कहा जाता है कि सोया मिल्क का इस्तेमाल चीन में A.D. 82 में शुरू हो गया था। यह जापान और मलेशिया जैसे अन्य एशियाई देशों में बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है। आज पूरे विश्व में इसका उपयोग किया जाता है और कई देशों में विभिन्न किस्मों में आसानी से उपलब्ध है। सोया सेम एक फली होती है जिससे कई खाद्य पदार्थ तैयार किए जाते हैं, सोया मिल्क भी उन्हीं में से एक है।

कई लोग सोया मिल्क को इसकी वेर्सटिलिटी (versatility) और दूध की जगह इस्तेमाल करने की क्षमता के कारण चुनते हैं। यह चॉकलेट और वेनिला स्वादों में उपलब्ध है। कुछ लोग चीन और भारत जैसे देशों में नमकीन सोया दूध भी पीते हैं। सोया उत्पाद मीट ना खाने वालों के लिए बहुत ही अच्छा होते हैं।

सोया मिल्क ऊर्जा, प्रोटीन, चीनी, आहार फाइबर और वसा का एक अच्छा स्रोत है। इसमें पाए जाने वाले खनिजों में कैल्शियम, लोहा, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, सोडियम और जस्ता शामिल हैं। सोया मिल्क में विभिन्न विटामिन जैसे फोलेट, थाइमिन, रिबोफ़्लिविन, नियासिन, विटामिन बी 6, विटामिन बी -12, विटामिन डी, विटामिन ई और विटामिन K भी पाए जाते हैं। इसमें संतृप्त, मोनोअनसैचुरेटेड और पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड भी शामिल हैं। ये सभी पोषक तत्व एक अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में सहायता करते हैं।

  1. सोया मिल्क के फायदे - Benefits of Soya Milk in Hindi
  2. सोया मिल्क के नुकसान - Soya Milk ke Nuksan in Hindi
  3. सोया मिल्क के फायदे और नुकसान के डॉक्टर

सोया दूध पौधों से बनने वाले पेय की श्रेणी में आता है और डेयरी उत्पादों का एक बेहतरीन विकल्प है। यह न केवल प्रोटीन, विटामिन और खनिजों से भरा हुआ है, बल्कि इसमें कई फाइटोन्यूट्रीएंट और एंटीऑक्सीडेंट भी होते हैं। इसलिए सोया दूध का सेवन आपकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है। सोया दूध को आहार में शामिल करने से मिलने वाले प्रमुख लाभ निम्नलिखित हैं।

सोया मिल्क के फायदे करें हृदय स्वास्थ्य में सुधार - Soy Milk for Heart in Hindi

सोया मिल्क में प्रोटीन होता है जो मानव पोषण और विकास के लिए आवश्यक होता है। प्रोटीन एमिनो एसिड से बने होते हैं, जो विभिन्न स्वास्थ्य विकारों को रोकने में लाभकारी प्रभाव दिखाते हैं। सोया प्रोटीन की एमिनो एसिड और आइसोफ्लेवोंस सामग्री से एलडीएल-कोलेस्ट्रॉल को कम करने की संभावित होती है। हृदय स्वास्थ्य के सुधार में सोया मिल्क का सेवन प्रभावी हो सकता है। अन्य अध्ययनों से पता चला है कि बुजुर्ग पुरुष जो सोया का उपभोग करते हैं, उनके सीरम कोलेस्ट्रॉल के स्तर में कमी देखी गई है। सोया मिल्क में दूध की तुलना में कम प्रोटीन होता है, लेकिन जिन लोगों को दूध से एलर्जी है उनके लिए यह प्रोटीन का अच्छा स्रोत हो सकता है।

इंग्लैंड में हुए एक शोध के अनुसार सोयाबीन से बनी चीजों में आइसोफ्लेवोंस (isoflavones) नामक एक रसायन होता है जो कि एस्ट्रोजन हार्मोन की तरह काम करता है। 

(और पढ़ें - ह्रदय रोग में क्या खाना चाहिए)

सोया मिल्क दिलाएँ रजोनिवृत्ति के बाद की समस्याओं से राहत - Soy Milk for Post Menopause in Hindi

सोयामिल्क कई रजोनिवृत्ति के बाद की स्वास्थ्य समस्याओं से राहत प्रदान करता है। अध्ययनों से पता चलता है कि सोया आइसोफ्लेवोंस रजोनिवृत्ति महिलाओं में एस्ट्रोजेन स्तर को बनाए रखने में मदद कर सकता है। चूंकि पोस्टमेनोपौज़ल को महिलाओं में एस्ट्रोजेन की कमी के कारण जाना जाता है, सोया मिल्क का सेवन हार्मोन की प्राकृतिक हानि से उत्पन्न होने वाली दुर्बलताओं को रोकने में सहायता कर सकता है। सोया आईफोलावोन का एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव कुछ पुरानी बीमारियों में कमी के लिए फायदेमंद हो सकता है, विशेषकर पोस्टमेनोपौज़ल महिलाओं में कार्डियोवास्कुलर सिस्टम की समस्या। 

(और पढ़ें - पीरियड के कितने दिन बाद गर्भ ठहरता है)

सोया दूध के लाभ बचाएँ ऑस्टियोपोरोसिस से - Soy Milk Prevents Osteoporosis in Hindi

पोस्टमैनोपॉजल महिला में ऑस्टियोपोरोसिस से राहत देने में सोयामिल्क फायदेमंद होता है। ऑस्टियोपोरोसिस रजोनिवृत्ति के बाद के वर्षों में महिलाओं के लिए एक जोखिम है। इसे अक्सर भंगुर हड्डियों के रूप में जाना जाता है, कैल्शियम की हानि इस रोग को विकसित करने का खतरा देती है।

अध्ययनों से पता चला है कि पशु प्रोटीन आहार से कैल्शियम का मूत्र उत्सर्जन बढ़ता है और जबकि सोया आधारित प्रोटीन आहार से ऐसा नहीं। सोया मिल्क से प्रोटीन और कैल्शियम दोनों को बनाए रखने में मदद मिलती है। सोया आइसोफ्लेवोंस के साथ प्राकृतिक हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी अस्थि द्रव्यमान और फ्रैक्चर के घनत्व को कम करने के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती है। जिसमें एस्ट्रोजेन नुकसान के कारण रजोनिवृत्ति वाली महिलाओं को जोखिम उठाना पड़ता है।

(और पढ़ें - जैतून के तेल से मालिश के फायदे)

सोया दूध के फायदे करें कैंसर के जोखिम को कम - Soy Milk Cures Cancer in Hindi

प्रोस्टेट कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए सोया मिल्क का सेवन फायदेमंद है। शोध अध्ययन के परिणाम यह सुझाव देते हैं कि जो पुरुष अधिक सोया मिल्क का सेवन करते हैं उन्हें प्रोस्टेट कैंसर का खतरा कम है।

स्तन कैंसर महिलाओं के बीच आम है, एस्ट्रोजन का स्तर इस प्रकार के कैंसर से जुड़ा हुआ है। ख़ास तौर पर, रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं को स्तन कैंसर का खतरा अधिक होता है। अनुसंधान अध्ययन से पता चलता है कि सोया मिल्क का सेवन सीरम एस्ट्रोजन का स्तर कम करता है और ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम कर सकता है। 

(और पढ़ें – कैंसर से लड़ने वाले बेहतरीन आहार)

सोया मिल्क का सेवन है मोटापे के लिए - Soy Milk for Obesity in Hindi

मेटाबोलिक मोटापा जो पुरुषों और रजोनिवृत्ति के बाद की महिलाओं में सबसे अधिक होता है जो सोया के सेवन से फायदेमंद रूप से प्रभावित हो सकता है। सोया आइसोफ्लेवोंस के हार्मोनल इफेक्ट्स एडिपोजेनेसिस को बाधित करने के लिए काम करते हैं जिसके परिणामस्वरूप वसा ऊतक की वृद्धि में कम इज़ाफ़ा में होता है। इसके अलावा, सोया मिल्क मोटे और अधिक वजन वाले व्यक्तियों के बीच कमर को कम करने में सहायता करता है। सोया मिल्क के सेवन से मोटापे का खतरा कम होता है।

सोया मिल्क का उपयोग करे कोलेस्ट्रॉल को कम - Soy Milk Good for Lowering Cholesterol in Hindi

टाइप 2 डायबिटीज रोगियों में सोया दूध का सेवन बेहतर रक्तचाप के साथ जुड़ा हुआ है इसलिए हृदय स्वास्थ्य के सुधार में सोया मिल्क का सेवन प्रभावी हो सकता है। सोया मिल्क में शामिल सोया आइसोफ्लेवोंस का उपभोग करने वाले लोग न केवल एडीजीजनिक प्रभाव से लाभ हो सकते हैं बल्कि एलडीएल-कोलेस्ट्रॉल के प्रभाव को कम करने से कुछ हृदय रोगों की रोकथाम और उपचार में मदद कर सकते हैं।

(और पढ़ें - डायबिटीज में परहेज)

  • मैरीलैंड मेडिकल सेंटर यूनिवर्सिटी ने नोट किया कि ज्यादातर लोगों के लिए सोया खाद्य पदार्थ सुरक्षित हैं। लेकिन जिन लोगों को सोया से एलर्जी और जो हाल ही में स्तन कैंसर के रोगी रहे हैं उनके लिए नुकसानदेह हो सकता है। क्योंकि सोया उत्पादों में सोया दूध सहित एस्ट्रोजेन के समान संरचना वाले रसायनों होते हैं। इसलिए सोया युक्त आहार आपके स्वास्थ्य के लिए जोखिम हो सकता है यदि आपको हाल ही में स्तन कैंसर था। नतीजतन, स्तन कैंसर के बाद सोया की सुरक्षा का निर्धारण करने के लिए और रिसर्च की आवश्यकता है।
  • एक अनुसंधान स्वास्थ्य और वैकल्पिक चिकित्सा के अनुसार यह पुरुषों की फर्टिलिटी (fertility) को घटा सकता है, इसलिए इसका अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए।
  • कुछ शोध आये हैं जिनसे पता चलता है कि जो लोग नियमित रूप से सोया दूध का सेवन करते हैं, उनका थाइरोइड ठीक से काम नहीं करता है।
  • हालांकि, कुछ प्रकार के सोया दूध में उनकी अतिरिक्त चीनी सामग्री की वजह से एक प्रमुख पोषण का नुकसान होता है। चीनी युक्त सोया दूध पोषण का महत्व दिए बिना आपकी कैलोरी को बढ़ावा देने के साथ-साथ हृदय रोग के जोखिम को बढ़ाते हैं। कम चीनी युक्त सोया दूध का चयन करें।
  • सोया में पाया जाने वाला एलुमिनियम किडनी और नर्वस सिस्टम पर बुरा प्रभाव डालता है। इसके साथ अल्जाइमर होने का खतरा भी रहता है।
Dt. Akanksha Mishra

Dt. Akanksha Mishra

पोषणविद्‍
8 वर्षों का अनुभव

Surbhi Singh

Surbhi Singh

पोषणविद्‍
22 वर्षों का अनुभव

Dr. Avtar Singh Kochar

Dr. Avtar Singh Kochar

पोषणविद्‍
20 वर्षों का अनुभव

Dr. priyamwada

Dr. priyamwada

पोषणविद्‍
7 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. FoodData Central. United States Department of Agriculture. Washington D.C. USA; Soy milk
  2. Cleveland Clinic. [Internet]. Cleveland. Ohio; What You Need to Know When Choosing Milk and Milk Alternatives
  3. National Health Service [Internet]. UK; Dairy and alternatives in your diet
  4. National Institutes of Health; [Internet]. U.S. National Library of Medicine. Soy Infant Formula
  5. Messina, Mark. Soy and Health Update: Evaluation of the Clinical and Epidemiologic Literature. Nutrients. 2016 Dec; 8(12): 754. PMID: 27886135
  6. Jargin, Sergei V. Soy and phytoestrogens: possible side effects. Ger Med Sci. 2014; 12: Doc18. PMID: 25587246
  7. Keshavarz, Seyed Ali. et al. Effect of Soymilk Consumption on Waist Circumference and Cardiovascular Risks among Overweight and Obese Female Adults. Int J Prev Med. 2012 Nov; 3(11): 798–805. PMID: 23189232
  8. Sadeghian, Mehdi. et al. Soy product consumption and association with health characteristics and dietary quality indices in Isfahan, Iran. ARYA Atheroscler. 2015 Feb; 11(Suppl 1): 94–101. PMID: 26261456
  9. Miraghajani, Maryam Sadat. et al. Soy Milk Consumption, Inflammation, Coagulation, and Oxidative Stress Among Type 2 Diabetic Patients With Nephropathy. Diabetes Care. 2012 Oct; 35(10): 1981–1985. PMID: 22787172
  10. Matthews, VL. et al. Soy milk and Dairy Consumption are Independently Associated with Ultrasound Attenuation of the Heel bone among Postmenopausal Women: The Adventist Health Study-2 (AHS-2). Nutr Res. 2011 Oct; 31(10): 766–775. PMID: 22074801
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ