myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मौसम बदलने के कारण ज़्यादातर लोगों को अलग-अलग एलर्जी से संबंधित परेशानी होने लगती है। एलर्जी के सामान्य लक्षण हैं जैसे बहती हुई नाक, गले में खराश, कफ, आंखों में खुजली और स्किन रैशेज। जो लोग एलर्जी से परेशान रहते हैं वो दवाइयां लेने के अलावा अपने खाने पीने का ध्यान रखकर भी अपनी समस्या का इलाज कर सकते हैं।

इस लेख में हमने आपको एलर्जी में क्या खाएं और क्या नहीं खाना चाहिए, साथ ही एलर्जी में क्या परहेज रखना चाहिए के बारें बताया है। एलर्जी होने पर अगर आप अपने खाने पीने का ध्यान अच्छे से रखेंगे तो बार-बार होने वाली एलर्जी की समस्या से आपको बहुत जल्द छुटकारा मिलेगा।

(और पढ़ें - एलर्जी के कारण)

तो चलिए आपको इस लेख में एलर्जी में क्या खाएं और क्या न खाएं की जानकारी देते हैं –

  1. एलर्जी में क्या खाना चाहिए - Allergy me kya khaye
  2. एलर्जी में परहेज और क्या न खाएं - Allergy me parhej aur kya nahi khana chahiye

एलर्जी में प्याज खाएं - Allergy me pyaj khaye

प्याज क्वरसिटिन (quercetin) से समृद्ध होता है। यह एक ऐसा फ्लेवेनोइड घटक है जिसमें एंटीऑक्सीडेंट के गुण होते हैं। क्वरसिटिन हिस्टामिन के बनने और उसको जारी होने से रोकता है। क्वरसिटिन में सूजनरोधी गुण होते हैं जो सभी प्रकार की एलर्जी से छुटकारा दिलाते हैं। अन्य खाद्य पदार्थ जिनमें क्वरसिटिन होता है जैसे सेब, रेड वाइन, बेरी, काली चाय और ग्रीन टी, साइट्रस फल, अजमोद आदि। इन खाद्य पदार्थों को भी आप अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं।

(और पढ़ें - स्किन एलर्जी के लक्षण)

एलर्जी होने पर हल्दी खाएं - Allergy hone par haldi khani chahiye

हल्दी में करक्यूमिन होता है, जिसमें सूजनरोधी और एंटीऑक्सीडेंट्स घटक होते हैं जो शरीर में हिस्टामिन को जारी होने से रोकते हैं। इससे आपको एलर्जी नहीं होती और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस भी कम होता है। करक्यूमिन सांस लेने से जुडी समस्याओं को कम करता है और एलर्जी से पीड़ित लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

(और पढ़ें - धूल से एलर्जी के लक्षण)

साथ ही हल्दी में एंटीवायरल, एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण भी होते हैं। हल्दी को वसा वाले खाद्य पदार्थ या काली मिर्च के साथ मिलाकर खाने से यह शरीर में जल्दी अवशोषित होती है।

(और पढ़ें - एंटीबायोटिक दवा)

एलर्जी कम करने के लिए मछली खानी चाहिए - Allergy kam karne ke liye machli khaye

कुछ शोध का कहना है कि ओमेगा 3 फैटी एसिड साल्मन, टूना और अन्य प्रकार की मछलियों में पाया जाता है। इनको खाने से एलर्जी होने की संभावना कम हो जाती है। मछली में सूजनरोधी प्रभाव होते हैं जो एलर्जी से राहत दिलाने में मदद करते हैं। एलर्जी को कम करने के लिए हर हफ्ते दो बार मछली जरूर खाएं। अन्य खाद्य पदार्थ जो ओमेगा3 फैटी एसिड से समृद्ध होते हैं जैसे अखरोट और अलसी के बीज भी आप खा सकते हैं।

(और पढ़ें - एलर्जी के घरेलू उपाय)

एलर्जी से छुटकारा पाने के लिए शहद खाएं - Allergy se chutkara pane ke liye shehad khaye

पराग एलर्जी (Pollen allergy) से होने वाली एलर्जी से पीड़ित लोगों के लिए शहद खाना बेहद अच्छा होता है। एक स्टडी ने पाया कि जिन लोगों को पराग एलर्जी होती है अगर वे बर्च पोलेन हनी (honey with birch pollen - सनोबर के पेड़ में मौजूद पराग से बना शहद) खाते हैं, तो उनके लक्षण 60 प्रतिशत तक कम हो जाते हैं। साथ ही एलर्जी पहले के मुकाबले कुछ प्रतिशत ही रह जाती है। शहद में सूजनरोधी प्रभाव होते हैं जो एलर्जी को कम करने में मदद करते हैं। बेहतरीन इलाज के लिए आप कच्चे शहद का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आप सुबह-सुबह शहद का छोटा चम्मच लेते हैं तो किसी भी तरह की एलर्जी से आपको राहत जरूर मिलेगी।

(और पढ़ें - एलर्जी टेस्ट क्या है)

एलर्जी में विटामिन सी से समृद्ध भोजन लें - Allergy me vitamin C yukt aahaar le

एलर्जी में आपको खुजली, पित्ती आदि समस्याएं होने लगती है। एलर्जी को कम करने के लिए आप विटामिन सी से समृद्ध खाद्य पदार्थ खा सकते हैं। एक स्टडी में पाया गया कि विटामिन सी से समृद्ध खाद्य पदार्थ प्राकृतिक एंटीहिस्टामिन की तरह कार्य करते हैं और अधिक मात्रा में विटामिन सी से समृद्ध खाद्य पदार्थ खाने से हिस्टामिन कम होने लगता है। आप रोजाना विटामिन सी से समृद्ध खाद्य पदार्थ खा सकते हैं जैसे संतरा, स्ट्रॉबेरी, सेब, तरबूज, ब्रोकली, पपीता, आम आदि।

(और पढ़ें - एलर्जी होने पर क्या करें)

एलर्जी में दही खाना चाहिए - Allergy me dahi khana chahiye

जिन लोगों को एलर्जी की समस्या होती है उन्हें अपनी डाइट में प्रोबायोटिक्स से समृद्ध आहार और दही को शामिल करना चाहिए। "नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ हैल्थ" के अनुसार प्रोबायोटिक्स को अच्छे बैक्टीरिया कहा जाता है। प्रोबायोटिक्स जिसे आप दही, मीसो, फर्मेन्टेड मिल्क और डायट्री सप्लीमेंट से ले सकते हैं। इनसे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढने से लक्षणों का इलाज होता है। एक स्टडी के अनुसार, जो महिलायें गर्भावस्था के बाद और गर्भावस्था के दौरान प्रोबायोटिक सप्लीमेंट्स से बना दूध पीती हैं उनके बच्चों को एक्जिमा की समस्या नहीं होती और अन्य तरह की एलर्जी भी नहीं होती। कुछ एक्सपर्ट्स का कहना है कि आपकी आंत में अच्छे बैक्टीरया या प्रोबायोटिक्स एलर्जी के लक्षण जैसे बहती नाक और बंद नाक को कम करने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें - खाने से होने वाली एलर्जी)

एलर्जी को दूर करने के लिए अन्य आहार - Allergy ko door karne ke liye anya aahar

एलर्जी को कम करने के लिए ऊपर बताये गए खाद्य पदार्थों के अलावा आप इन खाद्य पदार्थों को भी ले सकते हैं जैसे ग्रीन टी, बीन्स, अनाज, किवी, टमाटर, बैंगन, खीरा, पालक, सूप, मैग्नीशियम और विटामिन ई से समृद्ध आहार। इसके अलावा एलर्जी को ठीक करने के लिए कम मात्रा में नमक खाएं।

 

1. मसालेदार खाना न खाएं:

मसालों के कारण भी हिस्टामिन जारी होने लगता है। अधिक मसालेदार खाना खाने से नाक की नली में सूजन आ जाती है और सांस लेने में दिक्कत होती है।

2. कच्चे खाद्य पदार्थ न खाएं:

कच्चे खाद्य पदार्थों के अलावा सलाद पत्ते खाने से भी आपको एलर्जी की समस्या हो सकती है। एलर्जी से होने वाले लक्षणों से जब आप परेशान होने लगे तो अपनी डाइट से ताजा खाद्य पदार्थ निकाल दें और डिब्बा-बंद खाद्य पदार्थ या अच्छी तरह से पके हुए खाद्य पदार्थों को खाएं। अच्छी तरह से पके हुए खाद्य पदार्थ एलर्जी के लक्षणों को बढ़ने से रोकते हैं। 

3. डेयरी उत्पाद न लें:

एक रिपोर्ट के अनुसार दूध और ऐसे डेयरी उत्पाद जो दूध से बने होते हैं जैसे चीज और दही बलगम को और गाढ़ा कर देते हैं, जिसकी वजह से गले व नाक में जलन होने लगती है और सांस लेने में परेशानी होती है। वैसे अभी यह साबित नहीं हुआ है कि डेयरी उत्पादों से बलगम बनता है, लेकिन अगर आप एलर्जी की समस्या से पीड़ित हैं तो आपको डेयरी उत्पादों का सेवन कम कर देना चाहिए। 

4. ऐसे खाद्य पदार्थ न खाएं जिनसे हिस्टामिन बढ़ता है:

हिस्टामिन के कारण मौसम में होने वाली एलर्जी के लक्षण देखने को मिलते हैं जैसे छींक आना, नाक में घरघराहट होना, आंखों में खुजली होना आदि। ऐसे खाद्य पदार्थ जो हिस्टामिन से समृद्ध होते हैं, उनको न खाने से शरीर में हिस्टामिन के जारी होने की मात्रा कम करने में मदद मिलती है। इससे एलर्जी के लक्षण कम हो जाते हैं। हिस्टामिन बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ जैसे चीज, प्रोसेस्ड मीट, स्मोक्ड फिश, ड्राई फ्रूट्स जैसे किशमिश, मशरूम, एवोकाडो, बैंगन, टमाटर और अन्य खाद्य पदार्थ जिनमें सिरका होता है। पेय पदार्थ खासकर वाइन और बियर से भी हिस्टामिन बढ़ता है। 

5. शराब न पीएं:

कुछ लोगों के लिए, एक ग्लास शराब से नाक की नली में सूजन और सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। अगर आपको बंद नाक की पहले से ही समस्या है तो शराब पीने से यह स्थिति और भी ज्यादा खराब हो सकती है। अगर आपको नाक से संबंधित एलर्जी है तो अपनी डाइट में कुछ बदलाव करें और लक्षणों को कम करने की कोशिश करें। साथ ही शराब का सेवन न करें। (और पढ़ें - शराब की लत के लक्षण)

और पढ़ें ...