myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

केला दुनिया के कई लोगों द्वारा पसंद किया जाने वाला एक उष्णकटिबंधीय फल है। हम सभी केले से मिलने वाली ऊर्जा के साथ कई स्वास्थ्य लाभों से परिचित हैं और अक्सर एथलीट अपने आहार में केला जरूर शामिल करते हैं। लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि केले के पत्तों के भी कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। 

(और पढ़ें - दूध और केला खाने के फायदे)

केले के पत्तों (एक सूखे और ताजा एक) को औषधीय रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। हमारे स्वास्थ्य तथा सुंदरता के लिए भी उनके कई लाभ हैं। इनसे हम गले में खराश, खांसी, सामान्य सर्दी और बुखार जैसी बीमारियों का इलाज भी कर सकते हैं। कुछ देशों में पारंपरिक स्पा सामग्री के रूप में भी इनका उपयोग किया जाता है, जो त्वचा के लिए बहुत अच्छा है।

(और पढ़ें - कच्चा केला खाने के फायदे)

  1. केले के पत्ते के फायदे - Kele ke Patte ke Fayde

केले की पत्तियों में पॉलीफेनॉल की भरपूर मात्रा होती हैं, जो एक प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट्स हैं। ये हमारे शरीर में मुक्त कणों के कारण होने वाले कई रोगों से लड़ने में लाभकारी होते हैं। ये मुक्त कणों के कारण होने वाली सूजन को भी रोकते है। इस सूजन के कारण कई प्रकार की डीजेनरेटिव बीमारियां जैसे एथेरोस्क्लेरोसिस अल्जाइमरडिमेंशिया यहां तक कि कैंसर भी हो सकती हैं। ये एंटी-ऑक्सीडेंट्स उम्र बढ़ने के संकेतों जैसे कि झुर्रियां और डल स्किन को रोकने के लिए भी लाभकारी हो सकते हैं। 

(और पढ़ें - केले के फूल के फायदे)

तो चलिए जानते हैं इसके लाभों के बारे में:

  1. केले के पत्तों के फायदे करें गले की खराश को दूर - Kele ke patto ke fayde karen gale ki kharash ko dur
  2. केले के पत्ते के लाभ हैं बुखार में लाभकारी - Kele ke patte ke labh hain bukhar mein labhkari
  3. केले के पत्ते के गुण बनाएं इम्यून सिस्टम को मजबूत - Kele ke patte ke gun banayen immune system ko majboot
  4. केले के पत्ते के फायदे है पेचिश में लाभकारी - Kele ke patte ke fayde hain pechish mein labhkari
  5. केले के पत्ते के औषधीय गुण रखें त्वचा को स्वस्थ - Kele ke patte ke aushdhiya gun rakhen tvcha ko swsth
  6. केले के पत्तों का उपयोग है बालों के लिए लाभकारी - Kele ke patto ka upyog hai baalon ke liye upyogi
  7. केले के पत्तों का सेवन करें वजन कम करने में मदद - Kele ke patto ka sewan kare wajan kam karne mein madad
  8. भोजन को लपेटने में उपयोगी हैं केले के पत्ते - Bhojan ko lapetane mein upyogi hai kele ke patte

केले के पत्तों के फायदे करें गले की खराश को दूर - Kele ke patto ke fayde karen gale ki kharash ko dur

केले की पत्तियों के लाभों में से एक है गले में दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद करना। ऐसी ही एक समस्या है गले में खराश, जो श्वसन से जुड़ी कई बीमारियों का लक्षण होती है और ये बीमारियां ज्यादातर वायरस के कारण होती हैं। ऐसे में एंटीबायोटिक दवाएं आपके लिए लाभकारी नहीं हो सकती हैं।

गले में खराश होने पर बहुत ही ज्यादा परेशानी होती है जिससे हमें खाद्य पदार्थ या पेय पदार्थ निगलने में दर्द महसूस होता है। इसके लिए आप केले के सूखे पत्ते को पानी में उबाल लें। उबालने के बाद जैसे आप नियमित रूप से चाय पीते हैं, वैसे ही दिन में 2 बार इसका सेवन करें। इसके सेवन से आपका गला बहुत ही जल्दी ठीक हो जाएगा।

(और पढ़ें - गले की खराश दूर करने के उपाय 

केले के पत्ते के लाभ हैं बुखार में लाभकारी - Kele ke patte ke labh hain bukhar mein labhkari

इसके अलावा, केले के पत्ते गर्मी या शरीर के तापमान को कम करने में मदद कर सकते हैं। इसके लिए आप केले के पत्तों को उबालें और ठंडा होने दें। इसके बाद इन्हें अधिक फायदेमंद और टेस्टी बनाने के लिए आप इसमें थोड़ा सा शहद मिक्स करें। अब इस काढ़े का सेवन तीन-चार बार करें। 

ऐसे में यह उपाय बुखार को कम करने में भी लाभकारी हो सकता है। केले के पत्तों में एंटीऑक्सीडेंट और सूजन को कम करने के लिए वाले गुण होते हैं, जो अक्सर बुखार में उपयोगी साबित होते हैं। बुखार को कम करने के लिए आप दिन में 3 बार इस तरह बने काढ़े का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़ें - बुखार भगाने के घरेलू उपाय)

केले के पत्ते के गुण बनाएं इम्यून सिस्टम को मजबूत - Kele ke patte ke gun banayen immune system ko majboot

शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए केले के पत्ते बहुत ही लाभकारी होते हैं। केले के पत्तों में एलेन्टॉइन जैसे तत्व प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए बहुत ही उपयोगी होते हैं जो एक एस्ट्रिजेंट के रूप में कार्य करते हैं। आप केले के पत्तों से तैयार काढ़े का सेवन करके प्राकृतिक रूप से अपने शरीर की इम्युनिटी को मजबूत कर सकते हैं।

(और पढ़ें - बच्चों की इम्यूनिटी कैसे बढ़ाएं)

यही कारण है कि केले के पत्ते गले और बुखार का इलाज करने में उपयोगी हो सकते हैं, जो मुख्य रूप से कमजोर प्रतिरक्षा के कारण होता है। अगर आपको ऐसी कोई भी बिमारी नहीं हैं, तो भी आप प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए दिन में एक बार केले के पत्तों की चाय या काढ़े का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

केले के पत्ते के फायदे है पेचिश में लाभकारी - Kele ke patte ke fayde hain pechish mein labhkari

पेचिश की बीमारी आंत की सूजन के कारण होती है जिसमें शौच के दौरान ब्लीडिंग होती है। केले के पत्ते पेचिश का इलाज करने के लिए उपयोग किए जाने वाले पारंपरिक तत्वों में से एक है। केले के पत्तों में एक ऐसा पदार्थ होता है जो आंत की सूजन को दूर कर सकता है ताकि पेचिश ठीक हो सकें।

(और पढ़ें - सूजन कम करने के उपाय)

आपको आंतों की सूजन के कारण होने वाली ब्लीडिंग रोकने के लिए दिन में कम से कम एक बार केले के पत्तों का काढ़ा पीना चाहिए। इसके अलावा यह पेट दर्द को भी कम कर सकता है।

(और पढ़ें - पेचिश के घरेलू उपाय)

केले के पत्ते के औषधीय गुण रखें त्वचा को स्वस्थ - Kele ke patte ke aushdhiya gun rakhen tvcha ko swsth

त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए पीढ़ियों से केले के पत्तों का उपयोग किया जाता रहा है। ऐसे में आप भी केले के पत्तों का उपयोग त्वचा की सुंदरता को बढ़ाने के लिए एक प्राकृतिक तत्व के रूप में कर सकते है। त्वचा की सुंदरता को बढ़ाने के लिए आप केले के पत्तों से तैयार फेस मास्क का उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़ें - चेहरे की सुंदरता बढ़ाने के उपाय)

आप केले के ताजा पत्तों को अच्छे से पीस लें और फिर चेहरे या पूरे शरीर पर लगाएं। एलेन्टॉइन और एंटीऑक्सीडेंट त्वचा के उम्र बढ़ने वाले संकेतों को रोकने में मदद करते हैं। साथ ही यह उपाय त्वचा की जलन, मुँहासे और पिम्पल्स को कम करने में मदद करता है और इसके अलावा यह त्वचा को मुलायम और मॉइस्चराइज रखता है।

(और पढ़ें - खूबसूरत त्वचा के लिए आहार)

इसके अलावा केले के पत्तों को पानी में उबाल कर ठंडा करें। इसके बाद इस पानी से अपना चेहरा धोएं। यह पानी त्वचा के बैक्टीरिया को मार सकता है। इससे आपकी स्किन को मुलायम और स्वस्थ रखने में मदद मिलती है

(और पढ़ें - सर्दियों में त्वचा की देखभाल के तरीके)

केले के पत्तों का उपयोग है बालों के लिए लाभकारी - Kele ke patto ka upyog hai baalon ke liye upyogi

क्या आपको मालूम हैं कि बालों को स्वस्थ रखने के लिए केले के पत्ते भी उपयोगी हो सकते हैं? यदि आपको डैंड्रफ वाले बालों में खुजली होती है तो आप हेयर मास्क बनाने के लिए केले के ताजा पत्तों को अच्छे से पीसकर मुलायम पेस्ट तैयार करें। इसके बाद इस पेस्ट को बालों पर लगाएं। इसे आधे घंटे के लिए बालों में लगा रहने दें और उसके बाद बालों को अच्छी तरह से धो लें।

(और पढ़ें - रूसी के लिए शैम्पू)

इसके अलावा आप इस हेयर मास्क का उपयोग बालों के प्राकृतिक रंग को बनाए रखने के लिए भी कर सकते हैं। क्योंकि इन पत्तों में एलेन्टॉइन और एस्ट्रिजेंट गुण होते हैं।

(और पढ़ें - रूखे बालों का घरेलू उपाय)

केले के पत्तों का सेवन करें वजन कम करने में मदद - Kele ke patto ka sewan kare wajan kam karne mein madad

वजन कम करने वाले डाइट प्लान के अंदर आप केले के पत्तों को भी उपयोग कर सकते हैं। आप केले के पत्तों का उपयोग 2 तरीके से कर सकते हैं। पहले, अच्छे से मैश किए हुए केले के ताजा पत्तों को सेल्युलाईट को कम और त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए, बॉडी मास्क के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।

(और पढ़ें - वजन घटाने के लिए जड़ी बूटियां)

दूसरा तरीका है कि आप केले के पत्तों को अच्छे से उबालें और फिर 1-2 घंटे के लिए जरुरत वाले क्षेत्र (आमतौर पर पेट, ऊपरी जांघों और ऊपरी बाहों) पर लपेटकर रखें। इसके अलावा आप केले के पत्तों और अदरक से बनी एक कप चाय का सेवन भी कर सकते हैं।

(और पढ़ें - वजन घटाने के लिए टिप्स)

भोजन को लपेटने में उपयोगी हैं केले के पत्ते - Bhojan ko lapetane mein upyogi hai kele ke patte

शायद आपने कभी-कभी देखा होगा कि लोग खासतौर पर दक्षिण भारत में केले के पत्तों का उपयोग भोजन को लपेटने के लिए तथा भोजन करने के लिए थाली की जगह भी करते हैं। आम तौर पर लोग केले के पत्तों का नूडल्स, चावल, इडली या विभिन्न अन्य प्रकार के व्यंजनों को लपेटने के लिए उपयोग करते हैं।

(और पढ़ें - इडली बनाने की रेसिपी)

और पढ़ें ...

References

  1. Irshad Haroon, et al. Traditional Indian way of eating – an overview. Journal of Ethnic Foods. 2018 March; 5(1): 20-23.
  2. Karuppiah Ponmurugan, Mustaffa Muhammed. Antibacterial and antioxidant activities of Musa sp. leaf extracts against multidrug resistant clinical pathogens causing nosocomial infection. Asian Pac J Trop Biomed. 2013 Sep; 3(9): 737–742. PMID: 23998016.
  3. Maurya Santosh Kumar. Potential medicinal plants and trditional ayaurvedic approach towards Urticaria, an allergic skin disorder. International Journal of Pharmacy and Pharmaceutical Sciences. 2014.
  4. Ayurveda Offering Herbal Healing. Employees' State Insurance Corporation. Ayush Division. Delhi
  5. NG Xiang Quin. To investigate the antimicrobial effects of extracted polyphenols from green tea (Camellia sinensis) and banana (Musa sp.) leaves. Peer J. 2015 Jan.
  6. Kim Ah Jeong, et al. Preclinical and Clinical Studies Demonstrate That the Proprietary Herbal Extract DA-5512 Effectively Stimulates Hair Growth and Promotes Hair Health. Evidence-based Complementary and Alternative Medicine. 2017; 2017(4395638).
  7. Belekar Anuya R., Raut Savanta V. Characterization of Normal and Dandruff Causing Micro-Flora from Human Scalp of Various Age Groups. Research Journal of Pharmacognosy and Phytochemistry. 2015; 7(3).
  8. Silvestre Maria Patricia, Acero Liwayway H. Hypoglycemic Potential of Banana Leaves (Musa paradisiaca) in Albino Rats. International Journal of Food Engineering. 2016 June; 2(1): 71-74.
  9. Kappel Virginia Demarchi, at al. Beneficial effects of banana leaves (Musa x paradisiaca) on glucose homeostasis: Multiple sites of action. Revista Brasileira de Farmacognosia. 2013 Aug; 23(4): 706-715.
  10. Yingyuen Panida, et al. Isolation, separation and purification of rutin from Banana leaves (Musa balbisiana). Industrial Crops and Products. 2020; 149(112307).
  11. Hamden Khaled, et al. Inhibition of Key Digestive Enzymes Related to Diabetes and Hyperlipidemia and Protection of Liver-Kidney Functions by Trigonelline in Diabetic Rats. Sci Pharm. 2013 Jan-Mar; 81(1): 233–246. PMID: 23641341.
  12. Tangjitman Kornkanok, et al. Ethnomedicinal plants used for digestive system disorders by the Karen of northern Thailand. J Ethnobiol Ethnomed. 2015; 11: 27. PMID: 25885534.
  13. Kumar K. P. Sampath, Bhowmik Debjit, Duraivel S.,Umadevi M. Traditional and Medicinal Uses of Banana . Journal of Pharmacognosy and Phytochemistry. 2012; 1(3):51-63.
  14. Ezekwesii Chinwe N, et al. Evaluation of the anti-ulcer property of aqueous extract of unripe Musa paradisica Linn peel in wistar rats.. African Journal of Pharmacy and Pharmacology. 2014; 8(39). 1006-1011.
  15. Rao U.S Mahadeva, Ado Ahmad Bashir, Mohd Khamsah Suryati, Zin Thant. Antiulcer activity of Musa paradisiaca (Banana) Tepal and skin extracts in ulcer induced albino mice. Malaysian Journal of Analytical Sciences. 2016; 20(5): 1203-1216.
  16. Dr. Kashyap Pranita P., et al. A review of banana plant: a boon to humankind. World Journal of Pharmaceutical Research. 2018; 7(13): 250-258.
ऐप पर पढ़ें