myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

थायराइड एक तितली के आकार की ग्रंथि होती है जो एडम एप्पल के ठीक नीचे गर्दन में स्थित होती है। इसे मुख्य ग्रंथि के रूप में जाना जाता है जो शरीर की ऊर्जा और चयापचय को नियंत्रित करने में मदद करती है। जब थायरॉयड अत्यधिक सक्रिय हो जाती है और थायरोक्सिन हार्मोन की अत्यधिक मात्रा में उत्पादन करने लगती है तो इस स्थिति को हाइपरथायरायडिज्म कहा जाता है। (और दूसरी तरफ, थायरोक्सिन हार्मोन के कम मात्रा में उत्पादन को हाइपोथायरायडिज्म कहा जाता है)

(और पढ़ें - थायराइड के लक्षण)

हाइपरथायरायडिज्म के सामान्य कारणों में शामिल हैं ऑटोइम्यून डिसॉर्डर जिसे ग्रेव्स रोग कहा जाता है साथ ही थायरॉयड ग्रंथि की सूजन, थायरॉयड हार्मोन का असामन्य स्राव, आयोडीन का अत्यधिक सेवन या थायरॉयड में सौम्य गांठ या नोड्यूल आदि शामिल हैं। हाइपरथायरॉडीजम किसी को भी हो सकता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ये स्तिथि आठ गुना अधिक होती है। यह 30 की उम्र की शुरुआत में ही विकसित होने लगती है लेकिन इसके लक्षण 60 से अधिक महिलाओं में ज़्यादा सामान्य हैं।

कई तरह के संकेत हाइपरथायरोडिज़्म के लक्षणों को बताते हैं जैसे वज़न का घटना, अनियमित दिल की धड़कन, घबराहट, अत्यधिक पसीना, मासिक धर्म चक्र में बदलाव, गर्दन के आधार पर सूजन, थकान, मांसपेशियों की कमजोरी और सोने में कठिनाई महसूस होना आदि शामिल हैं। हाइपरथायरायडिज्म के कई लक्षण अन्य स्थितियों के लिए भी बहुत आम है। इसलिए समस्या को जल्द पहचानना थोड़ा मुश्किल होता है। (और पढ़ें – थकान कम करने के घरेलू उपाय)

थायरॉयड का जल्द निदान दवाओं, सप्लीमेंट्स और जीवनशैली में बदलाव लाकर किया जा सकता है। हाइपरथायरायडिज्म का इलाज कुछ प्राकर्तिक तत्वों से भी किया जा सकता है। हालाँकि कोई भी उपचार लेने से पहले आप अपने डॉक्टर से सभी तरह की जानकारी ले लें। (और पढ़ें - थायराइड में क्या खाना चाहिए)

तो आईये आज आपको बताते हैं कुछ थायराइड कम करने के घरेलू उपाय।

  1. थायराइड से बचने का उपाय है बुगलेवीड - Thyroid kam karne ka upay hai bugleweed
  2. थायराइड कम करने का उपाय है लेमन बाम - Thyroid ko kam karne ke upay hai lemon balm
  3. थायराइड कम करने का घरलू उपाय है मदरवोर्ट - Thyroid se bachne ke upay hai motherwort
  4. थायराइड खत्म करने का उपाय है ओमेगा 3 फैटी एसिड - Thyroid ko control kare omega 3 fatty acids se
  5. थायराइड कम करने में सहायक है ब्रोकली - Thyroid control karne ka upay hai broccoli
  6. थायराइड से बचाव का उपाय है एंटीऑक्सीडेंट - Thyroid dur karne ka upay hai antioxidants
  7. थायराइड दूर करने का उपाय है समुंद्री सब्ज़िया - Thyroid se bachne ka tarika sea vegetables
  8. थायराइड को करें कंट्रोल पत्ता गोबी से - Thyroid se chutkara paye cabbage se
  9. थायराइड कम करने के लिए बैरी का करें उपयोग - Thyroid control karne ka tarika hai berries
  10. थायराइड से बचें आंवला के उपयोग से - Thyroid kam karne ka nuksa hai indian gooseberry

बुगलेवीड जड़ी बूटी को लीकोपसविर्जिनिका भी कहा जाता है। यह हल्के हाइपरथायरायडिज्म का इलाज करने में मदद करता है। यह जड़ी बूटी विशेष रूप से थायराइड द्वारा उत्पादित हॉर्मोन की मात्रा को कम करती है। 

अध्ययनों से पता चला है कि यह टीएसएच और थायराइड हार्मोन संश्लेषण के स्तर को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा यह टी 4 के स्तर को कम करता है और टी 4 से टी 3 के रूपांतरण को रोकता है।

बुगलेवीड का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. हर्बल टी बनाने के लिए एक या आधा चम्मच बुगलेवीड को एक कप गर्म पानी में डालें। अब इसे कुछ मिनट के लिए उबलने को रख दें। कुछ मिनट बाद मिश्रण को छान लें और ठंडा होने के लिए रख दें। अब इस मिश्रण का इस्तेमाल पूरे दिन में एक बार ज़रूर करें।
  2. इसके अलावा आप इस जड़ी बूटी को लेमन बाम और मदरवोर्ट के साथ भी ले सकते हैं। यह मिश्रण आपके हाइपरथायरायडिज्म के उपचार के लिए अत्यधिक प्रभावी होगा।

नोट - हाइपोडायरायडिज्म या बढ़े हुए थायरॉयड ग्रंथि के लिए इस जड़ी-बूटियों का उपयोग न करें। इसके अलावा, यह गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए उपयुक्त नहीं है।

लेमन बाम को मेलिसा ओफिसिनलिस के नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसी जड़ी बूटी है जो टीएसएच स्तर को कम करके थायरॉयड को सामान्य करने में मदद करती है। इसमें फ्लेवोनोइड, फेनोलिक एसिड और अन्य उपयोगी यौगिक शामिल हैं जो थायराइड को नियंत्रित करते हैं।

इसके अलावा ये एंटीबॉडी की गतिविधि को रोकता है जिससे थायरॉयड ग्रंथि उत्तेजित होती है और ग्रेव रोग का कारण बनती है जो कि हाइपरथायरॉडीजम का एक सामान्य रूप है। अपनी थायरॉयड गतिविधि को स्वस्थ स्तर पर रखने के लिए नींबू बाम चाय पियें।

लेमन बाम का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. एक कप गर्म पानी में नींबू बाम के दो चम्मच मिलाएं। (और पढ़ें - नींबू के फायदे और नुकसान)
  2. पांच मिनट के लिए उसे उबलने के लिए रख दें।
  3. अब इस मिश्रण को छान लें और पूरे दिन में तीन बार ज़रूर पियें।
  4. आप इस मिश्रण का उपयोग कुछ कम खुराक के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं। सबसे पहले आधा फिर एक चम्मच फिर धीरे धीरे दो चम्मच तक बढ़ा सकते हैं।

मदरवोर्ट जड़ी बूटी को लीयोनुरस कार्डियाका भी कहा जाता है। यह एक प्राकृतिक बीटा-अवरोधक के रूप में कार्य करता है और टेकीकार्डिया (उच्च हृदय गति) और धड़कनों को नियंत्रित करने में सहायता करता है। इसमें मौजूद थाइरोइडरोधी गतिविधि हाइपरथाइरोड स्थितियों से पीड़ित लोगों के लिए बेहद फायदेमंद होती है।

मदरवोर्ट का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. एक कप गर्म पानी में एक या आधा चम्मच मदरवोर्ट की डालें और पांच मिनट के लिए उबलने को रख दें। पांच मिनट के बाद इस मिश्रण को छान लें और ठंडा होने के लिए रख दें।
  2. अब इस चाय को पूरे दिन में तीन बार ज़रूर पियें।
  3. यह ध्यान रहें अगर आप किसी भी प्रकार की दवाई ले रहें हैं तो इस जड़ी बूटी का इस्तेमाल न करें। 

अगर आपके शरीर को पर्याप्त ओमेगा -3 फैटी एसिड नहीं मिल रहा है तो हार्मोनल असंतुलित हो सकता है जिसमें थायराइड हार्मोन शामिल हैं। ये आवश्यक फैटी एसिड हार्मोन के लिए बिल्डिंग ब्लॉक हैं जो प्रतिरक्षा फंक्शन और सेल की वृद्धि को नियंत्रित करते हैं।

आप अपने आहार में ओमेगा -3 फैटी एसिड की मात्रा को और अधिक मछली, फ्लेक्ससीड्स और अखरोट आदि को खाकर बढ़ा सकते हैं।

ब्रोकोली एक क्रूसीफेरस सब्ज़ी है जिसमें आइसोथियोसाइनेट्स और गोईट्रोजन्स नामक पदार्थ होते हैं जो थायरॉयड को बहुत अधिक हार्मोन बनाने से रोकते हैं। इसलिए हाइपरथायरायडिज्म से पीड़ित किसी भी व्यक्ति को जितनी ज्यादा हो सके बिना पके ब्रोकोली खाने की कोशिश करनी चाहिए।

अन्य क्रूसीफेरस सब्ज़ियां जैसे फूलगोभी, शलजम, सरसों का साग और मूली आदि सहायक होती हैं। 

(और पढ़ें - ब्रोकली के फायदे और नुकसान)

एंटीऑक्सिडेंट युक्त आहार हाइपरथायरायडिज्म को नियंत्रित करने में सहायक होते हैं। हाइपरथायरायडिज्म की वजह से थायरॉयड हार्मोन का स्तर बढ़ता है जिसकी वजह से शरीर में फ्री रेडिकल डैमेज और ऑक्सीडेटिव बढ़ने लगते हैं।

एंटीऑक्सिडेंट ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने के लिए फायदेमंद हैं। अपने आहार में विटामिन सी, विटामिन ई, बीटा कैरोटीन, सेलेनियम और मैग्नीशियम जैसे खाद्य पदार्थों को मिलाएं। इन पोषक तत्वों को प्राप्त करने के लिए अपने आहार में ताजे फल और सब्जियां शामिल करें जैसे जामुन, अंगूर, टमाटर और बेल मिर्च आदि। आप मल्टीविटामिन भी ले सकते हैं। इसके अलावा अपने आहार में अधिक प्रोटीन लेना न भूलें। एक अतिरक्त थायरॉयड आपकी मांसपेशियों को और अधिक आसानी से तोड़ने का कारण बनता है। प्रोटीन विशेष रूप से मांसपेशियों और ताकत को बढ़ाता है।

प्रोटीन प्राप्त करने के लिए आप एक या दो चम्मच मट्ठा प्रोटीन पाउडर अपने आहार में जोड़ सकते हैं। इसके अलावा, अपने आहार में बीन्स, नट्स, अखरोट बटर, बीजों और दही को ज़रूर शामिल करें। आप पतला मांस, ठंडे पानी की मछली और अंडे भी खा सकते हैं लेकिन लाल मांस और संसाधित मांस खाने से बचें।

समुंद्री सब्ज़ियां आयोडीन का एक अच्छा स्रोत होती हैं जो थायराइड स्वास्थ्य के लिए एक महत्वपूर्ण खनिज है। समुद्री सब्जियों में मौजूद प्राकृतिक आयोडीन थायरॉयड संबंधी विकारों जैसे वजन में उतार-चढ़ाव और लसीका प्रणाली में जमाव को सामान्य रखता है। इन सब्जियों में भी अच्छी मात्रा में विटामिन के, बी-विटामिन फोलेट, मैग्नीशियम, लोहा और कैल्शियम शामिल होता है।

समुद्री सब्जियों में से कुछ जो आप हाइपरथायरायडिज्म के उपचार में उपयोग कर सकते हैं वो हैं केल्प, कोम्बु, हिजीकी, नोरि, आदि। ये आमतौर पर आपको दुकानों में सूखे पदार्थ के रूप में उपलब्ध हो जाएंगी।

आप इन सब्ज़ियों को क्रश या काट के सॉस, पिज़्ज़ा, चावल और सलाद आदि में इस्तेमाल कर सकते हैं।

पत्ता गोभी सबसे उपयोगी खाद्य पदार्थों में से एक है जो हाइपरथायरायडिज्म के उपचार में इस्तेमाल किया जाता है। गोभी में गोइट्रोजंस की मात्रा बहुत अधिक होती है जो थायराइड हार्मोन के उत्पादन को कम करने में मदद करता है। अच्छे परिणाम के लिए भुना हुआ पत्ता गोभी खाएं। 

(और पढ़ें - पत्ता गोभी के फायदे और नुकसान)

बैरी विटामिन और विभिन्न एंटीऑक्सीडेंट के गुणों से समृद्ध होती हैं जो कि थायरॉयड ग्रंथि की सूजन को कम करने में मदद करती है। आप विभिन्न प्रकार के बैरी जैसे ब्लूबेरी, ब्लैकबेरी, स्ट्रॉबेरी, चेरी और अन्य खा सकते हैं।

आंवला हाइपरथायरायडिज्म सहित कई स्वास्थ्य समस्याओं का इलाज करता है। आंवला थायराइड हार्मोन के उत्पादन को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

शहद के साथ भारतीय आंवला के पाउडर को मिलाकर मोटा पेस्ट बनाकर सुबह को नाश्ते में खाएं। 

(और पढ़ें - आंवला के फायदे, गुण, लाभ, नुकसान)

ये कुछ खाद्य पदार्थ हैं जो हाइपरथायरायडिज्म के उपचार में मदद करते हैं और थायरॉयड हार्मोन के उत्पादन को दबा देते हैं। इसके अलावा, हाइपरथोरायडिज्म को रोकने के लिए डेयरी उत्पादों और कैफीन का सेवन सीमित रखने की कोशिश करें।

और पढ़ें ...