myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कभी कभी शरीर से हल्की गंध आना सामान्य है, लेकिन अत्यधिक या अप्रिय तन की गंध दूसरों को काफी परेशानी पहुंचा सकती है जो आपके लिए भी शर्मनाक हो सकता है।

जब पसीने की ग्रंथियां अधिक सक्रिय हो जाती हैं तो शरीर से दुर्गन्ध उत्पन्न होती है। लेकिन यह गंध पसीने की वजह से नहीं पसीने के बैक्टीरिया के साथ मिलने की वजह से आती है। शरीर से दुर्गन्ध उत्पन्न करने वाला जीवाणु गर्म और नम वातावरण में तेज़ी से बढ़ता है। (और पढ़ें - ज़्यादा पसीना आना रोकने के घरेलू उपाय)

तन की दुर्गन्ध के कुछ अन्य कारणों में अस्वछता, पोषक तत्वों की कमी, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्यायें जैसे कब्ज आदि प्रमुख हैं। अन्य चिकित्सा समस्यायें जैसे आनुवंशिक चयापचय संबंधी रोग, लिवर की बीमारी या शुगर आदि भी शरीर की बदबू के लिए उत्तरदायी हैं।

बदन की बदबू का प्राथमिक लक्षण शरीर से उत्पन्न असामान्य तीव्र गंध है। अन्य लक्षणों में अत्यधिक पसीना आना, वजन घटना, रात में पसीना आना (Night sweats) आदि प्रमुख हैं।

शरीर की दुर्गन्ध का इलाज दवाओं द्वारा या स्वच्छता का ध्यान रखकर किया जा सकता है। यहां कुछ सरल और प्राकृतिक घरेलू उपचार दिए जा रहे हैं जो बैक्टीरिया की वृद्धि को नियंत्रित करके अत्यधिक पसीने और शरीर की बदबू से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद करेंगे।

  1. पसीने की बदबू दूर करने के लिए टिप्स - Tips for reducing body odour in Hindi
  2. अत्यधिक पसीना और शरीर से दुर्गन्ध आने के कारण - Causes of excessive sweating and body odour in Hindi
  3. बेकिंग सोडा करे तन की दुर्गन्ध दूर - Baking soda removes body odour in Hindi
  4. सेब का सिरका दिलाये बदन की बदबू से छुटकारा - Apple cider vinegar for body odour in Hindi
  5. नींबू का रस है बगलों का पसीना रोकने में असरदार - Lemon juice to stop sweaty armpits in Hindi
  6. रोज़मेरी है शरीर की दुर्गन्ध दूर करने का प्राकृतिक तरीका - Rosemary is a natural remedy to reduce body odour in Hindi
  7. सेज की चाय है अत्यधिक पसीना आने का इलाज - Sage tea for excessive sweating in Hindi
  8. विच हेज़ल है पसीना दूर करने का उपाय - Witch hazel reduce sweating in Hindi
  9. टी ट्री ऑयल से बना डिओडोरेंट है तन की दुर्गन्ध दूर करने में सहायक - Tea tree oil deodorant spray reduces body odour in Hindi
  10. शलजम का रस करे पसीने की बदबू दूर करने में मदद - Turnip juice for excessive sweating in Hindi
  11. टमाटर दिलाये शरीर की बदबू से निजात - Tomato juice to remove body odour in Hindi
  12. गेंहू के जवारे का रस है बदन की बदबू दूर करने का अचूक उपाय - Wheatgrass juice for body odour in Hindi

इन उपायों के साथ, शरीर की गंध से छुटकारा पाने के लिए आपको स्वच्छता बनाए रखने और संतुलित आहार का सेवन करना होगा। ताज़गी के लिए, इन अतिरिक्त सुझावों का पालन कर सकते हैं:

  1. दिन में कम से कम एक बार स्नान करें।
  2. अपने कपड़े एक बार पहनने के बाद ज़रूर धोयें।
  3. टाइट जूते न पहनें और लंबे समय तक जूते पहनने से बचें।
  4. अपने तनाव और क्रोध पर नियंत्रण रखें क्योंकि ऐसा करने से अधिक पसीना आता है। (और पढ़ें - गुस्सा कैसे कम करें)
  5. अपने आप को जितना संभव हो उतना शुष्क (dry) रखें।
  6. सिंथेटिक कपड़ों के बजाय कॉटन के कपड़े पहनें।
  7. शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए अधिक से अधिक पानी पियें।

शरीर से निकलने वाले पसीने में बदबू नहीं आती है बल्कि यह शरीर को ठंडा रखने में मदद करता है। वास्तव में पसीने में मौजूद वसा बैक्टीरिया का भोजन होता है। इन्हीं बैक्टीरिया का अपशिष्ट, शरीर से बदबू आने का कारण बनता है।

शरीर की बदबू के प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं:

  1. अस्वच्छता जो गंध पैदा करने वाले जीवाणुओं के उत्पन्न होने का कारण है।
  2. मसालेदार भोजन जो पसीने में दुर्गन्ध उत्पन्न करता है। (और पढ़ें - मसालेदार खाने के फायदे और नुकसान)
  3. अत्यधिक पसीना आने से शरीर के पसीना आने वाले क्षेत्रों में बैक्टीरिया उत्पन्न होते हैं।
  4. कैफीनयुक्त पेय, जिनकी अधिकता से पसीना अधिक आता है। (और पढ़ें - कॉफी पीने के फायदे और नुकसान)
  5. शराब की लत, जो शरीर में अधिक तरल पदार्थों के सेवन की लालसा को कम करती है। (और पढ़ें - शराब की लत से छुटकारा पाने के असरदार तरीके)
  6. जो कपड़े त्वचा के अनुकूल न हों उनमें पसीना आसानी से वाष्पित नहीं हो पाता जिससे नमी और बैक्टीरिया उत्पन्न होते हैं।
  7. शुगर।
  8. थायरॉयड समस्याएं। (और पढ़ें - थायराइड के लक्षण)
  9. कुछ दवाइयां।

इसके अलावा, पसीना आने की मात्रा इस बात पर भी निर्भर करती है कि आप किस तरह की जलवायु में रहते हैं। तन की बदबू दूर करने के 10 असरदार घरेलू उपचार इस प्रकार हैं :

चूंकि बेकिंग सोडा त्वचा से नमी अवशोषित करने में मदद करता है इसलिए यह पसीने को अवशोषित करता है और शरीर की दुर्गन्ध को कम करता है। इसके अलावा, यह बैक्टीरिया को भी नष्ट करता है और एक प्राकृतिक डिओडोरेंट की तरह काम करता है। (और पढ़ें - बेकिंग सोडा के फायदे और नुकसान)

  1. एक चम्मच बेकिंग सोडा और एक ही चम्मच नींबू का रस मिलाएं। इसे अपनी बगलों (Underarms) और अन्य अंगों पर (जहां भी अधिक पसीना आता है) लगायें। इसे दो मिनट के लिए लगा रहने दें और स्क्रब बिलकुल भी न करें। इसे पानी से धोने के बाद नहा लें। कुछ हफ्तों के लिए प्रतिदिन यह प्रक्रिया दोहरायें।
  2. वैकल्पिक रूप से, बेकिंग सोडा और मकई के आटे की बराबर मात्रा मिलायें। पसीने और उसकी बदबू को रोकने के लिए इसे बगलों पर लगायें। जब आपको अधिक समय के लिए सुरक्षा की ज़रूरत हो तब इस उपाय का उपयोग करें। (और पढ़ें - मकई (कॉर्न) के फायदे और नुकसान)

सेब का सिरका बैक्टीरिया से लड़ने के लिए शक्तिशाली सामग्री है। यह त्वचा के पीएच स्तर को संतुलित करके शरीर की दुर्गन्ध को खत्म करने में भी मदद करता है। (और पढ़ें - सेब के सिरके के फायदे और नुकसान)

  1. सेब के सिरके में एक रुई का टुकड़ा भिगोयें और अपनी बगलों पर रगड़ें। दो से तीन मिनट तक प्रतीक्षा करें और फिर नहा लें। जब तक आपको सुधार महसूस न हो, इस उपाय को प्रतिदिन दो बार (एक बार सुबह और फिर सोने से पहले) दोहरायें।
  2. वैकल्पिक रूप से, एक कप सेब के सिरके को नहाने के गुनगुने पानी में मिलायें। इस पानी में 10 मिनट के लिए नहायें।
  3. एक गिलास गर्म पानी में दो चम्मच सेब का सिरका और थोड़ा शहद मिला लें। रोज़ इस मिश्रण को भोजन से पहले पियें।

नींबू का रस, तन की दुर्गन्ध के इलाज के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। नींबू के रस की अम्लीय प्रकृति त्वचा के पीएच स्तर को कम करने में मदद करती है जो गंध पैदा करने वाले जीवाणुओं को नष्ट करने में सहायक है। (और पढ़ें - नींबू के फायदे और नुकसान)

  1. एक ताज़े नींबू को दो हिस्सों में काटें। एक हिस्से को अपनी बगलों पर रगड़ें। इसे अपने आप सूखने दें और फिर नहा लें। जब तक गंध पूरी तरह से समाप्त न हो जाये, इस उपाय को प्रतिदिन एक बार अपनायें।
  2. यदि आपकी त्वचा संवेदनशील है तो आधे नींबू के रस को आधे कप पानी में मिलाकर पतला कर सकते हैं और रुई की सहायता से इसे अपनी बगलों पर लगा सकते हैं। 10 मिनट तक इसे लगा रहने दें और फिर पानी से धो लें। जब तक आप सुधार महसूस न करें तब तक इसे दिन में एक बार दोहराते रहें।

रोज़मेरी दुर्गन्ध उत्पन्न करने वाले बैक्टीरिया की वृद्धि को रोकने में मदद करती है। इसमें मेन्थॉल और क्लोरोफिल भी मौजूद होते हैं जिसमें प्राकृतिक डिओडोरेंट के गुण होते हैं, जो शरीर की दुर्गन्ध को बेअसर करते हैं और आपके शरीर को अच्छी महक देते हैं। इसके अलावा, इसमें जिंक भी होता है जिसकी कमी से शरीर की दुर्गन्ध पैदा हो सकती है। (और पढ़ें - रोजमेरी के फायदे और नुकसान)

  1. चार कप गर्म पानी में आधा कप रोज़मेरी की पत्तियों को मिलायें। इसे 10 मिनट के लिए भीगा रहने दें फिर इसे अपने नहाने के पानी में मिलायें। इस पानी से 15 से 20 मिनट तक नहायें। अच्छी खुशबू के लिए ये उपाय प्रतिदिन अपनायें।
  2. वैकल्पिक रूप से, 30 मिली पानी में आठ से 10 बूंदें रोज़मेरी के तेल की मिलाएं और इसे डिओडोरेंट की तरह बगलों और शरीर पर लगायें।

नोट: यदि रोज़मेरी किसी भी प्रकार की जलन उत्पन्न करे तो इसका उपयोग बंद कर दें।

सेज, एक प्रकार की सुगन्धित जड़ी बूटी है जो शरीर की गंध को दूर करने के लिए उपयोग की जाती है। सेज, पसीने की ग्रंथि की गतिविधि कम करता है और एक एंटीबैक्टीरियल एजेंट है जो बैक्टीरिया को आपकी त्वचा पर पनपने से रोकता है।

  1. आप इसका प्राकृतिक डिओडोरेंट बना सकते हैं, जिसमें पांच-पांच बूंदें सेज के तेल, धनिया तेल (Coriander essential oil) और लैवेंडर तेल (Lavender essential oil) की लगभग 60 मिली विच हेज़ल के साथ मिलायें। इस मिश्रण को एक स्प्रे बोतल में भरकर डिओडोरेंट की तरह उपयोग कर सकते हैं। (और पढ़ें - लैवेंडर के तेल के फायदे और नुकसान)
  2. वैकल्पिक रूप से, दो बड़े चम्मच सूखी सेज को चार कप गर्म पानी में डालें और इसे 10 मिनट तक भीगने दें। अब इस मिश्रण से अपनी बगलों को धोने के लिए उपयोग करें। जब तक सकारात्मक परिणाम न मिलें इस प्रक्रिया को प्रतिदिन दो बार दोहरायें।
  3. आप सेज की चाय भी पी सकते हैं। 10 मिनट के लिए एक कप गर्म पानी में एक चम्मच सेज को भिगो दें। सेज की पत्तियों को छानकर चाय का आनंद लें। एक दिन में दो कप से ज्यादा सेज की चाय न पियें।

नोट: गर्भवती महिलाओं द्वारा सेज का सेवन नहीं किया जाना चाहिए।

विच हेज़ल त्वचा का पीएच स्तर कम करने और बदबू उत्पन्न करने वाले जीवाणुओं को नष्ट करने में असरदार है। इसके अलावा, इसके गुण त्वचा छिद्रों को सिकोड़कर पसीने के उत्पादन को कम करने में मदद करते हैं।

  1. विच हेज़ल में थोड़ी सी रुई भिगोयें।
  2. अपनी बाहों के नीचे रगड़ें।
  3. जब भी आपके शरीर से बदबू आए इस उपाय को ज़रूर अपनायें। यह दुर्गन्धनाशक की तरह काम करेगा।

टी ट्री ऑयल में जीवाणुरोधी (Antibacterial) और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो त्वचा पर मौजूद बैक्टीरिया को मारने और शरीर की बदबू को समाप्त करने में मदद करते हैं। जिस कारण पसीने की बदबू से छुटकारा मिलता है। (और पढ़ें - टी ट्री ऑयल के फायदे और नुकसान)

  1. टी ट्री ऑयल की दो बूंदें 30 मिली पानी में मिलायें।
  2. एक स्प्रे बोतल में इस मिश्रण को भरें और इसे डिओडोरेंट की तरह प्रयोग करें।

नोट: जिन लोगों की त्वचा अत्यधिक संवेदनशील है वो टी ट्री ऑयल का उपयोग न करें।

शलजम में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो गंध पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मारने में मदद करते हैं। इसके अलावा, इसमें विटामिन सी और कई अन्य पोषक तत्व होते हैं जो बदन की बदबू दूर करने में असरदार होते हैं। (और पढ़ें - शलजम के फायदे और नुकसान)

  1. दो या तीन शलजम को बारीक छोटे टुकड़ों में काट लें और पेस्ट बना लें।
  2. एक छन्नी में पेस्ट डालें और चम्मच से दबाकर उसका रस निकाल लें।
  3. इस रस को अपनी बगलों और जननांगों पर लगायें।
  4. इसे अपने आप सूखने दें और फिर इसे गुनगुने पानी से धो लें।
  5. प्रतिदिन सुबह इस उपाय का प्रयोग करें ताकि आपको कम से कम 10 घंटे तक बदन से आने वाली दुर्गन्ध से छुटकारा मिल सके।

आप अपने आहार में भी शलजम का सेवन कर सकते हैं।

टमाटर में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो दुर्गन्ध पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मार सकते हैं। ये छिद्रों को भरने और पसीने को कम करने में भी मदद करता है। (और पढ़ें - टमाटर के फायदे और नुकसान)

  1. सात से आठ टमाटर को पीस लें।
  2. छन्नी की सहायता से उसका जूस निकाल लें।
  3. इस ताज़े रास को पानी से भरी बाल्टी में मिलायें।
  4. नहाने के लिए इस पानी का इस्तेमाल करें।
  5. शरीर से आने वाली बदबू को नियंत्रित करने के लिए इस उपाय का पालन करें।

आप नियमित रूप से एक से दो गिलास टमाटर का रस पी भी सकते हैं।

गेंहू के जवारे में क्लोरोफिल मौजूद होता है जिसमें गंधहरण (Deodorizing) प्रभाव होता है। यह विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में भी मदद करता है। (और पढ़ें - गेहूं के जवारे के फायदे और नुकसान)

  1. एक कप पानी में एक या दो चम्मच गेंहू के जवारे का रस मिलायें।
  2. इसे सुबह खाली पेट पियें।
  3. जब तक शरीर की दुर्गन्ध दूर नहीं हो जाती इस दिनचर्या का नियमित रूप से पालन करें।

नोट: चूंकि गेंहू के जवारे का स्वाद बहुत अजीब होता है इसलिए यह कुछ लोगों को इसके सेवन से उल्टी भी हो सकती है।

और पढ़ें ...