गुग्गुल एक राल जैसे पदार्थ को कहा जाता है। यह गुग्गल पेड़ से प्राप्त होता है। यह बहुत अधिक गर्मी के दौरान पौधे द्वारा उत्सर्जित एक गोंद राल होती है। यह कई रोगों को दूर करने में मदद करता है। राल प्राप्त करने के लिए, मुख्य तने में गोलाई में कट लगाया जाता है। इन कट्स के माध्यम से, सुगंधित तरल पदार्थ एक सुनहरे भूरे रंग या लाल भूरे रंग में तेजी से ठोस हो जाता है। सूखे राल में कड़वा सुगन्धित स्वाद और गंध होती है। यह प्राप्त राल ही गुग्गुल होती है जो औषधीय उद्देश्य के लिए प्रयोग की जाती है।

  1. गुग्गुल के फायदे - Guggul ke Fayde in Hindi
  2. गुग्गुल के नुकसान - Guggul ke Nuksan in Hindi

गुग्गुल को गुग्गल के नाम से भी जाना जाता है। यह एक पौधे का राल है जिसे कम्फोरा मुकुल (Commiphora Mukul) के नाम से जाना जाता है। यह पौधा एक छोटे पेड़ के रूप में बढ़ता है और 4-5 फीट की ऊंचाई तक पहुंचता है। इसकी शाखाएं कांटेदार होती हैं। ये पौधे उत्तरी अफ्रीका से लेकर मध्य एशिया तक पाए जाते हैं, लेकिन ये उत्तरी भारत में सबसे अधिक पाए जाते हैं। ताज़ा गुग्गुल नरम और चिपचिपा होता है। यह राल स्वाद में कड़वी और तासीर में गर्म होती है। यह सभी तीन दोषों को सामान्य रखने में मददगार होता है। तो आइये जानते हैं इसके लाभों के बारे में -

गुग्गुल के फायदे कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने के लिए - Guggul for Cholesterol in Hindi

गुग्गुल में रक्त को शुद्ध करने और फिर से जीवंत करने वाले गुण होते हैं। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है और विषाक्त पदार्थों के संचय के कारण होने वाले त्वचा रोगों को ठीक करने में मदद करता है। गुग्गुल शरीर की प्रतिरक्षा में सुधार और लिपिड स्तर को नियंत्रित करता है। यह कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड का स्तर को कम करने के लिए एक प्राकृतिक उत्पाद है।

(और पढ़ें - हाई कोलेस्ट्रॉल का इलाज)

इन बीमारियों के उपचार के लिए आपको गुग्गुल, शहद और चूने के रस की आवश्यकता होगी। एक ग्राम गुग्गुल, शहद और चूने के रस को मिक्स करके सुबह के समय खाली पेट लें। 

(और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल कम करने के घरेलू उपाय)

गुग्गुल के लाभ हैं त्वचा के लिए उपयोगी - Guggul for Skin in Hindi

अल्सर और घावों का इलाज करने के लिए गुग्गुल का प्रयोग किया जाता है। यह नारियल के तेल में मिलाया जाता है और प्रभावित त्वचा क्षेत्र पर उपयोग किया जाता है। 

(और पढ़ें - खूबसूरत त्वचा के लिए आहार)

गुग्गुल के गुण करें मौखिक समस्याओं का इलाज - Guggul Benefits for Oral Problems in Hindi

गुग्गल में एंटीसेप्टिक और एस्ट्रिंजेंट गुण होते हैं। आप इसका उपयोग मौखिक समस्याओं जैसे मसूड़ों की कमजोरी, पाइरिया आदि का इलाज करने के लिए कर सकते हैं। इस उद्देश्य के लिए एक गिलास गर्म पानी में दो ग्राम गुग्गल को पिघलाए और इसे माउथ वाश और गरारे करने के लिए उपयोग करें। गुग्गल एक प्राकृतिक उत्पाद है और बिना किसी नुकसान के लंबे समय तक सुरक्षित रूप से लिया जा सकता है। यह 6 महीने तक के लिए नैदानिक परीक्षणों में सुरक्षित रूप से उपयोग किया गया है। कुछ रिसर्च से पता चलता है कि यह दो साल तक सुरक्षित रूप से इस्तेमाल किया जा सकता है। 

(और पढ़ें - कैविटी के लक्षण, कारण, उपचार, बचाव, दवा)

गुग्गुल बेनिफिट्स फॉर वेट लॉस - Guggul Benefits for Weight Loss in Hindi

हम जानते हैं कि मोटापा हृदय रोग, मधुमेह, जोड़ों के दर्द, पीसीओएस और अन्य चयापचय विकारों का मुख्य कारण है। आयुर्वेद के मोटापा के सिद्धांतों के आधार पर तब होता है जब वात, कफ को बिगाड़ देता है। यह राल विशेष रूप से वजन घटाने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसीलिए अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो इसका सेवन आपके लिए अच्छा हो सकता है। 

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए क्या खाएं)

गुग्गुल का उपयोग करें जोड़ों के दर्द को कम - Guggul for Joint Pain in Hindi

गुग्गल के सूजन को कम करने वाले गुण जोड़ों में दर्द और सामान्य सूजन को कम करने में मदद करते हैं। हर्बल दवा के बाहरी उपयोग में दर्द और सूजन को कम करने में यह राल मददगार होती है। यह गोंद आयुर्वेदिक तैयारी का मुख्य घटक है जिसका उपयोग गठिया, कटिस्नायुशूल और जोड़ों के दर्द में किया जाता है। 

(और पढ़ें - जोड़ों में दर्द के घरेलू उपाय)

गुग्गुल का सेवन रखें पाचन को बेहतर - Guggul for Digestion in Hindi

यह राल भूख और सामान्य पाचन तंत्र को बढ़ाता है। यह अपच, सूजन और पेट फूलने से राहत देने में मदद करता है। यह लिवर के कायाकल्प के रूप में कार्य करता है और लिवर से विषाक्त पदार्थ को हटाता है। यह बवासीर, कब्ज आदि में भी मददगार है। गुग्गुल तासीर में गर्म होती है और पित्त का उत्पादन उत्तेजित करती है। यह चयापचय और पाचन में सुधार करने में बहुत मददगार है। 

(और पढ़ें - पाचन क्रिया सुधारने के आयुर्वेदिक उपाय)

गुग्गुल है श्वसन समस्याओं का उपाय - Guggul ke Fayde for Respiratory Disorders in Hindi

गुग्गुल फेफड़े के स्वास्थ्य को बढ़ाने में मदद करती है और यह पुरानी खाँसी, ब्रोंकाइटिस, अस्थमा और तपेदिक के इलाज में बहुत उपयोगी होती है। इसके अलावा यह आयुर्वेद आचार्य द्वारा मूत्र कैलकुली और सिस्टिटिस के उपचार के लिए इसकी सलाह दी जाती है।

(और पढ़ें - ऊपरी श्वसन तंत्र संक्रमण)

गुग्गुल फॉर डायबिटीज - Guggul for Diabetes in Hindi

डायबिटीज और मोटापे के लिए आयुर्वेद उपाय के रूप इसका उपयोग करने की सलाह दी जाती है। इस राल का इस्तेमाल वजन घटाने में मदद करता है, इसलिए यह रक्त शर्करा के उच्च स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसके अलावा पुरानी गुग्गुल में रक्त शर्करा को कम करने वाले गुण होते हैं। 

(और पढ़ें - डायबिटीज का आयुर्वेदिक इलाज)

स्तंभन दोष का इलाज करें गुग्गुल से - Guggul Benefits for Erectile Dysfunction in Hindi

आयुर्वेदिक ग्रंथों में इस गोंद के कामोद्दीपक गुणों के बारे में बताया गया है। यह राल स्तंभन दोष के लिए सबसे अच्छा आयुर्वेदिक उपाय है। चूंकि यह वजन घटाने और मधुमेह में मदद करता है, इसलिए यह हर्बल दवाई स्तंभन दोष रोग में इस्तेमाल की जा सकती है। यह पुरुष कामेच्छा को बढ़ा देता है और यह शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाता है इसलिए इस राल का प्रयोग आयुर्वेदिक वाजीकरण थेरेपी में किया जाता है। 

(और पढ़ें - स्तंभन दोष के घरेलू उपाय)

गुग्गुल है पीसीओएस का इलाज - Guggul for PCOS in Hindi

गुग्गुल महिला बांझपन और मासिक धर्म विकारों में उपयोग करने की सलाह दी जाती है। यह पीसीओएस या पीसीओडी के आयुर्वेदिक उपचार में इस्तेमाल किया जा सकता है। 

(और पढ़ें - पीसीओएस का घरेलू इलाज)

  1. गुग्गल मासिक धर्म के दौरान रक्त के प्रवाह को उत्तेजित, गर्भाशय के आकार को कम करता है। इसलिए गर्भावस्था के दौरान इसके उपयोग से बचाना चाहिए। (और पढ़ें - प्रेगनेंसी में पेट दर्द हो तो क्या करे और गर्भ में लड़का कैसे हो से जुड़े मिथक)
  2.  गुग्गुल थायरॉयड के कार्य को प्रभावित करता है इसलिए निष्क्रिय या अतिरक्त थायरॉयड में सावधानी से उपयोग करें। (और पढ़ें - थायराइड के लक्षण)
  3.  इसका अधिक मात्रा में सेवन करना लिवर के लिए हानिकारक हो सकता है। लिवर रोग या आँतों की सूजन वाले रोग में गुग्गल का उपयोग सावधानी से किया जाना चाहिए।
  4.  स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी इसके सेवन से पहले अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

उत्पाद या दवाइयाँ जिनमें गुग्गुल है

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ