• हिं

गाल का कैंसर - Cheek Cancer in Hindi

Dr. Ayush PandeyMBBS,PG Diploma

June 07, 2021

June 07, 2021

गाल का कैंसर
गाल का कैंसर

कैंसर एक ऐसा रोग है, जिसमें असामान्य कोशिकाएं अनियंत्रित रूप से विभाजित होने लगती हैं और शरीर के ऊतकों को नष्ट कर देती हैं। यह पूरे शरीर में कहीं भी हो सकता है, लेकिन हम इस आर्टिकल में विशेष रूप से गाल के कैंसर की बात कर रहे हैं।

गाल का कैंसर क्या है? - What is Cheek Cancer in Hindi

यह ओरल कैंसर के अंतर्गत आता है, इसमें गाल के ऊतकों में कैंसर कोशिकाएं विकसित होती हैं। जब इस हिस्से (गाल) की कोशिकाएं अनियंत्रित रूप से बढ़ती हैं तो यह ट्यूमर का रूप ले लेती हैं। इसके बाद उस हिस्से में गांठ या घाव बन जाता है, जो अपने आप ठीक नहीं होता है और आगे चलकर कैंसर का रूप ले लेता है।

जब गाल के अंदरूनी हिस्से में कैंसर होता है तो इसे 'इनर चीक कैंसर' कहते हैं, हालांकि इसे बक्कल (buccal) म्यूकोसा कैंसर भी कहा जाता है। यह सिर और गर्दन का कैंसर का एक प्रकार है। जबकि बाहरी गालों पर होने वाले कैंसर को स्किन कैंसर माना जाता है।

तंबाकू उत्पादों का उपयोग और शराब की लत से आपके गाल के अंदरूनी हिस्से में कैंसर होने का जोखिम बढ़ सकता है। आमतौर पर एक डेंटिस्ट गाल के कैंसर को सबसे पहले तब नोटिस करते हैं जब रोगी दांत की समस्या के लिए उनके पास आता है। ओरल कैंसर के अंतर्गत गाल का कैंसर के अलावा होंठ का कैंसर, जीभ का कैंसर, मसूड़ों का कैंसर, जबड़े का कैंसर और दांत का कैंसर शामिल हैं।

(और पढ़ें - मुंह के कैंसर का ऑपरेशन कैसे होता है)

गाल के कैंसर के लक्षण - Cheek Cancer symptoms in Hindi

गाल के कैंसर के संकेत और लक्षण या गाल के कैंसर की पहचान निम्नलिखित स्थितियों को नोटिस करके की जा सकती है :

(और पढ़ें - जबड़े में दर्द के घरेलू उपाय)

गाल के कैंसर का कारण - Cheek cancer causes in Hindi?

गाल का कैंसर कैसे होता है?

तंबाकू और शराब के सेवन से गालों और होठों की श्लेष्म झिल्ली में कैंसर विकसित होने का खतरा कहीं अधिक बढ़ जाता है। इस बीमारी का इलाज सर्जरी, कीमोथेरेपी या दोनों से किया जाता है।

मुंह या गाल का कैंसर किसे हो सकता है?

इस तरह का कैंसर पुरुषों में ज्यादा आम है, खासकर 50 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों में सबसे अधिक जोखिम होता है। मुंह का कैंसर पुरुषों में छठा सबसे आम कैंसर है।

मुंह के कैंसर के जोखिम कारकों में शामिल हैं :

  • धूम्रपान : धूम्रपान न करने वालों की तुलना में सिगरेट, सिगार या पाइप वाला धूम्रपान करने वालों में मुंह के कैंसर का जोखिम छह गुना अधिक होता है।
  • शराब का अत्यधिक सेवन : शराब न पीने वालों की तुलना में मुंह के कैंसर का जोखिम ऐसे लोगों में ज्यादा होता है जो लोग शराब का अत्यधिक सेवन करते हैं। तंबाकू के साथ शराब के सेवन के संयोजन से यह खतरा और भी बढ़ जाता है।
  • कैंसर का पारिवारिक इतिहास।
  • खान-पान की खराब आदतें

(और पढ़ें -  कैंसर में क्या खाना चाहिए)

गाल के कैंसर का निदान - Cheek cancer diagnosis in Hindi

गाल के कैंसर के निदान के लिए निम्नलिखित टेस्ट किए जा सकते हैं:

फिजिकल एग्जाम : किसी भी तरह के ओरल कैंसर का संदेह सबसे पहले डेंटिस्ट को होता है। ऐसा तब होता है जब आप दांतों की नियमित रूप से जांच के लिए दांतों के डॉक्टर के पास जाते हैं। शारीरिक जांच के दौरान यदि उन्हें मुंह के अंदर घाव और सफेद धब्बे (ल्यूकोप्लाकिया) या किसी अन्य तरह की असामान्यता दिखती है तो वे संदेह को दूर करने के लिए कुछ टेस्ट कराने का सुझाव दे सकते हैं।

बायोप्सी : जांच के दौरान यदि कुछ संदिग्ध दिखता है, तो डॉक्टर या डेंटिस्ट बायोप्सी कराने का सुझाव दे सकते हैं, जिसमें प्रभावित जगह से नमूना लिया जाता है। नमूना लेने के लिए वे एक खास उपकरण या सुई की मदद ले सकते हैं, इसके बाद वे इसे लैब में माइक्रोस्कोप की मदद से जांचते हैं। एक बार जब मुंह के कैंसर का निदान हो जाता है, तो डॉक्टर यह पता करते हैं कि कैंसर कितना फैल चुका है।

(और पढ़ें - पैप स्मीयर टेस्ट क्या होता है)

 

गाल के कैंसर का इलाज - Cheek Cancer Treatment in Hindi

इनर चीक कैंसर या गाल के अंदरूनी हिस्से में कैंसर का निदान यदि जल्दी हो जाता है तो इसके इलाज के सफल होने की संभावना बढ़ जाती है। गाल के कैंसर का इलाज में अक्सर सर्जरी शामिल होती है, जो कि हेड एंड नेक कैंसर सर्जन द्वारा की जाती है।

इनर चीक कैंसर के उपचार का लक्ष्य

  • कैंसर का इलाज करना
  • मुंह की कार्यक्षमता को बनाए रखना
  • कैंसर के वापस आने का जोखिम खत्म करना

कैंसर कितना फैल चुका है, इसके आधार पर उपचार योजना तैयार की जाती है। यदि कैंसर एडवांस स्टेज में है, तो कैंसर के वापस आने के जोखिम को कम करने के लिए सर्जरी से पहले या बाद में ट्यूमर को सिकोड़ने के लिए रेडिएशन, कीमोथेरेपी या दोनों का उपयोग किया जा सकता है। कुछ लोगों में रेडिएशन ही एकमात्र आवश्यक उपचार हो सकता है।

(और पढ़ें -  कैंसर का आयुर्वेदिक इलाज)

गाल के कैंसर से जान जाने का जोखिम - Can you die from cheek cancer in Hindi?

कई बार लोग जानना चाहते हैं कि क्या गाल के कैंसर या अन्य किसी कैंसर की वजह से उनकी मृत्यु हो सकती है। तो इसका जवाब है कि गाल का कैंसर ओरल कैंसर के तहत आता है, जिसमें मुं​ह के अंदर किसी हिस्से में कैंसर कोशिकाएं विकसित होती हैं, जिसकी वजह से घाव बनता है और यह अपने आप ठी​क नहीं होता है। यदि मुंह या गाल के कैंसर का निदान समय पर करके इलाज शुरू कर दिया जाता है तो आप इसे जानलेवा होने से रोक सकते हैं।

(और पढ़ें - मुंह के कैंसर की होम्योपैथिक दवा)

गाल में गांठ क्यों बनती है - Why is there a bump in my cheek in Hindi

म्यूकोसेल्स (Mucoceles) तरल से भरे म्यूकस सिस्ट हैं, जो मुंह में या होठों पर बनते हैं। इन सिस्ट में अक्सर दर्द नहीं होता है, यह तब बनते हैं जब किसी दुर्घटना की वजह से गाल या होंठ पर चोट आती है और कट बन जाता है, ऐसे में श्लेष्म लार ग्रंथियों को बनाना बंद कर देता है। इसके अलावा दांतों या मुंह के अंदर उचित साफ सफाई न रखने की वजह से भी गांठ बन सकती है।

(और पढ़ें - मुंह की सफाई कैसे करें)

क्या गाल का कैंसर दर्दनाक है - Is cheek cancer painful in Hindi

मुंह का कैंसर जब शुरुआती स्टेज में होता है तो आमतौर पर दर्द नहीं होता है, लेकिन दुर्लभ मामलों में ऐसा हो सकता है। चूंकि कैंसर में कोशिकाएं ​अनियंत्रित रूप से बढ़ती हैं, ऐसे में यह वृद्धि फ्लैट पैच (चपटे चकत्ते) के रूप में दिखाई देती है। जबकि नासूर किसी अल्सर जैसा दिख सकता है।

(और पढ़ें - मुंह के छाले के घरेलू उपाय)



गाल का कैंसर के डॉक्टर

David K Simson David K Simson ऑन्कोलॉजी
11 वर्षों का अनुभव
Dr. Nilesh Ranjan Dr. Nilesh Ranjan ऑन्कोलॉजी
3 वर्षों का अनुभव
Dr. Ashok Vaid Dr. Ashok Vaid ऑन्कोलॉजी
31 वर्षों का अनुभव
Dr. Ashu Abhishek Dr. Ashu Abhishek ऑन्कोलॉजी
12 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ