myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

बैक्टीरिया और वायरस से संक्रमण के बारे में हम समाचार में पड़ते और सुनते रहते हैं, लेकिन क्या कभी आपने सोचा हैं कि क्यों फंगल संक्रमण और उनके उपचार के परिणाम शायद ही कभी हेडलाइंस बनाते हैं। शायद इसका कारण यह हो सकता है कि फंगस (कवक) से होने वाले संक्रमण का इलाज आमतौर पर काफी सरल होता हैं।

फिर भी, दाद (रिंगवर्म), एथलीट फुट, जॉक खुजली और यीस्ट संक्रमण कुछ ऐसे फंगल संक्रमण हैं, जिनसे आपको अवगत होना चाहिए। त्वचा विशेषज्ञों के मुताबिक, फंगी को मारना मुश्किल हो सकता है और यही वजह है कि यदि आपको ऐसी कोई परेशानी हो तो स्थिति खराब हो सकती है।

फंगल संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे या उनकी चीज़ों को छूने से फैल सकता है जो पहले ही इससे प्रभावित हैं। अगर तुरंत इलाज नहीं किया जाता है, तो ये संक्रमण परेशानी पैदा कर सकते हैं और कभी-कभी घातक भी हो सकते हैं।

उपचार की लंबाई इस बात पर निर्भर करती है कि आपको किस प्रकार का फंगल संक्रमण हुआ है और यह कितना गंभीर है तथा यदि आपको कोई अन्य स्वास्थ्य समस्या है, उदाहरण के लिए, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली में समस्याएं।

(और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

फंगल संक्रमण के इलाज के कुछ कोर्स कम दिनों पूरे हो सकते है जैसे कि योनि थ्रश का इलाज और कुछ अन्य कोर्स आठ सप्ताह तक लंबे हो सकते हैं, उदाहरण के लिए, सिर में दाद संक्रमण का इलाज।

एंटी फंगल दवाओं का उपयोग फंगल संक्रमण के इलाज के लिए किया जाता है, जो आमतौर पर आपकी त्वचा, बालों और नाखूनों को प्रभावित करता है। आप फार्मेसी से कुछ ओटीसी एंटी फंगल दवाएं खरीद सकते हैं, लेकिन आपको कुछ प्रकार की दवाओं के लिए अपने डॉक्टर से पर्ची बनवाने की आवश्यकता हो सकती है।

(और पढ़ें - फंगल संक्रमण के घरेलू उपाय)

इस लेख में विस्तार से बताया गया है कि एंटी फंगल दवाएं, एंटी फंगल क्रीम, साबुन, इंजेक्शन, टैबलेट, पाउडर का उपयोग कैसे करें और एंटी फंगल दवा के क्या फायदे और नुकसान हो सकते हैं।

  1. एंटी फंगल क्या है - Antifungal kya hai in hindi
  2. एंटी फंगल दवा के प्रकार - Types of Antifungal Medicine in hindi
  3. एंटी फंगल क्रीम - Antifungal Cream in hindi
  4. एंटी फंगल साबुन - Antifungal Soap in hindi
  5. एंटी फंगल इंजेक्शन - Antifungal Injection in hindi
  6. एंटीफंगल टैबलेट - Antifungal Tablets in hindi
  7. एंटी फंगल पाउडर - Antifungal Powder in hindi

एंटी फंगल दवाएं ऐसी दवाएं हैं जो फंगल संक्रमण (माइकोसिस) के उपचार के लिए चुनिंदा रूप से फंगल रोगजनक (रोग पैदा करने वाला जीव) के खिलाफ कार्य करती है। एंटीफंगल दवाओं का उपयोग कवक के कारण संक्रमण से लड़ने के लिए किया जाता है, अक्सर उन मरीजों में जिनके शरीर का प्रतिरक्षा कार्य कमजोर हो। एंटीफंगल दवाओं के कई वर्ग हैं और एजोल सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला एंटी फंगल वर्ग हैं।

एंटी फंगल दवाओं के प्रमुख वर्ग पॉलीएन्स, एजोल और एलियामाइन्स हैं। इन समूहों को मुख्य रूप से रासायनिक संरचना और इनके कार्य करने के तरीके द्वारा वर्गीकृत किया जाता है। कुछ अन्य महत्वपूर्ण दवाएं जो इन समूहों में नहीं आती हैं लेकिन इन्हें फंगल संक्रमण के उपचार के लिए उपयोग किया जाता है, उनमें ग्रीसियोफुल्विन और फ्लिसीटोसाइन शामिल हैं।

फंगल संक्रमण से आपको परेशानी हो सकती है, लेकिन वे आमतौर पर कम पीड़ा देते हैं और स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में जीवन के लिए खतरनाक नहीं हैं।

आमतौर पर एंटी फंगल के द्वार इलाज की जाने वाले फंगल संक्रमण में निम्नलिखित संक्रमण शामिल हैं -

अक्सर बहुत कम ऐसे मामलें होते हैं जिनमें शरीर के अंदर गहरे ऊतकों में गंभीर फंगल संक्रमण होते हैं, ऐसे संक्रमण का अस्पताल में इलाज करने की आवश्यकता हो सकती है। कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं -

यदि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हैं तो इन गंभीर गंभीर फंगल संक्रमणों का जोखिम आपको अधिक हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप अपनी प्रतिरक्षा को दबाने के लिए दवाएं ले रहे हैं।

कभी-कभी एंटीफंगल दवाओं के गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं, हालांकि ये अपेक्षाकृत दुर्लभ होते हैं। ये साइड इफेक्ट ऐसे व्यक्तियों में हो सकते हैं जो आनुवांशिक रूप से एंटीफंगल एजेंटों को प्रभावी ढंग से मेटाबॉलाइज नहीं कर पाते या पचा नहीं पाते हैं।

कुछ गंभीर प्रतिकूल प्रभावों में पोटेशियम का स्तर कम होना शामिल है, जो कार्डियक एरिथमिया, लिवर डैमेज, सफेद रक्त कोशिका की संख्या में कमी (जिसके परिणामस्वरूप बीमारी और संक्रमण के प्रति प्रतिरोधक क्षमता कम हो सकती है) तथा एनाफिलेक्टिक शॉक (एक तरह का गंभीर एलर्जिक रिएक्शन) का कारण बन सकता है।

(और पढ़ें - सफेद रक्त कोशिकाएं बढ़ाने के उपाय)

एंटी फंगल दवाएं निम्नलिखित प्रकार की होती हैं -

  • टॉपिकल एंटी फंगल
    टॉपिकल एक सामान्य शब्द है जो कि किसी भी प्रकार की क्रीम, जेल, मलम या स्प्रे के लिए उपयोग किया जाता है, जिनको हम सीधे शरीर के प्रभावित हिस्से पर लगाते हैं। एंटी फंगल क्रीम, लिक्विड पदार्थ या स्प्रे त्वचा, सिर और नाखून के फंगल संक्रमण का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है।

    इन टॉपिकल एंटी फंगल दवाओं में क्लोट्रिमेजोल, इकोनोजोल, केटोकोनाजोल, माइकोनाजोल, टियोकोनोजोल, टेर्बिनाफाइन और एमोरॉल्फिन जैसी दवाएं शामिल हैं। वे अलग-अलग ब्रांड के नामों में मिलती हैं। एंटी फंगल शैम्पू भी एक टॉपिकल एंटी फंगल दवा है, जिसमें केटोकोनाजोल होता है। कभी-कभी सिर के फंगल संक्रमण और कुछ त्वचा की स्थितियों के इलाज में मदद के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।
     
  • ओरल एंटी फंगल
    कोई भी ऐसी एंटी फंगल दवा जिसे आप मुँह के द्वारा निगलते हैं, जैसे कैप्सूल, टैबलेट या तरल दवा, इत्यादि। उदाहरण के लिए, माइकोनाजोल एक ओरल जेल और नाइस्टेटाइन एक लिक्विड के रूप में उपलब्ध है। वे मुंह पर लगाए जाते हैं। उनका उपयोग मुंह और गले में थ्रश (संक्रमण) के इलाज के लिए किया जाता है।

    ओरल एंटी फंगल टेर्बिनाफाइन, इट्राकोनाजोल, फ्लूकोनाजोल, पोसाकोनाजोल और वोरिकोनाजोल इत्यादि प्रकार की गोलियों के रूप में उपलब्ध हैं, जो शरीर में अवशोषित हो जाती हैं। इन्हें विभिन्न फंगल संक्रमणों के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है।

    आपको कौनसी गोली दी जाती है ये इस बात पर निर्भर करता है कि आपको किस प्रकार का संक्रमण है। उदाहरण के लिए, टेरबिनाफाइन को आमतौर पर नाखून के संक्रमण का इलाज करने के लिए प्रयोग किया जाता है जो टिनिया नामक कवक के कारण होता है।
  • इंट्रावेनस एंटी फंगल
    ऐसी दवाएं जो आमतौर पर आपकी बांह की नसों के माध्यम से अस्पताल में एक इंट्रावेनस इन्फ्यूजन (एक पतली ट्यूब के माध्यम से दवा की निरंतर ड्रिप चढ़ाना) प्रक्रिया के द्वारा दी जाती हैं।
     
  • इंट्रा-वजाइनल एंटी फंगल पेसरीज
    एंटी फंगल इंट्रा-वजाइनल पेसरी के रूप में भी उपलब्ध हैं। पेसरी दवाओं की एक छोटी, ठोस खुराक होती है कि योनि थ्रश जैसी स्थितियों का इलाज करने के लिए महिला अपनी योनि में रखती है।

    कुछ एंटी फंगल दवाओं का उपयोग योनि थ्रश के इलाज के लिए पेसरी के रूप में किया जाता है जिनमें विशेष रूप से क्लोट्रिमाजोल, इकोनाजोल, माइकोनाजोल और फेंटिकोनाजोल शामिल है।

आप दाद, एथलीट फुट, जॉक खुजली और यीस्ट संक्रमण सहित त्वचा के कई फंगल संक्रमणों का इलाज करने के लिए एंटी फंगल क्रीम का उपयोग कर सकते हैं। हर एंटी फंगल क्रीम में एक या एक से अधिक सक्रिय तत्व होते हैं और प्रत्येक फंगल संक्रमण के खिलाफ अलग-अलग प्रकार की क्रीम प्रभावी होती है। हर फंगल संक्रमण के लिए उपयोग की जाने वाली क्रीम के बारे में जानने से आपको इनसे छुटकारा पाने में मदद मिलेगी।

(और पढ़ें - त्वचा के संक्रमण का इलाज)

जब आप एंटी फंगल क्रीम खरीदते हैं तो निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें -

  • आपको दाद का इलाज एक ऐसी फंगल क्रीम से करना चाहिए जिसमें निम्नलिखित सक्रिय तत्वों में से एक हो जैसे ब्यूटेनफेन, टेर्बिनाफाइन, ऑक्सीकोनाजोल, सिकोलोपीरॉक्स, इकोनाजोल या माइक्रोनाजोल।
  • अगर आपको संदेह है कि आपको एथलीट फुट हैं, तो आपको इसका ऐसी एंटी फंगल क्रीम या स्प्रे से इलाज करना चाहिए जिसमें टेर्बिनाफाइन, माइक्रोनाजोल या क्लोट्रिमाजोल जैसे कोई सक्रिय तत्व हो।
  • आपको जॉक खुजली का इलाज करने के लिए नाफ्टिफाइन, टेर्बिनाफाइन, माइक्रोनाजोल, क्लोट्रिमाजोल, इकोनाजोल या ऑक्सीकोनाजोल इत्यादि तत्वों से युक्त क्रीम का उपयोग करना चाहिए। (और पढ़ें - त्वचा की खुजली का इलाज)
  • योनि के आसपास त्वचा में यीस्ट संक्रमण अक्सर सफेद या पीले योनि स्राव, जलन, खुजली और लालिमा के साथ होता है। आपको यीस्ट संक्रमण का इलाज ऐसी एंटी फंगल क्रीम से करना चाहिए जिसमें ब्यूटोकोनाजोल, क्लोट्रिमेजोल, माइक्रोनाजोल या टेरकोनाजोल शामिल हो। (और पढ़ें - योनि में इंफेक्शन का इलाज)
  • क्रीम का प्रयोग केवल त्वचा पर ही करें। इलाज के लिए त्वचा को साफ धो लें और अच्छी तरह से सुखा कर क्रीम को प्रभावित त्वचा पर, आमतौर पर दिन में दो बार या अपने डॉक्टर के कहे अनुसार लगाए।
  • क्रीम को लगाने के बाद, अपने हाथ धोएं। अपने डॉक्टर द्वारा ऐसा करने के लिए निर्देशित किए जाने तक उस क्षेत्र को कवर या पट्टी न करें।
  • आंखों, नाक, मुंह, या योनि के अंदर क्रीम को न लगाए। अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए नियमित रूप से क्रीम का प्रयोग करें। इसे हर दिन एक ही समय पर उपयोग करना चाहिए।

यदि आप स्प्रे का उपयोग कर रहे हैं, तो इसके उपयोग से पहले बोतल को अच्छी तरह से हिलाएं। खुराक और उपचार का समय इलाज के प्रकार पर निर्भर करता है। इसे निर्धारित समय से अधिक बार न लगाए। क्योंकि इससे आपकी हालत तेजी से ठीक नहीं होगी, बल्कि दुष्प्रभावों में वृद्धि हो सकती है।

फंगी शब्द एक से अधिक फंगस (कवक) के लिए प्रयोग किया जाता है और उनमें से कुछ बिल्कुल हानि रहित होते हैं, जबकि कुछ ऐसे हैं जो आपकी त्वचा के स्वास्थ्य को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकते हैं। आंकड़ों के हिसाब से, हमारे चारों ओर कवक की 50,000 से अधिक प्रजातियां हैं और उनमें से कुछ वर्षों तक हमारी त्वचा पर रह सकती हैं, यदि हम एंटी फंगल साबुन या औषधीय साबुन का उपयोग नहीं करते हैं।

एंटी फंगल साबुन फार्मास्यूटिकल ग्रेड के औषधीय तेलों (एसेंशियल ऑयल) के संयोजन से बनी होती हैं जो फंगल और बैक्टीरियल संक्रमण के खिलाफ त्वचा की सुरक्षा करने में मदद करते हैं। इन साबुनों में अधिकांश प्रकार के फंगल संक्रमण को साफ करने की क्षमता होती है। एंटी फंगल साबुन दाद, जॉक खुजली और एथलीट फुट के लिए एक आदर्श उपचार हैं।

हालांकि, एंटी फंगल साबुन की प्रभावशीलता के बारे में बहुत कम औपचारिक शोध हुआ है। हम कुछ अवयवों जैसे कि चाय के पौधे का तेल या कोलाइडल सिल्वर, के बारे में जानते हैं कि इनमें एंटी फंगल गुण होते हैं, लेकिन वे घरेलू उत्पादों में कैसे काम करते हैं, इस विषय पर अभी भी शोध जारी हैं।

सालों से, लोग फंगल संक्रमण के इलाज के लिए कोलाइडल सिल्वर, एलोवेरा, जोजोबा तेल और चाय के पौधे का तेल (टी ट्री ऑयल) उपयोग करते रहे हैं तथा यही तत्व एंटीफंगल साबुन में पाए जाते हैं। एंटी फंगल साबुन में इन सामग्रियों में से कई का सही अनुपात में उपयोग किया जाता हैं, यही कारण है कि आप इन साबुन से निश्चित रूप से अच्छे परिणाम की उम्मीद कर सकते हैं।

यद्यपि, एंटी फंगल साबुन किसी त्वचा विशेषज्ञ से पेशेवर देखभाल का एक प्रभावी विकल्प नहीं हैं, न ही वे एंटी फंगल दवाओं का कोई बेहतर विकल्प हैं। लेकिन अगर आपके पैर में फंगस हो और पुनरावृत्ति के जोखिम को कम करना चाहते हैं, तो नियमित रूप से एंटी फंगल साबुन का उपयोग करने में कोई दिक्कत नहीं है, वास्तव में, यह त्वचा के सभी प्रकार के संक्रमण के खिलाफ एक बहुत अच्छा बचाव का उपाय है।

यदि आपको एथलीट फुट, रूखी त्वचा और दाद जैसी त्वचा की समस्याएं हैं, तो आप एंटी फंगल साबुन का उपयोग कर सकते है। चूंकि ये साबुन ज्यादातर कार्बनिक पदार्थों से बने होते हैं, इसलिए इनका उपयोग आप किसी साधारण साबुन की तरह कर सकते हैं। स्नान करते समय, अपने ऊपरी शरीर के हिस्से से शुरू करें और नीचे तक पूरे शरीर पर इसे लगाए।

सही से लगाने के लिए इसे वॉश क्लोथ या कपड़ा उपयोग करके त्वचा पर लगाए, क्योंकि इससे अच्छे से झाग बन जाते हैं। बेहतर प्रभाव के लिए कम से कम दो मिनट के लिए प्रभावित क्षेत्र पर झाग वाला कपड़ा रखे रहने दें। शरीर के बाकी हिस्सों में, एक दिन में एक बार साबुन लगाना काफी होगा, लेकिन प्रभावित क्षेत्र पर कम से कम दो बार या तीन बार ऐसा करना होगा।

जहां तक सिर में एंटी फंगल साबुन का उपयोग करने का सवाल है तो ये सिर या बाल के लिए हानिकारक प्रतीत नहीं होती है। फिर भी, हम आपको बालों पर इन साबुनों का उपयोग करने की सलाह नहीं देते हैं। शरीर के हर हिस्से में संक्रमण का कारण अलग-अलग हो सकता है और इसलिए आपको अपने सिर की त्वचा के संक्रमण का इलाज करने के लिए कुछ बेहतर इलाज चाहिए, जैसे कि एंटीफंगल शैम्पू।

(और पढ़ें - रूखे बालों की देखभाल)

एंटी फंगल इंजेक्शन का प्रयोग फंगल संक्रमण के इलाज के लिए किया जाता है, जिसमें मुंह, गले, एसोफैगस (मुंह से पेट तक की ट्यूब), पेट (छाती और कमर के बीच का क्षेत्र), फेफड़ों, ब्लड और अन्य अंगों के यीस्ट संक्रमण शामिल हैं।

इंजेक्शन आमतौर पर 1 से 2 घंटे की अवधि में इंट्रावेनस रूप से (नस में ड्रीप चढ़ाना) इंफ्यूज किया जाता है, आमतौर पर दिन में एक बार 14 दिनों तक इलाज किया जाता है। आपके उपचार की लंबाई इस पर निर्भर करती है कि आपकी हालत कैसी हैं और आप एंटी फंगल इंजेक्शन के प्रति कितनी अच्छी तरह प्रतिक्रिया देते हैं। आपके डॉक्टर आपको बताएंगे कि एंटी फंगल इंजेक्शन का उपयोग कब तक किया जाए।

आमतौर पर अस्पताल या क्लिनिक में स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर द्वारा यह इंजेक्शन दिया जाता है। अगर आपको यह दवा घर पर लेनी है, तो आपको सिखाया जाएगा कि इस दवा को कैसे तैयार किया जाए और उसे कैसे लिया जाए। इसका उपयोग निर्देश के अनुसार ही करें। नियमित अंतराल पर अपनी दवा लेते रहें।

अपनी उपयोग की गयी सुइयों और सिरिंज को आप एक विशेष शार्पर कंटेनर में डालें। उन्हें कचरे के डिब्बे में न डालें। यदि आपके पास ऐसा कोई कंटेनर नहीं है, तो अपने फार्मासिस्ट या हेल्थकेयर प्रदाता से ऐसा एक कंटेनर खरीद लें।

बच्चों में इस दवा के उपयोग के संबंध में अपने शिशु रोग विशेषज्ञ (पीडिअट्रिशन) से बात करें। बच्चों को विशेष देखभाल की आवश्यकता हो सकती है।

इंजेक्शन का उपयोग करने से पहले, सॉल्यूशन की बारीकी से जांच करें। यह साफ और तैरती हुई किसी भी सामग्री से मुक्त होना चाहिए। यह भी निरीक्षण करें कि कंटेनर में कोई रिसाव न हो। अगर यह सही नहीं है जैसे इसमें कण हैं या कंटेनर में रिसाव हो रहा है तो इसका उपयोग न करें। एक नए सॉल्यूशन का प्रयोग करें, लेकिन क्षतिग्रस्त कंटेनर अपने डॉक्टर को दिखाए।

इंजेक्शन से उपचार के कुछ दिनों के अंदर आपको बेहतर महसूस होना चाहिए। यदि आपके लक्षण बेहतर नहीं होते हैं या बदतर हो जाते हैं, तो अपने डॉक्टर को बताएं। इंजेक्शन का प्रयोग तब तक करें जब तक कि आपके डॉक्टर बंद करने के लिए न कहें, भले ही आप बेहतर महसूस कर रहे हो। यदि आप जल्दी इंजेक्शन का उपयोग करना बंद कर देते हैं, तो आपका संक्रमण थोड़े समय के बाद वापस आ सकता है।

एंटी फंगल इंजेक्शन कई प्रकार के हो सकते हैं, उदाहरण के लिए, फ्लुकोनाजोल इंजेक्शन, फ्लुकोनाजोल ट्राइजोल नामक एंटी फंगल के एक वर्ग से है। यह फंगस के विकास को धीमा कर काम करता है जो संक्रमण का कारण बनता है। फ्लुकोनाजोल इंजेक्शन आपके नस में सुई या कैथेटर के माध्यम से एक सॉल्यूशन (तरल) के रूप में दिया जाता है।

एंटी फंगल टैबलेट या गोलियां नाखून और त्वचा के फंगल संक्रमण, जैसे कि दाद (टिनिया कोर्पोरिस), जॉक खुजली (टिनिया क्रूरिस) और एथलीट फुट (टिनिया पेडीस) के इलाज के लिए उपयोग की जाती हैं।

एंटी फंगल गोलियों का उपयोग उन गंभीर या व्यापक संक्रमणों के इलाज के लिए किया जाता है जो एंटीफंगल क्रीम से साफ नहीं होते हैं। गोलियां ऐसी फंगस को मारती हैं जो संक्रमण पैदा कर रही है। गोली फंगस की कोशिका झिल्ली में छेद कर देती है, जिससे वो धीरे-धीरे मर जाती है।

कवक या फंगस की कोशिका झिल्ली उनके अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण होती है। ये झिल्ली अवांछित पदार्थों को कोशिका में प्रवेश करने और कोशिका की सामग्री को बाहर निकालने से रोकती है। कोशिका झिल्ली में छेद करके, एंटी फंगल गोलियां कवक को मार देती हैं और इसलिए संक्रमण साफ हो जाता है।

वर्तमान में उपयोग में आने वाली ओरल एंटी फंगल दवाओं में इट्राकोनाजोल, फ्लुकोनाजोल, केटोकोनाजोल और टेर्बिनाफाइन शामिल हैं।

एंटी फंगल गोलियों के बारे में मुख्य तथ्य -

  • एंटी फंगल गोलियां आपके नाखून के गंभीर फंगल संक्रमण का इलाज करने का सबसे अच्छा तरीका हैं।
  • यदि आपको लिवर या हार्ट की बीमारी है, तो आपको एंटी फंगल गोलियां नहीं लेनी चाहिए। वे हार्ट फेलियर और लिवर फेलियर जैसे दुर्लभ लेकिन खतरनाक साइड इफेक्ट्स का कारण बन सकती हैं।
  • आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली एंटीफंगल गोलियों के आधार पर आपके लिवर, किडनी या हार्ट को हुए नुकसान की जांच करने के लिए हर 4 से 6 सप्ताह में परीक्षण करने की आवश्यकता हो सकती है। (और पढ़ें - दिल को मजबूत करने के उपाय)

कभी-कभी संक्रमण ठीक होने के बाद वापस आ सकता है। आपके डॉक्टर इस घटना की संभावनाओं को कम करने के तरीकों का सुझाव दे सकते हैं।

एंटी फंगल पाउडर त्वचा के फंगल संक्रमण का इलाज करने में मदद करता है, उदाहरण के लिए दाद, कैंडिडिआसिस, एथलीट फुट, फंगल नैपी रैश (डायपर पहनने से दाने), ग्रोइन (पेट और जांघ के बिच का भाग) संक्रमण इत्यादि। एंटी फंगल पाउडर का उपयोग वयस्कों और सभी उम्र के बच्चों में इन त्वचा संक्रमणों के इलाज के लिए किया जा सकता है।

(और पढ़ें - डायपर रैश के घरेलू उपाय)

एंटी फंगल पाउडर फटी हुई त्वचा पर इस्तेमाल किया जा सकता है और विशेष रूप से तब उपयोगी होता है जहां त्वचा को सुखाने की आवश्यकता होती है। इसका उपयोग निम्नलिखित तरीके से कर सकते हैं -

  • एंटी फंगल पाउडर लगाने से पहले पूरी तरह से त्वचा को साफ करके सूखा लें।
  • पाउडर को प्रभावित क्षेत्र और आस-पास की त्वचा पर दिन में दो बार (सुबह और शाम) छिड़का जाना चाहिए।
  • पाउडर को संक्रमित क्षेत्र के संपर्क में रहने वाले कपड़ों, मोजे या जूते के अंदर भी छिड़का जा सकता है।

संक्रमण के सभी लक्षणों से मुक्ति मिलने के बाद भी आपको 10 दिनों तक पाउडर का उपयोग करना जारी रखना चाहिए। ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि संक्रमण का पूरी तरह से इलाज हो चूका है, इस तरह इसे वापस आने से रोका जा सकता है।

यदि लगातार उपयोग के बाद भी लक्षण जारी रहते हैं, तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें। एंटी फंगल पाउडर केवल त्वचा पर बाहरी उपयोग के लिए है। इसे मुंह से नहीं लिया जाना चाहिए या मुंह या नाक के अंदर इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। आंखों के साथ इसका संपर्क न होने दें।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें