myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

बाल झड़ने की समस्या पुरुष और महिलाओं दोनों में ही बेहद आम है। बाल झड़ने की वजह से आपके बाल पतले-पतले एवं कहीं-कहीं से इसमें गंजापन आदि परेशानियां दिखाई देने लगती हैं। ये परेशानी धीरे-धीरे शुरू होती है और ऐसे में आप इसे तब तक गंभीर समस्या नहीं मानते जब तक बाल अच्छे से न चले जाएं।

(और पढ़ें - आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां)

जब आपको पता चलता है कि आपके बाल झड़ते जा रहे हैं, तब इसकी वजह से आपको तनाव हो सकता है और क्या करें क्या न करें जैसी बातें दिमाग में आ सकती हैं। ये तो आप सभी जानते हैं कि मार्केट में ऐसे उत्पाद भी आते हैं, जो बालों को बढ़ाने का दावा करते हैं। लेकिन सिर की त्वचा के लिए उन उत्पादों का प्रभाव जानना बेहद मुश्किल है। तो क्यों न हम जड़ी - बूटियों का सीधे तौर पर इस्तेमाल करें।

(और पढ़ें - हेयर केयर टिप्स)

जड़ी बूटियों का इस्तेमाल झड़ते बालों के लिए और बालों को घना एवं लम्बा करने के लिए सदियों से किया जा रहा है। बालों के लिए जड़ी बूटियों का प्रभाव बहुत ही फायदेमंद है और ये बालों को लम्बा एवं घना करने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें - बालों को लंबा करने के उपाय)

तो आइये, आपको बताते हैं वो बेहतरीन जड़ी - बूटियां जो आपके बालों को लम्बा एवं घना बनायेंगी -

  1. बालों को बढ़ाने की जड़ी बूटी है मुलेठी - Licorice herb for hair growth in Hindi
  2. बालों को लंबा की जड़ी बूटी है लेवेंडर - Lavender herb benefits for long hair in Hindi
  3. अलसी है बालों को घना के की जड़ी बूटी - flaxseed herb for hair growth in Hindi
  4. बालों को बढ़ाने के लिए जड़ी बूटी है भृंगराज - Bhringraj herb for hair growth in Hindi
  5. बालों को लंबा करने की सबसे अच्छी जड़ी बूटी है नीम - Neem herb good for long hair in Hindi
  6. बालों को लंबा करने के लिए उपयोग करें शिकाकाई जड़ी बूटी का - Shikakai herb makes your hair longer in Hindi
  7. बालों को घना करने के लिए जड़ी बूटी है ब्राह्मी - Brahmi herb for hair growth in Hindi
  8. बिच्छू बूटी है बाल बढ़ाने की जड़ी बूटी - Nettle herb promotes hair growth in Hindi
  9. बाल को लम्बे करने की जड़ी बूटी है केमोमाइल - Chamomile herb for long hair in Hindi
  10. बाल घना करने के लिए जड़ी बूटी है पुदीना - Peppermint herb benefits for hair growth in Hindi

विशेषज्ञ नाम - गलाईसीराइज़ा ग्लबरा

मुलेठी की जड़ में ट्रिटेरपेन सैपोनिन्स, ग्लाइकोसाइड्स और फ्लवोनोइड्स होते हैं जो सिर की त्वचा को पोषित करने और किसी भी कवक संक्रमण से बचाने में मदद करते हैं। ये प्रभावी क्लीन्ज़र की तरह काम करता है। 

(और पढ़ें - मुलेठी के लाभ)

इसका उपयोग करने के लिए -

  1. एक चम्मच मुलेठी और तीन कप गर्म पानी लें।
  2. अब मुलेठी को पानी में डाल दें और एक घंटे के लिए इसे ऐसे ही उबलते रहने दें।
  3. अब मिश्रण को छान लें।
  4. छानने के बाद मिश्रण को ठंडा कर लें।
  5. फिर मिश्रण को सिर की त्वचा और बालों में अच्छे से लगाएं।
  6. इसे लगाने के बाद आप मिश्रण को कुछ देर ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें, फिर पानी से बालों को धो लें।

(और पढ़ें - बालों को घना करने के उपाय)

फायदे -

  1. यह सिर की त्वचा को पोषित करता है।
  2. यह खराब हुए बालों का इलाज करता है।

(और पढ़ें - बाल लंबे करने का शैम्पू)

विशेषज्ञ नाम - लैवेंडुला ओफिसिनलिस

लैवेंडर को उसकी सुगन्धित खुशबू के लिए जाना जाता है। इसमें बालों की देखभाल करने के लिए सूजनरोधी और एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं। सिर को लीखे और जू से लैवेंडर बेहद सुरक्षित रखता है।

(और पढ़ें - लैवेंडर के तेल के लाभ)

इसका उपयोग करने के लिए -

  1. लैवेंडर के तेल की कुछ बूंदों को किसी अन्य प्रयोग योग्य तेल (नारियल या तिल का तेल) के साथ मिला दें।
  2. अब इस तेल के मिश्रण को सिर की त्वचा और बालों में अच्छे से लगाएं।
  3. फिर कुछ घंटे बाद बालों को धो लें।

(और पढ़ें - बालों को बढ़ाने का तेल)

फायदे –

  1. यह सिर की त्वचा के अत्यधिक तेल के उत्पादन को नियंत्रित करता है।
  2. यह तेल जू और लीखों को नष्ट करता है। (और पढ़ें - सिर की जूँ के घरेलू उपचार)
  3. सिर की त्वचा को स्वस्थ रखता है।
  4. बालों को बढ़ने में मदद करता है।  

(और पढ़ें - रूसी के लिए तेल)

विशेषज्ञ नाम - लिनम उसिटाटीसीमम

अलसी में फैटी एसिड होता है जो बालों के लिए बेहद आवश्यक है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स भी होते हैं, जिससे फ्री रेडिकल्स चले जाते हैं।

(और पढ़ें - अलसी के तेल के फायदे)

इसका उपयोग करने के लिए -

  1. मुट्ठीभर अलसी को पानी में उबलने के लिए रख दें।
  2. जब मिश्रण जेल जैसा लगने लगे तो फिर उसे एक अलग बर्तन में निकाल लें एवं ठंडा करें।
  3. अब इस जेल को सिर की त्वचा और बालों में लगा लें। 
  4. जब जेल सूख जाए या कुछ घंटे बाद बालों को धो लें।

(और पढ़ें - डैंड्रफ शैम्पू)

फायदे -

  1. बालों को पोषित करता है।
  2. फ्री रेडिकल्स से लड़ता है।
  3. बालों को मजबूत बनाता है और उन्हें घना करता है।
  4. बालों को टूटने से रोकता है।
  5. उन्हें मॉइस्चराइज़ करता है।

(और पढ़ें - रूसी हटाने के उपाय)

विशेषज्ञ नाम - एक्लिप्टा अल्बा

ये एक बहुत ही पुराना आयुर्वेदिक उपाय है, जिसका इस्तेमाल भारत में सदियों से किया जा रहा है। भृंगराज का इस्तेमाल झड़ते बालों और सिर की त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए किया जाता है, जिससे बाल लम्बे एवं घने होते हैं।

(और पढ़ें - भृंगराज के गुण)

इसका उपयोग करने के लिए -

  1. सबसे पहले भृंगराज पाउडर को किसी मालिश योग्य तेल के साथ मिला दें।
  2. फिर इस मिश्रण को अच्छे से मिलाने के बाद बालों और सिर की त्वचा पर लगाएं।
  3. अगर आपके पास भृंगराज पत्तियां हैं तो उन्हें पीस लें और फिर उस पेस्ट को सीधे-सीधे बालों में लगा लें।
  4. कुछ घंटे बाद बालों को धो लें।

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने के लिए हेयर मास्क)

फायदे -

  1. बालों को बढ़ने में मदद देता है।
  2. बालों को चमकदार और लम्बा बनाता है।

(और पढ़ें - बाल झड़ने के कारण)

विशेषज्ञ नाम - अज़ादिरचता इंडिका 

नीम का तेल बालों को बढ़ाने के लिए उन्हें उत्तेजित करता है और बालों को मजबूत भी बनाता है। इस तेल से बाल चमकदार और कोमल लगने लगते हैं। नीम के तेल से झड़ते बाल रुक जाते हैं और सिर की त्वचा स्वस्थ होती है। नीम के पेस्ट को आप कंडीशनर की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं, इससे आपकी त्वचा को पोषण मिलेगा और सिर की त्वचा से रूखापन चला जाएगा।

(और पढ़ें - नीम के फायदे)

इसका उपयोग करने के लिए -

  1. सबसे पहले मुट्ठीभर नीम की पत्तियां लें।
  2. अब उनका पेस्ट तैयार कर लें।
  3. पेस्ट को अब बालों और सिर की त्वचा पर लगाएं।
  4. फिर पेस्ट को सूखने दें।
  5. कुछ घंटे बाद बालों को धो लें।

(और पढ़ें - दोमुंहे बालों से छुटकारा)

फायदे -

  1. नीम डैंड्रफ को नियंत्रित करता है।
  2. यह सिर की त्वचा को साफ़ और पोषित करता है।
  3. इसके एंटीबैक्टीरियल गुण संक्रमण को दूर रखते हैं।

(और पढ़ें - नीम के तेल के फायदे)

विशेषज्ञ नाम - अकासिया कोनसिन्ना

शिकाकाई को शिकाकाई के पेड़ की छाल, पत्तियों और फली से निकाला जाता है। इसका पाउडर बालों को मजबूत बनाता है, डैंड्रफ नियंत्रित करता है और सिर की त्वचा को साफ़ करता है। इसे ज़्यादातर आंवला की तरह इस्तेमाल किया जाता है। बालों को बढ़ाने के लिए ये  बेहतरीन जड़ी बूटियों में से एक है।

(और पढ़ें - शिकाकाई के फायदे)

इसका उपयोग करने के लिए -

  1. शिकाकाई के पाउडर को किसी मालिश योग्य तेल जैसे नारियल के तेल में मिलाकर कर प्रयोग कर सकते हैं।
  2. इसके अलावा आप इसके पाउडर को पानी में मिलाकर पेस्ट बना सकते हैं। 
  3. पेस्ट बनाने के बाद आप इसे बालों और सिर की त्वचा पर लगा सकते हैं।
  4. आप शिकाकाई के फल को पानी में डालकर एवं मिश्रण को गर्म करके उसका क्लीन्ज़र भी तैयार कर सकते हैं।

(और पढ़ें - गंजापन दूर करने के उपाय)

फायदे -

  1. यह सिर की त्वचा का स्वास्थ्य सुधारता है और उन्हें साफ़ भी करता है।
  2. ये डैंड्रफ को नियंत्रित करता है।
  3. बालों के बढ़ने में मददगार होता है।
  4. बालों के जड़ों को मजबूत करता है।

विशेषज्ञ नाम - बाकोपा मोनिरी

बालों को झड़ने से रोकने के लिए ब्राह्मी तेल और उसके पाउडर का इस्तेमाल किया जाता है। इससे बाल घने, स्वस्थ और लम्बे लगने लगते हैं।

(और पढ़ें - ब्राह्मी के लाभ)

इसका उपयोग करने के लिए -

  1. ब्राह्मी के पाउडर को पानी में मिलाकर उसका पेस्ट तैयार किया जाता है।
  2. अब इस पेस्ट को बालों और सिर की त्वचा पर लगा लें।
  3. कुछ घंटे के बाद बालों को धो लें।
  4. आप ब्राह्मी के तेल से सिर की मसाज भी कर सकते हैं। ये तनाव को दूर करने के लिए बहुत ही बेहतरीन है और झड़ते बालों को कम करने में भी मदद करता है।

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने के उपाय

फायदे –

  1. ये तनाव दूर करता है और झड़ते बालों की समस्या कम करता है।
  2. इससे बालों को बढ़ने के लिए बढ़ावा मिलता है।
  3. इससे सिर की त्वचा हमेशा पोषित रहती है।

(और पढ़ें - रूखे बालों के लिए तेल)

विशेषज्ञ नाम - अर्टिका डीओइका

बालों को बढ़ाने, लम्बा और घना करने के लिए बिच्छू बूटी बहुत ही बेहतरीन उपाय है, क्योंकि यह सिर की त्वचा को उत्तेजित करता है एवं रक्त परिसंचरण को सुधारता है। इसके प्रयोग से बाल मजबूत भी होते हैं।

(और पढ़ें -  बिच्छू बूटी के फायदे)

इसका उपयोग करने के लिए -

  1. बिच्छू बूटी की मुट्ठीभर पत्तियां लेकर उसका पेस्ट तैयार कर लें।
  2. अब इस पेस्ट को जैतून के तेल के साथ मिला दें।
  3. अच्छे से मिश्रण को मिलाने के बाद उसे बालों और सिर की त्वचा पर लगा लें।
  4. फिर कुछ घंटे बाद बालों को धो लें।

(और पढ़ें - रूखे बालों के लिए शैम्पू)

फायदे -

  1. झड़ते बालों को रोकता है।
  2. रक्त परिसंचरण बढ़ाता है
  3. खराब हुए बालों को ठीक करता है।
  4. बालों को लम्बा करने में मदद करता है।

(और पढ़ें - रूखे बालों का घरेलू उपाय

विशेषज्ञ नाम - मात्रीकारिया रेकुटिशिया

कैमोमाइल की सुगंध आपको आराम देने में मदद करती है, इसके साथ ही इसे आमतौर पर चाय की तरह इस्तेमाल किया जाता है। इसे आप बालों की देखभाल के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं। ये जड़ी- बूटी सिर की त्वचा को पोषित करती है और बालों को बढ़ने के लिए प्रेरित करती है। ये आपके बालों को प्राकृतिक रंग भी देती है।

(और पढ़ें - कैमोमाइल चाय के फायदे)

इसका उपयोग करने के लिए -

  1. सबसे पहले आप कैमोमाइल की चाय तैयार कर लें।
  2. चाय तैयार होने के बाद उससे बालों को धोएं।
  3. इससे आपके बाल अच्छे से धुलेंगे भी और कंडीशनिंग भी होंगे।

(और पढ़ें - तैलीय बालों के लिए शैम्पू)

फायदे -

  1. ये बालों की जड़ों को पोषित करता है।
  2. बालों को घना बनाता है।
  3. सिर की त्वचा को आराम पहुँचता है।

(और पढ़ें - तैलीय बालों के घरेलू उपाय)

विशेषज्ञ नाम - मेंथा पिपेरिता

पुदीना एक एंटीफंगल और सूजनरोधी गुणों से समृद्ध जड़ी- बूटी है और इसमें मॉइचराजिंग गुण भी मौजूद होते हैं। ये आमतौर पर तेल के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, जिसे सिर की त्वचा और बालों में लगाया जाता है, जिससे बाल तेज़ी से बढ़ने लगते हैं। ये रक्त परिसंचरण को उत्तेजित करता है और बालों की रोम को ज़्यादा से ज़्यादा पोषित करता है।

(और पढ़ें - पुदीने के फायदे)

इसका उपयोग करने के लिए -

  1. पुदीने के तेल की कुछ बूंदों को किसी मालिश योग्य तेल में मिला लें।
  2. फिर इस तेल के मिश्रण को सिर की त्वचा और बालों में अच्छे से लगा लें।
  3. अब कुछ घंटे बाद बालों को धो लें।

(और पढ़ें - क्षतिग्रस्त बालों के उपाय)

फायदे -

  1. ये एक एन्टीफंगल है।
  2. यह सूजनरोधी भी होता है।
  3. ये तेल रक्त परिसंचरण को सुधारता है।
  4. सूजन और खुजली को कम करता है।
  5. बालों को बढ़ाता है।
  6. बालों को घना और लम्बा करता है।

(और पढ़ें - सफेद बालों से छुटकारा पाने के उपाय)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
4067 भारत
226आंध्र प्रदेश
10अंडमान निकोबार
1अरुणाचल प्रदेश
26असम
30बिहार
18चंडीगढ़
9छत्तीसगढ़
503दिल्ली
7गोवा
122गुजरात
84हरियाणा
13हिमाचल प्रदेश
106जम्मू-कश्मीर
3झारखंड
151कर्नाटक
314केरल
14लद्दाख
165मध्य प्रदेश
690महाराष्ट्र
2मणिपुर
1मिजोरम
21ओडिशा
5पुडुचेरी
68पंजाब
253राजस्थान
571तमिलनाडु
321तेलंगाना
26उत्तराखंड
227उत्तर प्रदेश
80पश्चिम बंगाल

मैप देखें