फ्लशिंग - Flushed Skin in Hindi

Dr. Ayush PandeyMBBS,PG Diploma

November 15, 2018

September 23, 2021

फ्लशिंग
फ्लशिंग

फ्लशिंग क्या है?

प्लावित त्वचा (फल्श्ड स्किन) त्वचा संबंधी रोग है, जिसमें चेहरे की त्वचा में लालिमा और चमकीलापन आ जाता है। इस रोग को फ्लशिंग, चमकीली त्वचा, चेहरे की लालिमा आदि के नाम से जाना जाता है। इस रोग में वैसे तो त्वचा का कोई भी हिस्सा प्रभावित हो जाता है, लेकिन इसके अधिकतर मामले चेहरे से संबंधित ही देखे जाते हैं, जबकि कुछ मामले छाती या गर्दन आदि पर भी देखे जा सकते हैं।

फ्लशिंग की समस्या आमतौर पर त्वचा की ऊपरी सतह के नीचे वाली रक्त वाहिकाएं फैलने के कारण होती है। वैसे तो फ्लशिंग और ब्लशिंग दोनों लगभग एक समान समस्या होती हैं, बस इनमें अंतर इतना होता है कि फ्लशिंग में लालिमा अधिक होती है। कई मामलों में, फ्लशिंग सामान्य गतिविधियों के कारण भी हो सकती है जैसे व्यायाम, गर्म तापमान, शराब या मसालेदार खाना आदि।

(और पढ़ें - चेहरा लाल होने का कारण)

फ्लशिंग के लक्षण - Flushing Symptoms in Hindi

फ्लशिंग के लक्षण स्थिति की गंभीरता और उसके अंदरूनी कारणों के अनुसार अलग-अलग हो सकते हैं। इसके कुछ मामलों में लक्षण गंभीर होते हैं, जिनमें त्वचा की लालिमा साफ-साफ दिखाई देती है। जबकि कुछ मामलों में लक्षण इतने कम होते हैं कि व्यक्ति उन्हें नोटिस भी नहीं कर पाता है। फ्लशिंग के सबसे सामान्य लक्षणों में निम्न शामिल हैं -

कुछ गंभीर मामलों में फ्लशिंग के कारण त्वचा अधिक प्रभावित हो जाती है और परिणामस्वरूप अधिक समय तक लालिमा रहने से त्वचा में कुछ अन्य लक्षण भी दिखने लगते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं -

(और पढ़ें - ज्यादा पसीना आना रोकने के घरेलू उपाय)

डॉक्टर को कब दिखाएं?

फ्लशिंग के कुछ मामले गंभीर नहीं होते हैं और ना ही उनका इलाज करवाने की जरूरत पड़ती है, जबकि कुछ मामले गंभीर हो सकते हैं, जिनका जल्द से जल्द इलाज करवाने की आवश्यकता होती है। ऐसी स्थिति का पता सिर्फ डॉक्टर ही लगा सकते हैं कि रोग कितना गंभीर है और इलाज करवाना कितना आवश्यक है। यदि आपको ऊपरोक्त में से कोई भी लक्षण महसूस हो रहा है, तो जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखा लेना चाहिए।

(और पढ़ें - त्वचा के रंग में बदलाव होने का कारण)

फ्लशिंग के कारण - Flushing Causes in Hindi

फ्लश्ड स्किन को प्लैथोरा भी कहा जाता है। इसके कारण अलग-अलग स्थितियों में भिन्न हो सकते हैं। यह आमतौर पर तब होता है, जब त्वचा के नीचे मौजूद रक्तवाहिकाएं अचानक से फैलने लग जाती हैं। कुछ अध्यनों के अनुसार ऐसा आमतौर पर किसी शारीरिक या मानसिक बदलाव के कारण होता है, जो कि उस बदलाव के प्रति एक प्रतिक्रिया होती है। उदाहरण के लिए कुछ लोगों में अचानक से शर्म महसूस करने या फिर अधिक गर्म जगह पर रहने से फ्लश्ड स्किन के लक्षण विकसित हो सकते हैं। इसके अलावा निम्न कुछ मानसिक व शारीरिक कारणों के बारे में बताया गया है -

मानसिक कारण - 

  • अधिक तनाव
  • चिंता या अवसाद
  • भय या डर
  • अधिक क्रोध होना
  • अचानक से खुशी या आश्चर्य
  • पैनिक (आतंक या भगदड़ की भावना)

शारीरिक कारण -

  • अधिक गर्मी का मौसम
  • धूप
  • अधिक पसीना आना
  • अधिक तीखा या खट्टा खाना
  • व्यायाम करना
  • गर्म या ठंडे पानी से नहाना या मुंह धोना
  • किसी कपड़े की रगड़ के त्वचा को पोंछ लेना

(और पढ़ें - गुस्सा कम करने के उपाय​)

फ्लशिंग का परीक्षण - Diagnosis of Flushing in Hindi

फ्लशिंग का परीक्षण करने के लिए डॉक्टर सबसे पहले त्वचा की करीब से जांच करते हैं और साथ ही साथ मरीज से उसके स्वास्थ्य संबंधी पिछली स्थिति के बारे में भी पूछा जाता है। इसके अलावा मरीज से हाल ही में ली गई दवाओं के बारे में भी पूछ सकते हैं। यदि डॉक्टर स्थिति की पुष्टि नहीं कर पा रहे हैं, तो मरीज को त्वचा विशेषज्ञ (डर्मेटोलॉजिस्ट) के पास भेज सकते हैं। त्वचा विशेषज्ञ डॉक्टर विशेष प्रकार के स्किन टेस्ट करते हैं, जिनकी मदद से रोग की पुष्टि की जाती है।

(और पढ़ें - एलर्जी टेस्ट क्या है)

फ्लश्ड स्किन का इलाज - Flushing Treatment in Hindi

फ्लशिंग का इलाज स्थिति की गंभीरता, लक्षण और उसके अंदरूनी कारणों के अनुसार किया जाता है। फ्लश्ड स्किन के कुछ मामले गंभीर नहीं होते हैं, ऐसे में डॉक्टर उसका घर पर ही इलाज करने की सलाह देते हैं। घर पर किए जाने वाली उपचार प्रक्रियाओं में निम्न शामिल हैं -

  • मसालेदार न खाना
  • अधिक गर्म या ठंडे के संपर्क में न रहना
  • प्रभावित त्वचा को सूखा व स्वच्छ रखना
  • किसी स्वच्छ व कोमल कपड़े से ढक कर रखना

यदि लक्षण घरेलू उपचारों से कम नहीं हो रहे हैं, लगातार बढ़ रहे हैं या आपको उनसे अन्य तकलीफ होने लगी है, तो डॉक्टर इसका अन्य तरीकों से इलाज शुरू कर सकते हैं। स्थिति का इलाज सबसे पहले लक्षणों के आधार पर किया जाता है, जैसे जलन व खुजली को कम करने वाली दवाएं देना जैसे कोर्टिकोस्टेरॉयड आदि। इसके अलावा मरीज को महसूस हो रहे लक्षणों के अनुसार ही कुछ अन्य दवाएं भी दी जा सकती हैं, जिनमें आमतौर पर कुछ प्रकार की एंटीबायोटिक, सूजन व दर्द को कम करने वाली दवाएं होती हैं।

फ्लश्ड स्किन का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं खाने के रूप में, जैसे टेबलेट और लगाने के रूप में जैसे क्रीम या जेल आदि मिलती हैं।

(और पढ़ें - त्वचा पर चकत्ते का इलाज​)



संदर्भ

  1. DermNet NZ. What is flushing?. New Zealand Trust. [internet].
  2. Leonid Izikson, Joseph C, Matthew J. Zirwas. The flushing patient: Differential diagnosis, workup, and treatment. j am acad dermatol August 2006; Volume 55.
  3. Primary Care Dermatology Society. Flushing. Rickmansworth, England. [internet].
  4. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Blushing and flushing
  5. Hannah-Shmouni F, Stratakis CA, Koch CA. Flushing in (Neuro)endocrinology. Rev Endocr Metab Disord. 2016 Sep;17(3):373-380. PMID: 27873108

फ्लशिंग की दवा - Medicines for Flushed Skin in Hindi

फ्लशिंग के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

फ्लशिंग की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Flushed Skin in Hindi

फ्लशिंग के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

दवा का नाम

कीमत

₹65.0

Showing 1 to 0 of 1 entries
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ