myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

बुखार से कोई भी व्यक्ति पीड़ित हो सकता है। कई बार मौसम के बदलने के कारण, ज्यादा थकान या फिर संक्रमण की वजह से आप बुखार की चपेट में आ जाते हैं। बुखार से पीड़ित व्यक्ति को कुछ भी खाने का मन नहीं करता है। इसके अलावा उसके मुंह में या स्वाद में वह हमेशा कड़वापन महसूस करता है। लेकिन बुखार से ग्रसित व्यक्ति को खाना-पीना नहीं छोड़ना चाहिए। खाना पीना छोड़ने से आपके शरीर में बहुत ज़्यादा कमज़ोरी आ जाती है और शरीर की बीमारी से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता भी कम हो जाती है।

हालांकि, बुखार को ठीक होने में ज्यादा समय नहीं लगता है। लेकिन बुखार के दौरान खाने-पीने का सही तरीके से ध्यान रखना इसे जल्दी ठीक होने में मदद करता है। इसलिए यह जाना बहुत जरूरी है कि बुखार में आपको क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए। इसके साथ ही साथ ये भी पता होना चाहिए कि बुखार में किन चीजों से परहेज करें और किन चीजों से परहेज न करें। बुखार में आपको पौष्टिक आहार और हल्का भोजन करना चाहिए, जो आसानी से पच जाए।

(और पढ़ें - बुखार कम करने के घरेलू उपाय)

  1. बुखार में क्या खाना चाहिए - What to eat in fever in Hindi
  2. बुखार में क्या न खाएं और परहेज - What not to eat in fever in Hindi
  3. बुखार के लिए डाइट प्लान - Diet Plan for Fever in Hindi

बुखार में फल खाने चाहिए - Eat fruits in fever in Hindi

बुखार में हमें दस्त, उल्टी, पसीना जैसी परेशानियां भी होती हैं जिनसे राहत पाने के लिए केले का सेवन करना फायदेमंद होता है। बुखार में ताजे फलों का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए अच्छा रहता है। ताजे फल जैसे संतरेतरबूज, अनानास, कीवी आदि में विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। आप चाहें तो फलों का जूस बना कर भी पी सकते हैं। आप जूस में चीनी ना डालें। हो सके तो नेचुरल जूस ही पिएं क्योंकि ज़्यादा चीनी का सेवन आपकी सेहत के लिए अच्छा नही होता है।

(और पढ़ें – थकान दूर करने और ताकत के लिए क्या खाएं)

फीवर में सब्जियां खाएं - Eat vegetables in fever in Hindi

हरी सब्जियों का सेवन करें और कैफीन (caffeine) का सेवन कम कर दें। भाप से पकी हुई या उबली हुई सब्जियों का सेवन ज़्यादा से ज़्यादा करें। सूप को अपने आहार में शामिल करें जैसे टमाटर, पालक आदि का सूप पीना काफ़ी फायदेमंद होता है।

बुखार में प्रोटीन युक्त आहार खाएं - Eat protein rich foods in fever in Hindi

बुखार के दौरान प्रोटीन को अपने आहार में शामिल करें। ऐसा करने से आपकी रोग प्रतिरोधक प्रणाली मजबूत बनती है। कम वसा वाले दूध और दही में काफ़ी मात्रा में प्रोटीन होता है इसलिए इनका सेवन ज़रूर करें। आप चाहें तो चाय का सेवन भी कर सकते हैं। अंडे का सेवन करें क्योंकि इसमे अच्छी मात्रा में प्रोटीन होता है तथा यह सफेद रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में भी मदद करता है।

(और पढ़ें – प्रोटीन युक्त भारतीय आहार)

बुखार में दलिया खाना चाहिए - Eat porridge in fever in Hindi

आप दलिया को दूध में डालकर भी खा सकते हैं। दलिया के सेवन से आपको प्रोटीन और पोषक तत्व दोनो साथ में मिलेंगे। जिन लोगों को मीठा दलिया पसंद नहीं है। वह लोग नमकीन खिचड़ी की तरह भी इसे बना सकते हैं।

फीवर में मूंग दाल खाएं - Eat Moong Dal in Fever in Hindi

दोपहर या रात के समय मूंग दाल की खिचड़ी खा सकते हैं। इससे आपको अपच की समस्या नहीं होगी और यह जल्दी भी पच जाएगी। यह बुखार में सबसे अच्छा आहार मानी जाती है।

(और पढ़ें – दालों के फायदे )

बुखार में शहद खाना चाहिए - Have honey in fever in Hindi

शहद में शक्तिशाली जीवाणुरोधी गुण होते हैं क्योंकि इसमें बहुत अधिक रोगाणुरोधी यौगिक मौजूद होते हैं। इसके अलावा शहद आपके रोगप्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत बनाता है। इसलिए बुखार में शहद खाना बहुत अधिक लाभदायक होता है। खासकर जब आपके गले में खराश हो तो शहद और भी फायदेमंद होता है।

कई अध्ययनों में देखा गया है कि शहद बच्चों में खांसी को कम करने में मदद करता है। हालांकि, 12 महीने से कम उम्र वाले बच्चों को शहद नहीं खिलाना चाहिए। 1 गिलास गर्म दूध या गर्म पानी में आधा चम्मच शहद मिलाकर पीएं। यह आपके खांसी को कम करने में और आपके शरीर को हाइड्रेट रखने में मदद करेगा। 

बुखार में भरपूर पानी पीएं - Drink plenty of water in fever in Hindi

शरीर में पानी की कमी होने के कारण बैक्टीरिया ज़्यादा पनपते हैं। ज़्यादा पानी पीने से सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या बढ़ती है और यह अपना काम अच्छे से करती हैं। इसके अलावा पानी ज़्यादा पीने पर शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ भी बाहर निकल जाते हैं। बुखार होने पर ज़्यादा से ज़्यादा पानी पिएँ क्योंकि बुखार के दौरान हमारे शरीर में पानी की कमी हो जाती है।

(और पढ़ें – मटके का पानी पीने के फायदे )

बुखार में पीएं चिकन सूप - Have chicken soup in fever in Hindi

जो भी व्यक्ति बुखार से पीड़ित हैं। उन्हे तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए। चिकन में प्रोटीन और पोषक तत्व होते हैं। चिकन सूप पीने के बाद स्वाद ग्रंथियाँ भी खुल जाती हैं तथा यह कमजोर शरीर के लिए काफ़ी फायदेमंद होता है। चिकन सूप को पीने से बुखार के बैक्टीरिया जल्दी नष्ट हो जाते हैं और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। आप चाहें तो चिकन के साथ हरी सब्जियां मिलाकर भी सूप तैयार कर सकते हैं क्योंकि यह शरीर में एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) तत्वों को पहुंचाता है।

चिकन दूसरे व्यंजनों की तुलना में जल्दी पच जाता है क्योंकि इसके सूप को मक्खन, काली मिर्च और नमक डालकर बनाया जाता है।

बुखार में पीना चाहिए नारियल पानी - Coconut water is beneficial in fever in Hindi

कुछ बीमारियों के दौरान शरीर में पानी की कमी देखी जाती है। बुखार में अधिक पसीना निकलना, उल्टी होना और दस्त की समस्या होती है, जिनकी वजह से आपके शरीर में पानी की कमी हो जाती है। इसलिए बुखार के दौरान नारियल पानी पीना बहुत फायदेमंद है क्योंकि इसमें ग्लूकोज और इलेक्ट्रोलाइट्स दोनों मौजूद होते हैं। यह दोनों आपको हाइड्रेट रखते हैं। इसके साथ ही साथ नारियल पानी स्वादयुक्त और मीठी भी होता है, जिसे बुखार के दौरान आप आसानी से पी लेते हैं।

अध्ययन के अनुसार नारियल पानी आपको व्यायाम और दस्त के बाद पुनः से हाइड्रेट करने में मदद करता है। इसके अलावा जानवरों पर किए गए परीक्षणों के अनुसार नारियल पानी में एंटीऑक्सिडेंट मौजूद होते हैं, जो आपके ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करते हैं। 

(और पढ़ें - पानी की कमी (निर्जलीकरण))

बुखार के लिए अन्य आहार - Other diet for fever in Hindi

बुखार से लड़ने में किशमिश भी बहुत फायदेमंद होती है क्योंकि इसमे एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) तत्व तथा विटामिन सी पाया जाता है। बुखार में लहसुन का सेवन करने पर शरीर का तापमान कम होता है तथा यह आपके शरीर को संक्रमण से बचाता है। दोपहर के खाने में कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार का सेवन करें। अपच को दूर भगाने के लिए ब्राउन ब्रेड का सेवन कर सकते हैं। रात के खाने में जल्दी पचने वाले आहार का सेवन करें। आप अंकुरित अनाज का सेवन भी कर सकते हैं। 

(और पढ़ें - लहसुन खाने का फायदा)

निम्न खाद्य पदार्थों को बुखार में न खाएं -

नूडल्स - बुखार में नूडल्स और मैदा से बने अन्य खाद्य पदार्थों को न खाएं। मैदा से बने खाद्य पदार्थ पाचन क्रिया को प्रभावित करते हैं।

तले हुए खाद्य - फास्ट फूड, और तले हुए खाद्य पदार्थों को पचाने में बहुत अधिक परेशानी होती है। इसलिए बुखार के मरीज तले हुए खाद्य पदार्थों को न खाएं।

अधिक वसा वाले खाद्य पदार्थ - बुखार में अधिक फैट वाले खाद्य पदार्थ और मसालों को खाने से जी मचलाने की समस्या होती है। इसके अलावा इन खादय् पदार्थों को खाने से बुखार के दौरान आपका पेट अधिक समय तक भरा हुआ महसूस होता हैं, जिससे आप भरपूर मात्रा में पानी नहीं पी पाते हैं। पर्याप्त पानी न पीने से डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है। बुखार में उबले अंडे और उबले आलू भी खा सकते हैं। यह दोनों फीवर में नुकसानदायक नहीं होते हैं।

बेकरी वाले खादय पदार्थ - बेकरी वाले खाद्य पदार्थ जैसे कुकीज, बिस्किट और केक बुखार के दौरान नुकसानदायक होते हैं। इसके अलावा बुखार में ठंडे खाद्य पदार्थ जैसे आइसक्रीम और कार्बोनेटेड पेय पदार्थ भी बहुत ज्यादा हानिकारक होते हैं। इसलिए ऐसे खाद्य पदार्थों को न पीएं और न खाएं।

लाल मांस - बुखार में लाल मांस नहीं खाना चाहिए। लाल मांस को पचाना बहुत मुश्किल होता है, इसलिए बुखार के मरीजों को लाल मांस नहीं खाना चाहिए।

शराब और धूम्रपान - बुखार में शराब का सेवन और धूम्रपान किसी भी हाल में नहीं करना चाहिए। धूम्रपान और अधिक शराब पीने से आपकी पाचन क्रिया प्रभावित होती है।

(और पढ़ें - धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय)

सुबह का नाश्ता -

बुखार में सुबह के नाश्ते में जूस पीना बहुत अच्छा होता है। लेकिन डिब्बाबंद जूस न पीएं, हमेशा ताजा फल या सब्जियों के ही जूस पीएं। इसके अलावा आप सुबह विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थों को खाएं क्योंकि यह खाद्य पदार्थ आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। इसलिए अपने दिन की शुरूआत 1 गिलास संतरे के जूस के साथ करें। इसके अलावा आप हल्का गर्म दूध में 1 चम्मच शहद और एक चुटकी केसर, मिला कर पी सकते हैं।

रात का भोजन -

बुखार के दौरान रात में हल्का भोजन करना चाहिए। भारी भोजन आपके पाचन क्रिया को प्रभावित करता है। इसलिए आप ताजा सब्जियों को उबालकर खाएं। सब्जियों का साथ-साथ सलाद भी खाएं। इसके अलावा बुखार में रात के भोजन में सूप जैसे चिकन सूप, सब्जियों के सूप आदि बहुत अच्छे होते हैं।

और पढ़ें ...