कचौरी, एक बहुत ही लोकप्रिय भारतीय स्नैक है। कचौरी, मैदे व बेकिंग पाउडर के मिश्रण से बनाई जाती है और इसके अंदर दाल को अलग-अलग मसालों के साथ मिलाकर भरा जाता है। उत्तरी भारत में कचौरी बहुत ही प्रसिद्ध रेसिपी है, खासकर राजस्थान के कुछ इलाकों में। इसके बहुत सारे प्रकार होते हैं, लेकिन सबसे आम प्रकार है दाल कचौरी। कचौरी बहुत ही कुरकुरी व स्वादिष्ट होती हैं और इन्हें स्नैक्स के समय खाया जा सकता है।

इस लेख में हमने आपको कचौरी बनाने के लिए आवश्यक सामग्री, रेसिपी, प्रकार और कचौरी में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में बताया है।

संक्षेप में  
तैयारी करने का समय 20 मिनट
पकाने का समय 20 मिनट
बनाने का कुल समय 40 मिनट
कितने लोगों के लिए है ये डिश 6 लोग
कब खाएं स्नैक्स में
कहां की है ये डिश उत्तरी भारत
टाइप वेज (शाकाहारी)
एक कचौरी में कैलोरी 83Kcal

(और पढ़ें - मोदक बनाने की रेसिपी)

  1. कचौरी बनाने के लिए सामग्री - Ingredients for making kachori in hindi
  2. खस्ता कचौरी बनाने की विधि - How to make kachori in hindi
  3. कचौरी को परोसने का तरीका - How to serve kachori in hindi
  4. कचौरी में मौजूद पोषक तत्वों की जानकरी - Nutritional information of kachori in hindi
  5. कचौरी बनाने के लिए कुछ टिप्स - Tips for making kachori in hindi
  6. कचौरी के अन्य प्रकार - Other variants of kachori in hindi
  7. कचौरी बनाने की वीडियो - Kachori recipe video in hindi

कचौरी बनाने के लिए आपको निम्नलिखित सामग्री की आवश्यकता होगी:

इस सामग्री से आप 6 लोगों के लिए कचौरी बना सकते हैं।

(और पढ़ें - जल्दी बनने वाला ब्रेकफास्ट)

कचौरी बनाने का तरीका निम्नलिखित है:

बाहर का खोल बनाने के लिए:

  1. सबसे पहले एक बाउल लें और उसमें मैदा, नमक व थोड़ा तेल डालकर अच्छे से मिला लें।
  2. इसमें धीरे-धीरे पानी डालें और मुलायम आटा गूंथ लें।
  3. जब आटा गुंथ जाए, तो इसे 15-20 मिनट तक ढककर साइड रख दें।

(और पढ़ें - वड़ा पाव रेसिपी)

स्टफिंग बनाने के लिए:

  1. जब तक आपने कचौरी के आटे को ढककर रखा है, तब तक एक कड़ाही लें और उसमें 3 से 4 चम्मच तेल डालकर गरम कर लें। (और पढ़ें - सरसों के तेल के फायदे)
  2. अब इसमें जीरा, हींग, हरी मिर्च, धनिया पाउडर, सौंफ का पाउडर और अपनी पसंद के मसाले डालकर कुछ देर पकाएं और चलाते रहें। (और पढ़ें - मसालेदार खाने के नुकसान)
  3. अब इसमें भीगी हुई दाल, नमक, गरम मसाला, अदरक पाउडर और लाल मिर्च पाउडर डालकर मिला लें।
  4. कड़ाही को चलाते रहें जब तक दाल सूख न जाए। पकने के बाद इस स्टफिंग को ठंडा होने के लिए अलग रख दें।
  5. अब आटे का एक भाग लें और उसे गोल करके अपनी उंगलियों की मदद से चपटा कर लें।
  6. इसमें दाल की स्टफिंग रखें और आटे को ऊपर की तरफ खींचकर बंद कर दें।
  7. इसी तरीके से सारी कचौरियां बनाकर रख लें।
  8. इसके बाद एक कड़ाही लें और उसमें कचौरी तलने लायक पर्याप्त तेल डाल लें।
  9. तेल गरम होने के बाद कड़ाही में एक-एक करके कचौरियां डालें और इन्हें पूरी की तरह ही तल लें।
  10. आपको कचौरियों को तब तक तलना है जब तक ये सुनहरे-ब्राउन रंग की नहीं हो जातीं।
  11. तलने के बाद आपकी कचौरियां परोसने के लिए बिलकुल तैयार हैं।

(और पढ़ें - वेज स्टार्टर रेसिपी)

कचौरी को गरम-गरम खाने में ही स्वाद आता है। इसे कड़ाही से निकालकर हरी या लाल चटनी के साथ गरमा गरम परोसें। कचौरी को खाने का स्वाद सबसे ज्यादा आलू की रसदार सब्जी के साथ आता है। आप चाहें तो कचौरी को मिर्च-लहसुन की चटनी या दही के साथ भी खा सकते हैं।

(और पढ़ें - जलेबी बनाने की विधि)

कचौरी में मौजूद पोषक तत्वों की जानकारी नीचे दी गई है। ये पोषक तत्व एक कचौरी के आधार पर हैं।

पोषक तत्व मात्रा
कैलोरी 83Kcal
फैट 5.3 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल 0 मिलीग्राम
सोडियम 35 मिलीग्राम
पोटैशियम 34 मिलीग्राम 
कार्बोहायड्रेट 7.7 ग्राम
प्रोटीन 1.5 ग्राम
नेचुरल शुगर 0.2 ग्राम

(और पढ़ें - शीरा बनाने की विधि)

कचौरी बनाने के लिए निम्नलिखित टिप्स आपके काम आ सकती हैं:

  • आप दाल को भिगोकर रखने के बाद उसे मिक्सी में पीस भी सकते हैं।
  • कचौरी को खट्टा बनाने के लिए आप मसालों के साथ इसमें नींबू का रस मिला सकते हैं।
  • दाल को 3 से 4 घंटों तक भिगोकर रखें। (और पढ़ें - उड़द दाल के फायदे)
  • बहुत सारी कचौरियां एक साथ तलने से बेहतर है इन्हें 2-2 करके तलें, नहीं तो ये आपस में चिपक सकती हैं।
  • कचौरी को इमली की चटनी के साथ भी खाया जा सकता है।
  • जैसे-जैसे आपकी कचौरियां बनती जाएं, उन्हें ढककर रखते जाएं नहीं तो उनका कुरकुरापन खत्म होने लगेगा।
  • कचौरी, बनाते ही खाने में सबसे ज्यादा स्वादिष्ट लगती है।
  • कचौरी में आप अपनी पसंद के कोई भी मसाले डाल सकते हैं और उन्हें स्वादानुसार कम-ज्यादा भी कर सकते हैं।
  • कचौरी का आटा तैयार करने के लिए आप तेल की जगह घी का उपयोग कर सकते हैं। (और पढ़ें - गाय के घी के फायदे)
  • इन्हें हैल्दी बनाने के लिए ओलिव आयल में तलें।
  • अगर आप तला हुआ नहीं खाना चाहते हैं, तो  कचौरियों को बेक भी कर सकते हैं।

(और पढ़ें - लिट्टी चोखा बनाने की विधि)

कचौरी के कई प्रकार होते हैं, जिनके बारे में नीचे दिया गया है:

  • आलू कचौरी -
    आलू कचौरी में कचौरी के अंदर आलू को भरा जाता है। इसके लिए आलू को मसालों के साथ मिलाकर मिश्रण बनाते हैं और उस मिश्रण को कचौरी के अंदर डालकर तलते हैं।
     
  • प्याज की कचौरी -
    प्याज की कचौरी, कचौरी का एक लोकप्रिय प्रकार है। इसमें प्याज को मसालेदार बनाकर कचौरी के अंदर भरा जाता है। इसे अधिकतर नाश्ते में या स्नैक्स के समय खाया जाता है।
     
  • सूजी की कचौरी -
    सूजी या रवा से बनी कचौरी बहुत ही पौष्टिक होती है और इसे बनाना भी आसान होता है। सूजी की कचौरी में आलू की स्टफिंग की जाती है। हालांकि, आप चाहें तो इसमें मटर व प्याज भी डाल सकते हैं।
     
  • मटर की कचौरी -
    मटर की कचौरी भी कचौरी का एक प्रसिद्ध प्रकार है। इसमें हरे मटर को मसाले व प्याज के साथ भूनकर कचौरी के अंदर भरा जाता है। इसे बनाना बहुत आसान है और हर कोई मटर कचौरी खुश होकर खाता है।

(और पढ़ें - सूखे मटर के फायदे)

खस्ता कचौरी बनाने के लिए इस वीडियो को देखें।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ