myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कोई भी धूम्रपान करने वाला व्यक्ति आपको यह बता सकता है कि निकोटीन से लत लग जाती है। केवल सात प्रतिशत लोग जो स्वयं धूम्रपान छोड़ने का प्रयास करते हैं कम से कम एक वर्ष तक ऐसा कर पाते हैं। धूम्रपान से फेफड़ों के कैंसर और कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के होने के बारे में लंबे समय से ज्ञात तथ्यों के बावजूद, निकोटिन देश में सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली नशे की लत वाले पदार्थों में से एक है।

(और पढ़े - सिगरेट पीने के नुकसान)

लंबे समय तक सफलतापूर्वक धूम्रपान छोड़ने के लिए, आपको निकोटिन की लत की प्रकृति को समझने और इससे मुक्त होने के लिए आपको क्या करना चाहिए यह जानने की आवश्यकता है। हम में से कई लोगों का मानना है कि धूम्रपान सिर्फ एक बुरी आदत है। जब हम फैसला करेंगे कि यह छोड़ना है तो हम आसानी से ऐसा कर सकते हैं। वास्तव में, धूम्रपान करने वालों को अक्सर यह जानकर आश्चर्य होता है कि इस के आदी हो चुके हैं।

(और पढ़े - धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय)

आइए देखते हैं कि कैसे निकोटिन मस्तिष्क के रसायन शास्त्र को प्रभावित करता है और एक सीखने की प्रक्रिया शुरू करते हैं जो हमें इस लत से जमीनी स्तर पर लड़ने में मदद करेगी। इस लेख में विस्तार से निकोटीन क्या है, किसमें पाया जाता है, निकोटीन के प्रभाव और दुष्प्रभाव तथा इसकी लत से छुटकारा कैसे पाएं इसके बारे में बताया गया है।

  1. निकोटीन क्या है - Nicotine kya hai in hindi
  2. निकोटिन किसमें पाया जाता है - Nicotine ke sources in hindi
  3. निकोटीन के प्रभाव - Nicotine effects in hindi
  4. निकोटीन की लत - Nicotine addiction in hindi
  5. निकोटीन के नुकसान - Nicotine ke nuksan in hindi
  6. निकोटीन की लत से छुटकारा कैसे पाएं - Nicotine kam karne ke upay in hindi

निकोटिन तंबाकू के पौधे में पाया जाने वाला एक अत्यधिक नशे की लत लगाने वाला रासायनिक है। निकोटिन मुख्य रूप से तम्बाकू वाली सिगरेट के धुएं के माध्यम से सांस से शरीर में जाता है। तंबाकू से धूम्रपान करने के अन्य तरीकों में पाइप, सिगार, हुक्का, चिलम इत्यादि शामिल हैं। बिना धुएं वाली तंबाकू नाक या मुंह के माध्यम से एक पाउडर के रूप में ली जाती है।

निकोटीन के कई उत्पाद निकोटीन गम, पैच, ई सिगरेट और इनहेलेशन एजेंट हैं जो दुनिया के अधिकांश हिस्सों में आसानी से उपलब्ध हैं। इन उत्पादों को जादुई उपचार के रूप में अत्यधिक प्रचारित और प्रसारित किया जाता रहा है। निकोटिन गम 2 मिलीग्राम और 4 मिलीग्राम के पैक में उपलब्ध हैं जो क्रमशः रक्त प्रवाह में लगभग 1 मिलीग्राम और 3 मिलीग्राम निकोटीन प्रदान करते हैं।

ई-सिगरेट, एक परिष्कृत निकोटीन की डिलीवरी करने वाली डिवाइस है, यह वाष्प रूप में निकोटिन प्रदान करती है और यह सामान्य सिगरेट से धूम्रपान के कार्य की बारीकी से नकल करती है। वर्तमान में, ये उत्पाद निकोटीन की कुल खपत का लगभग 1% हैं और अधिकांश देशों में इनके उपयोग की प्रवृत्ति बढ़ती हुई दिख रही है।

निकोटीन नशे की अत्यधिक लत के अलावा गंभीर साइड इफेक्ट्स के लिए जाना जाता है। यह हृदय, प्रजनन प्रणाली, फेफड़े, गुर्दे आदि पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। कई अध्ययनों से लगातार इसकी कैंसर पैदा करने की क्षमता की पुष्टि होती रही है।

निकोटीन का एकमात्र अन्य ज्ञात उपयोग 17 वीं शताब्दी से एक कीटनाशक के रूप में किया जाता रहा है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद, सस्ते और अधिक शक्तिशाली कीटनाशकों की उपलब्धता के कारण इसका उपयोग घट गया। नए कीटनाशक अन्य स्तनधारियों के लिए भी कम हानिकारक हैं।

संयुक्त राज्य अमेरिका की पर्यावरण संरक्षण एजेंसी ने 1 जनवरी 2014 से कीटनाशक के रूप में निकोटीन के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है। भारत ने भी, जो निकोटीन सल्फेट के सबसे बड़े उत्पादक और निर्यातक में से एक है, कृषि कीटनाशक के रूप में इसके उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है।

निकोटिन पौधों के नाइटशेड परिवार (सोलानेसीए) में मुख्य रूप से तंबाकू में पाया जाता है और टमाटर, आलू, बैंगन (ऑबर्जिन) और हरी मिर्च में भी कम मात्रा में पाया जाता है, क्योंकि ये भी इसी परिवार के पौधे हैं।

तंबाकू के पौधों की कई प्रजातियां हैं, टबैकम प्रजाती आज के तंबाकू उत्पादों के प्रमुख स्रोत के रूप में उपयोग हो रही हैं। व्यापक अध्ययन से पता चलता है कि निकोटिन मस्तिष्क और शरीर पर कई जटिल और कभी-कभी अप्रत्याशित प्रभाव डालता है।

तंबाकू का पौधा अमेरिका के लिए एक स्वदेशी पौधा है और कम से कम 2,000 वर्षों से वहाँ एक दवा और उत्तेजक के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। यही से ये यूरोप लाया गया।

कोको के पौधों की पत्तियों में भी निकोटिन एल्कालोइड पाए जाते हैं। निकोटीन का वजन सूखे तंबाकू के एक पौधे में 0.3 से 5 प्रतिशत तक होता है, इसकी जड़ों में जैव संश्लेषण होता है और यह पत्तियों में जमा होता है।

(और पढ़े - कोको पावडर के फायदे और नुकसान)

निकोटिन एक शक्तिशाली न्यूरोटॉक्सिन है और कई कीटनाशकों में शामिल होता है। कम सांद्रता में, यह पदार्थ एक उत्तेजक के रूप में कार्य करता है और यह तंबाकू से धूम्रपान की लत के गुणों के लिए जिम्मेदार मुख्य कारकों में से एक है।

निकोटिन एक उत्तेजक (स्टीमुलेंट) और शामक (सेडेटिव) दोनों के रूप में कार्य करता है। निकोटीन के संपर्क में आने के तुरंत बाद, एड्रेनल ग्रंथियों की उत्तेजना के परिणामस्वरूप एपिनेफ्रीन (एड्रिनेलिन) के स्राव से दिमाग के एक हिस्से में एक "किक" का अहसास होता है। एड्रिनेलिन की अधिकता शरीर को उत्तेजित करती है, जिससे अचानक ग्लूकोज रिलीज होता है और रक्तचाप, हृदय गति और श्वसन में भी वृद्धि होती है।

निकोटिन पैनक्रिया से इंसुलिन के स्राव को भी दबा देता है, जिससे धूम्रपान करने वालों को थोड़ी अतिग्लूकोसरक्‍तता (हाइपर ग्लाइसेमिक यानी खून में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाना) हो जाती है।

इसके अलावा, निकोटिन अप्रत्यक्ष रूप से मस्तिष्क में डोपामाइन के स्राव का कारण बनता है जो आनंद और प्रेरणा की भावना को नियंत्रित करता है। यह प्रतिक्रिया अन्य दुरूपयोग की जाने वाली दवाओं जैसे कि कोकीन और हेरोइन के समान ही होती है। माना जाता है कि कई धूम्रपान करने वालों को सुखद महसूस होता है।

इसके विपरीत, निकोटीन धूम्रपान करने वाले के तंत्रिका तंत्र की उत्तेजना के स्तर और निकोटीन की खुराक के स्तर के आधार पर एक शामक प्रभाव भी डाल सकता है। शामक प्रभाव का अर्थ है जिससे व्यक्ति शांत और सुकून अनुभव करता है।

निकोटीन के असर में लंबे समय तक रहने से सहिष्णुता या टॉलरेंस का विकास हो जाता है, यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें दवा से वही प्रभाव उत्पन्न करने के लिए अधिक खुराक की आवश्यकता होती है।

निकोटिन को तेजी से पचाया (मेटाबोलाइज्ड) जाता है, कुछ घंटों में ये शरीर से गायब हो जाता है। इसलिए रात में कुछ सहनशीलता या सहिष्णुता फिर से कम हो जाती है और धूम्रपान करने वाले अक्सर बताते हैं कि दिन की पहली सिगरेट सबसे स्ट्रांग या "सर्वश्रेष्ठ" लगती है। दिन के ढलने के साथ-साथ आप में सहिष्णुता भी बढ़ती जाती है और बाद में सिगरेट का कम प्रभाव पड़ता है।

(और पढ़ें - मेटाबॉलिज्म कैसे ठीक करें

सिगरेट एक बहुत ही कुशल दवा वितरण की प्रणाली है जिसके द्वारा धूम्रपान करने वाला प्रत्येक श्वास के साथ मस्तिष्क को निकोटीन बहुत तेज़ी से प्रदान कर सकता है। एक सामान्य धूम्रपान करने वाला पांच मिनट की अवधि में एक जलती सिगरेट के 10 पफ लेता है। इस प्रकार, एक व्यक्ति जो हर दिन डेढ़ पैक (30 सिगरेट) धूम्रपान करता है, वह रोजाना मस्तिष्क में 300 निकोटीन हिट प्राप्त करता है। ये कारक निकोटीन से नशे की लत वाली प्रकृति में काफी योगदान करते हैं।

लेकिन निकोटीन के अलावा भी, तंबाकू वाली सिगरेट और धुएं रहित तम्बाकू में कई कैंसर पैदा करने वाले एजेंट और अन्य हानिकारक रसायन होते हैं। तम्बाकू में पाए गए लगभग 4,000 रसायनों में शारीरिक, मानसिक और मनोवैज्ञानिक प्रभाव होते हैं।

उन्नत न्यूरोइमेजिंग तकनीक का उपयोग करके, किये जाने वाले शोध यह दिखाना शुरू कर रहे है कि निकोटीन तंबाकू में एकमात्र मादक घटक नहीं हो सकता है। वैज्ञानिक मस्तिष्क पर सिगरेट से धूम्रपान के नाटकीय प्रभाव को देख सकते हैं और डोपामाइन को तोड़ने के लिए ज़िम्मेदार एंजाइम मोनोमाइनोक्साइड (एमएओ) के स्तर में उल्लेखनीय कमी पा रहे हैं।

एमएओ में परिवर्तन निकोटीन के बजाय तम्बाकू के किसी अन्य घटक के कारण होता है, क्योंकि निकोटीन नाटकीय रूप से एमएओ स्तर को नहीं बदलता है। एमएओ के दो रूपों “ए” और “बी” में कमी के परिणामस्वरुप डोपामाइन का स्तर उच्च हो जाता है। उच्च डोपामाइन के स्तर को बनाए रखने की आवश्यकता के कारण बार-बार धूम्रपान करने की इच्छा होती है।

(और पढ़ें - कैफीन के नुकसान

तंबाकू में पाए जाने वाला निकोटीन से अल्कोहल, कोकीन और मॉर्फिन जैसे नशे वाले पदार्थों की तरह ही आपको लत हो सकती है। नशे की लत स्वास्थ्य पर नकारात्मक असर का जोखिम होने पर भी, उस पदार्थ की मांग और उपयोग के लिए व्यक्ति को बाध्य कर देती है।

(और पढ़े - अल्कोहल का उपयोग)

अधिकांश धूम्रपान करने वालों को पता है कि तम्बाकू हानिकारक है और वे इसका उपयोग कम करने या समाप्त करने की इच्छा व्यक्त करते हैं, जिसमें लगभग 35 मिलियन लोग हर साल इसे छोड़ने का गंभीरता से प्रयास करते हैं। दुर्भाग्यवश, कुछ ही दिनों के भीतर सबसे अधिक लोग पस्त हो जाते हैं और जो लोग स्वयं इसे छोड़ने की कोशिश करते हैं, उनमें से सात प्रतिशत से भी कम लोग एक वर्ष तक इसे छोड़ने में सफल होते हैं।

श्वास वाले तंबाकू के धुएं में पाया जाने वाला निकोटीन फेफड़ों से रक्त प्रवाह में और धूम्रपान करने वाले के मस्तिष्क तक सात से 10 सेकेंड में पहुँच जाता है। एक बार वहां पहुँचने पर निकोटिन कई रासायनिक प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर करता है जो धूम्रपान करने वालों के लिए खुशी की अस्थायी भावनाएं पैदा करते हैं, लेकिन ये संवेदना अल्पकालिक होती हैं, जो मिनटों में कम हो जाती हैं।

चूंकि निकोटीन का स्तर रक्त में कम होने लगता है, इसलिए धूम्रपान करने वालों को निकोटीन की तलब लगती है और वे चिड़चिड़ापन और उत्तेजना महसूस करते हैं। इस असुविधा से छुटकारा पाने के लिए, धूम्रपान करने वाले एक और सिगरेट जलाते हैं... और फिर दूसरी ... और तीसरी और इस तरह वे निकोटीन की लत के दुष्चक्र में फंस जाते हैं।

निकोटिन की लत के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं -

  • तंबाकू उत्पादों का उपयोग करने से स्वयं को रोकने में असमर्थता महसूस होना।
  • जब निकोटीन का उपयोग रोकते हैं तो परेशानी होने लगती है।
  • धूम्रपान करने की इच्छा होती है तब भी जब स्वास्थ्य संबंधी जटिलताएं पैदा हो रही हो।
  • तंबाकू उत्पादों का उपयोग जारी रखते हैं, भले ही यह आपके जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डालते हैं।

निकोटीन की लत वाली विशेषताओं के अलावा, कुछ अन्य कारक भी है जो निकोटिन के व्यसन या लत को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है, उनमें इसकी आसान उपलब्धता, तम्बाकू उपयोग के कानूनी और सामाजिक परिणामों की कमी और तम्बाकू कंपनियों के अत्याधुनिक प्रसार और विज्ञापन के तरीकें भी शामिल हैं।

निकोटीन के नुकसान या साइड इफेक्ट्स निकोटीन के स्वयं के प्रभाव और यह कैसे लिया जाता है इस पर निर्भर करते हैं। तंबाकू का उपयोग सभी प्रकार के कैंसर के एक-तिहाई का कारण होता है।

तंबाकू के कारण होने वाले कैंसर में सबसे महत्वपूर्ण फेफड़ों का कैंसर है। यह पुरुषों और महिलाओं दोनों की मृत्यु के लिए जिम्मेदार नंबर एक कैंसर है। सभी फेफड़ों के कैंसर के मामलों में से 90 प्रतिशत में, सिगरेट के साथ कुछ न कुछ लिंक है।

(और पढ़े - लंग कैंसर का ऑपरेशन)

निकोटिन के कारण आपके स्वास्थ पर निम्नलिखित दुष्प्रभाव हो सकते हैं -

  • क्रोनिक ब्रोंकाइटिस और एम्फसीमा जैसी फेफड़ों की बीमारियां हो सकती है।
  • अस्थमा के लक्षणों में तीव्रता आना। (और पढ़े - अस्थमा के घरेलू उपाय)
  • मुंह, गुर्दे, एसोफैगस, फेरनिक्स, लारेंक्स, पेट, पैनक्रिया, गर्भाशय, मूत्र नली और मूत्राशय के कैंसर के जोखिम में वृद्धि।
  • स्ट्रोक, वैस्कुलर रोग, दिल का दौरा और एन्यूरीसिम सहित दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ाना।
  • किसी अन्य के धूम्रपान से निकलने वाले धुएं से धूम्रपान न करने वालों में फेफड़ों के कैंसर और कार्डियोवैस्कुलर बीमारी सहित कई बीमारियों के साथ-साथ बच्चों में अस्थमा की गंभीरता में वृद्धि और अचानक शिशु मृत्यु सिंड्रोम की घटनाएं बढ़ती हैं।
  • धूम्रपान करने वाली महिलाओं में जल्दी रजोनिवृत्ति होने की प्रवृत्ति बढ़ना।
  • धूम्रपान करने वाली जो महिला ओरल गर्भ निरोधक को लेती है, उसमें कार्डियोवैस्कुलर और सेरेब्रोवास्कुलर बीमारियों के होने का जोखिम अधिक होता है।
  • धूम्रपान करने वाली गर्भवती महिला को मृत, समय से पहले या कम वजन के शिशु पैदा होने का जोखिम बढ़ता है। (और पढ़े - गर्भवती महिलाओं को क्या खाना चाहिए)
  • गर्भवती होने के समय धूम्रपान करने वाली महिलाओं के बच्चों में आचरण विकारों के विकास का जोखिम बढ़ता है।

धूम्रपान करने वालों के लिए मौत का सबसे आम धूम्रपान-संबंधी कारण हृदय रोग, सीओपीडी, स्ट्रोक और कैंसर हैं। दुनिया भर में कैंसर से मौत में फेफड़ों का कैंसर हर साल 1.4 मिलियन लोगों का शिकार करता है। उनमें से लगभग 80 प्रतिशत मौतें धूम्रपान के कारण होती है। इसी तरह, सीओपीडी से होने वाली 80 प्रतिशत मौतें धूम्रपान से संबंधित हैं।

(और पढ़े - हृदय रोग से बचने के घरेलू उपाय)

"लाइट" धूम्रपान करने वाले (जो लोग दिन में 10 या उससे कम सिगरेट पीते हैं) लगभग पांच साल तक की अपनी जीवन प्रत्याशा को कम करते हैं और कभी भी धूम्रपान न करने वाले लोगों की तुलना में फेफड़ों के कैंसर का खतरा 20 गुना बढ़ाते हैं।

जो लोग एक दिन में केवल एक से चार सिगरेट पीते हैं, उन्हें भी फेफड़ों के कैंसर के विकास का खतरा होता है जो धूम्रपान न करने वालों की तुलना में पांच गुना अधिक होता है।

(और पढ़े - फेफड़ों को स्वस्थ रखने के लिए आहार)

निकोटिन की लत का उपचार “धूम्रपान छुड़ाने का इलाज” के रूप में जाना जाता है। इसका उद्देश्य निकोटीन के साथ-साथ इससे संबंधित जोखिमों और स्वास्थ्य समस्याओं को कम करना है। धूम्रपान छोड़ने के कई तरीके हैं। आपको इसे छोड़ने में मदद करने के लिए संसाधन भी उपलब्ध हैं।

यदि आप इसे अकेले करने की कोशिश कर रहे हैं तो लत छोड़ना मुश्किल हो सकता है। परिवार के सदस्य, मित्र और सहकर्मी इसमें आपके सहायक हो सकते हैं। इसे छोड़ने में सफल होने के लिए, आपके मन में वास्तव में छोड़ने की प्रबल इच्छा होनी चाहिए। धूम्रपान छोड़ने वाले ज्यादातर लोग अतीत में कम से कम एक बार असफल रहे थे। इसलिए अपने पिछले प्रयासों को असफलता के रूप में न देखें और उनसे सीखने का प्रयास करें।

निकोटीन की लत के इलाज के लिए निम्नलिखित विकल्प उपलब्ध हैं -

निकोटिन रिप्लेसमेंट थेरेपी (एनआरटी)
यह त्वचा के पैच, नाक के स्प्रे, इनहेलर्स और सॉल्यूशन जिन्हें मसूड़ों में घुमाया जा सकता है, के रूप में उपलब्ध है। ये आम तौर पर सिगरेट से धूम्रपान करके प्राप्त किये जाने वाले निकोटीन के हिस्से को रिप्लेस करते हैं और तलब तथा इच्छा की तीव्रता को कम करते हैं। हालाँकि, एनआरटी पूरी तरह से वापसी के लक्षणों को नहीं रोकता है, लेकिन 2008 की एक समीक्षा में पाया गया कि यह लंबे समय में आपके धूम्रपान छोड़ने की संभावनाओं को दोगुना कर सकता है।

बूप्रोपियन
यह पहले एंटी-डिस्पेंटेंट दवा के रूप में प्रयोग की जाती थी। लेकिन बाद में यह निकोटीन की तलब को कम करने में उपयोगी पायी गयी। इसकी प्रभावशीलता की दर एनआरटी के समान ही है। इससे 30 से 40 प्रतिशत रोगियों में अनिद्रा का दुष्प्रभाव हो सकता है।

वैरेनिकलाइन
यह चान्तिक्स के रूप में बेची जाती है। यह दवा आंशिक रूप से मस्तिष्क में एक निश्चित रिसेप्टर को ट्रिगर करती है जो आम तौर पर केवल निकोटीन का जवाब देता है। इसके बाद वैरेनिकलाइन निकोटिन को इस रिसेप्टर से सवांद करने से रोकने के लिए इस रिसेप्टर को अवरुद्ध करता है। इससे धूम्रपान छोड़ने के दौरान व्यक्ति को कम तलब का अनुभव होता है। इससे उपचार से लगभग 30 प्रतिशत लोगों में ज्यादातर हल्की मतली जैसा दुष्प्रभाव हो सकता है।

जब ऊपर लिखे उपचार सफल नहीं होते हैं, तो फिर निम्नलिखित उपचार की मदद ली जाती है क्योंकि इनसे गंभीर साइड इफेक्ट्स होने की अधिक संभावना होती है, इसमें शामिल हैं -

क्लोनिडाइन
यह एक एंटी-हाइपरटेंसिव दवा है जो निकोटीन छूटने से पैदा होने वाले लक्षणों को कम करने में भी उपयोगी है लेकिन इससे लो ब्लड प्रेशर होने, मुंह सूखने, कब्ज और धीमी हृदय गति जैसे दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

नोरट्रिप्टीलीन
यह एक ट्राईसाइक्लिक एंटीडिप्रेस्सेंट है जिसका प्रभाव निकोटीन की जगह ले सकता है लेकिन एंटीड्रिप्रेसेंट्स के कई प्रमुख दुष्प्रभाव होते हैं और इसलिए उन्हें लेना सुरक्षित नहीं है।

परामर्श और मनोवैज्ञानिक सपोर्ट
ऐसा देखा गया है कि परामर्श और मनोवैज्ञानिक देखभाल द्वारा मदद मिलने पर एनआरटी और अन्य दवाएं सबसे प्रभावी होती हैं। यह परामर्श प्राथमिक देखभाल चिकित्सक से व्यक्तिगत, टेलीफोन और समूह चिकित्सा के रूप में लिया जा सकता है। इससे निकोटीन की लत वाले लोगों में मूड बदलने और चिड़चिड़ापन जैसे मनोवैज्ञानिक परेशानी को दूर करने में मदद मिल सकती है।

निकोटीन की लत को प्रबंधित करने के सर्वोत्तम तरीकों पर शोध चल रहा है और समाचार नियमित रूप से इसके बारे में छापते रहते है। उदाहरण के लिए, यूरोपीय रेस्पिरेटरी जर्नल में लिखने वाले शोधकर्ताओं ने पाया कि टमाटर धूम्रपान से होने वाले फेफड़ों की क्षति की मरम्मत में मदद कर सकते हैं और धुएं से श्वसन प्रणाली के स्वास्थ्य में होने वाली गिरावट को धीमा कर सकते हैं।

और पढ़ें ...