम्योपैथिक दवाएं अत्यधिक घुलनशील रूप में तैयार की जाती हैं, ऐसे में कई प्रकार के आहार और जीवन शैली के कारण आसानी से इन दवाइयों का असर प्रभावित हो सकता है। इसलिए, होम्योपैथिक डॉक्टर मरीजों को निम्नलिखित चीजों से सावधान रहने की सलाह देते हैं :

क्या करना चाहिए

  • पौष्टिक और स्वस्थ भोजन खाएं।
  • साफ और स्वच्छ वातावरण में रहें और अपनी व्यक्तिगत स्वच्छता को बनाए रखें।
  • अपनी दिनचर्या में कुछ शारीरिक गतिविधियों को शामिल करके खुद को सक्रिय व ​फिट रखें।

क्या नहीं करना चाहिए

  • ऐसे पेय पदार्थ न लें, जिनमें कैफीन और तेज गंध वाला कोई पदार्थ होता है।
  • ऐसे खाद्य और पेय पदार्थों का सेवन न करें, जिनमें औषधीय गुण हो सकते हैं। जैसे सूप और सॉस, जो विशिष्ट जड़ी-बूटियों और जड़ों से बने होते हैं।
  • नम वातावरण में रहने से बचें।
  • नमक, चीनी और मसालों की अधिकता से बचें।

होम्योपैथी टांगों में दर्द की कई अंतर्निहित स्थितियों के लिए उपचार का एक प्रभावी तरीका है। ऐसे कई वैज्ञानिक साक्ष्य मौजूद हैं, जो होम्योपैथी इलाज करवाने का सुझाव देते हैं।

प्रायोगिक (एक्सपेरिमेंटल) अध्ययनों से पता चला है कि रस टॉक्सीकोडेंड्रोन में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑर्थ्रेटिक गुण होते हैं। जो साइटिका जैसे न्यूरोपैथिक दर्द के खिलाफ राहत देने में प्रभावी पाया गया है।

इंडियन जर्नल ऑफ रिसर्च इन होम्योपैथी में प्रकाशित एक अवलोकन अध्ययन (ऑब्जर्वेशनल स्टडी) के अनुसार, होम्योपैथिक दवाओं का उपयोग घुटने में क्रोनिक ऑस्टियोआर्थराइटिस के प्रबंधन में और रोग की प्रगति को धीमा करने के लिए किया जा सकता है। अध्ययन में 131 ऑस्टियोआर्थराइटिस रोगियों को शामिल किया गया था, जिन्हें कम से कम एक वर्ष के लिए होम्योपैथिक दवाएं दी गईं। अध्ययन के अंत तक, सभी रोगियों को दर्द से राहत मिल गई।

होम्योपैथिक उपचार एनिमल प्रोडक्ट, जड़ी-बूटियों और खनिजों जैसे प्राकृतिक पदार्थों से बनाए जाते हैं, जिन्हें उपयोग करने से पहले बड़े पैमाने पर घुलनशील रूप दिया जाता है। घुलनशील होने से यह विषाक्त प्रभाव से मुक्त हो जाता है, लेकिन इसके औषधीय गुण बने रहते हैं। ये उपचार बहुसंख्यक आबादी में सुरक्षित और प्रभावी हैं, लेकिन इन दवाइयों का सेवन केवल योग्य होम्योपैथिक चिकित्सक के निर्देशानुसार ही लेना चाहिए। एक योग्य डॉक्टर हमेशा मरीज की मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य स्थिति के अनुसार ही सबसे उपयुक्त उपाय बताता है।

टांगों का दर्द सिर्फ एक स्थिति नहीं है, बल्कि यह किसी चोट या बीमारी का लक्षण भी है। यह थकान और निर्जलीकरण के कारण हो सकता है। टांगों में दर्द के पारंपरिक उपचार में अंतर्निहित कारण का इलाज करने के लिए मालिश, आराम और दवा शामिल है।

होम्योपैथिक दवाएं ज्यादा सुरक्षित होती हैं और आमतौर पर इनके दुष्प्रभाव नहीं होते हैं। टांगों में दर्द के प्रभावी उपचार के लिए कई उपचार उपलब्ध हैं। होम्योपैथिक डॉक्टर रोगी के लक्षणों, अंतर्निहित कारणों और नैदानिक स्थिति जानने के बाद दवा लिखते हैं। योग्य चिकित्सक के मार्गदर्शन में इन उपायों को लंबे समय तक सुरक्षित रूप से उपयोग किया जा सकता है।

और पढ़ें ...

References

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia. [Internet] US National Library of Medicine; Leg pain
  2. Oscar E. Boericke. Repertory. Médi-T; [lnternet]
  3. The European Comittee for Homeopathy. Benefits of Homeopathy. Belgium; [Internet]
  4. FF Motiwala, Tapas Kundu, Kamlesh Bagmar, Vijay Kakatkar, Yogesh Dhole. Effect of Homoeopathic treatment on Activity of Daily Living (ADL) in Knee Osteoarthritis: A prospective observational study. Year : 2016 Volume : 10 Issue : 3 Page : 182-187
  5. Wenda Brewster O’Reilly. Organon of the Medical art by Wenda Brewster O’Reilly . B jain; New Delhi
  6. Magar, S., Nayak, D., Mahajan, U.B. et al. RETRACTED ARTICLE: Ultra-diluted Toxicodendron pubescens attenuates pro-inflammatory cytokines and ROS- mediated neuropathic pain in rats. Sci Rep. 2018 Sep; 8:13562.
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें