myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

चिलगोजा भारत में नियोजा के नाम से जाना जाने वाला पाइन नट्स है जो चिलगोजा पाइन वृक्ष पर उगता है। ये नट्स वास्तव में चिलगोजा पाइन वृक्ष के खाद्य बीज हैं। हालांकि विभिन्न प्रकार के पाइन नस्लों से प्राप्त विभिन्न प्रकार के पाइन नट्स बाजार में उपलब्ध हैं। अलग अलग प्रजातियों के पाइन नट्स के आकार, स्वाद,और पोषण तत्व भिन्न होते हैं। आमतौर पर पाए जाने वाले पाइन नट्स चिलगोजा नट्स ही होते हैं।

भारत में इसके शुष्क तापमान के कारण उत्तर-पश्चिमी हिमालय के क्षेत्रों में इसकी खेती अधिक की जाती है। पाइन नट्स का उत्पादन हिमाचल प्रदेश में भी किया जाता है।

पाइन नट को खाने से पहले इसकी बाहरी त्वचा को हटा कर खाना चाहिए। यदि आपको इसे कई दिनों तक रखना हो तो इसकी बाहरी त्वचा को ना निकालें।

चिलगोजा पाइन नट्स छोटे, स्वादिष्ट और पोषक तत्व से भरे होते हैं। इनमें अच्छे और स्वस्थ मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड और एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं।

चिलगोजा नट्स विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों का अच्छा स्रोत हैं। यह स्वस्थ वसा के साथ-साथ प्रोटीन का भी महत्वपूर्ण स्रोत है। इनमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बहुत कम होती है। चूंकि चिलगोजा नट्स में फैट उच्च मात्रा में पाया जाता है इसलिए यह ऊर्जा का अच्छा स्रोत है। इसमें नमी की मात्रा कम होती है। इसके साथ-साथ इसमें विटामिन बी 1, विटामिन बी 2, विटामिन सी, पोटेशियम, मैग्नीशियम और फास्फोरस, आयरन, ज़िंक, कैल्शियम, मैंगनीज और कॉपर कैसे पोषक तत्व भी पाए जाते हैं।

  1. चिलगोजा के फायदे - Chilgoza ke fayde in hindi
  2. चिलगोजा के नुकसान - Chilgoza side effects in hindi
  3. चिलगोजा कैसे खायें - How to eat chilgoza in hindi

चिलगोजा खाने के फायदे वसा के लिए - Chilgoza pine nuts are healthy fat in hindi


नट्स वसा का समृद्ध स्रोत होते हैं। अन्य नट्स की तरह चिलगोजा पाइन नट्स भी वसा का एक बहुत समृद्ध स्रोत हैं। अनुसंधान ने बताया है कि इनमें उपस्थित कुल वसा का 90% असंतृप्त वसा (स्वस्थ वसा) होता है। इस असंतृप्त वसा में 51% लिनोलिक फैट (LINOLEIC FAT) और 37% ओलेक एसिड (OLEIC ACID) होता है।

लिनोलिक फैट होने के कारण चिलगोज़ा नुत हृदय की रक्षा करता है और कोरोनरी हृदय रोग की संभावना को कम करता है। इसमें मौजूद स्वस्थ वसा के कारण यह उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में बहुत फायदेमंद है और पूरे लिपिड प्रोफाइल को बेहतर बनाता है। 

(और पढ़ें – अधिक कोलेस्ट्रॉल वाले खाने के बाद आयुर्वेद के अनुसार ज़रूर करें इन पाँच बातों का ध्यान)

चिलगोजा खाने से लाभ प्रेगनेंसी में - Chilgoza for pregnancy in hindi

 

यह आयरन का एक अच्छा स्रोत हैं, जो गर्भवती महिलाओं के लिए एक आवश्यक पोषक तत्व है क्योंकि आयरन एनीमिया को रोकने और भ्रूण हीमोग्लोबिन उत्पादन में सहायता करता है।

(और पढ़ें – गर्भावस्था में क्या न खाएं और गर्भावस्था में पेट दर्द)

चिलगोजा खाने के गुण डायबिटीज के लिए - Chilgoza benefits for diabetes in hindi

 

चिलगोजा पाइन नट्स में पाया जाने वाला असंतृप्त वसा इंसुलिन संवेदनशीलता बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा इसे भोजन के साथ सेवन करने से यह ग्लाइसेमिक सूचकांक को कम कर करता है जो मधुमेह रोगियों के लिए लाभदायक होता है।

(और पढ़ें – मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए यह दस जड़ी बूटियाँ हैं बहुत फायदेमंद)

चिलगोजा के फायदा प्रोटीन के लिए - Chilgoza pine nuts are a good source of protein in hindi

 

कभी-कभी शाकाहारी आहार के माध्यम से शरीर में प्रोटीन की आपूर्ति करना मुश्किल हो जाता है। अनुसंधान में पाया गया है कि चिलगोजा नट्स शाकाहारी आहार के माध्यम से प्रोटीन पाने का महत्वपूर्ण स्रोत हैं। चिलगोजा नट्स में अमीनो एसिड पाया जाता है जो इन्हें प्रोटीन का अच्छा स्रोत बनाता है। इनमें लाइसिन भी पाया जाता है जो एक आवश्यक अमीनो एसिड है। यह अनाज में बहुत कम मात्रा में मौजूद होता है। इस प्रकार शरीर में प्रोटीन की आपूर्ति करने के लिए आप चिलगोजा नट्स को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। 

(और पढ़ें – प्रोटीन युक्त भारतीय आहार)

इसके अलावा अनुसंधान ने यह भी पाया है कि पाइन नट्स में पाया जाने वाला प्रोटीन आइसोलेट (प्रोटीन का शुद्ध रूप जिसमें से अन्य गैर-प्रोटीन घटक हटा दिए जाते हैं) उच्च रक्तचाप वाले व्यक्तियों में उनके उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद करता है।

चिलगोजा के गुण हैं एंटीऑक्सिडेंट्स का स्रोत - Chilgoza pine nuts rich in antioxidants in hindi

 

अनुसंधान से पता चला है कि इन पाइन नट्स में बहुत अधिक मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं। इसके अलावा ये पाइन नट्स फ्री रेडिकल्स को हटाने और ऑक्सीडेटिव तनाव से लड़ने में मदद करते हैं। इन पाइन नट्स में विभिन्न प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट्स जैसे गाल्लोकैटेचिन, कैटेचिन, लूटीइन, लाइकोपीन, कैरोटीनॉयड, टोकोफेरोल पाएं जाते हैं। 

(और पढ़ें – तनाव को दूर करने के लिए जूस)

इनमें उपस्थित एंटीऑक्सीडेंट यौगिकों में गाल्लोकैटेचिन सबसे उच्च मात्रा में पाया जाता है। अनुसंधान में यह भी देखा गया है कि भुनने के बाद इस पाइन नट्स में मौजूद टोकोफेरोल और कैरोटीनॉयड की मात्रा कम हो जाती है।

चिलगोजा के लाभ करें कोलेस्ट्रॉल कम - Chilgoza for cholesterol in hin

 

चिलगोजा पाइन नट्स में बहुत अधिक स्वस्थ असंतृप्त वसा होता है जो उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए बहुत फायदेमंद है। चिलगोजा में पाए जाने वाले मोनौंअनसैचुरेटेड और पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड अस्वस्थ(LDL) कम-घनत्व वाले लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा चिलगोजा पाइन नट्स में टोकोफेरोल, स्कुआलेन और फाइटोस्टेरॉल पाए जाते हैं। इसमें टोकोफेरोल भी अच्छे मात्रा में पाया जाता है, टोकोफेरोल शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट हैं जो उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और दिल की रक्षा करने में मदद करता है। इसमें मौजूद स्कुआलेन स्वास्थ्य को अच्छा करने वाला यौगिक है जो उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर वाले व्यक्तियों में उसके एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर, कुल कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को कम करने में मदद करता है।

(और पढ़ें – कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए क्या खाएं)

एक अन्य अध्ययन में पाया गया है कि पाइन नट्स उच्च कोलेस्ट्रॉल और उच्च लिपिड स्तर को कम करने में लाभदायक हैं।

दैनिक आहार में चिलगोजा पाइन नट्स का सेवन करने से यह लिपिड चयापचय को नियंत्रित करते हैं। अर्थात् यह ऊर्जा के स्रोत के रूप में वसा का उपयोग बढ़ाते हैं और शरीर में इसके भंडारण को कम करते हैं। इसके लिए आप पाइन नट या पाइन नट तेल को नियमित आहार के रूप में ले सकते हैं।

चिलगोजा का बीज रखे स्वस्थ ह्रदय - Chilgoza pine nuts good for the heart in hindi

 

जब हमारे शरीर में संतृप्त वसा की मात्रा बढ़ जाती है तो हृदय रोग जैसी स्तिथि पैदा होने लगती है। पाइन नट्स में कुल फैट का सिर्फ 13-15% संतृप्त फैटी एसिड होता है। इस तरह अच्छे फैटी एसिड होने के कारण पाइन नट्स रक्त और धमनियों में कुल कोलेस्ट्रॉल, एलडीएल, कम घनत्व लेपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल और वीएलडीएल के गठन को कम कर देते हैं।

अध्ययनों से पता चला है कि पाइन नट्स स्वस्थ एचडीएल के स्तर के साथ साथ उच्च घनत्व लेपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉलजो पूरे हृदय स्वास्थ्य की सुरक्षा करता है, उसको बढ़ाता है।

चिलगोजा पाइन नट दे एनर्जी - Chilgoza benefits for energy in hindi

 

हम सभी जानते हैं कि नट्स वसा का एक महत्वपूर्ण स्रोत होते हैं जो उन्हें ऊर्जा स्रोत बनाते हैं। बादाम, काजू, पिस्ता, अखरोट और मूंगफली की तुलना में पाइन नट ऊर्जा का एक बड़ा स्रोत है। पाइन नट में इन सभी नट्स की तुलना में स्वस्थ फैट अधिक पाया जाता है। इसका सेवन आपको संतुष्टता और पूर्णता की भावना प्रदान करता है। इस प्रकार चिलगोजा के बीज कुपोषित व्यक्तियों के लिए बहुत फायदेमंद हैं। इसके अलावा जिन लोगों को उच्च ऊर्जा आहार की जरूरत होती है जैसे दस्तर के रोगी, एचआईवी रोगी और क्षय रोग से पीड़ित रोगी, वह इनका ऊर्जा के स्रोत के रूप में सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़ें – थकान दूर करने और ताकत के लिए क्या खाएं)

चिलगोजा का उपयोग करे वजन कम - Chilgoza for weight loss in hindi


जिस प्रकार इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से यह वजन बढ़ाने में मदद करता है, उसी प्रकार कम मात्रा में नाश्ते के रूप में इसका सेवन करने से यह वजन घटाने में भी मदद करता है। विशेष रूप से चिलगोजा पाइन नट्स भूख कम करने के रूप में कार्य करते हैं। भूख कम लगने के कारण यह वजन बढ़ने और अतिरिक्त कैलोरी का सेवन करने से रोकते हैं। पाइन नट्स में लंबी चेन फैटी एसिड होते हैं जो सीसीके -8 नामक हार्मोन का निर्माण करते हैं। सीसीके -8 एक तृप्ति हार्मोन है जो हमें पूर्णता की भावना प्रदान करता है और भूख को कम करता है।

(और पढ़ें - वजन घटाने के घरेलू नुस्खे)

शोध में पाया गया कि कोरियाई पाइन नट इतालवी पाइन नट की तुलना में 8 गुना अधिक सीसीके -8 हार्मोन का उत्पादन करने में शक्तिशाली हैं। सीसीके -8 के साथ जीएलपी -1 नामक एक और तृप्ति हार्मोन मस्तिष्क को संकेत भेजता है जिससे भोजन की खपत कम होती है और शरीर में कैलोरी की संख्या में कमी होती है। इस प्रकार पाइन नट वजन घटाने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए डाइट)

चिलगोजा खाने का लाभ दूर रखे इन्फेक्शन्स - Chilgoza khane ke fayde for infections in hindi

 

चिलगोजा पाइन नट्स में एंटीवायरल गुण होते हैं जो वायरल को रोकने में मदद करते हैं।

पाइन नट तेल में जीवाणुरोधी, एंटीवायरल, एंटिफंगल, एंटीसेप्टिक, उच्चरक्तदाबरोधी, कफ हटाने वाले और मूत्रवर्धक गुण होते हैं।

(और पढ़ें – नाखून खाने के नुकसान बढ़ाए संक्रमण)

एक अध्ययन में पाया गया कि जो लोग पाइन नट्स (10 ग्राम से कम) खाते थे उन्हें इसका स्वाद एक धातु जैसा और कड़वा महसूस हुआ। इसके सेवन से थोड़े पेट की परेशानी की भी रिपोर्ट की गई थी।

कुछ शोधों में पाया गया है कि पाइन नट्स के सेवन के बाद व्यक्तियों में एलर्जी और अतिसंवेदनशीलता जैसी समस्याएं उत्पन्न हुईं। इनके सेवन से चेहरे की सूजन, श्वास लेने की कठिनाई और त्वचा की खुजली जैसी समस्याएं उत्पन्न हुईं जो की अखरोटमूंगफली और अन्य प्रकार के नट्स के सेवन से उन्हें नहीं हुई थी। ऐसे मामले में व्यक्तियों को तुरंत चिकित्सा सलाह लेनी चाहिए।

(और पढ़ें - खुजली दूर करने के घरेलू उपाय)

  • चिलगोजा पाइन नट्स को विभिन्न व्यंजनों जैसे सॉस, पेस्टो, कैंडीज, केक, ब्रेड और सब्जियों में मिलाकर खा सकते हैं।
  • इन्हें कच्चा या भून कर भी खा सकते हैं।
  • पाइन नाश्ते के रूप में भी खाया जा सकता है।
  • आप इसे सलाद को सुगंधित बनाने के लिए इसे उनके ऊपर छिड़ककर खा सकते हैं।
  • पाइन नट को केक और ब्रेड में डालकर खा सकते हैं
  • आप अपने सूप में भी पाइन नट को डाल कर खा सकते हैं।
और पढ़ें ...

References

  1. United States Department of Agriculture Agricultural Research Service. Classification for Kingdom Plantae Down to Species Daucus carota L.. National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release [Internet]
  2. United States Department of Agriculture Agricultural Research Service. Basic Report: 12147, Nuts, pine nuts, dried. National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release [Internet]
  3. Rune Blomhoff et al. Health benefits of nuts: Potential role of antioxidants. British Journal Of Nutrition 96 Suppl 2(S2):S52-60 · December 2006
  4. Bradley W Bolling et al. The phytochemical composition and antioxidant actions of tree nuts . Asia Pac J Clin Nutr 2010;19 (1):117-123
  5. Keyvan Koushan et al. The Role of Lutein in Eye-Related Disease . Nutrients. 2013 May; 5(5): 1823–1839. PMID: 23698168
  6. Chen F et al. Carotenoid intake and risk of non-Hodgkin lymphoma: a systematic review and dose-response meta-analysis of observational studies. Ann Hematol. 2017 Jun;96(6):957-965. PMID: 28011986
  7. Lang Wu et al. Nut consumption and risk of cancer and type 2 diabetes: a systematic review and meta-analysis. Nutr Rev. 2015 Jul; 73(7): 409–425.
  8. Domenico Fusco et al. Effects of antioxidant supplementation on the aging process . Clin Interv Aging. 2007 Sep; 2(3): 377–387. PMID: 18044188
  9. American Nutrition Association. Magnesium and Chronic Fatigue Syndrome. [Internet]
  10. Emilio Ros. Health Benefits of Nut Consumption . Nutrients. 2010 Jul; 2(7): 652–682. PMID: 22254047
  11. Wilrike J Pasman et al. The effect of Korean pine nut oil on in vitro CCK release, on appetite sensations and on gut hormones in post-menopausal overweight women . Lipids Health Dis. 2008; 7: 10. PMID: 18355411
  12. Effie Viguiliouk et al. Effect of Tree Nuts on Glycemic Control in Diabetes: A Systematic Review and Meta-Analysis of Randomized Controlled Dietary Trials . PLOS ONE, July 30, 2014
  13. Pearson DA. Bone health and osteoporosis: the role of vitamin K and potential antagonism by anticoagulants. Nutr Clin Pract. 2007 Oct;22(5):517-44. PMID: 17906277
  14. Britt Burton-Freeman. Dietary Fiber and Energy Regulation . The Journal of Nutrition, Volume 130, Issue 2, February 2000, Pages 272S–275S
  15. Jéssica Pinto Polet et al. Physico-chemical and sensory characteristics of gluten-free breads made with pine nuts (Araucaria angustifolia) associated to other flours . Journal of Culinary Science & Technology, 11 Dec 2017
  16. Davide S. Risso et al. A potential trigger for pine mouth: a case of a homozygous PTC taster . Nutr Res. 2015 Dec; 35(12): 1122–1125. PMID: 26463018