आयुर्वेद में कई ऐसी जड़ी-बूटियां हैं, जो स्वास्थ्य के लिए उपयोगी मानी जाती है. सिर्फ जड़ी-बूटी ही नहीं, बल्कि कई ऐसे पदार्थ भी होते हैं, जिसका उपयोग आयुर्वेद में दवा के तौर पर किया जाता है. इन्हीं में एक नाम है 'अभ्रक भस्म'. अभ्रक भस्म एक खनिज पदार्थ है. यह आयुर्वेद में सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं में से एक है. इसके इस्तेमाल से एनीमिया, डायबिटीज व पेट की समस्याओं को ठीक किया जा सकता है.

आज इस लेख में आप अभ्रक भस्म के फायदे व नुकसान के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - स्वर्ण भस्म के लाभ)

  1. अभ्रक भस्म के फायदे
  2. अभ्रक भस्म की मात्रा व कीमत
  3. अभ्रक भस्म के नुकसान
  4. सारांश
अभ्रक भस्म के फायदे व नुकसान के डॉक्टर

स्वास्थ्य के लिए अभ्रक भस्म के फायदे कई सारे हैं. इसे दवा के रूप में लेने से इम्यून सिस्टम को बेहतर किया जा सकता है. साथ ही डायबिटीज जैसी समस्या में फायदेमंद है. आइए, अभ्रक भस्म के कुछ मुख्य लाभों के बारे में विस्तार से जानते हैं -

सर्दी-जुकाम व कफ से राहत

बदलते मौसम के साथ सर्दी-जुकाम की समस्या सामान्य है. ऐसे में कुछ घरेलू उपायों के साथ अभ्रक भस्म का सेवन सर्दी-जुकाम व ठंड की परेशानी से राहत दिलाने में सहायक हो सकता है. लगातार होने वाली खांसी से भी अभ्रक भस्म काफी हद तक आराम दिला सकती है. इतना ही नहीं, इसका सेवन अस्थमा की परेशानी के लिए भी लाभकारी हो सकता है.

(और पढ़ें - गोदन्ती भस्म के फायदे)

पेट के लिए लाभकारी

कई लोगों को गैसअपचपेट दर्द व भूख में कमी जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. ऐसे में पेट या पाचन से जुड़ी इन समस्याओं के लिए अभ्रक भस्म लाभकारी हो सकती है. इसे दवा के रूप में लेने से पाचन स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है और गैस की समस्या से भी काफी हद तक राहत मिल सकती है.

(और पढ़ें - मंडूर भस्म के फायदे)

एनीमिया के लिए

खून की कमी यानी एनीमिया में भी अभ्रक भस्म लाभकारी हो सकती है. इसका सेवन हीमोग्लोबिन और रेड ब्लड सेल्स यानी लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में और एनीमिया की परेशानी को कम करने या उससे बचाव में सहायक हो सकता है. बस ध्यान रहे कि इसके सेवन के साथ-साथ डाइट में भी बदलाव करना आवश्यक है. इसके लिए डाइट में पालकअंडाकिशमिशमूंगफलीबादाम व ब्रोकली जैसे खाद्य पदार्थों को शामिल करने की जरूरत है.

(और पढ़ें - रजत भस्म के फायदे)

मधुमेह के लिए

डायबिटीज वह स्थिति है, जब व्यक्ति का ब्लड शुगर स्तर सामान्य से ज्यादा बढ़ जाता है. ऐसे में जरूरी है कि यह ध्यान रखा जाए कि मधुमेह के मरीज का शुगर स्तर नियंत्रित रहे. डायबिटीज की समस्या से बचाव या शुगर स्तर को कंट्रोल करने के लिए अभ्रक भस्म का सेवन लाभकारी हो सकता है. अगर किसी को लो शुगर लेवल की समस्या है, तो बेहतर है कि अभ्रक भस्म के सेवन से पहले डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह लें. इसके अलावा, अगर कोई नियमित रूप से डायबिटीज की दवा का सेवन कर रहा है, तो इस स्थिति में भी अभ्रक भस्म के सेवन से पहले डॉक्टरी सलाह आवश्यक है.

(और पढ़ें - छोटी दूधी के फायदे)

पुरुषों के लिए लाभकारी

अभ्रक भस्म पुरुषों के लिए भी लाभकारी हो सकती है. दरअसल, यह पुरुषों की यौन विकार समस्याओं में उपयोगी हो सकती है. इतना ही नहीं, पुरुषों में इसके सेवन से शुक्राणुओं के उत्पादन में भी फायदा हो सकता है. ऐसे में इसे पुरुषों के यौन स्वास्थ्य के लिए उपयोगी कहना गलत नहीं होगा.

(और पढ़ें - वाराही कंद के फायदे)

इम्यून पावर करे बेहतर

कमजोर इम्यून पावर व्यक्ति में संक्रमण के जोखिम को बढ़ा सकता है. ऐसे में यह जरूरी है कि रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर करने पर ध्यान दिया जाए. बेहतर इम्यून पावर के लिए भी अभ्रक भस्म लाभकारी हो सकती है. ऐसे में स्वस्थ डाइट के साथ-साथ अभ्रक भस्म का सेवन रोग-प्रतिरोधक क्षमता में सुधार करके बीमारियों के जोखिम से बचा सकता है.

(और पढ़ें - कुचला के फायदे)

लेख के इस भाग में हम व्यक्ति को कितनी मात्रा में अभ्रक भस्म लेना चाहिए, इसकी जानकारी देने के साथ-साथ इसकी कीमत के बारे में भी बता रहे हैं -

  • इसका सेवन 375 मिलीग्राम तक किया जा सकता है. व्यक्ति की उम्र व शारीरिक स्थिति के अनुसार इस मात्रा में बदलाव किए जा सकते हैं.
  • इसका सेवन दिनभर में दो बार किया जा सकता है.
  • अभ्रक भस्म का सेवन खाने के बाद किया जाना चाहिए.
  • इसका सेवन शहदच्यवनप्राश व घी के साथ किया जा सकता है.
  • अभ्रक भस्म की कीमत 30 रुपये से लेकर 500 रुपये तक हो सकती है.

(और पढ़ें - कैमोमाइल के फायदे)

अगर अभ्रक भस्म के लाभ हैं, तो कुछ नुकसान भी हैं. इसके नुकसान को लेकर अभी तक किसी प्रकार का शोध नहीं है. अभ्रक भस्म के संबंध में नुकसान कम और सावधानियां ज्यादा हैं -

  • गर्भवती अभ्रक भस्म का उपयोग न करे, क्योंकि इससे उन्हें व उनके गर्भ में पल रहे शिशु को नुकसान हो सकता है.
  • स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी इसके सेवन से दूरी बना लेनी चाहिए. अगर सेवन करना भी चाहती हैं, तो बेहतर है पहले डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह लें.
  • बच्चों को अभ्रक भस्म का सेवन बिल्कुल न कराएं.
  • बड़े भी इसके सेवन से पहले डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह लें ताकि इसकी खुराक से जुड़ी सारी जानकारी रहे.
  • अगर कोई पहले से ही किसी पुरानी बीमारी से संबंधित दवा का सेवन कर रहा हो, तो भी इसके सेवन से पहले डॉक्टर से सलाह लें.

(और पढ़ें - फीवरफ्यू के फायदे)

तो ये थी अभ्रक भस्म से जुड़ी जानकारियां. यह एक उपयोगी आयुर्वेदिक दवा है, जिसे डायबिटीज व पेट से जुड़ी समस्याओं के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. वहीं, अगर सही जानकारी के साथ इसका उपयोग न किया जाए, तो इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं. इसलिए बेहतर है इसके सेवन से पहले जानकारों की सलाह ली जाए. वहीं, अगर इसके सेवन के बाद किसी प्रकार की असुविधा महसूस हो, तो तुरंत इसका सेवन बंद करके डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए.

(और पढ़ें - लता कस्तूरी के फायदे)

Dr. Sugam sahu

Dr. Sugam sahu

आयुर्वेद
4 वर्षों का अनुभव

Dr Harshit Raghuwanshi

Dr Harshit Raghuwanshi

आयुर्वेद
10 वर्षों का अनुभव

Dr Vivek Dalal

Dr Vivek Dalal

आयुर्वेद
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Manjiri Bagde

Dr. Manjiri Bagde

आयुर्वेद
4 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ