केले का फूल कोलंबिया के एंडिस पर्वत में सबसे अधिक मात्रा में उगाये जाते हैं। केले का फूल बड़ा होता है, जो केले के गुच्छे के अंत से बढ़ता है। यह एक गहरे बैंगनी लाल रंग का फूल होता है। इसके अंदर छोटे फूल होते हैं जो बाद में केले का रूप ले लेते हैं। इसमें स्टार्च पाया जाता है। यह विटामिन सी और विटामिन ए में परिपूर्ण होने के कारण दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। यह नूडल्स और सूप के लिए, एक सामग्री के रूप में भी प्रयोग किया जाता है। कुछ देशों में, यह एक सलाद के रूप में परोसा जाता है। ताजे केले के फूल कच्चे खाए जाते हैं। केले के फूलों में विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन ई, फाइबर और पोटेशियम होते हैं जो स्वस्थ पोषक त`त्वों के स्रोत हैं। तो आइये जानते हैं इसके लाभों के बारे में - 

(और पढ़ें - केले खाने के फायदे)

  1. केले के फूल के फायदे बचाएं संक्रमण से - Banana Flower for Infection in Hindi
  2. बनाना फ्लावर फॉर डायबिटीज - Banana Flower for Diabetes in Hindi
  3. केले के फूल के लाभ है स्तनपान के लिए - Banana Flower for Breastfeeding in Hindi
  4. केले के फूल के गुण बचाएं कैंसर से - Banana Flower for Cancer in Hindi
  5. केले के फूल खाने के फायदे हैं पीरियड्स में उपयोगी - Banana Flower for Periods in Hindi
  6. केले फूल के औषधीय गुण करें चिंता विकार को दूर - Banana Flower for Anxiety in Hindi
  7. केले के फूल का उपयोग करे एंटी एजिंग के लिए - Banana Flower for Anti Aging in Hindi
  8. गर्भाशय के लिए केला फूल है लाभकारी - Banana Flower for Uterus in Hindi
  9. केले का फूल दूर करें गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं - Banana Flower for Gastrointestinal in Hindi
  10. केला फूल का सेवन है ह्रदय के लिए लाभकारी - Banana Flower for Heart in Hindi
  11. मस्तिष्क संबंधी विकारों में उपयोगी है केले का फूल - Banana Flower for Neural Disorders in Hindi

केले के फूल में संक्रमण का इलाज करने की क्षमता होती है, क्योंकि इसमें इथेनॉल होते हैं जो रोगजनक जीवाणु को बढ़ने से रोकने में मदद करते हैं। यह घाव को अच्छी तरह से ठीक कर सकता है। केले के फूल का अर्क मलेरिया के विकास को रोकने में मदद करता है।

(और पढ़ें - मलेरिया के घरेलू उपाय)

 

डायबिटीज के रोगियों को केले के फूल उबाल कर या ऐसे ही खाने चाहिए ताकि यह रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकें और शरीर में हीमोग्लोबिन बढ़ाएं क्योंकि यह फाइबर और लोहे में परिपूर्ण होता है, जो लाल रक्त कोशिका उत्पादन में सहायता करता है। पैन में तेल को डालकर गर्म करें और फिर आधा चम्मच राई डालें। इसके बाद उड़द दाल और चना दाल डालकर ढक दें, जब तक कि यह ब्राउन न हो जाए और फिर 1/8 कप करी पत्तियों को मिलाएं। इसके बाद कटे हुए केले के फूल, एक चम्मच सांभर पाउडर, ¼ छोटा चम्मच हल्दी पाउडर और नमक मिक्स करें और फिर इसे कवर करके पकाएं। इसके बाद गर्मागर्म परोसें। यह डायबिटीज रोगियों के लिए बहुत लाभकारी होता है।

(और पढ़ें - डायबिटीज में क्या खाना चाहिए)

केले के फूल के सेवन से स्तनपान कराने वाली माताओं में दूध की आपूर्ति बढ़ जाती है। यह अत्यधिक रक्तस्राव का इलाज करने में मदद करता है और गर्भाशय को स्वस्थ रखता है। गर्भ के दौरान कब्ज को ठीक करने में मदद करता है। खाने के लिए आपको ताजे केले के फूल का सेवन करना चाहिए। भारतीय पेनकेक्स या डोसा बनाने के लिए सबसे पहले, 1 कप चावल, 1 टेस्पून मूंग दाल, 2 बड़े चम्मच उड़द दाल, 1 बड़ा चम्मच चना दाल और ¼ कप तुहर दाल को रात भर भिगो कर रखें। अगले दिन, 2 लाल मिर्च को थोड़े से नारियल, थोड़े से हींग और एक चम्मच जीरे के साथ ग्राइंड कर लें। इसके बाद इसमें स्वादनुसार नमक मिक्स कर लें। साफ किए गए केला के फूल को थोड़े से तेल में तले और फिर डोसा बनाने के लिए बटर का इस्तेमाल करें। यह फाइबर में उच्च होता है, जो गर्भावस्था में कब्ज को खत्म करने में मदद करता है।

(और पढ़ें - स्तनपान से जुड़ी समस्याएं और गर्भावस्था में पेट दर्द)

मुक्त कण विभिन्न समस्याओं का कारण बनते हैं। केले के फूल में एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं। यह कैंसर और समय से पहले उम्र बढ़ने के लक्षणों जैसी स्वास्थ्य समस्याओं का भी इलाज करता है। एंटीऑक्सिडेंट गुणों का पूर्ण उपयोग करने के लिए इसे दैनिक रूप से उपयोग करना चाहिए।

(और पढ़ें - कैंसर में क्या खाना चाहिए)

यह प्रोजेस्टेरोन को बढ़ाता है जो अत्यधिक रक्तस्राव को कम करने में मदद करता है। ¼ कप केले के फूल को थोड़े से पानी और नमक में पकाना चाहिए, जब तक कि यह पूरी तरह से पक नहीं जाता है। इसे ठंडा होने के बाद, ¼ कप नारियल, 2 ग्राम मिर्च, 1/2 चम्मच जीरा मिक्स करें। इसके बाद इसे नारियल के मिश्रण में पकाये हुए केले के फूल, दही और आवश्यक नमक के साथ मिक्स करें। इसका सेवन अत्यधिक रक्तस्राव रोकने में सहायक होता है। फाइबर और पोषक तत्वों में समृद्ध होने के कारण, यह वजन घटाने में लाभकारी होता है।

(और पढ़ें - पीरियड्स में क्या खाएं)

केले के फूल से मूड में सुधार होता है और केले के फूलों में मौजूद मैग्नीशियम के कारण चिंता कम हो जाती है। यह बिना किसी दुष्प्रभाव के अवसाद को कम करने में सहायक होता है।

(और पढ़ें - मूड को बेहतर बनाने के लिये क्या खाएं)

यह मुक्त कणों का सामना करने और स्वास्थ्य से जुडी समसस्याएं, जैसे कैंसर और बढ़ती उम्र बढ़ने के लक्षणों का इलाज करने में मदद करता है।

(और पढ़ें - स्किन कैंसर कैसे होता है)

यह गर्भाशय की समस्याओं को रोकने में मदद करता है। स्वस्थ गर्भाशय को बढ़ावा देने के लिए केले के फूल को हल्दी पाउडर, काली मिर्च और जीरा के साथ मिक्स करें। केले के फूलों को काली मिर्च और जीरे के साथ उबाल लें और ¼ छोटा चम्मच हल्दी पाउडर डालें और जब यह मिश्रण आधा रह जाए तो इसमें नमक डालें। इस काढ़े को पीने से गर्भाशय की समस्याएं समाप्त हो जाती हैं।

(और पढ़ें - गर्भाशय के कैंसर का इलाज)

 

केले के फूल घुलनशील और अघुलनशील फाइबर में परिपूर्ण होते हैं। घुलनशील फाइबर भोजन को पाचन तंत्र के माध्यम से आसानी से पारित कर देता है, क्योंकि यह पानी में घुल जाता है और एक जैल बनाता है। केले के फूल में पाए जाने वाले यह दोनों फाइबर स्वस्थ पाचन और भोजन के अवशोषण को बढ़ावा देते हैं।

(और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)

केला फूल टैनिन, एसिड, फ्लेवोनोइड और अन्य एंटीऑक्सिडेंट का एक बहुत ही अच्छा स्रोत है। ये सभी एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कणों का विरोध करने में मदद करते हैं और ऑक्सीडेटिव क्षति को समाप्त करते हैं, जो कैंसर और हृदय रोग का कारण बन सकते हैं। केले का फूल इन समस्याओं को रोकने में मदद कर सकता है।

(और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के लिए क्या खाएं)

मुक्त कणों के कारण अल्जाइमर और पार्किंसंस रोग जैसी बीमारियां हो सकती है। इसलिए अगर आप केले के फूलों का नियमित रूप से सेवन करते हैं तो आपको इन बीमारियों को रोकने में मदद मिल सकती है।

(और पढ़ें - दिमाग तेज करने के उपाय)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें