myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

जैसा कि हम सब जानते हैं, केले का सेवन हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि केले के अलावा, इसके पौधे के अन्य हिस्से भी आपके लिए लाभकारी साबित हो सकती है? उन्हीं हिस्सों में से एक है केले की जड़ें।

(और पढ़ें - केले के पत्ते के फायदे)

केले की जड़ पोषक तत्वों से भरपूर होती है, जो शरीर को स्वस्थ रखने में उपयोगी हो सकती हैं। केले की जड़ें सेरोटोनिन, नोरएपिनेफ्रीन, टैनिन, हाइड्रोक्सीट्रिप्टामिन, डोपामाइन, विटामिन ए, विटामिन बी और विटामिन सी का भरपूर स्रोत होती है।

(और पढ़ें - केले के छिलके के फायदे)

  1. केले की जड़ के फायदे - Kele ki Jad ke Fayde

केले की जड़ें कई बीमारियों के इलाज के लिए जानी जाती हैं, जिसमें हेमेचुरिया (खूनी मूत्र आमतौर पर मूत्राशय के जीवाणु संक्रमण के कारण होता है) का भी इलाज किया जा सकता है। इसके अलावा केले की जड़ में एंटीडोट बनने की क्षमता हैं, क्योंकि इसका उपयोग पारंपरिक हर्बल तत्वों के रूप में काफी सालों किया जा रहा है। इसमें टैनिन की भरपूर मात्रा पाई जाती है, जो एक एंटीसेप्टिक के रूप में कार्य करती है। 

(और पढ़ें - केले के फूल के फायदे)

तो चलिए जानते हैं इसके लाभों के बारे में:

  1. केले की जड़ के फायदे करें बुखार में मदद - Kele ki jad ke fayde karen bukhar mein madad
  2. केले की जड़ के लाभ दिलाए सूजन से छुटकारा - Kele ki jad ke labh dilayen sujan se chutkara
  3. बनाना रुट फॉर हाई ब्लड प्रेशर इन हिंदी - Banana root for high blood pressure in hindi
  4. केले की जड़ खाने के फायदे हैं अस्थमा में लाभकारी - Kele ki jad khane ke fayde hain asthma mein labhkari
  5. केले की जड़ के गुण दिलाए दर्द से राहत - Kele ki jad ke gun dilayen dard se raahat
  6. केले की जड़ का उपयोग करें आँखों के लिए - Kele ki jad ka upyog kare aankhon ke liye
  7. केले की जड़ के औषधीय गुण करें मुँह के छालों से बचाव - Kele ki jad ke aushdhiya gun karen muh ke chhalon se bachaav
  8. केले की जड़ का सेवन है पेट के अल्सर में उपयोगी - Kele ki jad ka sewan hai pet ke ulcer mein upyohi

केले की जड़ के फायदे करें बुखार में मदद - Kele ki jad ke fayde karen bukhar mein madad

केले की जड़ों में एंटीपायरेटिक गुण होते हैं जिसका शरीर में बहुत ही ठंडा प्रभाव हो सकता हैं। इसके ये गुण बुखार से छुटकारा पाने के लिए बहुत ही उपयोगी होते हैं। एंटीपायरेटिक एक चिकित्सा शब्द है जो रक्त के प्रवाह को तेज करके बुखार को कम करने में मदद करता है। केले की जड़े पसीने के माध्यम से रोम छिद्रों के द्वारा शरीर से गर्मी को हटाने में लाभकारी होती है। इसलिए केले की जड़ों का सेवन बुखार में लाभकारी होता है।

(और पढ़ें - बुखार भगाने के घरेलू उपाय)

केले की जड़ के लाभ दिलाए सूजन से छुटकारा - Kele ki jad ke labh dilayen sujan se chutkara

केले की जड़ें सूजन का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली ट्रेडिशनल मेडिसन के रूप में उपयोग की जाती है। गले की खराश का इलाज करने के लिए, आप केले की जड़ का उपयोग कर सकते हैं।

इसके लिए आप केले की जड़ को तब तक धोए, जब तक ये अच्छे से साफ़ न हो जाएँ। अब अच्छे से निचोड़ कर इसमें तीन चौथाई कप पानी मिलाएं और उबालें। इसके बाद केले की जड़ को तब तक निचोड़ें, जब तक कि इन जड़ों का पूरा रस न निकल जाएं। जब तक आपकी सूजन ठीक नहीं हो जाती हैं, तब तक दिन में 4-6 बार इससे कुल्ला करें।

(और पढ़ें - कच्चा केला खाने के फायदे)

इसके अलावा मस्तिष्क की सूजन का इलाज करने के लिए, आप केले की जड़ का रस पी सकते हैं। 200 ग्राम केले की जड़ को अच्छे से साफ करके धोएं। फिर पर्याप्त मात्रा में पानी लेकर अच्छे से ब्लेंड करें। अच्छे परिणाम प्राप्त करने के लिए नियमित रूप से पिएं।

(और पढ़ें - दूध और केला खाने के फायदे)

बनाना रुट फॉर हाई ब्लड प्रेशर इन हिंदी - Banana root for high blood pressure in hindi

केले की जड़ का सेवन हाई ब्लड प्रेशर का इलाज करने के लिए किया जा सकता है। यदि आप केले की जड़ के रस का सेवन करते हैं, तो यह ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने और कम करने में मदद कर सकता हैं।

ब्लड प्रेशर के लिए केले की जड़ों का उपयोग करने के लिए, लगभग 30 से 120 ग्राम ताजा केले की जड़ों को पानी में उबालें। इस काढ़े का सेवन करें। अच्छे परिणाम प्राप्त करने के लिए नियमित रूप से दिन में तीन बार एक-एक कप काढ़ा पिएं। इसके अलावा, सर्दी जुकाम का इलाज करने के लिए भी आप इस काढ़े का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़ें - हाई ब्लड प्रेशर में क्या खाएं)

 

केले की जड़ खाने के फायदे हैं अस्थमा में लाभकारी - Kele ki jad khane ke fayde hain asthma mein labhkari

जैसा की हम पहले ही बता चुके हैं कि केले की जड़ों में सूजन को कम करने वाले और एंटीपायरेटिक गुण होते हैं। ये गुण सांस या अस्थमा की बीमारियों को कम करने के लिए भी बहुत ही उपयोगी माने जाते हैं। इसलिए यदि आप अस्थमा की समस्या से पीड़ित हैं तो आपको केले की जड़ से तैयार काढ़े का सेवन करना चाहिए।

(और पढ़ें - अस्थमा के घरेलू उपाय)

 

केले की जड़ के गुण दिलाए दर्द से राहत - Kele ki jad ke gun dilayen dard se raahat

मामूली चोट लग जाने पर दर्द से राहत पाने के लिए, आप केले की जड़ का उपयोग कर सकते हैं। केले की जड़ों में टैनिन की भरपूर मात्रा, घाव में होने वाले दर्द को रोकने में मदद कर सकती है। इसके अलावा, केले की जड़ रक्त वाहिकाओं को खोलने में मदद कर सकती है।

(और पढ़ें - घाव भरने के घरेलू उपाय)

केले की जड़ का उपयोग करें आँखों के लिए - Kele ki jad ka upyog kare aankhon ke liye

केले की जड़ें आंखों के लिए भी बहुत ही लाभकारी होती हैं क्योंकि केले की जड़ में विटामिन ए की भरपूर मात्रा होती है। जिस प्रकार से गाजर का सेवन आंखों के लिए लाभकारी होता है, वैसे ही केले की जड़ों का सेवन आंखों के लिए बहुत ही उपयोगी है। इसलिए यदि आप कुछ हद तक अपनी आंखों को स्वस्थ रखना चाहते हैं, तो आपको केले की जड़ से तैयार काढ़ें का सेवन करना चाहिए।

(और पढ़ें - आंखों की रोशनी बढ़ाने के उपाय)

केले की जड़ के औषधीय गुण करें मुँह के छालों से बचाव - Kele ki jad ke aushdhiya gun karen muh ke chhalon se bachaav

केले की जड़ों में छाले होने से रोकने और इलाज करने की क्षमता होती है क्योंकि केले की जड़ में संक्रमण और सूजन को कम करने वाले गुण होते हैं जो एक एंटीसेप्टिक के रूप में कार्य करते हैं। इसलिए यदि आप छालों का इलाज करना चाहते हैं, तो केले की जड़ के काढ़े से दिन में कई बार कुल्ला जरूर करें।

(और पढ़ें - मुंह के छाले दूर करने के उपाय)

केले की जड़ का सेवन है पेट के अल्सर में उपयोगी - Kele ki jad ka sewan hai pet ke ulcer mein upyohi

केले के जड़ में शांत करने वाले गुण होते हैं। इसलिए इसका सेवन पेट को शांत करने में मदद कर सकता है। केले की जड़ में डोपामाइन की भरपूर मात्रा गैस्ट्रिक एसिड को खत्म करने में मदद करती है। इससे अल्सर रोग की शुरुआत को रोकने में मदद मिल सकती है।

अल्सर के इलाज के लिए, आप एक हर्बल विकल्प के रूप में केले की जड़ों का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए केले की जड़ को अच्छे से धोये और पानी में भिगो दें। इस पानी को उबाल कर काढ़ा तैयार करें। इस काढ़े का सेवन करें।

(और पढ़ें - पेट में अल्सर के घरेलू उपाय)

और पढ़ें ...