myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

एलर्जी त्वचा की प्रतिक्रिया होती है। एलर्जी उत्पन्न करने वाले पदार्थ को एलर्जन यानी एलर्जी पैदा करने वाले कारक कहते हैं। यह आमतौर पर किसी विशेष भोजन, कपड़े या ड्रग्स की वजह से होती है। जब कोई व्यक्ति पहली बार एलर्जन के संपर्क में आता है तो उसके शरीर में आईजीई (इम्युनोग्लोबुलिन ई) एंटीबॉडी का उत्पादन होता है। ये एंटीबॉडी रक्तप्रवाह में एलर्जन का पता लगाते हैं और इन्हें खत्म करने के लिए सफेद रक्त कोशिकाओं की ओर ले जाते हैं। इस प्रक्रिया में, हिस्टामाइन नामक एक रसायन जारी होता है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर के ऊतकों में सूजन (जलन), खुजली, शरीर में तरल पदार्थ का स्राव बढ़ जाना और वायुमार्ग (ब्रोन्कोस्पाज्म) में संकुचन की समस्या होती है।

अधिकांश लोगों को एक ही बार में एक से अधिक पदार्थों से एलर्जी हो सकती है। सामान्य एलर्जेंस में पराग शामिल है जो 'हे फीवर' या मौसमी एलर्जिक राइनाइटिस, धूल, पालतू जानवरों की रूसी, भोजन, कीट के काटने और दवाओं का कारण बनता है। 

एलर्जी के कारणों में आनुवंशिक और पर्यावरणीय कारक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। यदि किसी माता या पिता में एलर्जी की समस्या है तो मुमकिन है कि उनके बच्चे में भी यह समस्या पारित हो जाए। हालांकि, ऐसा हमेशा नहीं होता है। एलर्जी के प्रकार के आधार पर व्यक्ति को खुजली, चकत्ते (पित्ती), सूजन, छींक, नाक बहना और सांस फूलने जैसे लक्षणों का अनुभव हो सकता है। एलर्जी के निदान में स्किन और ब्लड टेस्ट मदद करते हैं। एलर्जिक रिएक्शन का एक गंभीर रूप एनाफिलेक्सिस है, जिसमें आंखों में तेज खुजली और गले में सूजन की समस्या होती है। इस स्थिति में निगलने में कठिनाई, सांस लेने से दिक्कत, पेट में दर्द, दस्त, उल्टी, पित्ती, भ्रम और चक्कर आना शामिल हैं। अगर आपातकालीन चिकित्सा देखभाल नहीं दी जाती है तो कई बार यह स्थिति घातक हो सकती है।

होम्योपैथी में एक्यूट रेमेडी (तेज असर करने वाले उपाय) एलर्जी के लक्षणों से राहत दिलाती है, जबकि लंबे समय तक चलने वाले उपचार के तहत बाद में होने वाली परेशानियों की आवृत्ति और तीव्रता कम हो जाती है। होम्योपैथी उपाय रोगी में बीमारी के लक्षणों और मरीज की शारीरिक और मानसिक स्थिति की जांच के बाद निर्धारित किया जाता है। सामान्य उपचारों में एपिस, आर्सेनिकम एल्बम, अरुंडो , नैट्रियम म्यूरिएटिकम, नक्स वोमिका, पल्सेटिला, सबडिला, ट्यूबरक्यूलिनम और अर्टिका यूरेंस शामिल हैं। इन उपायों की खुराक मरीज की स्थिति के अनुसार तय की जाती है।

  1. एलर्जी के लिए होम्योपैथिक दवाएं - Allergy ke liye homeopathic medicine
  2. होम्योपैथी के अनुसार एलर्जी के रोगी के लिए आहार और जीवनशैली में बदलाव - homeopathy ke anusar allergy patient ke liye khanpan aur jeevan shaili me badlav
  3. एलर्जी के लिए होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - homeopathy ke anusar allergy ke liye khanpan aur jeevan shaili me badlav
  4. एलर्जी के लिए होम्योपैथिक दवा के दुष्प्रभाव और जोखिम - Allergy ke liye homeopathic medicine ke nuksan
  5. एलर्जी के लिए होम्योपैथिक उपचार से संबंधित टिप्स - Allergy ke liye homeopathic treatment se jude tips

एलर्जी से छुटकारा दिलाने में मदद करने वाले होम्योपैथिक उपचार निम्नलिखित हैं। 

एपिस
सामान्य नाम :
दि हनी बी
लक्षण : एपिस ऐसे लोगों में बेहतरीन उपाय है जिनमें मधुमक्खी के काटने से एलर्जी होती है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों से भी राहत प्रदान करता है :

  • जलन, खुजली और चुभन वाले दर्द के साथ शरीर के विभिन्न हिस्सों में सूजन और लालिमा
  • हाथ और पैर सहित पूरे शरीर में सूजन
  • आंखों में जलन और लालिमा के साथ पलकों के नीचे सूजन और जलन 
  • चेहरे, मुंह, होंठ और गले की सूजन और लालिमा
  • प्यास की कमी

यह लक्षण गर्मी और छूने से बदतर हो जाते हैं जबकि खुली हवा में रहने और कोल्ड एप्लीकेशन (ठंडी सिकाई) से लक्षणों में सुधार होता है।

आर्सेनिकम एल्बम
सामान्य नाम :
आर्सेनिक ट्राइऑक्साइड
लक्षण : आर्सेनिकम एल्बम से लाभान्वित होने वाले रोगियों में निम्न लक्षण होते हैं :

  • आंखों में चारों ओर सूजन व साथ में जलन, आंखों से पानी आना और रोशनी के प्रति संवेदनशीलता
  • नाक ब्लॉक होना व साथ में लगातार छींक आना और नाक से पतला या पानीदार डिस्चार्ज होना
  • चेहरे पर सूजन, पीलापन, ठंड और सिकुड़न के साथ पसीना आना
  • सांस संबंधी एलर्जी के मामले में लेटने में असमर्थता के साथ घरघराहट, दमा और घुटन महसूस करना
  • खाद्य एलर्जी के मामले में (विशेष रूप से खरबूजे और रसदार फल) कुछ खाने या पीने के बाद मतली और उल्टी
  • लगातार डकार के साथ पेट में दर्द
  • अत्यधिक बेचैनी
  • चिंता, विशेष रूप से स्वास्थ्य के बारे में
  • थोड़ी सी भी थकावट के साथ कमजोरी
  • थोड़े-थोड़े समय पर कम मात्रा में पानी की प्यास लगना

यह लक्षण आमतौर पर खुली हवा में, रात में और ठंडी हवा में खराब हो जाते हैं, लेकिन व्यक्ति घर के अंदर और ठंडी सिकाई से बेहतर महसूस करता है।

अरुंडो मॉरिटेनिका
सामान्य नाम :
रीड
लक्षण : अरुंडो मॉरिटेनिका एलर्जी से होने वाले जुकाम में अच्छा काम करता है। यह निम्नलिखित लक्षणों से भी राहत देता है :

  • कान में खुजली और जलन
  • नाक, गले और मुंह के अंदर ऊपरी तरफ खुजली
  • आंखों में खुजली और जलन, विशेष रूप से बाईं आंख
  • पलकों की सूजन
  • लगातार छींक व साथ में नाक से डिस्चार्ज, बदबू और सूंघने की शक्ति कम होना
  • सांस फूलना और खांसी

नैट्रियम म्यूरिएटिकम 
सामान्य नाम :
कॉमन सॉल्ट
लक्षण : नैट्रियम म्यूरिएटिकम आमतौर पर संवेदनशील व्यक्तियों को दिया जाता है, जिन्हें आसानी से रोना आ जाता है। यह एलर्जिक राइनाइटिस के लिए एक प्रभावी उपाय है। इस उपाय से निम्नलिखित लक्षणों का भी इलाज किया जा सकता है :

  • पलकों में सूजन और भारीपन
  • लगातार छींकना व साथ में आंख से पानी आना
  • थकावट या व्यायाम के बाद खुजली वाले चकत्ते
  • तैलीय त्वचा
  • वजन कम होने के साथ एनीमिया, मैप्ड टंग (जीभ पर मानचित्र जैसे पैटर्न) और आसानी से ठंड लगने की प्रवृत्ति

यह लक्षण सुबह सुबह 10 से 11 बजे के बीच, गर्मी से और समुद्र के किनारे बदतर हो जाते हैं, लेकिन ठंडे पानी में नहाने के बाद लक्षणों से आराम मिलता है।

नक्स वोमिका
सामान्य नाम :
पॉइजन नट
लक्षण : नक्स वोमिका उन लोगों में एलर्जी के प्रति एक प्रभावशाली दवा है जो दुबले, चिड़चिड़े, गुस्सैल, नर्वस होते हैं और गैस्ट्रिक (जठर संबंधी) की शिकायत होती है। ऐसे लोगों में निम्नलिखित लक्षण होते हैं :

  • नाक भरी होना, विशेष रूप से रात में और घर से बाहर होने पर, दिन के समय में पानी डिस्चार्ज होना
  • गले में खराश जो सुबह उठने के ठीक बाद होती है
  • रोशनी के प्रति संवेदनशीलता
  • कानों में खुजली
  • फूड एलर्जी जो आमतौर पर मसालेदार, तीखा भोजन और शराब से शुरू होती है
  • दवा की प्रतिक्रिया
  • पेट दर्द और गैसीय तनाव, खट्टी और कड़वी डकार, बदहजमी
  • उल्टी करने की इच्छा लेकिन उल्टी न करना
  • मल को पारित करने के लिए लगातार अप्रभावी इच्छा

यह लक्षण मानसिक थकान, छूने, मसालेदार भोजन करने और शुष्क मौसम में बिगड़ जाते हैं। आराम करने और नींद लेने के बाद इन लक्षणों से राहत मिलती है।

पल्सेटिला प्रेटेंसिस
सामान्य नाम :
विंडफ्लॉवर
लक्षण : यह उपाय एक्यूट और क्रोनिक एलर्जी के मामलों में बेहतरीन उपाय है। यह उन व्यक्तियों पर अच्छा काम करता है जो संवेदनशील, आसानी से रोने वाले, अभद्र और डरपोक होते हैं। विंडफ्लावर निम्नलिखित लक्षणों के उपचार के लिए निर्धारित है :

  • आंखों में खुजली और जलन के साथ अत्यधिक पानी आना, गाढ़ा डिस्चार्ज होना और पलकों में सूजन व चिपचिपा होना
  • नाक ब्लॉक होना (विशेष रूप से दाईं नाक) व साथ में हरे या पीले रंग ​का​ डिस्चार्ज होना
  • खांसी, जिसके कारण व्यक्ति बिस्तर पर बैठ जाता है और मोटा, कड़वा व हरे रंग का डिस्चार्ज होता है
  • निचले होंठ में सूजन
  • प्यास की कमी
  • उल्टी और पेट फूलना 

पेस्ट्री, आइसक्रीम, फल, वसायुक्त खाद्य पदार्थ खाने के बाद पेट की शिकायतें हो सकती है।

सबडिला
सामान्य नाम :
केवडिला सीड
लक्षण : सबडिला एलर्जी राइनाइटिस के लिए एक शानदार उपाय है। यह निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक करता है :

  • लगातार छींकना व साथ में नाक से पानी निकलना
  • माथे के ऊपर साइनस वाले हिस्से में दर्द
  • आंखें लाल होना व साथ में जलन और पानी निकलना
  • चेहरे पर गर्मी का अहसास

यह लक्षण ठंडे भोजन और पेय से बिगड़ जाते हैं, जबकि गर्म भोजन और पेय से बेहतर हो जाते हैं।

ट्यूबरक्यूलिनम बोविनम
सामान्य नाम :
पस फ्रॉम अ ट्यूबरकुलर अब्सेस्स
लक्षण : ट्यूबरक्यूलिनम बोविनम उन लोगों के लिए एक प्रभावशाली उपाय है जो अच्छी तरह से खाने के बावजूद दुबले, चिड़चिड़े, सुस्त रहते हैं और जिनका वजन कम होता है। ऐसे लोगों में आसानी से ठंड लगने की समस्या होती है। इस उपाय से निम्नलिखित लक्षणों को ठीक किया जा सकता है:

  • सांस लेने में दिक्कत, घुटन और पसीने के साथ सूखी खांसी
  • त्वचा पर घाव होने की प्रवृत्ति के साथ गंभीर रूप से खुजली, विशेष रूप से रात में जब व्यक्ति कपड़े बदलता या स्नान करता है

यह लक्षण लगातार बदलते रहते हैं। यह शरीर के एक हिस्से और फिर दूसरे हिस्से को प्रभावित करते हैं और अचानक आते-जाते हैं।

होम्योपैथिक दवाओं को बेहद घुलनशील रूप में दिया जाता है और यही वजह है कि कुछ आहार और जीवनशैली की आदतें इन दवाइयों के असर को प्रभावित कर सकती हैं। होम्योपैथी के संस्थापक डॉ. हैनिमैन ने उचित आहार और जीवनशैली के बारे में बताया है, जिसके जरिये इन दवाइयों से सर्वोत्तम लाभ उठाया जा सकता है।

क्या करना चाहिए

  • अपने डॉक्टर की सलाह का पालन करें और किसी भी एप्वॉइंटमेंट को नजरअंदाज न करें।
  • शारीरिक रूप से सक्रिय रहने की कोशिश करें; नियमित रूप से ताजी हवा में व्यायाम करें। आप हर दिन सैर के लिए भी जा सकते हैं।
  • स्वस्थ और पौष्टिक आहार लें।

क्या करना चाहिए

होम्योपैथिक दवाओं की कार्रवाई के साथ निम्नलिखित चीजें प्रतिक्रिया कर सकती हैं और इसलिए इनसे बचना चाहिए :

  • तेज महक वाले खाद्य पदार्थ और पेय जैसे कॉफी, जड़ी बूटी वाली चाय, औषधीय मसाले और मसाले वाली चॉकलेट से तैयार शराब
  • औषधीय रूप से मिश्रित दंत पाउडर और माउथवॉश
  • पर्फ्यूम
  • तेज महकने वाले सुगंधित फूल
  • अत्यधिक मौसमी खाद्य पदार्थ और सॉस
  • जमी हुई चीजें जैसे आइसक्रीम
  • ऐसे खाद्य पदार्थ जिनमें कच्ची / या औषधीय जड़ी-बूटियां हैं
  • अजवाइन, अजमोद, रखा हुआ पनीर और मीट
  • दोपहर में लंबी झपकी न लें, क्योंकि इससे स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
  • अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए मानसिक तनाव से बचें।

क्रोनिक या बार-बार होने वाली एलर्जी से ग्रस्त मरीजों को अक्सर एंटीहिस्टामाइन और स्टेरॉयड के बार-बार उपयोग से निराशा हाथ लगती है क्योंकि इनके विभिन्न दुष्प्रभाव होते हैं और उनकी स्थिति का स्थायी समाधान नहीं होता है। होम्योपैथी इस तरह की स्थितियों के प्रबंधन के लिए सरल और सुरक्षित तरीका है और स्थिति का गहराई से उपचार करता है, जिससे बहुत सारे मामलों में दीर्घकालिक राहत मिलती है।

होम्योपैथिक दवाएं लक्षणों को दबाने के बजाय शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ रखने में मदद करती है ताकि शरीर अपने आप चिकित्सकीय स्थितियों से लड़ सके।

सही होम्योपैथिक दवा शरीर में आईजीई स्तर और हिस्टामिन प्रतिक्रिया को नियंत्रित करती है। इन दवाओं को एलर्जी को ठीक करने के लिए उचित उपाय के रूप में निर्धारित किया जा सकता है। वास्तव में, होम्योपैथिक उपचार न केवल बीमारी के लक्षणों को ठीक करती है, बल्कि यह समग्र स्वास्थ में भी सुधार करती है।

होम्योपैथिक दवाएं अत्यधिक गुणकारी हैं। इन्हें उपयोग में लाए जाने से पहले घुलनशील रूप दिया जाता है, इसलिए इन्हें सुरक्षित माना जाता हैं और इनका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। इसके अलावा, इन दवाओं को बेहद नियंत्रित तरीके से और छोटी खुराक में दिया जाता है, जिससे वे सभी आयु वर्ग के लिए सुरक्षित हो जाती हैं। हालांकि, यह महत्वपूर्ण है कि एक सही और वास्तविक होम्योपैथिक उपचार और इसकी खुराक के लिए किसी योग्य होम्योपैथिक चिकित्सक से मदद लेनी चाहिए।

एलर्जी तब होती है जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली किसी बाहरी पदार्थों के खिलाफ प्रतिक्रिया करती है। इन पदार्थों को एलर्जेन कहा जाता है। सामान्य एलर्जेंस में धूल, पराग, पालतू जानवरों की रूसी इत्यादि शामिल है। एलर्जी या तो आनुवंशिक या पर्यावरणीय कारकों के कारण हो सकती है। एक एलर्जी प्रतिक्रिया हल्के से लेकर मध्यम या गंभीर रूप ले सकती है।

कई मामलों में यह जानलेवा भी हो सकती है। परंपरागत या प्रमाणिक रूप से, एलर्जी का उपचार इसके लक्षणों का प्रबंधन करके किया जाता है जबकि होम्योपैथी में इसे जड़ से खत्म किया जाता है ताकि भविष्य में यह दोबारा से प्रभावित न करे। होम्योपैथिक दवाएं एलर्जी के तेज एपिसोड पुनरावृत्ति को रोकने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। 

और पढ़ें ...

References

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Allergy
  2. American Institute of Homeopathy [internet] U.S Allergic Rhinitis
  3. British Homeopathic Association. Allergies. London; [Internet]
  4. William Boericke. Homeopathic Materia Medica. Kessinger Publishing: Médi-T 1999, Volume 1 Homoeopathic Materia Medica
  5. Timothy F Allen Medi- T.The encyclopedia of Pure Materia Medica The encyclopedia of Pure Materia Medica Volume 6, New Delhi : Jain Publishers 2007
  6. John Henry Clarke. A Dictionary of practical materia medica . A Dictionary of Practical Materia Medica; Médi-T National Center for Homeopathy. A Dictionary of practical materia medica . Mount Laurel; [Internet]
  7. Organon of the Medical art by Wenda Brewster O’Reilly. Organon of Medicine. New Delhi: B Jain publishers 2017
ऐप पर पढ़ें