हेपेटाइटिस ए ऐसी बीमारी है, जो सीधे लिवर को प्रभावित करती है. यह बीमारी दूषित पानी और भोजन का सेवन करने से हो सकती है. इसके अलावा, संक्रमित व्यक्ति के रक्त और अन्य तरल पदार्थों के संपर्क में आने से भी हेपेटाइटिस ए फैल सकता है. यह बीमारी लिवर को नुकसान पहुंचा सकती है. हालांकि, हेपेटाइटिस ए गंभीर नहीं होता और खुद से ठीक हो जाता है, लेकिन इससे ग्रस्त मरीज को अपने खान-पान पर ध्यान जरूर देना चाहिए. इस दौरान अधिक कैलोरी वाल खाद्य पदार्थ लेने चाहिए. साथ ही लिक्वड अधिक लेना चाहिए.

आज इस लेख में आप हेपेटाइटिस ए में क्या खाएं और क्या न खाएं, इस बारे में विस्तार से जानेंगे-

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस का आयुर्वेदिक इलाज)

  1. हेपेटाइटिस ए में क्या खाएं?
  2. हेपेटाइटिस ए में क्या नहीं खाना चाहिए?
  3. सारांश
हेपेटाइटिस ए में क्या खाएं और क्या नहीं के डॉक्टर

हेपेटाइटिस ए होने पर डॉक्टरी इलाज के साथ-साथ स्वस्थ खानपान भी जरूरी है. अच्छी डाइट ही लिवर को मजबूत बना सकती है और हेपेटाइटिस ए के लक्षणों को कम कर सकती है. जो डाइट हेपेटाइटिस के अन्य प्रकारों में ली जाती है, लगभग वही सब हेपेटाइटिस ए में भी खाया जाता है. बस हेपेटाइटिसस में हाई कैलोरी फूड व तरल पदार्थ की मात्रा ज्यादा रखना जरूरी होता है. आइए, इस बारे में विस्तार से जानते हैं -

साबुत अनाज खाएं

हेपेटाइटिस ए के मरीजों के लिए साबुत अनाज खाना फायदेमंद होता है. अगर किसी को हेपेटाइटिस ए है, तो वो चोकर, ब्राउन राइसदलिया, साबुत जई और मकई आदि खा सकते हैं. हेपेटाइटिस ए होने पर इन फूड्स को डाइट में शामिल किया जा सकता है.

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस बी का इलाज)

हाई कैलोरी फूड

हेपेटाइटिस में अधिक कैलोरी की जरूरत होती है. इसलिए, अपनी डाइट में ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए, जिनमें कैलोरी की मात्रा अधिक होती है. इसके लिए मरीज को होल ग्रेन ब्रेड, नट़्सअंडा व घर में बना प्रोटीन शेक आदि दिया जा सकता है.

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस सी का इलाज)

तरल पदार्थ

हेपेटाइटिस ए के चलते दस्त लगने या उल्टियां होने पर डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है. इससे बचने के लिए मरीज को अधिक से अधिक तरल पदार्थ देने चाहिए. इसके लिए पानी की जगह फलों का रस व दूध आदि देना बेहतर होगा.

(और पढ़ें - वायरल हेपेटाइटिस का इलाज)

हेल्दी फैट लें

हेपेटाइटिस होने पर ट्रांस फैट पूरी तरह से बंद कर देना चाहिए और हेल्दी फैट को अपनी डाइट का हिस्सा बनाना चाहिए. इसके लिए जैतून का तेलकैनोला तेल और अलसी के तेल का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन इन तेलों का उपयोग भी कम मात्रा में ही करना चाहिए.

(और पढ़ें - अल्कोहलिक हेपेटाइटिस का इलाज)

लिवर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए Myupchar Ayurveda Yakritas का सेवन किया जा सकता है, जिसे खरीदने का लिंक नीचे दिया गया है -

हेपेटाइटिस ए होने पर जिस तरह कुछ खास खाद्य पदार्थ खाना फायदेमंद होता है. उसी तरह कुछ चीजों से परहेज करना भी लाभकारी होता है, क्योंकि कई ऐसे खाद्य पदार्थ हैं, जो हेपेटाइटिस ए के लक्षणों को ट्रिगर कर सकते हैं. इससे लिवर को अधिक नुकसान पहुंच सकता है -

प्रोसेस्ड फूड्स न खाएं

हेपेटाइटिस ए होने पर प्रोसेस्ड फूड्स का सेवन नहीं करना चाहिए. दरअसल, लिवर के लिए प्रोसेस्ड फूड्स को पचाना काफी मुश्किल हो जाता है. वहीं, इन फूड्स में पोषक तत्व भी नहीं पाए जाते हैं. इससे लिवर के अधिक डैमेज होने का जोखिम बना रहता है. प्रोसेस्ड फूड्स हेपेटाइटिस ए के लक्षणों को ट्रिगर कर सकते हैं.

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस की होम्योपैथिक दवा)

शराब न पिएं

शराब हेपेटाइटिस का मुख्य कारण होता है. जो लोग शराब पीते हैं, उन्हें हेपेटाइटिस हो सकता है, लेकिन अगर किसी को पहले से हेपेटाइटिस ए है, तो शराब का सेवन बिल्कुल न करें. शराब पीने से लिवर पर तनाव बढ़ता है और इससे हेपेटाइटिस के लक्षण ट्रिगर हो सकते हैं. शराब लिवर खराब होने के जोखिम को बढ़ा सकता है.

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस डी का इलाज)

शुगर से परहेज

अधिक मात्रा में चीनी खाना सेहत के लिए नुकसानदायक होता है. इससे हेपेटाइटिस ए के लक्षण ट्रिगर हो सकते हैं. हेपेटाइटिस ए होने पर मीठा सोडा आदि पीने से भी बचना चाहिए. 

(और पढ़ें - क्या हेपेटाइटिस बी ठीक हो सकता है)

आयरन की कम मात्रा

हेपेटाइटिस ए वाले लोगों को आयरन का सेवन भी सीमित मात्रा में ही करना चाहिए, क्योंकि क्रोनिक हेपेटाइटिस के रोगियों को आयरन को अवशोषित करने में काफी मुश्किल हो सकती है. अधिक आयरन लेने से हेपेटाइटिस ए के लक्षणों में वृद्धि देखने को मिल सकती है. आयरन की अधिकता से लिवर में टिश्यू डैमेज होने का खतरा बढ़ जाता है. इस वजह से हेपेटाइटिस ए होने पर आयरन को सीमित कर देना चाहिए.

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस ई का इलाज)

नमक कम खाएं

हेपेटाइटिस वाले लोगों को कम मात्रा में ही नमक का सेवन करना चाहिए, क्योंकि हाई सोडियम वाले खाद्य पदार्थ लिवर को अधिक नुकसान पहुंचा सकते हैं. इस दौरान जंक फूड आदि से भी परहेज करना चाहिए.

(और पढ़ें - क्या हेपेटाइटिस बी से कैंसर होता है)

बाहर का खाना खाने से बचें

हेपेटाइटिस ए अक्सर अस्वस्थ खाना खाने से फैलता है. ऐसे में जो लोग बाहर का खाना खाते हैं, उनमें हेपेटाइटिस ए के अधिक मामले सामना आ सकते हैं. वहीं, अगर किसी को पहले से हेपेटाइटिस ए है, तो बाहर के खाने से पूरी तरह से परहेज करें.

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस बी टेस्ट)

रेड मीट से बचें

हेपेटाइटिस ए होने पर रेड मीट आदि खाने से भी बचना चाहिए. लिवर रेड मीट को आसानी से डाइजेस्ट नहीं कर पाता है, वहीं इसमें हाई सोडियम भी होता है. इससे हेपेटाइटिस के लक्षण ट्रिगर हो सकते हैं.

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस बी में परहेज)

हेपेटाइटिस ए लिवर से जुड़ी गंभीर बीमारी होती है. यह लिवर को डैमेज कर सकती है. ऐसे में हेपेटाइटिस ए का इलाज करवाना जरूरी होता है. इलाज के साथ ही हेपेटाइटिस ए के लिए हेल्दी डाइट लेना भी जरूरी होता है. जो लोग हेल्दी डाइट लेते हैं, वे हेपेटाइटिस ए से जल्दी रिकवर कर सकते हैं. वहीं, अनहेल्दी फूड्स से परहेज करना भी बहुत जरूरी होता है.

(और पढ़ें - हेपेटाइटिस-सी में क्या खाना चाहिए)

Dr. Murugan N

Dr. Murugan N

हीपैटोलॉजी (यकृत पित्त अग्न्याशय चिकित्सा )
18 वर्षों का अनुभव

Dr. Ashwin P Vinod

Dr. Ashwin P Vinod

हीपैटोलॉजी (यकृत पित्त अग्न्याशय चिकित्सा )
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Rathod Bhupesh

Dr. Rathod Bhupesh

हीपैटोलॉजी (यकृत पित्त अग्न्याशय चिकित्सा )
6 वर्षों का अनुभव

Dr. Datta Sawangikar

Dr. Datta Sawangikar

हीपैटोलॉजी (यकृत पित्त अग्न्याशय चिकित्सा )
3 वर्षों का अनुभव

सम्बंधित लेख

हेपेटाइटिस ए का टीका

Dr. Pradeep Jain
MD,MBBS,MD - Pediatrics
25 वर्षों का अनुभव
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ